कंपटीशन एग्जाम की तैयारी कैसे करे?

एग्जाम नजदीक है और अभी भी आपको लग रहा है कि आप का सिलेबस कंप्लीट नहीं हुआ है और आप सोच रहे हैं कि इतने कम समय में एग्जाम की तैयारी कैसे करें जिससे कि पूरा सिलेबस कवर हो जाए और आपका एग्जाम बहुत अच्छा जाए. इस तरह की दिक्कत सिर्फ आपको ही नहीं है बल्कि हर स्टूडेंट को होती है. जो साल भर पढ़ाई करते हैं उनका भी यही हाल होता है. क्योंकि जब एग्जाम करीब होता है तो हमारा दिमाग इसका लोड ले लेता है और टेंशन की वजह से पढ़ाई से ज्यादा पढ़ाई की टेंशन स्टूडेंट्स को परेशान करते हैं.

हर साल फरवरी-मार्च और अप्रैल ऐसे महीने हैं जिसमें सबसे अधिक एग्जाम लिए जाते हैं. इस वक्त सभी स्कूल और कॉलेजों में बोर्ड और सेमेस्टर के एग्जाम की तारीख होती है. जिसे हम मुख्य रूप से एग्जाम सीजन के रूप में भी जानते हैं. जिन बच्चों का बोर्ड का एग्जाम होता है वह इन महीनों से काफी डरा करते हैं. और इसके नजदीक आते-आते उनकी टेंशन भी लगातार बढ़ती चली जाती है. पढ़ाई कितनी भी करें तैयारी पूरी नहीं लगती है. यहां तक कि एग्जाम हॉल में घुसने तक भी लगता है कि अभी भी कुछ बाकी है.

स्कूल या कॉलेज में जो टॉपर लड़के होते हैं और सबसे हाईएस्ट परसेंटेज के मार्क्स लाते हैं उन्हें देखकर हर छात्र उनके जैसा बनना चाहता है. और जानना चाहते हैं कि 10th में टॉप कैसे करें या फिर 12th की तैयारी कैसे करें. इस पोस्ट के माध्यमस से हम आपको बताएंगे की बोर्ड एग्जाम की तैयारी कैसे करें. किसी भी स्टूडेंट के लिए बोर्ड का एग्जाम सबसे अधिक इंपोर्टेंट होता है और इस एग्जाम में वह अच्छे से अच्छा नंबर लाकर पास होना चाहता है यहां तक की टॉप भी करना चाहता है. एग्जाम में टॉप करना कोई नामुमकिन काम नहीं है क्योंकि स्टूडेंट जो सबसे अच्छी पढ़ाई करते हैं वही टॉपर बनते हैं. अगर आप भी प्लानिंग के अनुसार पढ़ाई करेंगे तो आप भी एक टॉपर बन सकते हैं. इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि कॉन्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी कैसे करें जिससे की एग्जाम क्लियर हो सके और  जॉब प्राप्त हो सके. तो चलिए जानते हैं कम समय में एग्जाम की तैयारी कैसे करें (exam preparation tips in hindi).

एग्जाम की तैयारी कैसे करें – exam preparation tips in hindi

exam ki taiyari kaise kare

एग्जाम का टेंशन पढ़ाई करने वाले बच्चों के लिए सबसे बड़ी टेंशन होती है. जब परीक्षा नजदीक होती है तब टेंशन में न तो खाने का मन करता है और ना ही कुछ दूसरे काम में मन लगता है. जब पढ़ाई करने के लिए टेबल पर बैठते हैं तो लगता है कि यार अभी तो पूरा किताब बाकी है. जितना भी पढ़ो कम ही लगता है. ऐसे में क्या करें जो भी पढ़े वह अच्छा हो और एग्जाम की तैयारी बेहतरीन तरीके से समय के पहले हो जाए.

आजकल ऐसा समय है कि सभी लोग अपना अधिकतर समय स्मार्टफोन इत्यादि में गुजारते हैं खासकर देखा जाता है कि स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे भी इसके आदि हो चुके हैं. जिसकी वजह से पढ़ाई का अधिकतर समय इसमें बर्बाद कर देते हैं. खैर मेरा यहां स्मार्टफोन की बुराई करने का कोई इरादा नहीं है बल्कि पढ़ाई में इसके इस्तेमाल करने के बारे में आपको आगे बताने वाला हूं जिससे कि आप इसी स्मार्टफोन का अच्छी तरीके से इस्तेमाल करके अपने एग्जाम में अच्छा परफॉर्मेंस कर सकते हैं और यहां तक कि टॉपर भी बन सकते हैं.

मैं यहां पर एक एक करके आपको एग्जाम की तैयारी के टिप्स देने जा रहा हूं. अगर आप सीरियसली इससे फॉलो करेंगे तो आपको पढ़ाई में भी मजा आएगा और आपको आपकी सिलेबस भी आसान लगेगी और समय के पहले आप इसकी तैयारी पूरी कर सकेंगे.

बोर्ड एग्जाम की तैयारी कैसे करें

हर साल 10th और 12th के बोर्ड एग्जाम पूरे भारत में फरवरी और मार्च के महीने में लिया जाता है. जिसकी तैयारी बच्चे 1 साल पहले से शुरू कर देते हैं. 12th  में टॉप कैसे करें यह कोई जादू नहीं है बल्कि ये हार्ड और स्मार्ट वर्क कर नतीजा होता है. अगर सही तरीके से एक शेडूल बनाकर और टाइम टेबल को फॉलो किया जाए और उसके अनुसार पढ़ा जाए तो हर तरह की एग्जाम को निकालना बहुत ही आसान है. जिस तरह बूंद बूंद से घड़ा भरता है ठीक उसी तरीके से पूरे साल हर दिन थोड़ी थोड़ी पढ़ाई करने से पूरे साल का सिलेबस समय रहते पूरा भी हो जाता है. परेशानी भी नहीं लगती और एग्जाम के वक्त टेंशन भी कम होता है.

पढ़ाई करने के लिए टाइम टेबल बनाएं

आप भले ही टाइम टेबल को ज्यादा महत्व ना दें लेकिन यह बात गांठ बांध लें कि बिना एक अच्छी टाइम टेबल के आप की तैयारी अच्छी नहीं हो सकती है. पढ़ने का टाइम टेबल कैसे बनाएं इसके बारे में हमने पहले ही एक आर्टिकल लिख चुका है जिसे आप यहां से पढ़ सकते हैं.

सुबह उठकर रात को सोने तक इसके बीच में आपको क्या क्या करना है. यह सभी आपको अपने टाइम टेबल में लिखना है. साथ ही आपको हर विषय के लिए आपके स्ट्रैंथ के अनुसार समय भी देना है. इससे क्या होगा कि आपको हर विषय पर ध्यान देने का मौका मिलेगा और कमजोर विषय पर इसके अनुसार समय देकर उसे मजबूत किया जा सकता है. कुल मिलाकर कहें तो टाइम टेबल एक आधार है जिसको फॉलो करके आप अपने एग्जाम में सबसे अच्छा परफॉर्मेंस कर सकते हैं.

पूरे सिलेबस की जानकारी रखें

पढ़ाई शुरू करने के पहले बोर्ड एग्जाम का सिलेबस जरूर रखें. इसके जरिए आप अपने स्ट्रांग ओर विक सब्जेक्ट में समय डिवाइड कर सकते हैं. यानी कि आपको यह पता रहेगा कि आप जिस सब्जेक्ट में स्ट्रांग हैं वह कितने दिन में आप पूरा कर लेंगे और जिस सब्जेक्ट में आप कमज़ोर है उसे पूरा करने में आपको कितना दिन लगेगा. इस तरह से टॉपिक वाइज आप हर तरह के सब्जेक्ट में सारे टॉपिक समय रहते कवर कर लेंगे.

रेगुलर पढ़ाई करें

अक्सर देखा जाता है कि बच्चे बड़े उत्साह से पढ़ाई शुरू तो करते हैं लेकिन फिर बीच बीच में पढ़ाई करना छोड़ भी  देते हैं जिससे कि उनका रिदम टूट जाता है. ऐसा करने से आप जो टॉपिक पढ़ते हैं वह अगले दिन भूल भी जाते हैं. और एक दिन जब आप पढ़ने के लिए नहीं बैठते तो उसके अगले दिन भी आपका मन नहीं लगता है. कभी भी अपने पढ़ाई की शेडूल को गैप ना दें. मेरा कहना यह है कि हर दिन अपने शेडूल यानी के टाइम टेबल में आपने जिस विषय के लिए जितना समय पढ़ने का रखा है उसे जरूर करें. क्योंकि अगर आप 1 दिन भी पढ़ाई नहीं करते हैं तो उस दिन जो पढ़ने वाले होते हैं यानी कि जो टॉपिक आपको पढ़ना होता है वह आपको अगले दिन पढ़ना पड़ता है इससे आपका लोड दिन-ब-दिन बढ़ता ही जाता है.

रेगुलर पढ़ाई करने से आपके दिमाग में भी यह बैठ जाता है कि आपको हर दिन कुछ ना कुछ सीखना है और याद करना है. जिससे आपका दिमाग भी थोड़ा-थोड़ा कैप्चर करने में स्ट्रांग बनता चला जाता है. और यह बात भी समझ ले कि हमारा दिमाग भी 1 दिन में सब कुछ कैप्चर नहीं कर सकता यानी कि हमारी मेमोरी 1 दिन में सभी टॉपिक्स को याद नहीं कर सकती है. हमें 1-1 दिन पढाई कर अपने दिमाग में टॉपिक याद करके डालने होते हैं. इसीलिए अब पक्का इरादा कर ले कि हर दिन पढ़ेंगे और रेगुलर पढ़ेंगे भले ही थोड़ा पढ़े लेकिन रोज पढ़ाई करें.

ब्रेक ले ले करके पढ़ें

भले ही आपका एग्जाम बहुत नजदीक होआप कभी भी ऐसा ना करें कि लगातार 4 घंटे या 5 घंटे पढ़े जा रहे हैं वह भी बिना किसी ब्रेक के. यह बात समझ लीजिए कि इतना लंबा समय लगातार पढ़ने से भी आपका दिमाग इसे रख नहीं पाता और फिर अगले दिन आपको लगता है कि आप बहुत कुछ भूल चुके हैं.

इसीलिए सबसे अच्छा तरीका यह है की हर 1.5 घंटे से 2 घंटे के बीच में 5 से 10 मिनट का ब्रेक जरूर ले. अपने स्टडी रूम से बाहर जाए और थोड़ा टहलने या फिर अपने किसी परिवार के सदस्यों से बातचीत कर ले. इससे आपका दिमाग फ्रेश होता है और आपको अपना विषय पढ़ने में ताजगी महसूस होती है.

लगातार एक ही विषय ना पढ़ें

जब आप टाइम टेबल बनाएं तो इस बात को ध्यान में रखें कि एक विषय में लगातार एक से डेढ़ घंटा ही पढ़ें. इससे ज्यादा एक विषय पर एक दिन में पढ़ाई ना करें. इसके अलावा आप इस बात का भी ध्यान रखें की आप एक हार्ड सब्जेक्ट के बाद इजी सब्जेक्ट को पढ़ें और फिर उसके बाद हार्ड सब्जेक्ट की पढ़ाई करें. इससे आपको इंटरेस्ट भी बना रहेगा और विषय बदल बदल कर पढ़ने से मन भी नहीं उबेगा.

यानी कि मान लीजिए आपको गणित का विषय बहुत हार्ड लगता है तो उसे डेढ़ घंटे तक पढ़ाई करें. उसके बाद 5 से 10 मिनट का ब्रेक ले ले फिर एक आसान विषय मान लीजिए आपको हिंदी आसान लगता है उसे 1 घंटे के लिए पढ़ने फिर एक ब्रेक लीजिए और एक थोड़े हार्ड विषय को डेढ़ घंटे के लिए पढ़ ले. इस मेथड को जरूर फॉलो करें और देखें कि आपकी पढ़ाई में सुधार हो रहे हैं या नहीं हो रहा है.

हर दिन रिवीजन करें

अब 10th या 12th के बोर्ड एग्जाम में टॉपर बनना चाहते हैं तो इसका सबसे अच्छा उपाय यही पॉइंट है. जब हम किसी भी दिन किसी टॉपिक को पढ़ते हैं तो वह हमें थोड़ी देर तक बहुत अच्छे से याद रहता है लेकिन जैसे-जैसे वक्त बीतता जाता है वह टॉपिक हमारे दिमाग से भी मिटता चला जाता है. यही वजह है कि हमें हर टॉपिक को रिवाइज करना जरूरी है इससे वह टॉपिक हमारे दिमाग में फिर से ताजा हो जाता है। और इस बार वह और बेहतर तरीके से याद हो जाता है.

आपने देखा होगा कि बचपन की कई कविताएं आपको आज भी याद होगी. इसका कारण क्या है? क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है अगर नहीं तो चलिए मैं आपको बता ही देता हूं कि इसकी वजह है कि आपने उस कविता को बार – बार पढ़ा होगा जिसकी वजह से वह आपके दिमाग में पूरी तरह से छप चुका है और यह आपको जिंदगी भर याद रहेगा. यही वजह है कि सभी छात्रों को कहा जाता है कि पढ़ाई के साथ साथ रिवीजन भी जरूर करें.

चलिए मैं आपको बताता हूं कि रिवीजन कैसे करें. आपने जो शेड्यूल तैयार किया है तो उसी में आप 2 घंटे का एक्स्ट्रा समय छोड़े और उसे रिवीजन के लिए रखें. मान लीजिए आप ने आज एक टॉपिक पढ़ा है तो यह आपके दिमाग में 24 घंटे तक याद रहेगा लेकिन 24 घंटे के बाद आप इसे भूलना शुरू कर देंगे. इसीलिए आज आपने जो भी पढ़ाई की है उसे कल एक बार रिवाइज कर ले और फिर उसी टॉपिक को एक हफ्ते बाद रिवाइज करें. आप उस टॉपिक को जिंदगी भर नहीं भूलेंगे. आपकी याददाश्त चाहे कितनी भी कमजोर हो लेकिन दो से तीन बार रिवाइज करने पर आपको हर टॉपिक अच्छी तरीके से याद हो जाता है और आपके एग्जाम तक यह टॉपिक जरूर याद रहेंगे. पढ़ाई कितनी भी करें लेकिन अगर अब प्रिवाइज नहीं करते हैं तो आप देखेंगे कि एग्जाम के समय में आपको लगेगा कि आपने जो भी पढ़ा है आप सब कुछ भूल चुके हैं.

अपना कंसंट्रेशन बढ़ाएं

किसी भी टॉपिक को पढ़ने में और उसे कंप्लीट करने में कंसंट्रेशन का होना बहुत जरूरी है. नहीं तो होगा यह कि हम पढ़ तो रहे हैं लेकिन हमारे दिमाग के अंदर कोई जा नहीं रहा है बल्कि एक घंटा पढ़ाई करने के बावजूद दिमाग में अभी तक टॉपिक गया ही नहीं. इसकी सबसे बड़ी वजह है कंसंट्रेशन की कमी.

ऐसा क्यों होता है इसका कारण क्या है, इसका कारण है कि आपका ध्यान कहीं और लगा हुआ है और आप पढ़ाई के दौरान भी दूसरी चीजों के बारे में सोच रहे हैं जिसकी वजह से अब पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं और आपको कोई टॉपिक भी याद नहीं हो रहा है. इसका सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने दिमाग को कंट्रोल करने की कोशिश करें और इसी के लिए लोग मेडिटेशन करते हैं यानी कि ध्यान लगाते हैं.

आप हर सुबह उठे और एक एक्सरसाइज है NLP इसे करें. इससे आपका कंसंट्रेशन बहुत स्ट्रांग हो जाएगा. इसका तरीका यूट्यूब में देख सकते हैं या फिर गूगल में सर्च करके पढ़ सकते हैं. कुछ समय लगेगा लेकिन आप का ध्यान अब जिस चीज में देना चाहते हैं उसमें बहुत अच्छे से दे सकेंगे और आपको इसका रिजल्ट बहुत जल्द दिखाई देगा.

इसके अलावा आप इंटरनेट से कंसंट्रेशन की एक सीट को प्रिंट भी निकाल कर अपने पढ़ाई के अस्थान पर दीवार में चिपका सकते हैं जिसे देखने पर आपके दिमाग का दाहिना हिस्सा और ज्यादा एक्टिव हो जाता है और आपका कंसंट्रेशन लेवल भी बढ़ता है.

हर दिन अच्छी नींद ले

1 दिन में हर इंसान को कम से कम 6 से 8 घंटे सोना जरूरी होता है. इसलिए भले ही आपका एग्जाम नजदीक हो और आप एग्जाम की तैयारी जोरों शोरों से कर रहे हैं लेकिन फिर भी जब तक आप अपने दिमाग को रेस्ट नहीं देते हैं तब तक कि अगले दिन की तैयारी अच्छे से करने में आपकी मदद नहीं कर सकता है. जब आप अच्छी नींद लेते हैं तो आप दिनभर फ्रेश महसूस करते हैं और आप जो भी चीज याद करते हैं आपका दिमाग जल्दी याद कर लेता है और सीख लेता है.

रोजाना वाकिंग या फिर खेलकूद करें

जब तक बॉडी फिट नहीं रहेगी तब तक दिमाग भी सही तरीके से काम नहीं करता. पढ़ाई के साथ-साथ आप शरीर पर भी ध्यान जरूर दें. क्योंकि अगर आपके शरीर में कोई तकलीफ रहेगी तो आपको पढ़ाई में मन भी नहीं लगेगा और कोई टॉपिक याद भी नहीं होगा. इसलिए अपने शरीर को फिट रखने के लिए हर दिन अब आपको जो भी शौक हो यानी कि आप क्रिकेट खेलते हैं वह फुटबॉल खेलते हैं वह बैडमिंटन खेलते हैं उसे ना छोड़े. बल्कि जैसा आप रोजाना खेलते हैं उसी तरीके से हर दिन 1 से 2 घंटे खेलकूद जरूर करें.

कंपटीशन एग्जाम की तैयारी कैसे करें

जब हम किसी कंपटीशन की तैयारी करना चालू करते हैं तो उसके बारे में कोई अंदाजा तो नहीं होता है लेकिन दोस्तों और जानकार लोगों से पूछ कर हमें बहुत सारी बातें पता चली जाती हैं. हर साल केंद्र सरकार द्वारा कई एक्जाम जैसे एसएससी, आईबीपीएस, रेलवे इत्यादि के फॉर्म निकाले जाते हैं जिसे करोड़ों युवा लड़के भरते हैं और फिर एग्जाम में शामिल होते हैं.

इनमें से बहुत कम लड़के ही एग्जाम क्लियर कर पाते हैं क्योंकि बहुत सारे तो ऐसे होते हैं जो सिर्फ नाम के एकदम में बैठते हैं तैयारी करते नहीं है और यह मैं अपने से नहीं कह रहा है बल्कि मैंने खुद अपने आसपास ऐसे लोगों को देखा है जो पढ़ाई नहीं करते बस एग्जाम लिखकर आ जाते हैं और उनका रिजल्ट भी कुछ नहीं होता.

आजकल स्टूडेंट्स को कॉन्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी करनी होती है तो वह कोचिंग क्लासेस जॉइन कर लेते हैं. फिर भी कुछ ऐसे बच्चे होते हैं जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होती है और वह कोचिंग क्लासेस जॉइन नहीं कर पाते. यहां पर हम आपको ऐसे तरीके बताने जा रहे हैं जिसे अपनाकर हर तरह के बच्चे भले ही वह कोचिंग ना करते हो आसानी से किसी भी कॉन्पिटिटिव एग्जाम को पास कर सकते हैं.

जी हां यह बिल्कुल सच बात है अगर आप अपनी सेल्फ स्टडी को स्ट्रांग कर लेते हैं तो किसी भी तरीके का कॉम्पिटेटिव एक्जाम ही क्यों ना हो घर बैठे पढ़ाई करके आप इसे क्लियर कर सकते हैं. इसके लिए आपको हार्ड वर्क से ज्यादा स्मार्ट वर्क करना होगा.

  • सबसे पहले अपने सिलेबस को समझें
  • यह भी जरूरी है कि आप खुद को भी समझे
  • सिलेबस के अनुसार टाइम टेबल तैयार करें
  • ज्यादा से ज्यादा मॉक टेस्ट लें
  • हर दिन रिवीजन में भी अपना समय दें
  • साप्ताहिक टारगेट सेट करें और achieve करें
  • रेगुलरली मेहनत करें – कभी Giveup ना करें
  • स्टैंडर्ड किताबों को ही फॉलो करें
  • अच्छी नींद ले
  • हर शाम आकलन करें कि आप ने आज क्या पढ़ाई की
  • रेगुलरली मेडिटेशन करें

 

संक्षेप में

आज के पोस्ट में आपने जाना कम समय में कंपटीशन एग्जाम की तैयारी कैसे करें (how to prepare for exams in hindi) और साथ ही यह भी जाना कि 10th और 12th बोर्ड की तैयारी कैसे करें  (exam की तैयारी के टिप्स इन हिंदी)? एग्जाम का सीजन जैसे ही आता है स्टूडेंट की टेंशन बहुत ज्यादा बढ़ जाती है. सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप जब 10वीं या 12वीं क्लास में जाते हैं उसी वक्त से रेगुलर पढ़ाई शुरू कर दें. पढ़ाई कैसे करें इसके बारे में भी हमने आपको ऊपर में बताया है साथ ही यह भी बताया है कि किस तरह से टाइम टेबल को फॉलो करके आप अच्छे तरीके से एग्जाम की तैयारी कर सकते हैं.

10th और 12th मे टॉप आप कैसे करें यह भी आप समझ ही चुके होंगे क्योंकि यह कोई नामुमकिन काम नहीं है यह स्मार्ट और हार्ड वर्क दोनों का कॉन्बिनेशन का परिणाम होता है. अब चाहे बोर्ड का एग्जाम हो या फिर कोई कॉम्पिटेटिव एक्जाम हो पढ़ाई तो हर जगह करनी होती है लेकिन आप का प्लान में डिसाइड करता है कि आप का रिजल्ट कैसा आएगा. कई बच्चे तो ऐसे होते हैं जो जी तोड़ मेहनत करते हैं लेकिन प्लानिंग सही नहीं होती है जिसकी वजह से उनके नंबर अच्छे नहीं हो पाते. इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप अच्छे तरीके से exam preparation tips in hindi को इस्तेमाल कर सकते हैं और बेहतर रिजल्ट ला सकते हैं.

हम उम्मीद करते हैं कि आपको इस पोस्ट से बहुत कुछ सीखने को मिला होगा और आप भी अपने पढ़ाई में इसका इस्तेमाल पूरी तरीके से करके अच्छा रिजल्ट लाने की कोशिश करेंगे और हम उम्मीद करते हैं कि अगर आप इसे पूरी तरीके से फॉलो करते हैं तो एक टॉपर भी बन सकते हैं. आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप में शेयर करें.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here