Facebook क्या है और इसका मतलब?

फेसबुक क्या है (What is facebook in Hindi) इसे कौन नहीं जानता? Facebook किसी तारीफ़ का मोहताज़ नहीं है क्यों की आज हर इंसान का फेसबुक प्रोफाइल जरुर बना होता है और लगभग हर इंसान को fb की जानकारी हिंदी में जरूर होती है. आजकल के युथ में इसका काफी क्रेज है. यहाँ तक की बड़े बूढ़े लोग भी इसका इस्तेमाल youth के बराबर ही करते हैं लेकिन कम नही.

फेसबुक का इस्तेमाल कैसे करे (how to use facebook in hindi) ये भी करीब हर फेसबुक की जानकारी रखने वाले को मालूम होता है. इस का इस्तेमाल लोग अपने बहुत सारे कामों के लिए करते हैं जैसे message, chatting, video calling, photo sharing status लिखने के लिए और अपने फ्रेंड्स और रिलेटिव्स से लोग हर वक़्त इसके जरिये जुड़े हुये होते है.

इसमें कभी किसी तरह की गिरावट देखने को नहीं मिली है बल्कि बढ़ती ही जा रही है. फिर भी क्या आपने कभी जानने की कोशिश की है की आखिर ये फेसबुक किसने बनाया यानि और इसके संस्थापक कौन हैं? ये हम आगे जानेंगे लेकिन इसके पहले जान लेते हैं की ये Facebook क्या होता है (What is facebook in Hindi).

फेसबुक क्या है – What is Facebook in Hindi?

facebook kya hai - फेसबुक क्या है

Facebook Inc. एक अमेरिकन ऑनलाइन सोशल मीडिया और सोशल नेटवर्किंग पर based कंपनी है, जो कैलिफ़ोर्निया के मेनलो पार्क में है. इस वेबसाइट को 4 फरवरी 2004 को लांच किया गया था. उस वक़्त इसका नाम The Facebook रखा गया था.

जब इसकी पॉपुलैरिटी बहुत बढ़ गयी तब जाकर 2005 में इसका नाम फेसबुक रखा गया. फेसबुक इंटरनेट में प्रयोग होने वाला फ्री सोशल नेटवर्किंग सर्विस है. 

इस में कोई भी जिसकी उम्र कम से कम 13 साल हो रजिस्ट्रेशन कर के मेंबर बन सकते हैं वो भी बिलकुल फ्री में और एक बार सदस्य बन जाने के बाद दूसरे सदस्य बने हुये friends, रिलेटिव्स और दूसरे जान पहचान के लोगो से कांटेक्ट और बात कर सकते है. फेसबुक दूसरे भाषा के साथ हिंदी में काम करने की भी सुविधा देता है.

फेसबुक का इस्तेमाल बहुत तरह के डिवाइस से कर सकते हैं जिसमे इंटरनेट कनेक्शन होता है. जैसे कंप्यूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन, टेबलेट में हम FB आराम से चला सकते है.

इस में रजिस्ट्रेशन कर लेने के बाद यूजर अपना प्रोफाइल बना सकता है और उसमें अपने डिटेल्स जैसे नाम,पता ऑक्यूपेशन (पेशा), स्कूल या कॉलेज नाम, डिग्री क्वालिफिकेशन, स्टेटस. अपने विचार लिख कर पोस्ट कर सकता है.

अपने फीलिंग और इमोशंस को भी दूसरे लोगो तक पहुंचा सकता है. FB नए फ्रेंड्स जोड़ने की सुविधा देता है जिससे लोगो को फेसबुक के माध्यम से अपने फ्रेंड लिस्ट में जोड़ कर रख सकता है और कभी भी उन्हें मैसेज कर सकता है.

आप चाहे तो अपने फोटो अपलोड कर के जिसके साथ चाहे शेयर कर सकते है. ये फीचर मुझे बहुत पसंद है क्यों की आज भी जब मैं अपने 8 साल पुराने फोटोज देखता हूँ तो ख़ुशी होती है उस वक़्त को याद कर के. इस तरह फेसबुक हमें अपने पुराने समय को दिखाकर ख़ुशी देता है.

फेसबुक किसने बनाया (फेसबुक का अविष्कार किसने किया)?

फेसबुक किसने बनाया ये कुछ लोग जानते हैं लेकिन फिर भी बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें ये नहीं मालुम. और जानना चाहते हैं की आखिर फेसबुक का अविष्कार किसने किया. कोई बात नहीं आज आपको ये पता चल जाएगा.

Facebook के जनक Mark Elliot Zuckerberg है. Mark Zuckerberg का जन्म 14 May 1984 में अमेरिका में हुआ था.

यही वो इंसान है जिसने अपने साथ पढने और रहने वाले हार्वर्ड कॉलेज के दोस्तों के साथ मिलकर फेसबुक बनाया, उनके फ्रेंड्स Dustin Moskovitz, Eduardo Saverin, Chris Hughes, और Andrew McCollum जिन्होंने फेसबुक बनाने में अपना योगदान दिया.

इस तरह दुनिया को एक ऐसा तोह्फ़ा दिया जो सभी को एक दूसरे के साथ जोड़े रखता है. अगर आप फेसबुक इस्तेमाल करते हैं तो जानते होंगे की ये हमें कितने फायदे देता है.

फेसबुक का इतिहास – History of Facebook in Hindi

फेसबुक जिसने बनाया है यानि Mark Zuckerberg की उम्र देख ले कितनी है अभी?

जी हाँ उनकी उम्र अभी 36 साल है. इस बात से आपको अंदाज़ा लग गया होगा की फेसबुक का इतिहास ज्यादा पुराना नहीं है.

बस एक दशक बीता है फेसबुक लांच हुये। इसका इतिहास नया है फिर भी बहुत रोमांचक है. इसने इतने कम समय में इतनी सफलता हासिल कर ली है की एक मिसाल बन चुकि है.

जैसा की हमने पहले ही जाना की फेसबुक को Mark Zuckerberg ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर बनाया लेकिन इसकी मेम्बरशिप सिर्फ हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स तक ही लिमिटेड रखी.

बाद में उन्होंने इसे बोस्टन में दूसरे हायर एजुकेशन इंस्टीटूशन इवी लीग और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में भी फैला दिया. 2006 से उन्होंने उन सभी को फेसबुक का मेम्बरशिप देना शुरू कर दिया जिनकी उम्र 13 साल से ऊपर होती.

फेसबुक ने फरवरी 2012 में पहली बार अपनी कंपनी का वैल्यूएशन किया जो की 104 अरब डॉलर था. इसने 3 महीने के बाद अपना स्टॉक बेचने शुरू कर दिया. फेसबुक अपनी ज्यादातर कमाई Advertisement से करता है.

चलिए फेसबुक के इतिहास से जुड़े कुछ मुख्य तथ्य यानि facts को जानते है.

TheFacebook

  • 2003 में Zuckerberg ने एक प्रग्राम लिखा था जिसका नाम उसने Facemash रखा. इस प्रोग्राम ने अपने पहले 4 घन्टे में ही 450 visitors को attract किया और 22000 followers भी ले लिये। लेकिन हार्वर्ड एडमिनिस्ट्रेशन ने इस प्रोग्राम को copyright violation करने के कारण बैन कर दिया। लेकिन जल्दी ही इस पर से बैन हटा दिया गया.
  • Facebook को एक तरह से स्टूडेंट्स की डायरेक्टरी के रूप में जाना गया जिसमे उनके फोटो और बेसिक जानकारी रखती है। जनवरी 2004 में ज़ुकेरबर्ग ने नए वेबसाइट का कोड लिखना शुरू कर दिया जिसका नाम रखा द फेसबुक.
  • उसे इसकी प्रेरणा तब मिली जब क्रिमसन ने Facemash के बारे में एडिटोरियल लिखते हुये उसमें बताया की एक ऐसे केंद्रीय वेबसाइट की जरुरत है जो लोगो को बहुत सारे फायदे दे सका. इसी के बाद ज़ुकेरबर्ग ने 4 फरवरी 2004 को लांच कर दिया.

Facebook के लिए Public Access

  • फेसबुक को 26 सितम्बर 2006 को सभी लोगो के लिए ओपन कर दिया और जिस किसी की भी उम्र कम से कम 13 साल है वो इसका सदस्य बन सकता है और जिसके पास एक वैलिड ईमेल एड्रेस हो वो रजिस्ट्रेशन करने के लिए eligible है.
  • इसके बाद ही 2007 में Facebook pages शुरू किया जिससे की कंपनियां अपने बिज़नेस को इन pages के द्वारा फैला सके और ये काफी successful होने लगा. बिज़नेस से जुडी कंपनियों को इससे बहुत फायदा होने लगा और फेसबुक को भी इसका बहुत अच्छा result मिला.
  • 24 अक्टूबर 2004 को माइक्रोसॉफ्ट ने घोषणा किया की उसने फेसबुक का 1.6% शेयर खरीद लिया है.
  • इसके बस एक साल बाद ही अक्टूबर 2008 में फेसबुक ने announce किया की वो आयरलैंड के डबलिन में अपनी इंटरनेशनल हेडक्वार्टर्स बनायेंगे.
  • फसबूक की ट्रैफिक 2009 के बाद बहुत तेज़ी से बढ़ गया. कंपनी ने अपनी साइट की डेटा जारी की जिसमे बताया की जुलाई 2010 में 500 मिलियंस यूज़र्स ने fb का इस्तेमाल किया. इसके साथ ये भी बताया की उन में से आधे ने हर रोज़ फेसबुक का इस्तेमाल 34 मिनट की एवरेज से किया। 150 मिलियन यूज़र्स ने fb का इस्तेमाल मोबाइल से किया.
  • 2011 में फेसबुक ने announce किया की वो अपना नया हेडक्वॉर्टर कैलिफ़ोर्निया के मेनलो पार्क में बनायेंगे.
  • साइबर सिक्योरिटी बढ़ाने के लिए फेसबुक ने इस साल मार्च के महीने में rules का violation कर रहे  20,000 fb profiles को हर दिन हटाने लगे जो spam, bad graphic content, underaged प्रोफाइल्स थे. जून के महीने में फेसबुक ने 1 ट्रिलियन pageviews achieve किया जो की एक महान उपलब्धि थी। फेसबुक दुनिया का दूसरे नंबर का वेबसाइट बना जिसे दुनिया में सबसे ज्यादा खोला गया.

1 Billion User की Achievement

फेसबुक ने फरवरी 2012 में initial public offering का आयोजन किया और पब्लिक के लिए शेयर खरीदने की फैसिलिटी भी दे दि.

Site Developments

हर यूजर को fb पर सर्च करने से accurate content मिले इस पर फेसबुक ने काम करना शुरू कर दिया। एंड्राइड डिवाइस एचटीसी में पहली बार फेसबुक होम इंटरफ़ेस की सुविधा दी गयी.

Hashtag # के बारे में तो आप जानते ही होंगे इसे fb ने लांच किया जिससे की users को ये जानने में मदद मिल सके की कौन सी टॉपिक ट्रेंडिंग में है जिस पर सभी लोग डिस्कशन कर रहे है.

फेसबुक ने अपनी 10th anniversary celebrate की तो उस साल यानि 2014 के पहले 3 महीने में 10 बिलियन users ने मोबाइल डिवाइस से लोगिन किया. FB के अनुसार उस वक़्त कंपनी ने मोबाइल डिवाइस के Ads से ही अपनी कुल कमाई का 62% इसी से कमाया

Fake news और Content के खिलाफ FB की मुहीम

फेसबुक ने 2015 में  अपने algorithm में बड़े बदलाव किये जिससे की गलत और गुमराह करने वाले कंटेंट (जैसे fake news, कहानी, अफवाह) को पहचान सके और अपने visitors को सेफ रख सके. आपको तो मालूम ही होगा की अफवाह बिलकुल जंगल की आग की तरह ही फैलता है. ठीक उसी तरफ fb में भी गलत न्यूज़ फैलने में वक़्त बिलकुल नहीं लगता.

 फेसबुक के फायदे और नुक्सान

हम सभी जानते हैं की हर सिक्के के 2 पहलु होते है. ठीक उसी तरह fb इस्तेमाल करने के भी बहुत सारे फायदे तो हैं लेकिन इसके कुछ नुकसान भी है.  जब भी कोई नया अविष्कार होता है तो कुछ अच्छाई के साथ बुराई भी लेकर आता है. चलिए पहले जानते हैं की fb से हमें क्या फायदे है.

Advantages of Facebook in Hindi – फेसबुक के फायदे

  • आज की दुनिया बहुत सुपरफास्ट हो चुकि है। ऐसे में लोगों के पास दूसरे लोगो के लिए बिलकुल भी वक़्त नहीं है. फेसबुक एक ऐसा माध्यम है जिससे लोग कभी भी और कहीं से भी आसानी से जुड़ सकते हैं और चैटिंग कर सकते हैं.
  • फ़ेसबूक हर किसी को अपनी फीलिंग शेयर करने के option भी देता है की आप जब कोई पोस्ट पब्लिश करने के लिए जाते हैं तो ये पूछता है की आप ये लिखते हुये कैसा फील कर रहे है. साथ ही आप अपनी फीलिंग को दूसरो को send भी कर सकते है।
  • फ़ेसबूक में हर तरह के केटेगरी और टॉपिक पर pages और groups बने हुये है। जिन्हे ज्वाइन कर के आप हर तरह की अपनी जानकारी निकाल सकते है.
  • आज क़रीब 2 अरब से ज्यादा लोग fb में रजिस्टर्ड है. इस का मतलब ये है की दुनिया का हर 7वां आदमी फेसबुक का इस्तेमाल करता है.
  • अगर आप ने किसी से सवाल किया हो भाई अपना fb की id दे दो और उसका जवाब अगर ये आया हो की नहीं भाई मैं fb नहीं चलता तो उस वक़्त तो लगता है जैसे की कौन हो भाई जो तुम fb में नहीं हो अभी  तक.
  • फ़ेसबूक बिज़नेस को प्रमोट करने का सबसे बेहतर प्लेटफार्म है। यहाँ बहुत कम पैसे खर्च के अधिक लोगो तक पहुंचा जा सकता है. इस के advertisement कैंपेन बहुत सस्ते होते है।
  • Entertainment के लिहाज से भी फेसबुक बहुत फ़ायदेमंद है। यहाँ बहुत सारे ऐसे groups और pages हैं जहाँ मनोरंजन कर आप अपनी बोरिंग लाइफ को colorful बना सकते हैं.

Disadvantages of Facebook in Hindi – फेसबुक के नुकसान

  • फेसबुक अपने हर यूजर को प्राइवेसी सेटिंग करने की सुविधा देता है लेकिन बहुत सारे लोग इसके बारे में नॉलेज नहीं रखते। इस कारण उनका अकाउंट सेफ नहीं रहता है और उनके अकाउंट को कोई दूसरे एक्सेस कर लेते है.
  • Fb प्रयोग करने में एक चीज़ लोगों को कभी कभी पसंद नहीं आती वो ये है की जब आप छींक भी मारते हैं तो हर किसी को फेसबुक में पता चल जाता है वो भी नोटिफ़िकेशन के जरिये। ये फीचर बहुत बार तो अच्छा लगता है लेकिन कभी कभी सरदर्द भी बन जाता है.
  • बहुत से ऐसे ग्रुप्स और पेज हैं जहाँ लोग गलत शब्दों का प्रयोग कर के एक दूसरे की भावनाओं को ठेस पहुंचाते है.  जो बहुत ही गलत बात है
  • कुछ लोग दूसरो के information जानने के लिए गलत तरीको को अपनाता हैं और जानकारी हासिल करते है. इसके लिए वो प्रोग्रामिंग का सहारा लेते है.
  • Facebook addiction fb ज्यादा use करने से पैदा हुई बीमारी है. जो युथ में काफी ज्यादा फैली हुई है. लोग अधिक समय fb में गुजारते हैं और बिना मतलब के अपना वक़्त बर्बाद करते हैं. जो स्कूल और कॉलेज में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स होते हैं उनकी पढाई भी कई बार सिर्फ fb की वजह से बर्बाद हो जाती है.
  • बहुत सारे लोग गलत information से अकाउंट बनाते हैं. जो की फेसबुक के नियमों के खिलाफ है. ऐसे पाये जाने वाले अकाउंट को फेसबुक ब्लॉक कर देती है.

संक्षेप में

अगर कोई इंसान फेसबुक में नहीं है तो इसका मतलब है वो दुनिया से अलग है या दुनिया से कटा हुआ है. जो इस का इस्तेमाल नहीं करते उन्हें भी fb की जानकारी जरूर होती है. लेकिन जो इस साइट से जुड़ा हुआ है उसे लगभग ये तो मालूम होता ही है की इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं.

दोस्तों फेसबुक क्या है (What is Facebook in Hindi) की जानकारी कैसे लगी? फेसबुक के फायदे और नुक्सान क्या हैं ये आप ने देख लिया है. साथ ही ये भी जाना की फेसबुक का इतिहास क्या है?

मुझे उम्मीद है की आपको ये पोस्ट अच्छी लगी होगी. अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक, twitter, instagram, गूगल प्लस में शेयर करे.

7 COMMENTS

  1. aapka yah post hame bohot achcha laga… lekin kuch shayad galalat type ho gaya hai.

    फेसबुक किसने बनाया – फेसबुक का अविष्कार किसने किया ?

    फेसबुक किसने बनाया ये कुछ लोग जानते हैं लेकिन फिर भी बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें ये नहीं मालुम. और जानना चाहते हैं की आखिर फेसबुक का अविष्कार किसने किया. कोई बात नहीं आज आपको ये पता चल जाएगा.

    Facebook के जनक Mark Elliot Zuckerberg है। Mark Zuckerberg का जन्म 14 May 2984 में अमेरिका में हुआ था.

    yaha shayad Date wrong hai..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here