विज्ञान क्या है और इसका महत्व क्या है?

जब से दुनिया बनी है तब से लगातार विकास होता रहा है. हम अगर कहें की आज हमारे बीच में विज्ञान है तो ये मैं आपको बता दूँ की विज्ञान आज ही नहीं बल्कि बहुत समय से पहले ही मानव जीवन में इसका प्रयोग होता रहा है. हम जब स्कूल पढ़ने जाते हैं तो वहां हम साइंस या विज्ञान के बारे में पढ़ना शुरू करते हैं लेकिन उसके पहले हमे ये बिलकुल भी अंदाज़ा नहीं होता की आखिर ये विज्ञान क्या है (What is Science in Hindi). विज्ञान के प्रयोग क्या है और इसका महत्व क्या है हमे इसका पता बिलकुल भी नहीं होता है.

Science न होता तो आज हम अँधेरे में रह रहे होते. इतने बड़े बड़े और सुन्दर आलिशान घर न बना पाते. विज्ञान न होता तो आज हम एक जगह से दूसरे जगह पैदल ही जा रहे होते जिसमे महीनो का समय लग जाता. अगर ये न होता तो आज भी लोग कई बिमारियों का इलाज न होने से मर जाते और कई बिमारियों से दर्दनाक जिंदगी बिताते. ये न होता तो यूँ हम घंटों मोबाइल फ़ोन से बहुत दूर रहने वाले रिश्तेदारों दोस्तों से बात नहीं कर पाते. विज्ञान न होता तो आज भी हम मनोरंजन के लिए कुछ क्रियाकलाप करते यूँ घर बैठे टीवी में गाने, फ़िल्में, क्रिकेट, देशभर की ख़बरें न देख पाते. साइंस न होता तो  दुर्घटना होने के बाद इंसान कभी  ठीक नहीं हो पाता. ऐसे ही ना जाने कितने ही अनगिनत काम हम सिर्फ और सिर्फ विज्ञान की मदद से ही कर पाते हैं. कुल मिलाकर कहें तो हम सब चारों तरफ से विज्ञान से घिरे हुए हैं. हमारे जागने से लेकर सोने तक हर वक़्त विज्ञान की मदद लेते हैं.

विज्ञान ने आज इंसान को चाँद तक पहुंचा दिया है और हर रोज़ वैज्ञानिक की पृथ्वी के जैसा ही कोई ऐसा ग्रह ढूंढने में लगे हैं जिस में की मानव जीवन संभव हो सके वहां का atmosphere पृथ्वी जैसा हो और सबसे बड़ी बात ये है की वहां जल हो. इस दिशा में पूरी दुनिया के वैज्ञानिक अपनी पुरज़ोर कोशिश करने में लगे हैं. इसीलिए अमेरिकी अंतरिक्ष संसथान नासा ने तो मंगल गृह में अपना मानव रहित यान भी उतार लिया है और वहां के मौसम, परिस्थिति और वातावरण का टेस्ट भी कर रहे हैं. भारत भी इस में पीछे नहीं है यहाँ से भी सफलता से मंगलयान को मंगल ग्रह की परिक्रमा करने में सफल हो चुके हैं जहाँ से कई तरह की जानकारी हर दिन भारतीय संसथान इसरो को मिलती रहती है.

विज्ञान एक बहुत ही wide एरिया है जिस के अंदर अनेक भाग है. ये मुमकिन नहीं है की विज्ञान के बारे में हर जानकारी एक ही आर्टिकल में पूरी हो जाये है हम कितनी भी कोशिश कर लें बस इसका परिचय ही दे सकते हैं विस्तार से वर्णन नहीं कर सकते. क्यों की बचपन से हम विज्ञान अपने स्कूल के सभी क्लास में पढ़ते पढ़ते बड़े होते हैं. हम इस पोस्ट में विज्ञान क्या है इसकी जानकारी हासिल करेंगे और साथ ही विज्ञान के महत्व और विज्ञान के प्रयोग के बारे में भी जानेंगे.

विज्ञान क्या है – What is Science in Hindi

vigyan kya hai what is science in hindi

विज्ञान की परिभाषा (Definition of Science in Hindi) : हमारे चारों तरफ मौजूद किसी भी चीज़ के बारे में जब हम अध्ययन करते हैं और उसके बारे में हर जानकारी को अर्जित करते हैं साथ ही उस के लिए उससे जुड़े हर आंकड़ा को सत्यापित करने के लिए सुबूत होता है, इसे ही विज्ञान कहते हैं. ये ग़लतफ़हमी और अंधविश्वास से बिलकुल उल्टा होता है.

संक्षिप्त में कहें तो किसी चीज़ के ऊपर लगातार study और practise करने से जो हम उस चीज़ के बारे में जानकारी हासिल करते हैं उसे ही science कहा जाता है.

इसमें कोई धोखा नहीं होता है बल्किल आप विज्ञान से जुड़े किसी भी बात को व्यावहारिक रूप से साबित कर सकते हैं. जबी भी किसी चीज़ के बारे study किया जाता है तो उसके लिए स्टेप बाई स्टेप उसके हर पहलु के बारे में आंकड़ा जमा किया जाता है. उस आंकड़े की मदद से कोई भी नया इंसान वस्तु की गुणवत्ता को आसानी से समझ सकता है. चलिए इसे हम एक उदाहरण से समझते हैं.

उदाहरण: 

हम जब  दौड़ते हैं और किसी ख़ास दूरी पर पहुंचना चाहते हैं तो ये विज्ञान हमे ये बता सकते हैं की हमे कितनी देरी लगेगी अगर हम एक गति के साथ लगातार दौड़ेंगे.  इसके लिए हमे बाद एक फार्मूला का उपयोग करना होगा और हमे आसानी  आसानी से पता चल जायेगा. इस तरह इस में कोई ग़लतफ़हमी की गुंजाइश है ही नहीं. और इसके साथ हमे फार्मूला के रूप में सबूत भी मिलता है.

ऐसे ही इस के जरिये हम अपने आस-पास उपस्थित हर चीज़ की जानकारी को लिखते हैं उसके अलग अलग परिस्थितिओं में होने वाले गुणों में बदलाव को भी समझते हैं. जैसे आप पानी को अच्छे जानते हैं की जल ही जीवन है. ये 3 अवस्थाओं में पाया जाता है. ठोस, द्रव और गैस लेकिन अगर हम विज्ञान नहीं जानेंगे तो हमे ये नहीं मालूम चलेगा की इसकी कब कौन सी अवस्था मिलेगी. लेकिन हम किताबों में पढ़ कर ही जान चुके हैं जो हमे साइंस ने बताया की 100 डिग्री में पानी उबलने लगता है और भाप में बदल जाता है. वहीँ जब द्रव अवस्था पानी 0 डिग्री पहुंचा जाता है तो ये बर्फ बन जाता है जो की ठोस अवस्था होती है.

Isaac Newton को कौन नहीं जानता, इन्ही ने पूरी दुनिया को बताया की आखिर क्यों कोई भी चीज़ गिरती है तो वो नीचे जाती है ऊपर क्यों नहीं जाती आखिर gravitational force/ गुरुत्वाकर्षण बल क्या होता है. उन्हें भी इस गुरुत्वाकर्षण बल के बारे में तब पता चला जब वो पेड़ के नीचे बैठे थे और एक सेब नीचे गिरा था. सेब के गिरने के बाद ही इसने Newton को सोचने पर मज़बूर कर दिया की आखिर ये ऊपर क्यों नहीं गया नीचे क्यों गिरा. इस तरह उन्होंने अध्ययन किया और इस पर बहुत कुछ सीखा  और इसे आंकड़े के साथ पूरी दुनिया के सामने गुरुत्वाकर्षण नियम के रूप सत्यापित किया तो इसी को तो हम विज्ञान कहते हैं.

इस तरह के अगर हम उदाहरण देते रहें तो भी ये कभी खत्म नहीं होगा तो चलिए अब हम जान लेते हैं की विज्ञान कितने प्रकार के होते हैं.

विज्ञान के प्रकार – Types of Science in Hindi

हमे  बचपन से ही स्कूल से विज्ञान पढ़ने और सिखने को मिलता है. वही पर हमे इसकी बेसिक जानकारी दी जाती है की विज्ञान क्या होता है, विज्ञान किसे कहते हैं इसकी कितनी शाखाएं होती हैं इत्यादि. वहां पर हमे विज्ञान के तीन भाग पढ़ने के लिए मिलते हैं जिसे हम Physics (भौतिक विज्ञान), Chemistry (रसायन विज्ञान) और Biology (जीव विज्ञान) के रूप में जानते हैं.

लेकिन मैं आपको इनकी जानकारी और विस्तार देने की कोशिश करूँगा और बताऊंगा की इसके अंदर भी कितने अलग अलग शाखाएं होती हैं और इन सभी की क्या क्या विशेषताएं हैं.

Physics (भौतिक विज्ञान)

भौतिक विज्ञान सबसे मुलभुत शाखाओं में से एक शाखा है. विज्ञान की ऐसी शाखा है जिसमे किसी भी पदार्थ और ऊर्जा के बारे में study करते हैं. ये विज्ञान का बहुत पुराना और wide ब्रांच है.

Physics शब्द का मतलब Greek शब्द से लिया गया है जिसका मतलब होता हैं “Knowledge of Nature” जिसका मतलब है प्रकृति का ज्ञान. अगर हम सामान्य शब्दों में बात करें तो इस में मुख्य रूप से ब्रह्माण्ड के प्राकृतिक घटनाओं के बारे में विश्लेषण करते हैं और समझते हैं. जब आप भौतिक विज्ञान के बारे में बात करते हैं तो एक बात मन में सबसे पहली आती है वो है इसके scientific laws, जो किसी phenomena को explain करने के लिए statement होते हैं जो की लगातार test किये जाते हैं और प्रमाणित भी किये जाते हैं. ये भौतिक विज्ञान का बहुत ही महत्वपूर्ण और जरुरी भाग है. जो भौतिक शास्त्री होते हैं वो हमेशा प्रयोग करते हैं और खुद भी अध्ययन कर के नए नियम दुनिया के सामने लाते हैं और ब्रहमांड को समझने में मदद करते हैं.

आपने हमेशा से एक नियम के बारे में सुना होगा जो की जब Newton पेड़ के निचे बैठा हुआ था तो एक सेब निचे गिरा और उसे सोचा की आखिर ये सेब नीचे क्यों गिरा ऊपर क्यों नहीं गया. इस तरह गुरुत्वाकर्षण बल का खोज किया और इस पर कई दूसरे वैज्ञानिको ने भी अध्ययन किया और इसकी सचाई को सत्यापित किया

विज्ञान की ये शाखा हमे universe के बहुत सारे phenomena को समझने में मदद करती है और ये विज्ञान की सबसे बेसिक भाग है. ये हर तरह के विज्ञान के लिए एक आधार की तरह भी काम करता है. Physics के बिना chemistry और biology कुछ भी नहीं है.

Chemistry (रसायन विज्ञान)

रसायन शास्त्र पराकृतिक विजान की एक ऐसी शाखा है जिसमे पदार्थ के गुण और उसमे होने वाले बदलाव और इन होने वाले बदलाव के बारे में वर्णन करने वाले नियम के बारे में बताती है. इस शाखा में की जाने वाला अध्ययन qualitative से लेकर quantitative तक होती है. एक chemist दवा में इस्तेमाल किये जाने वाला नए compound को synthesize करने तक काम कर सकता है. लेकिन एक भौतिकी उसके microscopic लेवल तक यानि की अणु और परमाणु लेवल तक का काम करती है.

Chemistry में जो वैज्ञानिक होते हैं वो प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले केमिकल की खोज करते हैं. इसके साथ ही combination कर के नए केमिकल भी बनाये जाते हैं. Chemist जो होते हैं वो नेचुरल और वैज्ञानिकों द्वारा बनाए गए केमिकल के बारे में स्टडी करते हैं. इस जानकारी का इस्तेमाल कर के वो उसमे और सुधार करते हैं और मानव जाति के लिए अधिक उपयोगी बनाते हैं.

रसायन विज्ञान में तेज़ी से हो रहे विकास की वजह से हमारी दुनिया में काफी बड़ा बदलाव आया है. नयी नयी दवाओं का निर्माण किया जाता है जिससे की और अधिक सुधार होता है. इस में नए नए ऊर्जा के source में उपयोग कर के विकास किया जाता है.

Biology (जीव विज्ञान)

जीव विज्ञान को हम जैविक विज्ञान के नाम से भी जानते हैं. इस विज्ञान की शाखा में जीवों के बारे में अध्ययन किया जाता है. इस विज्ञान के अंतर्गत जीवों की संरचना, विकास, उत्पत्ति, कार्य और उनके निरंतर विकास के बारे में अध्ययन करते हैं. आपको ये जानकर हैरानी होगी की हर साल 1100 नए प्रजातियों के बारे में वैज्ञानिको को पता चलता है. तो आप सोच सकते हो की पृथ्वी में अभी भी न जाने कितने जीव हैं जिनके बारे में हम में से किसी को भी कुछ नहीं पता.

जीव विज्ञान मुख्य रूप से जीवे किस तरह अपनी जिंदगी जीते हैं और दूसरे जीवों के साथ उनका व्यवहार कैसा होता है और प्राकृतिक वातावरण के साथ उनके कैसे रिश्ते हैं जानने को मिलता है. Modern जीव विज्ञान के 4 मूल सिद्धांत कार्य करते हैं. जो  कोशिका, theory, विकास और homeostasis. 19th century में जीव विज्ञान के रूप में एक अलग विज्ञान की शाखा को सबके सामने लाया गया. वैज्ञानिकों को लगा की ये कोई छोटा सा एरिया नहीं है बल्कि इस में हर रोज़ नयी नयी जानकारियां मिल रही हैं और मिलती रहेगी.

आपको पूरी दुनिया में ऐसा कोई स्कूल या कॉलेज नहीं मिलेगा जिसमे जीव विज्ञान की शिक्षा ना दी जाती हो.जीव विज्ञान और मेडिकल लाइन के ऊपर हर साल पूरी दुनिया में लाखों पत्रिकाएं छापी जाती हैं. अधिकतर biologist अपने एक एरिया में specialist बन जाते हैं पर ज़िन्दगी भर नए खोज करते हैं और नयी नयी जानकारी हासिल करते हैं.

इसके अंदर 2 केटेगरी आते हैं.

Zoology (जन्तु विज्ञान):

जन्तु विज्ञान ऐसा विज्ञान है जिसमे जीवों के बारे में अध्ययन किया जाता है बल्कि यूँ कहें की इसमें सिर्फ जीवों का ही नहीं बल्कि उनके वर्गीकरण, उनके जीवन का इतिहास, उनकी षारीरिक बनावट, उनका खानपान और उनके विकास के बारे में जानकारी इकठ्ठा की जाती है.

Botany (वनस्पति विज्ञान):

वनस्पति विज्ञान की वह शाखा है जिसमे पेड़ पौधों के बारे में अध्ययन किया जाता है जिसमे पौधों के जीवन, इनके द्वारा उत्पन्न होने वाली oxygen उनके जीवन चक्र और पर्यारवण पर होने वाले उनके प्रभाव के बारे में अध्ययन करते हैं. ये एक ऐसा विज्ञान है जिसमे living organism के बारे में पढाई की जाती है.

विज्ञान का महत्व – Importance of science in hindi

विज्ञान हमेशा से हमारे जीवन को बेहतर बनाने में एक अहम् भूमिका निभाता है. ये ब्रह्माण्ड के बारे में हमारी नॉलेज को लगातार बढ़ाता रहता है. इसकी गहराई को अभी तक कोई भी पूरी तरह समझ नहीं सका है. क्यों की इस में हम बहुत सी ऐसी जानकारियां है जिनका सिर्फ अनुमान ही लगा पाते हैं और हम सभी जानते हैं की विज्ञान जब तक practical सबूत इकठ्ठा नहीं कर लेता तब तक किसी भी fact को सच नहीं मानता है. आज से 100 साल पहले की अगर हम बात करे और उस वक़्त के लोगों की बात करें तो अगर उस वक़्त के लोगों को ये बोला जाता की भाई मैं बस एक छोटे से डब्बे (स्मार्टफोन) से दूर रह रहे रिश्तेदार से बात कर सकता हूँ तो इस बात पर बस वो हंसने लगते और बोलते की मज़ाक क्यों कर रहे हो. से मैं आपको यही बताना चाहता हूँ की उस वक़्त विज्ञान के पास इसके लिए कोई तकनीक विकसित नहीं थी. और आज ये बहुत ही एडवांस लेवल तक पहुंच चूका है.

विज्ञान का महत्व इसी बात से लगा लें की अभी अगर आपके सोसाइटी की बिजली पुरे 24 घंटे ना रहें तो आपको कैसा फील होगा. अगर आपके पास इन्वर्टर होगा तो कुछ घंटों तक आपको ये बिजली दे देगा लेकिन उसके बाद आप क्या करेंग.

जी हाँ ज़रा आप सोच कर देख लो बिना बिजली के आपका मोबाइल और लैपटॉप डिस्चार्ज हो जायेगा और आपके बहुत सारे काम जो बिजली से होते हैं बिलकुल ठप्प पड़ जायेंगे. ये आपके लिए एक बुरा अनुभव होगा और ऐसा आप कई बार झेल भी चुके होंगे. फैक्टरियों और कारखानों में 24 घंटे काम चलता रहता हैं इन में बिजली न हो तो बहुत नुक्सान हो जाता है.

स्कूल और कॉलेज में पढ़ने वाले बच्चों को शुरू से विज्ञान की शिक्षा दी जाती है.इससे उन्हें अन्धविश्वास  और  हर नयी तकनीक को सिखने को मिलता है. यही वो बच्चे होते हैं जो आगे चलकर पुराने वैज्ञानिक सिद्धांत के आधार पर नए नए अविष्कार करते हैं और नयी जानकारियां भी लोगों को सिखाते हैं.

विज्ञान के फायदे –  Advantages of Science in Hindi

  • आरामदायक जिंदगी : विज्ञान ने आज हमारे जीवन को काफी आरामदायक बना दिया है. इसके कई आविष्कार ऐसे हैं जो हमे 24 घंटे आरामदायक ज़िन्दगी जीने में मदद करते हैं. गर्मी और  ठन्डे के मौसम में भी A.C की मदद से हम घर पर आरामदायक जिंदगी जीते हैं.
  • यातायात के साधन: आज हमे कहीं भी जाने में कम से कम समय लगता है. सफर करने के लिए बाइक, कार, रेलगाड़ी और सबसे तेज़ फ्लाइट भी उपलब्ध हैं.
  • कंप्यूटर:  कंप्यूटर क्या है ये तो आप बहुत अच्छे से  जानते होंगे. हमारे बहुत सारे कामों को इसकी मदद से हम बहुत ही  और बहुत तेज़ी से कर  लेते हैं भले ही वो गणित का सवाल हल करना ही या खाता से जुड़ा काम या फिर पढाई के लिए ही इसका इस्तेमाल करना हो. इसमें अनेक तरह के काम हम बहुत आसानी से कर लेते हैं.
  • सोशल कनेक्टिविटी: विज्ञान ने हमारी दुनिया को काफी छोटा बना दिया है. पहले दूर रहने वाले रिश्तेदारों से हम चिट्ठी लिख कर ही बात करते थे वो भी एक चिट्ठी पहुँचने में महीनों लग जाते हैं. लेकिन आज फेसबुक, व्हाट्सएप्प, इंस्टाग्राम की मदद से हम सात समुन्द्र पर रिश्तेदार से भी ऑनलाइन वीडियो चाट से बात कर सकते हैं.
  • आधुनिक इलाज साधन: आज हमारे आसपास कई अस्पताल हैं जहाँ जाकर बिमारियों का इलाज़ करते हैं.  दुर्घटना के बुरे चोटों को भी मेडिकल साइंस ठीक करने में capable होते हैं. डॉक्टरों ने आज दूसरे शहर में रहते होते भी रोबोटिक हाथों का इस्तेमाल कर के सफलता से कई ऑपरेशन किया हैं.

 विज्ञान के नुक्सान – Disadvantage of Science in Hindi

  • खतरनाक केमिकल: आज बहुत सारे ऐसे केमिकल का इस्तेमाल होता है जिनके कारण हमारे खाने में इनका काफी  असर देखने को मिलता है. सब्जियों और फलों में प्रयोग किये जाने केमिकल की वजह से मानव पाचन तंत्र काफी प्रभावित हुआ है जिससे नए नए तरह के बीमारियां भी बहुत कम उम्र में लोगों को हो जा रही है.
  • परमाणु हथियार: दूसरे वर्ल्ड वार तक विज्ञान ने उतनी तरक्की नहीं की थी की Nuclearpower का इस्तेमाल किया जा सके. लेकिन आज हम परमाणु हथियारों के बीच में जी रहे हैं यानी अगर तीसरा वर्ल्ड वार  दुनिया तबाह हो जाएगी.
  • रिश्तों से दूरी – भावना में कमी: लोग जैसे जैसे devices से जुड़ते जा रहे हैं वैसे वैसे दूसरे लोगों से दूरी बढ़ती जा रही है. आज लोग आमने सामने से बात करने की बजाय मोबाइल और कंप्यूटर के माध्यम से बात करना पसंद करते हैं. इस तरह सभी की भावनाओं में कमी होती जा रही है.
  • विज्ञान का गलत हाथों में जाना: विज्ञान तक हर किसी की पहुँच बहुत आसान हो चुकी है. इस तरह लोगों की निजी ज़िन्दगी ख़तम होती जा रही है. गलत लोगों के हाथों में हाई लेवल की टेक्नोलॉजी के जाने से दूसरे लोगों के लिए बहुत बड़े खतरे का कारण  बन जाता है.

संक्षेप में

विज्ञान ने हमारे जीवन को काफी सरल बना दिया है और हम भी धीरे धीरे इसके काफी आदि हो चुके हैं. हर रोज़ नए नए आविष्कार हमारे कई जरूरतों को और आसानी से पूरा करते जाते हैं. आज की पोस्ट में आपने जाना की विज्ञान क्या है (What is Science in Hindi). इसके अलावा आपने ये भी जाना की विज्ञान के प्रकार क्या है. विज्ञान का क्या महत्व है ये हम में से हर कोई बहुत अच्छे से समझता है.

विज्ञान के फायदे और नुक्सान क्या क्या हैं ये भी हमने इस पोस्ट के  जरिये जाना. वैसे तो विज्ञान ने हमारी ज़िन्दगी को बहुत ही आसान बना दिया है लेकिन साथ ही इसके कई नुक्सान भी हमे उठाना पड़ रहा है. मोबाइल फ़ोन के लगातार इस्तेमाल से हमे कई मानसिक तनाव का भी सामना करना पड़ता है. हमारी नींद कम होती जा रही है. सही इस्तेमाल करना सेहत के लिए फायदेमंद होता है ये सभी जानते लेकिन हम में से लोग इस पर अमल करते हैं.

उम्मीद करता हूँ की आपको आज कि ये पोस्ट पसंद आयी होगी. अगर आपको लगता है की इस पोस्ट से आपको कुछ सिखने को मिला है तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर फेसबुक, व्हाट्सएप्प और इंस्टाग्राम में शेयर करें.

11 COMMENTS

  1. बहुत अच्छा लगा पढ़ कर जो मैं जानना चाहता था मिल गया.. आपका धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here