इंटरनेट क्या है और यह कहाँ से आता है?

कभी आपने सोचा है की हर वक़्त आप जिस इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं आखिर वो शुरू कैसे हुआ? इसे कैसे बनाया गया और फिर पूरी दुनिया में ये किस तरह फ़ैल चूका है. इंटरनेट क्या है (What is internet in Hindi) और इंटरनेट कहाँ से आता है या फिर इसे किसने बनाया है? तो आसान शब्दों में समझ लें की

इंटरनेट एक दूसरे से जुड़े कई कंप्यूटर का बहुत बड़ा जाल है जो पूरी दुनिया में फैला हुआ है. ऐसा नेटवर्क जिसमे इतने सारे कंप्यूटर जुड़े हुए हैं जिसकी गिनती करना किसी के बस की बात नहीं.

साथ ही कभी ये जानने की कोशिश की इंटरनेट कैसे बनता है और इसका मालिक कौन है? आज का वक़्त ऐसा है की अगर आपके पास सिर्फ मोबाइल है और उसमे इंटरनेट नहीं तो फिर वो किसी काम का नहीं है.

क्यों?

इस सवाल का जवाब मुझे देने की जरुरत नहीं है. इसका जवाब आपके पास ही है.

आज लोग मोबाइल का इस्तेमाल सिर्फ बात करने के लिए ही नहीं करते. जो काम नार्मल कंप्यूटर करते हैं ठीक वही काम एक स्मार्टफोन भी कर सकता है. अगर थोड़े बहुत काम को छोड़ दे तो.

आज के पोस्ट में आप इंटरनेट के बारे में पुरे विस्तार से जानेंगे. आजकल लोग हर प्रॉब्लम को तो मैनेज कर लेते हैं. लेकिन अगर मोबाइल में बैटरी और खासकर नेट न हो फिर तो जैसे दुनिया उसके लिए बेकार ही है. कुछ लोगो के लिए इसके बगैर जीना भी मुश्किल है.

आज का युथ ऐसा हो चूका है की उसके पास कुछ हो चाहे न हो मोबाइल में नेट जरूर होना चाहिए. एक वक़्त बिना खाना के रह सकते हैं लेकिन नेट के बिना नहीं रह सकते.

पहले का वक़्त हुआ करता था जब लोगों के पास वक़्त गुजरने के लिए कुछ नहीं था. लोग तरह तरह के कार्ड्स, लूडो, और दूसरे गेम्स या फिर मनोरंजन के संगीत गाया और सुना करते थे.

लेकिन अभी लोगो के पास वक़्त ही नहीं है. नेट और मोबाइल में वक़्त कब गुजरता है पता भी नहीं चलता. अब हर सवाल का जवाब हमे नेट पर जरूर मिल जाता है.

तो आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे की इंटरनेट की उपयोगिता क्या है (use of internet in hindi language)और इस के फायदे और नुकसान क्या क्या हैं.

लेकिन इससे पहले जान लेते हैं की इंटरनेट क्या होता है (What is internet in hindi) और इंटरनेट का पुराना नाम क्या है.

इंटरनेट क्या है – What is Internet in Hindi?

ये नेटवर्क और सर्वर के माध्यम से किसी भी कंप्यूटर को एक साथ जोड़ता है. टेक्निकल भाषा में कहे तो इंटरनेट पूरी दुनिया को जोड़ने वाला ऐसा नेटवर्क सिस्टम है जो डाटा को अलग अलग जगहों से TCP/IP का इस्तेमाल कर के पूरी दुनिया के कम्प्यूटर्स में transmit करता है.

जब पूरी दुनिया के कंप्यूटर जुड़ के एक नेटवर्क बनाते हैं तो उसे Globel network बोला जाता है.

आप जो वेबसाइट खोलते हैं उसमे आर्टिकल पढ़ते हैं वीडियोस देखते हैं वो दुनिया की किसी भी हिस्से से हो सकता है. और वो डाटा दुनिया के किसी भी कोने से देखा जा सकता है.

दुनिया में जितने भी वेबसाइट होते हैं उनके सारे डाटा को नेट में सेव या स्टोर कर के रखा जाता है.

जिस जगह स्टोर कर के रखा जाता है उसे ही वेब होस्टिंग कहा जाता है. अगर आपको नहीं पता की वेब होस्टिंग क्या है और कैसे काम करता है तो आप इसे यहाँ से पढ़ सकते हैं.

नेट में डाटा को एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए router और server का इस्तेमाल करते हैं.

इंटरनेट की परिभाषा क्या है – Definition of Internet in Hindi?

इंटरनेट एक ऐसा नेटवर्क सिस्टम है जो पूरी दुनिया के कंप्यूटर जुड़ने के बाद बना हुआ है. इस नेटवर्क में हर तरह के मीडिया फाइल्स को ट्रांसमिट करने के लिए TCP/IP का इस्तेमाल किया जाता है.

यहाँ मैं आपको इंटरनेट से जुडी कुछ रोचक बातें बता रहा हूँ. जिससे आपको नेट क्या है? ये समझने में आसानी होगी. आपके नेट के बारे में नॉलेज इसको पढ़ के थोड़ी और बढ़ जाएगी.

इंटरनेट पूरी दुनिया के कम्प्यूटर्स से जुड़ने के बाद बना हुआ बहुत बड़ा नेटवर्क है. इससे डाटा को एक कम्प्यूटर से दुनिया के किसी भी कंप्यूटर में भेज और रिसीव कर सकते हैं.

जब कुछ कम्प्यूटर्स को एक साथ जोड़ा जाता है तो उसे नेटवर्क बोलते हैं. इस तरह के बहुत सारे छोटे नेटवर्क जब मिलकर एक नेटवर्क बनते हैं तो ये ग्लोबल नेटवर्क बन जाता है. इसे दूसरे वर्ड्स में वर्ल्ड वाइड नेटवर्क भी बोल सकते हैं.

नेट से जुड़े हुए हर कंप्यूटर की अलग अलग पहचान होती है. इस स्पेशल पहचान को ही IP Address (Internet Protocal) बोलते हैं. IP Address नंबर्स का एक यूनिक सेट होता है. हर कंप्यूटर के लोकेशन को डिफाइन करता है जैसे (202.165.12.114).

इस IP Address को डोमेन नाम के इस्तेमाल से एक नाम दे दिया जाता है जैसे example.com एक नाम है. अब यहाँ सवाल ये उठता है की हम तो कम्प्यूटर्स को switch off भी करते हैं जबकि वेबसाइट को कभी भी खोलते हैं तो खुल जाता है.

तो यहाँ जानने वाली बात ये है की जो कम्प्यूटर्स वेबसाइट को स्टोर करते हैं उसे सर्वर कहा जाता है. सर्वर ऐसे कंप्यूटर होते हैं जो हमेशा ON रहता है. 24/7 वेबसाइट चलती रहे इसके लिए सर्वर को हर वक़्त चालू रखा जाता है.

मैंने बैंगलोर की एक होस्टिंग प्रोवाइडर कंपनी के सर्वर रूम को खुद भी देखा है. सर्वर रूम साइज में काफी बड़े होता हैं जहाँ पर सर्वर्स सिस्टम को रेक में रखा जाता है. ये सर्वर 24 hours लगातार काम करते रहते हैं.

इंटरनेट का पुराना नाम क्या है?

इंटरनेट का पुराना नाम ARPANET है. जिसका पूरा नाम Advanced Research Projects Agency Network है.

इंटरनेट किसने बनाया – Father of Internet in Hindi

बहुत से लोगों को ये US Department of Defense ने ARPANET प्रोजेक्ट के जरिये इंटरनेट की बुनियाद रखी.

इस प्रोजेक्ट को डेवेलोप करने में मुख्य योगदान Robert Taylor और Lawrence Roberts ने दिया. 1969 में पहली बार ARPANET के जरिये मैसेज भेजा गया.

जिसके लिए California University (Los Angeles) के प्रोफेसर Leonard Kleinrock के laboratory से दूसरे नेटवर्क स्टैनफोर्ड रिसर्च इंस्टिट्यूट को जोड़ के नेटवर्क की रचना की गई.

1970 में Internet Protocol Suite (TCP/IP) को Robert E. Kahn और Vint Cerf ने develop किया था जो की ARPANET में standard internet protocol बन गया.

अगर सही मायने में कहा जाये की इसे किसने बनाया है या अभी जो नेट हम इस्तेमाल करते हैं वो कहाँ से आया. तो मैं आपको बता दूँ की इंटरनेट के जनक, father of internet Robert E. Kahn और Vint Cerf  हैं.

इंटरनेट का इतिहास – History of Internet in Hindi

अगर हम यहाँ बात करेंगे की इंटरनेट कब शुरू हुआ था तो वो साल था 1969. ये वही दिन था जब पहली बार एक से ज्यादा कंप्यूटर को जोड़ कर एक नेटवर्क तैयार किया गया और इन नेटवर्क के बिच मैसेज को send किया गया.

इसके बाद क्या था बस ये विकसित होता चला गया और आज 5g का युग आ चूका है आगे भी ये बढ़ता रहेगा. तो चलिए एक नज़र डाल लेते हैं की नेट शुरू होने के बाद से अब तक हमारे पास कैसे पहुंचा.

  • इंटरनेट के लिए पहली बार ARPANET के नाम से प्रोजेक्ट शुरू किया गया. Advance Research Project Agency Network नाम से इसको American defense department ने 1969 में develop किया.
  • ARPANET को सीक्रेट रूप से war के बिच मैसेज भेजने के लिए बनाया गया था.
  • 1972 में Retamolins ने पहली बार ईमेल मैसेज सेंड किया. इस तरह से ईमेल मैसेज का उपयोग बढ़ता चला गया. इस तरह ये नेटवर्क बहुत ही पॉपुलर हो गया.
  • इसके बाद 1979 में पहली बार इस का ब्रिटिश पोस्ट ऑफिस में टेक्नोलॉजी के रूप में इस्तेमाल किया गया.
  • धीरे धीरे 1984 के आने तक इस नेटवर्क से 1000 कम्प्यूटर्स जुड़ चुके थे.
  • अब ऐसा होने लगा की इसका इस्तेमाल दूसरे सेक्टर्स में भी होने लगा और इसका नेटवर्क फैलता चला गया.
  • फिर 1986 में इंटरनेट को NSFNET नाम दिया गया. और इसने पूरी दुनिया में अपने महत्व को साबित कर दिया था.

इंसानो के लिए खाना जरुरी है लेकिन ज्यादा खा लेने से पेट ख़राब हो जाता है. ठीक उसी तरह नेट सही इस्तेमाल करने से फायदा बहुत है. लेकिन ज्यादा और गलत इस्तेमाल से इससे नुकसान भी बहुत है. तो चलिए जानते हैं की नेट के लाभ और नुकसान क्या क्या है.

इंटरनेट कहाँ से आता है?

ये सुनकर कभी कभी काफी अजीब लगता है की आखिर ये इंटरनेट कहाँ से आता है जिसका इस्तेमाल कभी भी और दुनिया के किसी भी  हिस्से से किया जा सकता है.

मैं आपको यहाँ इसी की जानकारी देने वाला  हूँ की ये कुछ और  नहीं बल्कि पूरी दुनिया के कंप्यूटर से जुड़ने से बना हुआ जाल है.

वेबसाइट, ब्लॉग, ऑनलाइन एप्प्स और ऑनलाइन गेम्स जो हम खेलते हैं ये जिस कंप्यूटर में स्टोर किये जाते हैं उसे सर्वर कहा जाता है और ये 24 घंटे 7 दिन यानि हमेशा ऑन रहता है.

सर्वर की सुविधा वेब होस्टिंग कंपन्या देती हैं जो 99.99 % uptime यानी की उनका सर्वर वाला कंप्यूटर दिनरात हमेशा ऑन रहता है.

पूरी दुनिया के सर्वर को केबल के द्वारा जुड़े हुए रहते हैं जिसे फाइबर ऑप्टिक्स केबल कहा जाता है, इसके अंदर डाटा आने और जाने दोनों की सुविधा होती है.

और इनके केबल की thickness इंसानी बाल के बराबर होती है. ये काफी स्पीड से डाटा को ट्रांसफर करने में सक्षम होता है.

इस तरह नेट का सारा दारोमदार इन्ही केबल्स पर होता है क्यों इन्हे महसागर के अंदर से बिछा कर ले जाया गया है और इस तरह ये पूरी दुनिया में फैली हुई हैं इंटरनेट की सुविधा बनाती हैं.

इंटरनेट के लिए satellite का योगदान काफी कम है. इसका अधिकतर भाग पूरी दुनिया में सिर्फ महासागर के अंदर बिछे हुए केबल की वजह से है.

यही वजह है की पहले इंटरनेट की सुविधा सिर्फ टेलीफोन लाइन के द्वारा दी जाती थी लेकिन आज टेलीकॉम कंपनियां लोगो को स्मार्टफोन में इस्तेमाल करने के लिए satellite के जरिये नेट का इस्तेमाल करने की सुविधा देती है.

इंटरनेट की उपयोगिता – Use of Internet in Hindi language

दोस्तों अब हम जानेंगे की नेट का उपयोग हम अपने जीवन में किस किस काम के लिए करते हैं और किस तरह इससे हम हमारी ज़िन्दगी के लिए इस्तेमाल करते हैं.

ऑनलाइन समाचार (Online News): आज हमे रेडियो और टीवी देखने की भी जरुरत नहीं पड़ती और हमे सारा ताज़ा समाचार हमारे  फ़ोन में ही हमें मिल जाता है.

इसका सारा क्रेडिट जाता है इंटरनेट को क्यूंकि इसी की बदौलत आज हमें देश विदेश, खेल कूद, मनोरंजन, हर तरह के समाचार हमे हमारे फ़ोन में newspaper की तरह और टीवी की तरह वीडियो वाले समाचार भी देख सकते हैं.

शिक्षा का क्षेत्र (Education Field): कुछ साल पीछे चले जाएँ तो उस वक़्त नेट का इस्तेमाल बस गिने चुने लोग ही  किया करते थे. उस समय पढाई लिखे के लिए बस किताबों का प्रयोग करते थे.

जब नेट की सुविधा हमारे हाथों में आयी तो इसका इस्तेमाल हर तरह से पढाई में होने लगा.

अगर आप अभी गूगल में जाकर किसी भी विषय के किसी ख़ास टॉपिक को भी सर्च करेंगे तो उस पर लिखे गए ढेर सरे लिखे हुए आर्टिकल पढने को मिलेंगे.

इस के अलावा ऑनलाइन क्लासेज भी कराये जाते हैं. Udemy जैसी वेबसाइट है जो ऑनलाइन कोर्सेज  करवाती है. यूट्यूब में जाकर कोई भी किसी टॉपिक पर बने वीडियोस को देख कर पढ़ सकते हैं कर समझ सकते हैं.

चिकित्सा का क्षेत्र (Medical Sector): मेडिकल क्षेत्र में विकास और इसमें इंटरनेट का इस्तेमाल लोगों की जिंदगियों को बहुत फायदा पहुँचाया है. नेट सर्वर का इस्तेमाल कर के हॉस्पिटल के हर मरीज़ का रिकॉर्ड दर्ज़ कर के ऑनलाइन रखा जाता है.

ये तो कुछ भी नहीं है हाई  स्पीड इंटरनेट का इस्तेमाल कर के अमेरिका में रहने वाला एक डॉक्टर लंदन के एक मरीज़ का ऑपरेशन कर लेता है. इसका पूरा श्रेय नेट कनेक्शन को ही जाता है.

नेट बैंकिंग (Online banking): पैसे जमा करने और निकालमे के लिए लम्बी लाइन में खड़े रहने की जरुरत ही नहीं पड़ती क्यों की इसका कारन ये है की अब बहुत सारे लोग इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करना शुरू कर चुके हैं.

बैंकों की भीड़ बहुत कम हो चुकी है और लोग हर तरह के काम घर बैठे ही कर.

इंटरनेट के फायदे – Advantages of Internet in Hindi 

इंटरनेट के बारे में सभी वैसी ही बात बोलते हैं जो हर चीज़ के लिए बोली जाती है.

किसी भी चीज़ को जरुरत के हिसाब से इस्तेमाल करने से बहुत सारे फायदे हैं. नेट से फायदे इतने हैं की इसकी कोई सीमा नहीं है. अ

भी के वक़्त में तो नेट में नॉलेज का भंडार छुपा हुआ है. साथ ही साथ नेट से घर बैठे बैठे बहुत सारे काम भी पुरे हो जाते हैं. चलिए थोड़ा डिटेल में जाने.

  • आज के वक़्त में फेसबुक और व्हाट्सएप्प ऐसी सर्विसेज हैं जो हर स्मार्टफोन यूजर जरूर इस्तेमाल करता है.  इन सर्विसेज के फायदे इतने हैं की voice message और video से भी बात कर सकते हैं.
  • इसका सबसे अनोखा लाभ ये है की लोगो के बीच की दूरी ख़तम हो चुकी है.
  • एजुकेशन के एरिया में नेट बहुत फायदा देता है. दुनिया में बहुत सी वेबसाइट हैं जो फ्री और पेड है और जो एजुकेशन के लिए courses भी करवाती है.
  • एक बहुत बड़ा उपयोग जो इसका किया जाता है वो हैं एंटरटेनमेंट. MP3 songs, video,movies सभी नेट में आसानी से देखे जा सकते हैं.
  • यूट्यूब जैसे प्लेटफार्म में millions of videos, songs, movies हैं जिससे लोग अपना मनोरंजन करते हैं.
  • Amazon, Flipkart, Snapdeal जैसी बहुत सारी कम्पनीज हैं जो ऑनलाइन शॉपिंग करने वाले लोगों को होम डिलीवरी की सर्विस देते हैं.
  • नेट के जरिये हम अपने बिज़नेस को लाखों क्रोरो लोगों तक कुछ ही दिनों में पहुंचा सकते हैं.
  • इस का लाभ हमें Gas bill, electricity bill,credit card bill,Mobile bill, DTH bill pay करने में भी मिलता है.
  • Blogging, Youtube videos, affiliate marketing और ऑनलाइन survey कर के लोग लाखों रूपए घर से ही कमाते हैं.

इंटरनेट के नुकसान – Disadvantage of Internet in Hindi

दोस्तों दुनिया में हर चीज़ की एक सीमा होती है. लिमिट से आगे बढ़ने का मतलब है की हम फिर नियम का उल्लंघन कर रहे हैं.

ठीक उसी तरह इसके भी हज़ारो लाखों फायदे हैं इससे बहुत सारे लाभ मिलते हैं. लेकिन हर सिक्के के जैसे 2 पहलु होते हैं ठीक उसी तरह इंटरनेट के साथ भी है.

  • कुछ लोगो को नेट की इतनी बुरी लत लग जाती है की उसे किसी काम का ख्याल नहीं रहता. और ऐसे में लोग बस अपने वक़्त की बर्बादी करते हैं.
  • हम सोशल मीडिया में अपने बारे में बहुत सारी डिटेल्स डालते हैं. जो की कभी कभी बुरे लोगो के जरिये access कर ली जाती है. जो हमारे लिए बहुत हानिकारक हो सकता है.
  • हमारे अकाउंट का गलत उपयोग भी नेट में किया जा सकता है.
  • कभी कभी कुछ लोग rumors भी फैला देते हैं. भले ही वो wrong information हो नेट में उसे वायरल होने में बिलकुल भी टाइम नहीं लगता है.
  • जब से नेट बना है तबसे वायरस अटैक होता रहा है. ये सबसे बड़ा खतरा है जो किसी भी इनफार्मेशन को destroy कर के लाखो करोड़ों का नुकसान कर सकता है.
  • आजकल बच्चों को भी मोबाइल दे दिया जाता है. मोबाइल में पोर्नोग्राफी कंटेंट्स को access करना बहुत आसान है. इससे बच्चों पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है.
  • कभी कभी सोशल मीडिया साइट्स और ग्रुप्स में अकाउंट को access कर के बुरे messages को छोड़ दिया जाता. ये messages ऐसे भी होते हैं जो समाज पर बुरा असर डालते हैं.

संक्षेप में

आप ज़रा एक बार ये सोच लें की अगर हमारे मोबाइल में प्रयोग किये जाने वाला इंटरनेट काम करना बंद कर दे वो भी 1 महीने के लिए तो पल भर के लिए आपके मन में क्या ख्याल आएगा?

आप यही सोचेंगे की हम 1 घंटा बिना नेट के बीता नहीं सकते इतने दिन कैसे बिताएंगे. इंटरनेट आज पूरी दुनिया में कोने कोने में इस्तेमाल किया जाता है. पहले इसका इस्तेमाल कम होता था लेकिन अब सबके हाथ में ये उपलब्ध है.

मैं आशा करता हूँ आपको ये पोस्ट इंटरनेट क्या है (What is internet in Hindi) और इंटरनेट कहाँ से आता है. इस पोस्ट में आपने ये भी जाना की इंटरनेट की उपयोगिता क्या है (use of internet in hindi language).

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो इसे जरूर शेयर करें.

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

33 thoughts on “इंटरनेट क्या है और यह कहाँ से आता है?”

  1. Wasim sir aapne internet kya hai aur internet kisne banaya ye bahut hi ache se samjhaya hai. Mujhe bahut achi jankari Mili hai is post se. Thank you so much sir.

    Reply
  2. Aaj maine jana ki Internet kisne banaya, kab banaya aur internet ke father kaun hain. ye sab mujhe bilkul bhi nahi malum tha. Internet ki puri jankari dene ke liye shukriya.

    Reply
    • Acha laga mujhe ki apko meri ye internet ke bare me likha hua post pasand aaya. Thank you so much.

      Reply
  3. Aap main ache section samajh gaya ki Internet kya hota Hai aur iske Kya fade aur nuksan hain. Thank you wasim sir.

    Reply
    • Thank you vishal internet ki jankari se jude post ko pasand karne ke liye. Aise aur ache post padhne ke liye hamare blog se jude rahe.

      Reply
    • Sir ji i am dipu kumar giri
      Study form vivekananda global university jaipur , with computer science engineering
      Sir ham aapea company kholana chata hu but hame kay kerna hoga sim compeny

      Reply
    • Thank you satyabrat internet se judi ye post pasand karne ke liye. Main koshish karunga ki aur ache post likhu saral bhasha me.

      Reply
  4. I like the helpful info you provide in your articles. I will bookmark
    your blog and check again here frequently. I’m
    quite certain I’ll learn many new stuff right here! Best of luck for the next.

    Reply
  5. I liked your post very much … I hope everybody likes this post. And everyone should read it completely. You have done a very good post for the internet information. I want to thank you for sharing this post …

    Reply
  6. Mai jis gaw ya village se hu waha net bahut hi slow kam karta hai his tarh se ye duniya ke had kone me faila hua hai ye untna hi speed kon nhi Kam karta jitna ki Apne bataya Mera manna hai or Jo user jitna hi mb gb data prachege karta utna hi

    Jo ki hi seed milni chaie
    hua hai

    Reply
  7. इंटरनेट को आपने बेहद ही आसान भासा मे बताया । बहुत कुछ नया सीखने को मिला।

    Reply

Leave a Comment