डीटीपी क्या है और इसका फुल फॉर्म

अगर आपने कभी फोटोशॉप या कोरल ड्रा के बारे में सुना होगा तो ये भी जरूर पता होगा की डीटीपी क्या है (What is DTP in Hindi) और इसकी परिभाषा क्या है.

इस आर्टिकल के माध्यम से आप एक बहुत ही महत्वपूर्ण टेक्नोलॉजी कोर्स के बारे में जानने वाले है जो कि सभी के लिये बहुत महत्वपूर्ण है.

डीटीपी कोर्स के बारे शायद अपने पहले कभी अपने दोस्त या किसी अन्य से सुना हो लेकिन क्या आपको इसकी सम्पूर्ण जानकारी के बारे में पता है जैसे कि डीटीपी के क्या फायदे है या फिर इस कोर्स में किन सॉफ्टवेयर को पढ़ाया जाता है.

न्यूज़ पेपर जिसे हम अख़बार भी कहते है जो लगभग आज सभी के घरों में आता है लेकिन क्या आपने न्यूज़ पेपर को पढ़ते समय कभी यह सोच है कि आख़िर वह न्यूज़ पेपर में किस तरह से प्रकाशित की जाती है?

ये कैसे छापी जाती है या फिर इन्हें छापने के लिए किस टेक्नोलॉजी या सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है?

अखबार हो या फिर बुक, शादी कार्ड उन सब पर किसी भी शब्द को प्रकाशित करने के लिए इसी कोर्स के अंतर्गत आने वाले अलग-अलग सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है.

तो चलिये यदि आपके भी मन दिमाग में इस तरह के सवाल है तो इस आर्टिकल को अंत तक ज़रूर पढे क्योंकि आपको इस आर्टिकल में डीटीपी क्या होता है? इसकी परिभाषा क्या है एवं फूल फॉर्म क्या होता है ये भी जानने को मिलेगा.

डीटीपी क्या है – What is DTP in Hindi?

DTP का फुल फॉर्म Desktop Publishing होता है.

डेस्कटॉप पब्लिशिंग का मतलब है की दस्तावेजों को डिज़ाइन और तैयार करने के लिए एक डिजिटल डेस्कटॉप का प्रयोग करना.

इस शब्द का उपयोग कभी-कभी उन प्रोसेस को सम्बोधित करने के लिए किया जाता है जो स्थानीय छपाई करने वाली मशीनो में दस्तावेजों की कागजी प्रतियों को प्रिंट करने की सुविधा देते हैं.

यह डेस्कटॉप पर डिजिटल दस्तावेज़ों को तैयार और निर्माण के लिए भी रेफेर हो सकता है.

डेस्कटॉप प्रकाशन को कंप्यूटर एडेड प्रकाशन के रूप में भी जाना जाता है.

इसे इस प्रकार से भी समझ सकते हैं.

  • DeskTop = कंप्यूटर द्वारा
  • Publishing =  प्रकाशन

अब इन दोनों को यदि हम मिलाकर बोला जाए तो इसका मतलब है कि कंप्यूटर की मदद से किया जाने वाला प्रकाशन का कार्य. 

एक उदाहरण के जरिये बात करे कि हमारे पास एक कंप्यूटर है और इसके अलावा हमारे पास Scanner, Printer है.

कंप्यूटर की मदद से कुछ भी डिज़ाइन कर सकते है. यदि हमारे कंप्यूटर में डिज़ाइन के लिए कोई फ़ोटो नही है तो इंटरनेट की मदद से निकाल सकते है या स्कैनर की सहायता से उसे कंप्यूटर में ला सकते है.

कंप्यूटर में publishing का कार्य करने के लिए जिन सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है. पहले DTP को मुख्य रूप से विशेष प्रिंट से प्रकाशन के लिए किया जाता था.

लेकिन जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी आगे बढ़ी वैसे ही इसमे इम्प्रूव किया गया और आज के समय मे डेस्कटॉप पब्लिशिंग प्रिंटर उच्च गुणवत्ता वाले प्रति छावियाँ छाप सकते है.

डेस्कोप पब्लिशिंग के लिए कई सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जा रहा है जिनके बारे में हम नीचे विस्तार से जानेंगे.

फोटोशॉप के बारे में अधिक जानकारी के लिए हमारे द्वारा लिखे गए पोस्ट फोटोशॉप क्या है जरूर पढ़ें.

DTP का फुल फॉर्म – Full Form of DTP

यदि आप इस कोर्स को करने के बारे में सोच रहे है तो आपको इसकी सम्पूर्ण जानकारी होना बहुत जरूरी है.

इसलिए हमने इसकी फुल फॉर्म और इसका क्या मतलब होता इसके बारे में भी बताया है जिसे आप अच्छे से याद कर ले:

DTP का पूरा नाम Desktop Publishing होता है.

डिजाइनिंग में ऑटो कैद का काफी इस्तेमाल किया जाता है इसीलिए हमारे द्वारा लिखे आर्टिकल से ये जानकारी जरूर लें की Auto CAD क्या है और कैसे सीखे?

DTP का महत्व

1970 में डेस्कटॉप प्रकाशन को जेरोक्स PARC में विकसित किया था और बाद में जैसे- जैसे नई नई टेक्नोलॉजी इसमे इम्प्रोवेमनेट किये गए.

आज इसकी महत्व इतना ज्यादा बढ़ गया है कि इस का उपयोग हर जगह देखने को मिल जाएगा.

फिर चाहे वह शादी का कार्ड हो या फिर किताबें ,न्यूज़ पेपर हो या पोस्टर या बैनर, हर जगह प्रिंटिंग के लिए इन्ही सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाने लगा है.

इन सॉफ्टवेयर के आने से आज हमारे कई काम बहुत आसान हो चुके है. इन की मदद से आज हम अक्षरों को मन चाहे आकार में या जैसे चाहे उसे छाप सकते है

वर्तमान समय में जो हम मोटी-मोटी बुक पढ़ते है वह इसी की वजह से सम्भव हो सका है.

DTP कोर्स की परिभाषा एवं जानकारी

डेस्कटॉप पब्लिशिंग द्वारा पर्सनल कंप्यूटर (डेस्कटॉप) पर पेज लेआउट सॉफ्टवेयर का उपयोग करके दस्तावेजों का निर्माण होता है.

शुरुआत में इसका उपयोग विशेष रूप से प्रिंट प्रकाशनों के लिए किया जाता था, लेकिन अब यह ऑनलाइन सामग्री के विभिन्न रूपों के निर्माण में भी रोले निभाता है.

इस कोर्स को आप अपने आस पास के किसी भी कंप्यूटर सेंटर पर कर सकते है ज्यादातर इस कोर्स को कंप्यूटर सेंटर पर कराया जाता है.

सेन्टर वाले इस कोर्स को 3 से 4 महीनों में 4000 से 8000 की फ़ीस पर कॉम्प्लेटे कर देते हैं.

सबसे अच्छी बात यह है कि आपको इस कोर्स के लिए कोई भी कर सकता है. इसके लिए किसी शिक्षित या डिग्री की आवश्यकता नही होती है.

यदि आप इस कोर्स को करने के बारे में आप सोच रहे है तो यह आपके लिए काफी उपयोगी साबित हो सकता है क्योंकि इस कोर्स के अंतर्गत सीखें गए सॉफ्टवेयर की मदद से आप काफी अच्छे पैसे कमा सकते है.

इस कोर्स की आज काफी डिमांड है. इस के अंतर्गत सीखें गए सॉफ्टवेयर की मदद से आप ऑनलाइन लोगो, डिज़ाइन वेबसाइट पेज आदि जैसे कार्य करके अच्छे पैसे कमा सकते है.

बाकी आपको पहले ही हम बता ही चुके है कि इस के अंतर्गत आप किन सॉफ्टवेयर के बारे में पढ़ेंगे और उनका कहा पर उपयोग किया जाएगा.

DTP के अंतर्गत पढ़ाए जाने वाले सॉफ्टवेयर

इस कोर्स में किन किन सॉफ्टवेयर को पढ़ाया जाएगा उसकी लिस्ट नीचे देख सकते है और उनके बारे में विस्तार से भी बताया गया है.

  • Adobe Photoshop
  • Adobe InDesign
  • Adobe Pagemaker
  • Corel draw

Adobe Photoshop

Adobe के कई वर्जन के सॉफ्टवेयर उपलब्ध है. इस सॉफ्टवेयर का उपयोग करके किसी भी फ़ोटो को कई तरह से डिज़ाइन किया जा सकता है.

जैसे किसी बैनर में फ़ोटो लगाना हो तो वह इसी सॉफ्टवेयर की मदद से एडिट किया जाता है।

Adobe InDesign

adobe Indesign एक डीटीपी के अंतर्गत कार्य।करने वाला एक सॉफ्टवेयर है जिसकी मदद से पत्र,बुक, डिज़ाइन,लेआउट आदि सम्पादित करने के लिए किया जाता है।

Adobe Pagemaker

Pagemaker के अच्छे फ़ीचर होते है। जो पब्लिशिंग का कार्य करने के लिए काफी महत्वपूर्ण होते है लेकिन अभी तक Adobe Pagemaker का उपयोग बेसिकली विस्टिंग कार्ड,न्यूज़ बॉयोडाटा न्यूज़ पेपर आदि को छापने के लिए उपयोग किया जाता है।

Corel draw

इस सॉफ्टवेयर का उपयोग मुख्य रूप से एक तरह के logo, बैनर इत्यादि बनाने के लिए किया जाता है.

DTP कोर्स करने के फायदे

  • कोर्स के अंतर्गत सीखें गए सॉफ्टवेयर की मदद से आप किसी पब्लिशिंग कंपनी में नौकरी हासिल कर सकते हैं और काफी अच्छे पैसे कमा सकते है.
  • ऑनलाइन Logo, वेबसाइट पेज बनाकर अच्छी Earning कर सकते है.
  • आप खुद की अपनी Photo स्टूडियो खोलकर अच्छे पैसे कमा सकते है.
  • फ्रीलांसर या फीवर में जाकर पैसे कमा सकते हैं.

DTP की विशेषताएँ

इस जैसी टेक्नोलॉजी आज पहले के मुकाबले काफी महत्वपूर्ण है इसके आने से कई समस्याओं का समाधान हुआ है सबसे अच्छी बात जहां पहले किसी बैनर,बुक, आदि को छापने के लिए महीनों लगते थे वही काम आज हम कुछ ही समय मे कर लेते है। डीटीपी क्या फायदे आप नीचे भी पड़ सकते है-

  • किसी भी बनाये गए फ़ाइल, डॉक्युमेंट्स में सुधार कर सकते है.
  • इसमें कई ऐसे सॉफ्टवेयर है जिनमे पेज आउट दिए गए है उनकी मदद से हम कफ अच्छे तरीके से पेज की फॉर्मेटिंग कर सकते है.
  • जहां पहले किसी बुक को छपने में महीनों लगने के साथ ही काफी पैसा खर्च होता था लेकिन आज उन्हें कुछ ही समय कम लागत के साथ मे छापा जा सकता है.

संक्षेप में

पब्लिशिंग प्रकाशन का कार्य करने के लिए हमारे पास एक प्रिंटर, स्कैनर और एक पर्सनल कंप्यूटर जिसमे डीटीपी सॉफ्टवेयर इंस्टाल हो डीटीपी कार्य हर छपाई की के अनुसार अलग अलग सॉफ्टवेयर के लिए किया जाता है जिसके बारे में हम आपको ऊपर बता चुके है.

मतलब की दोस्तों यदि आप खुद की कोई Photo Shop खोलना सोच रहे है तो यह आपको लिए काफी अच्छा कोर्स है। डीटीपी कोर्स।में सिखाये गए सॉफ्टवेयर की मदद से आप आसानी ऑनलाइन लाखों रुपये कमा सकते है.

तो दोस्तों ये थी हमारी आज की जानकारी जिसमे हमने बताया की DTP क्या है (What is DTP in Hindi) और इसका फुल फॉर्म क्या है और इस कोर्स में कौन से सॉफ्टवेयर के बारे में पढ़ाया जाता है.  

यदि आज के इस लेख में दी गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी रही हो तो इस लेख को आने दोस्तों सोशल मीडिया पर ज़रूर शेयर करे.

इसी तरह की नयी जानकारी पाने के लिए हमारी साइट से ऐसे ही जुड़े रहे.

About Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है. लोगों को उनके जीवन में कैरियर बनाने में सही निर्देश देना और हर प्रकार के नौकरी के बारे में जानकारी देना काफी पसंद है ताकि उनका भविष्य बन सके.

1 thought on “डीटीपी क्या है और इसका फुल फॉर्म”

Leave a Comment