गणित क्या है और इसका अर्थ क्या है?

जब कोई बच्चा पहली बार स्कूल जाता है तो उसे हर विषय की जानकारी दी जाती है इसी में से एक विषय हैं जो काफी कठिन माना जाता है जिससे स्कूलों में पढ़ने वाले कई बच्चे डरा भी करते हैं और कहते हैं कि इसे पढ़ना काफी मुश्किल है. गणित क्या है (What is Mathematics in Hindi) और इसकी परिभाषा क्या है. स्कूल में पढ़ने वाला हर बच्चा इससे वाकिफ होता है लेकिन यही वह विषय है जिसके बारे में हम यहां पर चर्चा कर रहे हैं और जिसे पढ़ने वाले सभी विषयों में से इसे सबसे मुश्किल विषय में से एक मानते हैं.

वैसे मैं अपनी बात करूं तो मुझे मैथमेटिक्स काफी पसंद था और अपनी पढ़ाई के दौरान कभी भी मुश्किल नहीं हुई बल्कि यह मेरे सबसे पसंदीदा विषय में से एक हुआ करता था और मुझे इसकी पढ़ाई करने में काफी मजा भी आता था. अगर आप भी स्कूल या फिर कॉलेज के छात्र हैं तो आपने भी देखा  होगा की क्लास में बहुत सारे ऐसे बच्चे भी होंगे जिन्हें मैथ बहुत पसंद होगा और वह 90% से ऊपर भी नंबर लाते होंगे. जो बच्चे गणित को पसंद करते हैं और उनसे अगर पूछे तो वह कभी नहीं कहेंगे की उन्हें गणित पढ़ना मुश्किल लगता है बल्कि वह कहेंगे कि उन्हें सबसे ज्यादा मजा इसी विषय में आता है.

चाहे बच्चा हो या फिर अभिभावक हर कोई जानता है कि गणित ऐसा विषय है जिस में बच्चे को अच्छा होना जरूरी है क्योंकि यह विषय आगे चलकर बहुत सारे प्रोफेशनल कोर्स को करने का एक बुनियाद देता है. इस विषय के बिना बहुत सारे कोर्स को करना नामुमकिन है. यही वजह है कि हम आपको बताने जा रहे हैं कि इंपॉर्टेंस ऑफ मैथमेटिक्स इन हिंदी लैंग्वेज क्या है जानेंगे की गणित हमारे भविष्य की पढ़ाई के लिए कितना महत्वपूर्ण है. जैसे ही कोई स्टूडेंट हाई स्कूल में जाता है तो उसके गार्जियन उसे अच्छे ट्यूशन मास्टर के पास भी भेजना शुरू कर देते हैं अगर उसका गणित अच्छा ना हो तो. सभी चाहते हैं कि उसके बच्चे गणित में बहुत तेज हो और अच्छे से अच्छा नंबर उठा सके. यह एक ऐसा विषय है जिस में 100 % स्कोर लाना संभव है.

गणित किसे कहते हैं अगर आप यह जानना चाहते हैं तो किसी भी पढ़ने वाले स्टूडेंट से एक बार पूछ ले वह आपको बहुत अच्छी तरीके से बता देगा. अगर फिर भी आप इंटरनेट में इसके बारे में सर्च करते हुए आए हैं तो यह पोस्ट हमने आपके लिए ही लिखा है. यह पोस्ट पढ़कर अब जान जाएंगे कि गणित का क्या अर्थ है तो चलिए  जान लेते हैं कि मैथमेटिक्स क्या होता है (What is mathematics in hindi) और इसका इतिहास क्या है.

गणित क्या है – What is Mathematics in Hindi

math kya hai hindi

गणित की परिभषा – Definition of Mathematics in Hindi:

गणित एक विज्ञान है जो संख्या, आकार, मात्रा और व्यवस्था के लॉजिक से संबंधित है. गणित हमारे चारों ओर हैं हम जो कुछ भी करते हैं उसमें हैं. हमारे रोजमर्रा की जिंदगी में हर चीज में मौजूद है जैसे बिल्डिंग में हर जगह ब्लॉक बने हुए रहते हैं. यहां तक कि यह हमारे मोबाइल डिवाइस में है, आर्किटेक्चर में है, कला में है, पैसे में है, इंजीनियरिंग में है, और यहां तक कि खेल में भी शामिल है.

जब हम इतिहास की तरफ नजर डालते हैं तो देखते हैं की शुरुआत के समय से ही गणितीय खोज हर समाज में सबसे आगे रही है. जब हम गौर करते हैं तो यह सबसे पुरानी संस्कृतियों में भी उपयोग में रही है. समाज की इच्छा के आधार पर गणित की जरूरतें पैदा हुई. एक समाज जितना जटिल है उतना ही जटिल गणितीय जरूरत है. जो पुरानी जनजातियां थी उन्हें गिनने की जरूरत थी, लेकिन सूरज की स्थिति और शिकार करने के फिजिक्स की गणना करने के लिए मैथ पर ही भरोसा किया.

गणित का इतिहास – History of Mathematics in Hindi

चीन, भारत, मिस्र, मध्य अमेरिका और मेसोपोटामिया जैसी कई सभ्यताओं ने गणित के विकास में काफी योगदान दिया है जैसे कि हम जानते हैं सुमेरियन काउंटिंग सिस्टम डिवेलप करने वाले पहले लोग थे. मैथमेटिशियंस ने अर्थमैटिक विकसित किया जिसके अंतर्गत कुछ बेसिक ऑपरेशंस जैसे मल्टीप्लिकेशन, फ्रेक्शन, और स्क्वायर रूट शामिल है.

सुमेरियन द्वारा विकसित की गई प्रणाली एकेडियन साम्राज्य से होकर लगभग 300 ईसा पूर्व 600 साल बाद बेबीलोन के लोगों तक पहुंची. इसके 600 साल बाद Mayans ने कैलेंडर सिस्टम को डेवलप किया और इसे विस्तार भी किया और इस तरह वह बहुत ही कुशल खगोल विद बन गए. लगभग यही वह समय था जिस समय जीरो का कंसेप्ट भी विकसित किया गया.

जैसे-जैसे सभ्यता का विकास हुआ गणितज्ञों ने ज्योमेट्री के साथ काम करना शुरू कर दिया जोकि एंगुलर मेजरमेंट करने के लिए एरिया और वॉल्यूम की गणना करता है और इसके कई प्रैक्टिकल उपयोग भी हैं. होम कंस्ट्रक्शन से लेकर फैशन और इंटीरियर डिजाइन तक हर चीज में ज्योमेट्री का इस्तेमाल किया जाता है.
ज्योमेट्री ने ही अलजेब्रा यानी की बीजगणित के साथ हाथ मिलाया, अलजेब्रा का आविष्कार एक फारसी मैथमेटिशियन मुहम्मद इब्न मूसा अल ख्वारिज्मी द्वारा नौवीं शताब्दी में किया गया. उन्होंने संख्याओं को गुणा और डिवाइड करने के लिए quick method का विकास किया जिसे एल्गोरिदम कहा जाता है.

अलजेब्रा ने सभ्यताओं को विरासत को विभाजित करने और संसाधनों को एलोकेट करने का तरीका पेश किया. बीजगणित के अध्ययन का मतलब था गणितज्ञ लीनियर इक्वेशन और सिस्टम के साथ-साथ quadratics हल कर रहे थे और पॉजिटिव और नेगेटिव सॉल्यूशन भी कर रहे थे.
प्राचीन काल में मैथमेटिशियंस ने नंबर सिस्टम को देखना शुरू कर दिया था. किसी आकृति के निर्माण में उसकी शुरुआत के साथ नंबर थ्योरी इस आकृति के निर्माण के लिए नंबर पर इस्तेमाल हर जगह किया जाता है.

गणित की शाखाएं – इसके अंतर्गत पढ़ाए जाने वाले टॉपिक

आधुनिक युग का अंत से पहले गणित का अध्ययन बहुत सीमित था. लेकिन समय के बीतने के साथ-साथ गणित और विस्तृत विषय के रूप में विकसित हुआ. सही माने तो इसका कोई अंत नहीं. इसका विकास अभी भी निरंतर होता जा रहा है और टेक्नोलॉजी के क्षेत्रों में भी इसका काफी बड़ा योगदान बढ़ता जा रहा है. यही वजह है कि गणित को विज्ञान के रानी के नाम से जाना जाता है.

शुरुआती नंबर सिस्टम से कंप्यूटेशनल विज्ञान और संभावना का आधुनिक रिसर्च एरियाज तक गणित के आधार के साथ कई नए क्षेत्र विकसित हुए हैं. विषय के दायरे और उपयोग के फैलने के साथ गणित के विभिन्न शाखाओं को बांटा गया है जिसकी वास्तव में काफी जरूरत है.

गणित की शाखाएं कौन सी है?

गणित को मोटे तौर पर निम्नलिखित भागों में बांटा जा सकता है:

Arithmetic (अंकगणित)

यह गणित के अन्य शाखाओं की सबसे पुराना और सबसे प्राथमिक शाखा है. इस गणित के द्वारा संख्याओं और उससे जुड़े मूलभूत ऑपरेशन जैसे जोड़, घटाव, गुणा, भागा इत्यादि किया जाता है.

Algebra (बीजगणित)

यह एक प्रकार का अंकगणित है जहां हम संख्या के साथ-साथ अज्ञात क्वांटिटीज का उपयोग करते हैं. इन अज्ञात क्वांटिटीज को हम इंग्लिश अल्फाबेट के कुछ लेटर से रिप्रेजेंट करते हैं जैसे X, Y, Z,A, B इत्यादि या प्रतीकों द्वारा करते हैं. इन लेटर की मदद से हम इनका उपयोग करके सूत्रों और नियमों को कॉमन बनाने में उपयोग करते हैं इसके अलावा इस के जरिए हम अननोन क्वांटिटी कैलकुलेशन भी करते हैं.

Geometry (ज्यामिति)

यह गणित की सबसे प्रैक्टिकल ब्रांच है जो आकृतियों और उनके प्रॉपर्टी शेप और साइज से जुड़ा हुआ होता है. ज्योमेट्री के बेसिक एलिमेंट्स प्वाइंट, लाइन, एंगल, सॉलि़ड और सरफेस इत्यादि होते हैं.

Trigonometry  (त्रिकोणमिति)

दो ग्रीक शब्दों Trignon और Metron से मिलकर बना हुआ है ट्रिगोनोमेट्री जिसे हम त्रिकोणमिति भी कहते हैं. Trignon का मतलब होता है त्रिभुज और Metron का मतलब होता है मापना. जब हम किसी त्रिभुज के कौन और उनके भुजाओं के संबंधों के बीच में अध्ययन करते हैं तो इसे ही त्रिकोणमिति कहा जाता है.

Analysis (विश्लेषण)

मैथमेटिक्स की वह शाखा है जिसमें विभिन्न क्वांटिटी के परिवर्तन के दर के बारे में अध्ययन करते हैं. एनालिसिस करने के लिए कैलकुलस को आधार के रूप में इस्तेमाल किया जाता है.

गणित का महत्व – Importance of Mathematics in Hindi

आपको पता भी नहीं चलता होगा और आप हर वक्त मैथ का इस्तेमाल कर रहे होते हैं. जब आपकी नींद खुलती है तो सबसे पहले आपका यह सवाल होता होगा कि कितना समय हो गया. और तुरंत अपनी घड़ी को देखते होंगे या फिर दीवार पर टंगे हुए घड़ी पर वक्त देखते होंगे. यह क्या है? अब आप जो समय देख रहे हैं.. जी हां यह गणित ही है आप जो नंबर पढ़ रहे हैं समझ रहे हैं और उसके अनुसार कुछ काम कर रहे हैं तो यह गणित की वजह से ही संभव हो सका है.
अब सुबह से लेकर रात को बिस्तर में जाने तक समय के अनुसार ही डेली रूटीन को फॉलो करते हैं और अपनी जिंदगी को बिताते हैं. चाहे आप नाश्ता करना हो अपने जॉब पर जाना हो फिर वापस आकर फिटनेस पर ध्यान देना हो डिनर करना हो या फिर सो जाना हो हर जगह आप नंबर से घिरे हुए हैं. यही वजह है कि आज हम आपको गणित का महत्व बताने वाले हैं जो शायद आपने कभी ध्यान भी नहीं दिया होगा.

गणित सीखने से दिमाग तेज होता है

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के डॉ तानिया ई वांट द्वारा किए गए शोध से संकेत मिलता है कि जो बच्चे गणित जानते हैं वह दिमाग के कुछ एरिया को अधिक भरोसेमंद रूप से उपयोग करने में सक्षम होते हैं. और जो गणित में अधिक खराब प्रदर्शन करते हैं उनकी तुलना में उनके दिमाग में ग्रे मैटर की मात्रा ज्यादा होती है. अच्छा परफॉर्मेंस करने वाले बच्चों में गणित की अच्छी नॉलेज होते और उनका दिमाग भी बहुत तेज होता है. ऐसे बच्चे इमेजेस को ध्यान से देखने उन्हें याद करने और निर्णय लेने से जुड़े सवालों को बहुत ही अच्छे से हल कर सकते हैं. इस अध्ययन से पता चलता है कि दिमाग का वो एरिया जो गणित सीखने में मदद करता है वहीं निर्णय लेने और चौकन्ना रहने वाले कामों में भी महत्वपूर्ण होता है.

गणित हमें समय के बारे में बताता है

मुझे देर हो रही है, मुझे अपने काम कर उस सही समय में पहुंचना है. इस तरह के शब्द आप कई बार अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से सुनते ही होंगे. क्योंकि वह पहले से एक निश्चित समय के लिए किसी काम को फिक्स कर देते हैं और फिर उस वक्त तक इंतजार करते हैं और जब वक्त आती है तो फिर वहां तक पहुंच जाते हैं. तो समय में मूल रूप से हम नंबर का इस्तेमाल करते हैं.

फाइनेंसियल स्थिति में मदद करता है

गणित आप के बजट को संतुलन करने के लिए मददगार हो सकता है क्योंकि आपको इस बात की अच्छी समझ होगी कि कैसे सुनिश्चित करें कि आप की लागत आपके पास मौजूद पैसे से कम है. उदाहरण के लिए किसी बैंक खाते को संतुलन कनक महत्वपूर्ण काम है जिसमें शेष राशि को घटाने के लिए गणित की आवश्यकता होती है. जो लोग गणित समझते हैं और जानते हैं उनके लिए कर्ज जाने की संभावना कम होती क्योंकि वे जानते हैं कि उनके पास कितना पैसा है.

गणित में खाना बनाने में भी मदद करता है

आपको भले इस बात को सुनकर हंसी आई होगी लेकिन आप भी सच मानेंगे क्योंकि जब खाना बनाना होता है परिवार के लिए तो परिवार के सदस्यों की संख्या के अनुसार ही खाना बनाने की सही मात्रा तय की जाती है. फिर किसी रोज हमारे यहां कोई मेहमान आ जाता है तो फिर उसके लिए अलग से खाना डाला जाता है और फिर जो बुजुर्ग होते हैं घर पर उनसे पूछा जाता है कि हमें कितना खाना बनाना सही रहेगा जिससे कि खाना नहीं घटे और ना ही ज्यादा एक्स्ट्रा बचे.

प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल को मजबूत करता है

हमें विश्लेषणात्मक रूप से सोचने में मदद करता है और लॉजिकली हमें बेहतर बनाते हैं. एनालाइज सोच हमारे आसपास के बारे में गंभीर रूप से सोचने की क्षमता को दर्शाता है. लॉजिक एक स्थिति के बारे में लॉजिकली रूप से सोचने की हमारी क्षमता है. विश्लेषणात्मक और लॉजिकल कौशल महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमें समस्याओं को हल करने और सॉल्यूशन करने में मदद करते हैं. हालांकि यह सूचना दूर की कौड़ी लग सकता है कि ऊपर दी गई ट्रेन की समस्या को हल करने से आपको अपने जीवन की समस्या को हल करने में मदद मिल सकती है. लेकिन आप जिन सवालों का उपयोग अपने दिमाग का इस्तेमाल करते हैं जीवन मैं आने वाले इसी तरह की समस्याओं के समाधान करने में भी हमें इसी दिमाग का प्रयोग करना होता है.

गणित बच्चों को स्मार्ट बनाता है

गणित सीखना वैसा ही है जैसा हम खेल कूद सीख कर अपने शरीर को मजबूत और स्टेमिना युक्त बनाते हैं, गणित हमारे दिमाग को मजबूत बनाता है. आपका बच्चा स्पोर्ट्स में एक बहुत बड़ा स्टार नहीं बन सकता है अगर वह स्वास्थ्य के रूप में मजबूत ना हो. इसी तरह का बच्चा किसी प्रोफेशन में कामयाब नहीं हो सकते जब तक उसका दिमाग प्रॉब्लम सॉल्विंग करने में समर्थ ना हो. स्कूल और कॉलेज में बच्चों को गणित का अभ्यास करा कर उनके दिमाग को मजबूत बनाया जाता है.

संक्षेप में

दोस्तो आज के पोस्ट में आपने जाना की गणित क्या है (What is Mathematics in Hindi) और इसकी परिभाषा क्या है. इस विषय का अर्थ क्या होता है किस तरह यह मानव जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है. जब बच्चा थोड़ा बड़ा होता है तब उसे स्कूल में डाल दिया जाता है और शुरू से ही उसे गणित की जानकारी दी जाती है. क्योंकि सब जानते हैं कि गणित हमारे जीवन में है और यह पल पल हम इस समय के रूप में भी अपने आप को हमारे सामने लाता रहता है और एहसास दिलाता है कि अगर गणित ना होता तो हम समय के महत्व को भी ना जान पाते हैं.

गणित किसे कहते हैं यह हमने आर्टिकल में आपको सरल शब्दों में बताने की कोशिश की है. हमारी जिंदगी में इसके अनेक फायदे हैं क्योंकि यह हमारे दिमाग को मजबूत करता है और एक मजबूत दिमाग के साथ कोई भी इंसान अपने जीवन को आसान बना सकता है. दोस्तों हम उम्मीद करते हैं कि आपको गणित से जुड़े सभी सवालों का जवाब मिल गया होगा. आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अगर अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम, और फेसबुक में शेयर करें.

13 COMMENTS

  1. mujhe maths k subject k bare m jankr bhut achaa lga. Maths humari zindagi m kitna jruri hai, ye bt hum bhi nhi jante dhanyvad sir 😊.

  2. mujhe maths k subject k bare m jankr bhut achaa lga. Maths humari zindagi m kitna jruri hai, ye bt hum bhi nhi jante dhanyvad sir 😊.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here