हिंदी दिवस पर निबंध – Essay on Hindi Diwas in Hindi

हिंदी भाषा हर भारत वासियों के लिए एक महत्वपूर्ण भाषा है जिसे भारत के निवासी बोलचाल के रूप में इस भाषा का प्रयोग करते हैं. हिंदी भाषा भारत की प्रमुख भाषा है जिसे हर एक भारत के नागरिक इस भाषा को सम्मान पूर्वक प्रयोग में लाते हैं.

हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को बनाई जाने वाली भारत की महत्वपूर्ण दिवस में एक है. हिंदी दिवस हर साल भारत में 14 सितंबर को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इस दिन भारत के संविधान सभा द्वारा देवनागरी लिपि में लिखी हुई हिंदी भाषा को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषा घोषित किया गया.

हिंदी दिवस पर छोटे एवं बड़े निबंध – Long and Short essay on Hindi diwas

बच्चों आज हम आपके लिए चार निबंध हिंदी दिवस पर लाए हैं जो आपके लिए पढ़ने में बहुत ही आसानी होगी. इसे आप अपने क्लास के अनुसार पढ़ सकते हैं.

निबंध 1 (250 शब्द) 

प्रस्तावना

हिंदी दिवस हमारे भारत देश में मनाए जाने वाली एक बहुत ही प्रमुख दिवस है जिसे हम बहुत ही सम्मान पूर्वक इस दिवस को हर साल 14 सितंबर को मनाते हैं. हिंदी दिवस 14 सितंबर को बहुत ही गर्व और सम्मान रूप से मनाया जाता है क्योंकि इस दिन देवनागरी लिपि में लिखी हुई हिंदी भाषा को भारत के संविधान सभा द्वारा भारत गणराज्य के अधिकारिक भाषा में घोषित किया गया.

हिंदी दिवस का महत्व

हिंदी दिवस सभी भारत वासियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिवस है जिसे लोग बहुत ही सम्मान और आदर पूर्वक इस दिवस को 14 सितंबर को मनाया जाता है. इस दिवस को मना कर हम अपने हिंदी भाषा को उजागर करते हैं और सभी को हिंदी भाषा की ओर जागृत करते हैं. इस हिंदी दिवस को मना कर हम उन सभी लोगों को याद दिलाने का प्रयास करते हैं जो हिंदी भाषा को नजरअंदाज कर अंग्रेजी भाषा की ओर आकर्षित होते जा रहे हैं. हिंदी दिवस मनाने का उद्देश्य सभी लोगों को हिंदी भाषा की ओर आकर्षित करने का होता है और इसके साथ साथ यह दिवस मना कर हम अपने हिंदी भाषा को सम्मानित करते हैं.

निष्कर्ष

अंग्रेजी भाषा अभी के जनरेशन में पूरे चरम पर है क्योंकि अंग्रेजी भाषा पूरे विश्व में बोली जाने वाली भाषा है और इसके साथ साथ बहुत से काम अंग्रेजी भाषा के द्वारा होती है इसलिए हम अंग्रेजी भाषा की ओर आकर्षित होते जा रहे हैं और हमारी मातृभाषा को नजरअंदाज करते जा रहे हैं. हमें अंग्रेजी के साथ-साथ अपनी मातृभाषा हिंदी को भी सम्मान देना चाहिए क्योंकि हमारी मातृभाषा.

निबंध 2 (350 शब्द)

प्रस्तावना

हिंदी दिवस हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है और इसे हर वर्ष 14 सितंबर को मनाया जाता है. इस दिन ही हमारे भारत संविधान सभा द्वारा देवनागरी में लिखी हुई हिंदी भाषा को 50 के अनुच्छेद 343 के तहत भारत के गणराज्य में अधिकारिक भाषा के रूप में घोषित किया गया था. भारत के संविधान सभा द्वारा 14 सितंबर 1949 में हिंदी भाषा को अपनाया गया था.

हिंदी दिवस उत्सव

यह दिवस हम सभी भारत वासियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिवस है इसे  जिले के हर स्कूल और कॉलेजों के साथ साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाने वाला एक प्रमुख दिवस है जिसमें भारत देश के राष्ट्रपति द्वारा उन महारथियों को पुरस्कार दिया जाता है जो हिंदी भाषा से संबंधित क्षेत्रों में महान कार्य किए हैं.

इस दिवस को हर स्कूल और कॉलेजों में बहुत ही उत्सुकता पूर्वक मनाई जाती है जिसमें अनेक प्रकार के प्रतियोगिताएं भी होती है. इस दिवस को मनाने के लिए बहुत से स्कूल और कॉलेजों में प्रतियोगिताएं की जाती है जिसमें हिंदी भाषा में कविता, शायरी, वाद विवाद इत्यादि होते हैं. इसके साथ साथ शिक्षक हिंदी दिवस को मनाते हुए हिंदी भाषा में बच्चों के सामने भाषण देते हैं ताकि बच्चे हमेशा याद रखें कि हिंदी हमारी मातृभाषा होती है. अनेक प्रकार की प्रतियोगिताएं इस दिवस में मनाई जाती है और यह एहसास दिलाया जाता है कि हिंदी हमारी मातृभाषा है और इसे हमें सम्मान करना चाहिए.

हिंदी- भारत में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा

हिंदी हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भाषा है क्योंकि यह हमारी राष्ट्रभाषा है जिसे भारत के लगभग सभी नागरिक अपने बोलचाल की भाषा में प्रयोग में लाते हैं. हालांकि अंग्रेजी भाषा अभी के जनरेसन में उच्च चरम पर है इनका प्रयोग लगभग बहुत सारे संस्थान भी शुरू कर दिए हैं जैसे स्कूल कार्यालय ऑफिस इत्यादि इन सभी में अंग्रेजी की बोलचाल होना बहुत ही अनिवार्य है लेकिन हमें अपनी राष्ट्रभाषा भूली नहीं चाहिए क्योंकि यह हमारी अधिकारिक भाषा है जिसे हम अपने बोलचाल की भाषा में प्रयोग में लाते हैं इसलिए मातृभाषा हिंदी को सम्मान देना चाहिए.

निष्कर्ष

हिंदी भाषा हमारे भारत देश में बोली जाने वाली महत्वपूर्ण भाषा है जिसे सब कोई बोलचाल की भाषा में प्रयोग में लाते हैं. बिहार भारत के सबसे पहले ऐसे राज्य हैं जो हिंदी भाषा अपनी अधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया था. हमें अपनी मातृभाषा हिंदी का सम्मान करना चाहिए और सब को इनके प्रति उजागर करना चाहिए.

निबंध 3 (400 शब्द) 

प्रस्तावना 

हमारे भारत देश में हिंदी भाषा एक लोकप्रिय भाषा मानी जाती है जो सभी लोग बोलचाल की भाषा में यूज करते हैं लेकिन ऐसे बहुत से स्थान हैं जहां इंग्लिश को ज्यादा महानता दी जाती है वही हिंदी को नजरअंदाज कर दिया जाता है लेकिन हमें अन्य भाषाओं के साथ-साथ अपनी लोकप्रिय भाषा हिंदी को भूल ही नहीं चाहिए इसे याद करने के लिए हमारे देश में 14 सितंबर को प्रति वर्ष हिंदी दिवस मनाया जाता है ताकि सब जनता को एहसास हो कि हिंदी भी हमारी मातृभाषा है जिसे हम कभी भूल नहीं सकते.

राजभाषा सप्ताह

राज्य भाषा सत्ता हिंदी दिवस को बोला जाता है जिसे 14 सितंबर के 1 सप्ताह पहले से ही मनाया जाता है इन 7 दिनों में हिंदी दिवस को हर एक कॉलेज स्कूल संस्थान एवं कार्यालयों में बहुत ही उत्साह पूर्वक मनाई जाती है जिसमें 7 दिनों के लिए प्रतियोगिताएं होती है और इस प्रतियोगिताओं में हिंदी कविता हिंदी भाषण हिंदी लेखन इत्यादि तरह  प्रतियोगिता की जाती है जिसने सभी लोग हमारे सांस्कृतिक पोशाक को पहनते हैं जैसे महिलाएं सूट तथा साड़ी एवं पुरुष कुर्ता पजामा.

इन 7 दिनों में सभी लोग अलग-अलग तरह के प्रतियोगिताओं को कर हिंदी भाषा की और सभी लोगों को जागरूक करते हैं, लोगों को तथा बच्चों के दिमाग में हिंदी भाषा के प्रति अच्छे विचार प्रदान करने के लिए हर वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है. इसके साथ साथ जो लोग अंग्रेजी भाषा की ओर बढ़ते जा रहे हैं उन्हें अपनी मातृभाषा हिंदी की ओर आकर्षित करने का एक तरीका है जिसे हिंदू दिवस मना कर की जाती है.

राजभाषा गौरव पुरस्कार

देवनागरी लिपि में लिखे हुए हिंदी भाषा को भारत संविधान द्वारा 1949 ईस्वी में भारत गणराज्य में इसे आधिकारिक रूप से अपनाने की घोषणा की गई थी. सभी भारतवासी को हिंदी भाषा में ली और वे हिंदी भाषा में अपनी बोलचाल की प्रक्रिया करते हैं.

हर वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मना कर हम अपने भाषा को सम्मान देते हैं और इसके साथ-साथ उन लोगों को हिंदी भाषा की ओर आकर्षित करने के लिए उजागर करते हैं जो इंग्लिश भाषा की ओर बढ़ते चले जा रहे हैं. हालांकि इंग्लिश भाषा भी हमारी अधिकारिक रूप की भाषा है लेकिन हमें इंग्लिश सीखने के साथ-साथ अपने हिंदी भाषा को भी नहीं भूलनी चाहिए. हमें अन्य भाषाओं के साथ-साथ अपनी मातृभाषा को भी सम्मान करना चाहिए.

निष्कर्ष

हमारे देश में बहुत कम ऐसे क्षेत्र हैं जहां हिंदी प्रचलित है लगभग सभी जगहों पर इंग्लिश ऐसे छा गया है जैसे हमारे भारत देश का एकमात्र भाषा वही है. इंग्लिश को बोलने के साथ-साथ हमें अपनी प्रमुख भाषा हिंदी का भी प्रयोग करना चाहिए ताकि हमारी मातृभाषा ऊंचे चरम पर रहे.

निबंध 4 (600 शब्द) 

प्रस्तावना

हिंदी दिवस हमारे देश में मनाए जाने वाले महत्वपूर्ण दिवसों में एक है जिन्हें सभी भारतवासी हिंदी भाषा को उजागर करने के के लिए 14 सितंबर को मनाते हैं. इस दिवस को मनाने के लिए सभी लोग बहुत ही उत्सुक होते हैं और अपने सांस्कृतिक पोशाक को पहन इस उत्सव को मनाते हैं जिसमें राष्ट्रपति के द्वारा हिंदी के क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य किए गए लोगों को पुरस्कार दिया जाता है. हमारी मातृभाषा हिंदी विश्व में चौथे व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा है.

हिंदी भाषा के बारे में दिलचस्प बातें निम्नलिखित हैं

  1. हिंदी भाषा बहुत ही महत्वपूर्ण भाषा है क्योंकि यह इंडो यूरोपीयन और इंडोर आयरन भाषाओं में से एक महत्वपूर्ण भाषा है.
  2. फारसी शब्द द्वारा हिंदी शब्द का निर्माण हुआ है जिसका अर्थ सिंधु नदी की भूमि होती है. इसलिए हमें हिंदी भाषा का सम्मान और इज्जत कर उन्हें उचित चरम में रखना चाहिए क्योंकि यह हमारी सांस्कृतिक भाषा है जो हमें हमारी पहचान बताती है.
  3. हमारी हिंदी भाषा बहुत ही महत्वपूर्ण भाषा है क्योंकि यह भाषा हमारे पुराने और कथाओं वेदों में संस्कृत भाषा के साथ मिलाकर लिखा गया है इससे पता चलता है कि हिंदी हमारी सांस्कृतिक भाषा है और इसे हमें कभी अनादर नहीं करनी चाहिए.
  4. हिंदी भाषा हमारी सांस्कृतिक के साथ-साथ मातृभूमि भाषा है और यह भाषा हमारे देश के साथ-साथ अन्य देशों में भी बोली जाने वाली प्रमुख भाषा के रूप एक है. बहुत से ऐसे अन्य देश है जहां हिंदी भाषा का प्रयोग किया जाता है जैसे ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड ,सिंगापुर, किस्तान नेपाल तथा श्रीलंका इत्यादि.
  5. हिंदी भाषा का महत्व हमारे जिंदगी में बहुत है इसलिए हमें हिंदी भाषा का प्रयोग करना चाहिए और इसे कभी अनादर नहीं करनी चाहिए क्योंकि हिंदी भाषा उन सभी 7 भाषाओं में से एक है जिससे वेब ऐड्रेस बनाया जाता है.

इस तरह हिंदी भाषा हमारे जीवन में अनेक प्रकार से संबंधित हैं और इन्हीं भाषा के वजह से हमें अपना पहचान और हमारी संस्कृति मिलती है जिसे हमें कभी अनादर नहीं करनी चाहिए जहां तक संभव हो हमें अपनी मातृभाषा हिंदी का सम्मान करना चाहिए इसलिए इसी उद्देश्य से 14 सितंबर को हर साल हिंदी दिवस बहुत ही उत्सुकता पूर्वक मनाया जाता है.

इतिहास

हिंदी भाषा हमारी लोकप्रिय भाषा के साथ-साथ सांस्कृतिक भाषा भी है जिसे हमें कभी नजरअंदाज नहीं करनी चाहिए जहां तक संभव हो अन्य भाषाओं के साथ-साथ अपने राष्ट्रभाषा के अनुसार हमें जिंदगी को जीनी चाहिए क्योंकि राष्ट्रभाषा से हमारी संस्कृति और पहचान होती है. हिंदी भाषा को हमें सम्मान पूर्वक दर्जा देना चाहिए क्योंकि यह भाषा संस्कृत भाषा के साथ मिलकर हमारे वेदों में और पुराणों में लिखी जाती है.

भारतीय संविधान सभा द्वारा देवनागरी लिपि में लिखी हुई हिंदी भाषा को 1949 ईस्वी में भारतीय गणराज्य में आधिकारिक भाषा के रूप में घोषणा किया गया. हिंदी भाषा के साथ-साथ अंग्रेजी भाषा भी हमारी अधिकारिक भाषा के रूप में है इसलिए हमारे देश में हिंदी के साथ-साथ अंग्रेजी भाषा भी बोली जाती है लेकिन अंग्रेजी भाषा से अधिकतर लोग प्रभावित हो चुके हैं और उनके और झुकते चले जा रहे हैं कुछ लोगों को लगता है कि इंग्लिश से हमें सम्मान दिला सकता है इसलिए वे इंग्लिश भाषा का प्रयोग करते हैं लेकिन ऐसा नहीं है क्योंकि हमारी मातृभाषा हिंदी है और हमें हिंदी भाषा के रूप में सम्मान और हमारा पहचान होता है.

इसलिए इन सभी चीजों को देखते हुए हर वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है ताकि जो लोग सिर्फ और सिर्फ इंग्लिश की और आकर्षित होते चले जा रहे हैं हिंदी की ओर आकर्षित हो और अपनी मातृभाषा को समझे और उन्हें सम्मान दें.

निष्कर्ष

हमारी मातृभाषा हिंदी है और हमें अपने हिंदी भाषा को जिंदगी में एक हिस्सा बनाकर जीनी चाहिए. सभी भाषाओं के साथ-साथ हमें अपने हिंदी भाषा को भी उतना ही सम्मान देना चाहिए जितना अन्य भाषाओं को दिया जाता है. हिंदी भाषा हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भाषा है जिससे हमारा पहचान होता है. स्वतंत्रता के पश्चात 1949 में हिंदी भाषा को अधिकारिक रूप दिया गया तब से आज तक हिंदी भाषा हमारे देश के साथ-साथ अन्य देशों में जाने वाली प्रमुख भाषा है .

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment

×