पायलट कैसे बने और इसके लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना पड़ता है?

कुछ बच्चे ऐसे भी होते हैं जो यह जानने की कोशिश करते हैं कि एरोप्लेन पायलट कैसे बने क्योंकि वह पायलट बनकर हवाई जहाज उड़ाने की इच्छा रखते हैं.

बचपन से ही हमें सिखाया जाता है कि हमें बड़े होकर कुछ बनना है. कोई शिक्षक बनना चाहता है तो कोई इंजीनियर बनना चाहता है, किसी को वैज्ञानिक बनने की कामना होती है तो कोई डॉक्टर बनना चाहते हैं, किसी की ख्वाहिश होती है कि वह वकील बन कर केस लड़े, तो किसी को आईपीएस ऑफिसर बनने की इच्छा होती है.

बहुत सारे लोगों को यह तक नहीं मालूम होता कि पायलट बनने का खर्चा कितना लगता है. जिस वजह से मन में दुविधा बनी रहती है कि इस कोर्स को कर सकेंगे कि नहीं.

जो बच्चे अभी पढ़ाई करते रहते हैं लेकिन विमान चालक बनने का शौक है वह इसकी जानकारी लेना चाहते हैं कि पायलट बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना पड़ता है.

अगर आप भी उन्हीं में से एक हैं जो यह अपने मां बाप से यह कहते हैं कि मुझे पायलट बनना है तो फिर इस पोस्ट में आपको पायलट कैसे बनते हैं इसके बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी.

पायलट क्या है – What is Pilot in Hindi?

pilot kaise bane

पायलट के रूप में अपने करियर बनाने में वही लोग होते हैं जो रोमांच को पसंद करते हैं. इस तरह की जिंदगी का ख्वाब हर कोई देख लेते हैं लेकिन इसे पूरा कर पाने की हिम्मत सब में नहीं होती है. यह ख्वाब वही पूरा करता है जिसे बादलों को छूने की ख्वाहिश होती है.

जो यह चाहते हैं कि वह आसमान में परिंदे की तरह आजादी से उड़े और बादलों के ऊपर जाकर धरती को निहार सके.

वहीं इस रोमांच का मजा उठाते हैं और हवाई जहाज़ बनने का भी दम रखते हैं. कुछ लोग सेना में भर्ती होकर जेट प्लेन उड़ाना चाहते हैं तो कुछ लोग पैसेंजर को लेकर एक जगह से दूसरी जगह घूमने के मकसद से विमान चालाक बनने की ख्वाहिश रखते हैं.

यह एक ऐसा करियर है जिस में घूमने का काफी मौका मिलता है. जो लोग राष्ट्रीय स्तर पर उड़ान भरते हैं वह अपने देश के अंदर ही सभी जगह घूम लेते हैं लेकिन जो एक देश से दूसरे देश के लिए फ्लाइट उड़ाते हैं वैसे लोग पूरी दुनिया का सैर कर लेते हैं.

इसलिए जिन लोगों की ख्वाहिश होती है कि रोमांच के साथ घूमने का मजा उठाया जाए वह भी हवाई जहाज़ उड़ाने का ख्वाब देखते हैं और पूरा करते हैं.

पायलट बनने का तरीका

सभी लोगों की जिंदगी में कुछ ख्वाहिशें होती हैं और कुछ जुनून होता है लेकिन बहुत कम लोग होते हैं जो अपने जुनून को पूरा कर पाते हैं. उसी तरह हवाई जहाज़ चालक बनने का भी जुनून बहुत कम लोगों को होता है.

जिन लोगों को होता है वह इस पर जरूर कामयाब हो जाते हैं क्योंकि वह इसके लिए कड़ी मेहनत करते हैं.

आज की इस पोस्ट में हम बात करेंगे पायलट कैसे बनते हैं. आजकल के युवा एविएशन इंडस्ट्री के अंतर्गत विमान चालक बन कर नौकरी करना सबसे ज्यादा पसंद करते हैं.

इसकी वजह सिर्फ यह नहीं कि इसमें अच्छा पैसा मिलता है बल्कि इसमें रोमांच भी बहुत है और भरपूर मिलता है.

मोटे तौर पर अगर देखा जाए तो जो लोग एविएशन में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो इसके लिए 2 तरीके.

Method 1

Civil Aviation (Non-Military Aviation/ Commercial Pilot);

Method 2

Indian Defence Forces (Air Force)

हमारे देश भारत में हवाई जहाज़ का चालक कैसे बनते हैं यह समझने के लिए चलिए पूरी डिटेल में जानते हैं.

Method 1: Civil Aviation/ Commercial Pilot

कमर्शियल पायलट एक ऐसा हवाई जहाज़ चालक होता है जो एक एयरलाइन के लिए एक विशेष विमान उड़ान भरता है और अथॉरिटी के द्वारा issue किए गए कमर्शियल विमान चालक सर्टिफिकेट भी रखता है. भारत में अथॉरिटी Directorate General of Civil Aviation (DGCA) जो कि सर्टिफिकेट को issue करती है. कमर्शियल हवाई जहाज़ चालक होने के नाते बहुत सारी जिम्मेदारी एक पायलट को दी हुई होती है. सिंगल एयरक्राफ्ट में सैकड़ों लोगों की जिंदगी की जिम्मेदारी कमर्शियल पायलट पर होती है. जिसका काम होता है कि Destination A से Destination B तक सेफ्टी के साथ पहुंचाना.

इसीलिए अगर आप इस करियर के रास्ते में एंट्री करना चाहते हैं या किसी ऐसे इंसान को जानते हैं जो ऐसा करता है तो आप बिल्कुल सही जगह पर पहुंचे हैं क्योंकि यहां पर आपको सभी जानकारी मिलेगी.

कमर्शियल पायलट बनने के लिए कौन से सब्जेक्ट लेना पड़ता है

एविएशन के करियर के रूप में आगे बढ़ने के लिए आपको साइंस स्ट्रीम लेना होता है. जिसके अंदर इन विषयों की पढ़ाई करनी जरूरी होती है.

अगर आपने अपने हाई स्कूल में फिजिक्स और मैथ के विषयों की पढ़ाई नहीं की है तो फिर आप साथ साथ इन दोनों से को पढ़ सकते हैं.

जिसके लिए आपको इसकी पढ़ाई नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग में करना होगा और आप हवाई जहाज़ चालक की ट्रेनिंग वाले कोर्स को शुरू कर सकते हैं जो आपको उड़ानों के लिए अनुमति देता है.

कमर्शियल पायलट बनने के लिए एंट्रेंस एग्जाम

एक विमान चालक ट्रेनिंग कोर्स में प्रवेश करने के लिए आपको एक एंट्रेंस एग्जामिनेशन को पास करना पड़ता है.

जिसमें एक लिखित परीक्षा, मेडिकल टेस्ट और इंटरव्यू लिया जाता है.

एविएशन स्कूल में एडमिशन लेने के लिए एक बात का और ध्यान रखना है कि आपको 12वीं में कम से कम 50 परसेंट नंबर के साथ में पास हुआ होना जरूरी है.

पायलट लाइसेंस के लिए आवेदन करने की आयु सीमा

Student Pilot License – 16 साल
Private  License – 17 साल
Commercial  License – 18 साल

कमर्शियल एयर लाइन में हवाई जहाज़ चालक कैसे बने

कमर्शियल हवाई जहाज़ चालक बनने के लिए आपको यह कदम उठाने होंगे

Step 1: एविएशन में बीएसपी करने के लिए फ्लाइंग स्कूल में एडमिशन ले

इस में एडमिशन लेने के लिए जो प्रक्रिया होती है वह नीचे दिया हुआ है.

लिखित परीक्षा: आपको अंग्रेजी, मैथ्स, फिजिक्स और रिजनिंग के सवाल पूछे जाते हैं. इसके लिए आपका टेन प्लस टू कंप्लीट होना चाहिए और यह सभी सवाल 12वीं के आधार पर होते हैं.

पायलट एप्टिट्यूड टेस्ट: टेस्ट में आपसे एयर रेगुलेशन, एयर नेवीगेशन, एविएशन मौसम विज्ञान, विमान और इंजन की नॉलेज पर आपकी योग्यता का आकलन किया जाएगा.

पर्सनल इंटरव्यू और DGCA मेडिकल टेस्ट: लिखित परीक्षा और योग्यता परीक्षा में सफल होने वाले उम्मीदवारों को Directorate General of Civil Aviation, Govt. of India द्वारा आयोजित चिकित्सा मूल्यांकन की आवश्यकता होगी.

Step 2: Student हवाई जहाज़ चालक License प्राप्त करें

स्टूडेंट पायलट लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आपको एक एंट्रेंस एग्जामिनेशन के लिए बैठना होगा. इसमें एक मौखिक परीक्षा शामिल है और उसे स्कूल में चीफ इंस्ट्रक्टर या फिर Directorate General of Civil Aviation (DGCA) representative द्वारा लिया जाएगा.

लाइसेंस आपको उड़ान प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए परमिशन देता है और आपको ग्लाइडर या छोटे विमानों पर उड़ान भरने की अनुमति देता है जो आम तौर पर देश के उड़ान क्लबों द्वारा प्रदान किए जाते हैं.

जब तक आप अपना पूरा कोर्स नहीं कर लेते तब तक आप को कम से कम 250 फ्लाइंग घंटे पूरे करने हैं जिसके बाद आप कमर्शियल हवाई जहाज़ चालक लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकते हैं.

एवियशन कोर्स करने के लिए कुछ बेहतरीन इंस्टीट्यूट

  • National Flying Training Institute (Gondia)
  • CAE Oxford Aviation Academy (Gondia)
  • Indigo Cadet Training Program, Hamilton(New Zealand)
  • Rajiv Gandhi Academy of Aviation Technology (Kerala)
  • Indigo Cadet Training Program Hyderabad (India)
  • Bombay Flying Club (Mumbai – Maharashtra)
  • Indira Gandhi Rashtriya Uran Academy (IGRUA), Rae Bareilly
  • Madhya Pradesh Flying Club (MPFC) (Indore – MP)

मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि भारत में कमर्शियल हवाई जहाज़ चालक बनने की लागत काफी अधिक है, कहीं-कहीं लगभग कई लाख रुपए लग जाते हैं.

हालांकि भारत में इतनी अधिक फीस है फिर भी फीस चुकाए बिना हवाई जहाज़ चालक बनने का एक ऑप्शनल तरीका है और वह है इंडियन डिफेंस फाॅर्स में शामिल होना जिसके बारे में हम आगे जानकारी देने वाले हैं.

Method 2: Indian Defense Forces (Air force)

यदि आकाश में उड़ना आपका जुनून है और आपकी आर्थिक स्थिति सही नहीं है फिर भी आप इस जुनून को पूरा करना चाहते हैं तो इसका सबसे अच्छा तरीका है इंडियन डिफेंस फोर्स में भर्ती होना.

इसमें दो तरह के रोमांच आपको मिलेंगे पहला तो यह कि आपको आसमान में उड़ने की ख्वाहिश और जुनून दोनों पूरे होंगे और दूसरी यह कि इस ख्वाहिश को पूरा करते करते आप देश की सेवा भी कर सकेंगे.

जो कि सबसे ज्यादा गर्व की बात है. यहां आप को न केवल हवाई जहाज़ चालक की ट्रेनिंग फ्री में मिलती है बल्कि अपने राष्ट्र की सेवा करने के लिए Class-I अधिकारी बनने और अपने ट्रेनिंग के दौरान ही ट्रेनिंग के लिए बढ़िया भुगतान भी मिलता है.

इंडियन आर्म्ड फोर्सेस अपने सभी उम्मीदवारों का चयन करते समय मुख्य रूप से OLQ (ऑफिसर लाइक क्वालिटी) पर ज्यादा कंसंट्रेशन करते हैं. 15 कैरेक्टर वाले लक्षण उम्मीदवार में होनी चाहिए तभी वह सफल मिलिट्री ऑफिसर बन सकता है.

अगर आपको लगता है कि आपके पास इफेक्टिव इंटेलिजेंस, रीजनिंग एबिलिटी, सोशल एडेप्टेबिलिटी, करे यानी कि साहस है तो फिर इंडियन आर्म्ड फोर्सज आपके लिए ही है.

12वीं के बाद इंडियन एयरफोर्स में पायलट कैसे बने

अब जान लेते हैं कि जो लड़के अभी 12वीं  पास करके अपने करियर की तलाश में हैं तो फिर यह तरीका उनको एक सही दिशा निर्देश देकर एक अच्छे कैरियर की तरफ ले जा सकती है.

NDA के एग्जाम के जरिए एयर फोर्स में प्रवेश पाएं

नेशनल डिफेंस अकैडमी (राष्ट्रीय रक्षा अकैडमी) 12वीं पास करने के बाद स्टूडेंट्स को पहला मौका देती है जिससे जुड़कर और उसमें प्रवेश पाकर इस सम्मानित संस्थान का हिस्सा बन सकते हैं और अपने आसमान में उड़ने की ख्वाहिश को पूरा कर सकते हैं.

इस परीक्षा में पास होने के बाद में स्टूडेंट्स को Khadakwasla में 3 साल की पीरियड के लिए ट्रेनिंग लेनी पड़ती है. ट्रेनिंग के सक्सेसफुली कंप्लीट हो जाने के बाद में उम्मीदवारों को एक परमानेंट कमिशन ऑफिसर के रूप में पद दे दिया जाता है और उन्हें एक हवाई जहाज़ चालक के रूप में एयर फोर्स स्टेशन में भी तैनात कर दिया जाता है.

एनडीए क्या है और इसकी तैयारी कैसे करें इसके बारे में हमने अलग से एक आर्टिकल पहले ही लिख चुका है जिसे आप जाकर यहां से पढ़ सकते हैं.

अगर आप भी एनडीए के जरिए अपने सपनों को पूरा करना चाहते हैं तो इसकी तैयारी अभी से करना शुरू कर दें.

संक्षेप में

आज के अधिकतर युवा एविएशन ज्वाइन करके हवाई जहाज़ चालक बनना चाहते हैं इसीलिए इस पोस्ट में अपने जाना कि पायलट कैसे बने (How to be a pilot in india). वैसे तो हर रास्ता कठिन होता है.

किसी भी रास्ते पर चलना मुश्किल भरा हो सकता है. अब कोई भी कोर्स करें, आप को उसकी पढ़ाई तो करनी पड़ती है और जी तोड़ मेहनत भी करनी होती है.

जब बच्चे बारे में 12वीं पास कर लेते हैं तो उनके दिमाग में यह भी पढ़ता रहता है क्या के 12वीं के बाद क्या करें. उनके लिए एक करियर ऑप्शन के रूप में एविएशन भी बहुत अच्छा साबित हो सकता है.

अगर उन्हें इसकी इच्छा है तो फिर इसमें अच्छा करियर बन सकता है. लेकिन कई लोगों को मालूम होता है कि पायलट बनने का खर्चा कितना लगता है.

वैसे तो हवाई जहाज़ चालक बनने के कोर्स में काफी पैसे लगते हैं लेकिन अगर आप आर्थिक रूप से कमजोर है फिर भी आप एरोप्लेन हवाई जहाज़ चालक बन सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको NDA का कोर्स करना पड़ेगा.

12वीं में पढ़ने वाले बच्चों के लिए यह भी जानना जरूरी है पायलट बनने के लिए कौन से सब्जेक्ट लेना पड़ता है. ताकि जब मजबूत हो तो फिर कोर्स चुनने में आसानी हो.

अगर अपनी पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम  व्हाट्सप्प पर अधिक से अधिक शेयर करें.

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.