याद कैसे करें – लोंग क्वेश्चन आंसर याद करने का आसान तरीका

बहुत सारे स्टूडेंट की सबसे बड़ी टेंशन होती है कि स्कूल या फिर कॉलेज में पढ़ाए गए चैप्टर के सवाल जवाब को याद कैसे करें? कुछ बच्चे तो पैदाइशी बहुत तेज होते हैं और उनकी याददाश्त भी बहुत अच्छी होती है.

ऐसे बच्चों को किसी भी तरह के सवाल जवाब दे दिए जाए तो तुरंत दिमाग में बैठा भी लेते हैं और लंबे समय तक उसे स्मरण भी रख पाते हैं. लेकिन सभी बच्चों का दिमाग एक जैसा तो नहीं हो सकता है ना.

यही वजह है कि बहुत सारे बच्चे ऐसे होते हैं जिन्हें सवाल जवाब देखकर ही बुखार चढ़ जाता है क्योंकि उनसे मुश्किल से ही दिमाग में बैठ पाता है. इसीलिए इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि लम्बे प्रश्न उत्तर कैसे याद करें.

जो बच्चे मेमोरी में कमजोर होते हैं उनके माता-पिता भी उनके करियर को लेकर काफी चिंतित होते हैं. क्योंकि पढ़ाई लिखाई में मेमोरी बहुत ही महत्वपूर्ण होता है. परीक्षा में सभी विषयों के बारे में लिखना होता है और बहुत टॉपिक पढ़कर उन्हें दिमाग में भी रखना होता है जहां से सवाल पूछे जाते हैं.

इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए हमने इस पोस्ट को तैयार किया है और हम यहां पर याद करने का सबसे आसान तरीका बताने वाले हैं जो आपके सवाल पढ़ा हुआ कैसे याद रखे से आपको छुटकारा दिला देगी.

याद कैसे करें?

yaad kaise kare

बच्चे जब थोड़े से बड़े हो जाते हैं तो उनके माता-पिता उन्हें स्कूल में एडमिशन करा देते हैं. बच्चे जब प्राइमरी क्लासेस में पहुंचते हैं तो फिर कविताएं और कहानियां memorize करने के लिए होमवर्क किया जाता है उसे सुबह पता लग जाता है कि बच्चे की यादाश्त कैसी है.

साल भर बच्चे तो पढ़ाई कर लेते हैं लेकिन जब एग्जाम का वक्त आता है तब बच्चे सवालों का जवाब भूल भी जाते हैं.

एग्जाम के समय तो हर स्टूडेंट जी तोड़ मेहनत करके पढ़ाई करता है और memorize करने की कोशिश करता है लेकिन कई बच्चों को ठीक से याद नहीं हो पाता है.

परीक्षा में जाने के बाद उन्हें कुछ याद नहीं आता जिससे उनका रिजल्ट भी खराब हो जाती है.

आज आप पोस्ट पढ़ रहे हैं इसका मतलब यही है अगर आप स्टूडेंट है तो आपको memorize करने में दिक्कत होती है और अगर ये एक अभिभावक हैं तो आपके बच्चे को memorize करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है.

खैर कोई बात नहीं यह पोस्ट पूरा पढ़ने के बाद आगे से आपको इस तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा. लेकिन उसके लिए आपको यहां बताए गए सभी तरीकों को ध्यान से फॉलो करना है.

हो सकता है आपके लिए एक तरीका कारगर ना हो लेकिन हम यहां पर बहुत सारे तरीके बता रहे हैं आपके लिए जो बेहतर हो या जिससे आपको फायदा लगे आप उसका इस्तेमाल जरूर करें.

1. कल्पना करें

यह कोई बहुत ही कठिन काम नहीं है. विकास के इस दौर में सभी बच्चों को फिल्में और कार्टून देखना पसंद होता है.

यह भी पाया जाता है की दिखाए गए फिल्म और कार्टून की कहानियां बच्चों का आसानी से स्मरण हो जाती है.

यह इसलिए होता है कि इसमें सारी कहानी तस्वीरों के माध्यम से बच्चों के दिमाग में जाती है और दिमाग में छप जाती है.

याद करने के लिए कोई मेहनत नहीं करना पड़ता. यहां तक कि बच्चे हूबहू एक्टर के द्वारा कहे गए डायलॉग को बोल लेते हैं और जिसे अगर अलग से किताब पढ़कर याद करना हो तो बच्चे नहीं कर पाते.

यह कमाल है कल्पना का यानी कि किसी भी टॉपिक को स्ट्रक्चर में बदल दिया जाए और ऑडियो और वीडियो के माध्यम से बच्चों को दिखाया जाता है तो उन्हें तुरंत स्मरण हो जाता है.

जब तक बच्चे छोटे होते हैं तो उनकी किताबों में तस्वीरों के द्वारा ही पढ़ाया जाता है. लेकिन जो बच्चे बड़े हो जाते हैं तो उनको थ्योरी ज्यादा पढ़ाया जाता है और जिसे याद कर पाना संभव नहीं हो पाता.

सिर्फ किताब को रीडिंग डालने से ना तो टॉपिक दिमाग में बैठ पाता है और ना ही समझ में आता है.

सबसे अच्छा उपाय यह है कि अगर आपके पास स्मार्टफोन है तो आप टॉपिक को पढ़ते हुए खुद की वीडियो उतार सकते हैं या फिर आवाज की रिकॉर्डिंग कर सकते हैं.

फिर उस वीडियो को तीन से चार बार देखें और एनालाइज करें कि आपको वह टॉपिक याद हो पाती है या नहीं.

अगर इस तरीके से याद हो जाती है तो फिर इस तरीके को ही बार-बार रिपीट करें और सवाल जवाब याद करें.

2. सुबह जल्दी उठकर पढ़ाई करें

पुराने समय के लोगों से पता चलता है कि सुबह सवेरे जल्दी उठकर बच्चे पढ़ाई किया करते थे. देखा यह भी जाता है कि सुबह के वक्त जब हम सो कर उठते हैं तो दिमाग उस वक्त पूरा फ्रेश होता है और उस वक्त शांति भी बहुत अच्छी होती है.

ऐसी स्थिति में किसी भी चीज को स्मरण कर पाना बहुत ही आसान होता है.

अभी के वक्त में सुबह उठना ही सबसे बड़ी समस्या है.

बच्चे चाहे तो स्कूल जाने से पहले अगर समय बचता है तो सुबह उठकर ही पढ़ाई करें और अगर समय नहीं मिलता है, सुबह जल्दी स्कूल जाना होता है तो फिर टॉपिक को रात में पढ़ें और सुबह में एक बार बस रिविजन कर ले.

जब छुट्टी का वक्त हो तो हर रोज सुबह 4:00 से 5:00 बजे के उठे और उस वक्त पढ़ाई करना शुरू करें.

आप देखेंगे कि आपको कोई सा भी सवाल जवाब हो आसानी से और जल्दी समझ में आ तो जाता है और लंबे समय तक भी मेमोरी में रहता है.

इस तरीके को भी एक बार जरूर आज़मा कर के देखें आपको जरूर अच्छा रिजल्ट मिलेगा.

3. जोर से बोल कर पढ़ें

यहां पर जो मैंने पहला स्टेप बताया है उसमें मैंने कल्पना के बारे में आपको बताया कि कैसे आप खुद की वीडियो बनाकर टॉपिक को अच्छी तरीके से याद कर सकते हैं.

लेकिन अगर आपके पास इस तरह की सुविधा उपलब्ध नहीं है कि आप खुद का वीडियो बना सके तो एक और तरीका है जिससे आप अपने सवाल जवाब या फिर किसी टॉपिक को स्मरण कर सकते हैं.

जैसा कि मैंने पहले बताया कि हम सुनकर या देखकर याद जल्दी करते हैं. इसलिए आप जिस भी टॉपिक को पढ़ रहे हैं उसे जोर से आवाज निकाल कर पढ़ें इससे आवाज आपके कानों तक जाएगी और याद होने का चांस जो होगा वह बढ़ जाएगा.

साधारण रूप से सिर्फ पढ़ने से अच्छा है कि आप आवाज निकाल कर ही पढ़ा करें आपको जरूर अच्छा फल देखने को मिलेगा.

4. लक्ष्य बनाकर पढ़ें

यह एक तरह से मनोवैज्ञानिक तरीका है जिसका उपयोग करके हम खुद को मोटिवेट करते हैं और अपना हौसला बढ़ाते हैं.

जब भी आप पढ़ाई करने या फिर याद करने के लिए बैठो तो यह डिसीजन ले लो कि आपको कितने क्वेश्चन आंसर दिमाग में बैठा लेना है और जब आप इस को कर लेते हैं तो उसके बाद क्या काम करेंगे.

सबसे अच्छा तो यह है कि आप जब भी कोई टास्क पूरा करें उसके बाद थोड़ी देर के लिए टहलने के लिए चले जाएं या फिर कोई गाना ही सुन ले. जिससे आपको बीच-बीच में रेस्ट भी मिलता रहेगा और दिमाग फ्रेश भी रहेगा.

5. याद करें और दूसरों को भी पढ़ाएं

यह पाया गया है कि कोई भी जब स्टूडेंट किसी टॉपिक को पढ़ते हैं तो उसे थोड़ी देर के लिए बहुत अच्छे तरीके से याद रखते हैं और जैसे-जैसे वक्त गुजरता जाता है स्टूडेंट उस टॉपिक को भी भूलता चला जाता है.

जब कुछ दिन बाद उस टॉपिक को दोबारा पढ़ते हैं तो जाकर उसे फिर से इतनी मेहनत के साथ पढ़ना पड़ता है और याद करना पड़ जाता है.

वहीं जब अगर कोई स्टूडेंट किसी टॉपिक को पढ़ लेता है और उस टॉपिक को दूसरों के साथ शेयर करते हैं या फिर उन्हें समझाते हैं तो ऐसे में टॉपिक और बढ़िया तरीके से दिमाग में छप जाता है.

जब दूसरों को कुछ बताना होता है तो हम उसके लिए और अच्छी तरीके से तैयारी करते हैं और जो टॉपिक अच्छे से तैयार नहीं होता है तो उसे फिर देखते हैं और उसे खुद समझने की कोशिश करते हैं ताकि हम दूसरों को समझा सके.

जब किसी को हम समझाने में कामयाब हो जाते हैं इससे अंदरूनी खुशी मिलती है और इतने कॉन्फिडेंस भी बढ़ता है.

मैं तो यही कहूंगा कि जब भी आप किसी टॉपिक को तैयार कर ले तो अपने स्कूल के या फिर ट्यूशन के बच्चों को अपने साथ ग्रुप स्टडी के लिए बुलाए और उनको बताएं कि मैंने ये टॉपिक तैयार कर लिया है और मैं आपको यह समझा सकता हूं.

इससे आपकी टॉपिक में पकड़ और मजबूत हो जाएगी और आपको टॉपिक हमेशा के लिए याद हो जाएगा सिर्फ एग्जाम तक के लिए नहीं बल्कि पूरी जिंदगी भर के लिए स्मरण हो जाएगा.

इस तरिके को जरूर आज़माएँ क्योंकि यह भी बेहतरीन तरीका है जो बहुत सारे लोगों के लिए काम आता है.

यह आपके लिए जरूर काम आने वाला है जो भी इस तरीके को फॉलो कर चुके हैं उन्हें इसके बारे में मालूम है कि कितना फायदेमंद है.

6. टॉपिक से जुड़ा हुआ यूट्यूब वीडियो देखें

इसके बारे में मैंने पहले आपको बताया है कि आप जो भी टॉपिक पढ़ रहे हो उसे यूट्यूब में सर्च करें आपको जरूर मिल जाएगा. उसके बाद उसकी पूरी वीडियो देखें और उस टॉपिक को पूरी तरीके से समझने की कोशिश करें.

हो सकता आपको वीडियो एक बार में समझ में ना आया हो इसलिए वीडियो को दो से तीन बार देखें यह हर तरह से आपके टॉपिक को समझने में आपकी मदद करेंगे.

इसके अलावा अगर आप एक वीडियो को नहीं समझ पाते हैं तो किसी दूसरे वीडियो को एक बार जरूर ट्राई करें हो सकता है कि दूसरा वीडियो आपको इस टॉपिक के बारे में अच्छे से समझा दे.

7. याद करने के दौरान ब्रेक जरूर लें

जब भी आप किसी टॉपिक को याद कर रहे हो या पढ़ाई कर रहे हो तो लगातार कभी भी लंबे समय के लिए पढ़ाई ना करें.

ऐसे में ना आपको बोरियत महसूस हो सकती है साथ ही कभी-कभी ऐसा भी होगा की आधे घंटे से एक लाइन पर अटके हुए और वह लाइन आपको याद ही ना हो रही हो.

ऐसी सूरत में अब समझ ले कि अब थोड़ी रेस्ट लेने की जरूरत है.

इसलिए जब भी आप किसी टॉपिक को याद कर रहे हो या फिर कुछ भी विषय में पढ़ रहे हो तो ज्यादा से ज्यादा 1 घंटे तक ही लगातार पढ़ें और उसके बाद कम से कम 5 मिनट और ज्यादा से ज्यादा 10 मिनट का ब्रेक जरूर लें.

इससे आपका माइंड फ्रेश रहेगा और आपको टॉपिक याद होते रहेंगे.

8. टॉपिक को गूगल में सर्च करें

जब आप कोई टॉपिक याद कर रहे होते हैं तो कभी-कभी ऐसा  होता है की हम जिस टेक्स्ट बुक को पढ़ रहे होते हैं उसमें हमें और टॉपिक आसान शब्दों में नहीं मिलता है जिसकी वजह से उन शब्दों को समझने और उन्हें दिमाग में बैठाना भी मुश्किल हो जाता है.

उसी टॉपिक को जब हम गूगल में सर्च करते हैं तो इसके आधार पर हमें बहुत सारे आर्टिकल्स मिलते हैं. जहां पर ब्लॉगर आसान से आसान शब्दों में हमें उस टॉपिक के बारे में समझाते हैं.

अगर आपको कोई भी टॉपिक ऐसा लगे कि टेक्स्ट बुक में आपको वह पढ़ने में परेशानी हो रही है तो गूगल खोलिए और उस टॉपिक को सर्च कीजिए आपको उस से रिलेटेड कई सारे आर्टिकल मिल जाएंगे जिससे आप आसान शब्दों में पढ़ कर समझ सकते हैं.

कभी भी किसी टॉपिक को समझने की कोशिश करें. ऐसा ना कि बस रट्टा मार लिया और हो गया.

टॉपिक को समझने के लिए किसी भी सोर्स का इस्तेमाल करे. क्योंकि आप जितना टॉपिक को पढ़ेंगे वह टॉपिक उतना समझ में आएगा और वह आपको उतने लंबे समय तक दिमाग में बैठा रहेगा.

अब टेक्नोलॉजी का जमाना है और स्मार्टफोन सभी लोगों के हाथों में है.

ऐसे समय में अगर आपको कोई कहे कि मोबाइल को साइड में रखो और पढ़ाई करो तो फिर यह मन मार कर बहुत कम लोग करते हैं.

खैर छोटे बच्चों को ऐसा कराया जा सकता है लेकिन कॉलेज में पढ़ने वाले लड़कों के लिए यह मुमकिन नहीं है.

इसलिए मेरा कहना है कि स्मार्टफोन को रखने की बजाय आप इस स्मार्टफोन से ही पढ़ाई क्यों ना करें.

किताब में पढ़कर याद करना सबको कठिन लगता है लेकिन अगर वही चीज वीडियो के रूप में या फिर ऑडियो के रूप में या आर्टिकल के रूप में इंटरनेट में जब हम देखते हैं तो वह हमें जल्दी मेमोरी में बैठ जाता है.

यही वजह है कि मैं आपको टेक्नोलॉजी के जरिए ही पढ़ाई करने की सलाह देता हूं इससे दूर भागने से अच्छा है कि आप इसे अपने लाइफ में सदुपयोग करने की कोशिश करें.

9. हर टॉपिक का शॉर्ट नोट तैयार करें

जब हम लंबे टॉपिक को पढ़ते हैं और उसे याद करने की कोशिश करते हैं तो उसमें लाइन बाय लाइन पढ़कर हर चीज याद रखना मुमकिन नहीं है. आपने हमेशा सुना होगा कि सिर्फ तुम मुख्य पॉइंट है वह दिमाग में बैठाओ पूरी टॉपिक खुद याद हो जाएगी.

तो आखिर ऐसा करते कैसे हैं?

जब आप लंबे सवालों के जवाब याद करने के लिए शुरू करते हैं तो सबसे पहले आपको देखना है कि इसमें हेडिंग क्या क्या है.

शॉर्ट नोट तैयार करने का सबसे अच्छा उदाहरण आप यह जो आर्टिकल पढ़ रहे हैं यही है. आप एक बार इस आर्टिकल के फॉर्मेट को देखें.

इसमें आपको एक टेबल ऑफ कंटेंट आर्टिकल के शुरुआत में ही दिखाई देगा. उसमें आप देखें कि सिर्फ पॉइंट नजर आएंगे और उन्हीं के बारे में इस आर्टिकल में पूरे विस्तार से हमने लिखा है.

तो जिस तरह का यह टेबल ऑफ कंटेंट बना हुआ है बस आपको ही बड़े टॉपिक को ऐसे पॉइंट में लिख लेना है और आपको इस टेबल ऑफ कंटेंट के जितने लाइनें हैं उनको अच्छे से समझ लेना है याद कर लेना है और टॉपिक को एक बार बस पढ़ कर समझ लेना है.

इस तरह आपका टॉपिक बहुत आसानी से आप याद कर सकते हैं.

इस बात का ध्यान रखें कि अगर मैथमेटिक्स सब्जेक्ट हो तो उसमें फार्मूले तो हूबहू याद करने पड़ते हैं लेकिन वह भी अगर आप मैथमेटिक्स के सवालों को खुद सॉल्व करेंगे और बार बार उन फार्मूले का इस्तेमाल करेंगे तो आपको memorize करने की जरूरत पड़ेगी नहीं.

वह खुद ब खुद आपके दिमाग में बैठ जाएंगे. गणित के मामले में यही सबसे अच्छी बात है कि आप को इस पर कभी भी यह नहीं सोचना है कि रट्टा मार कर memorize करें.

यही एक ऐसा विषय है जिसमें आपको रट्टा लगाकर याद करने की जरूरत नहीं है बस आपको प्रॉब्लम सॉल्व करने हैं फॉर्मूला का इस्तेमाल करना है. और फार्मूला अपने आप याद हो जाएंगे.

10. रात भर पढ़ाई ना करें

अक्सर बच्चे जो कॉलेज वगैरा में पढ़ते हैं उन्हें रात भर जग कर पढ़ाई करने की आदत होती है. लेकिन एग्जाम की एक रात पहले आप पूरी रात ना जगे बल्कि जल्दी सोने की कोशिश करें और सुबह जल्दी उठकर एक बार रिवीजन कर लिया करें.

आदत तो यह लगानी चाहिए कि जितनी जल्दी हो सके रात में सो जाए और सुबह जल्दी उठकर पढ़ने की कोशिश करें. क्योंकि अगर आप रात की नींद अच्छी नहीं लेते हैं तो अगला दिन पूरा बर्बाद हो सकता है. और अगले दिन आप ना तो साइकोलॉजिकली फिट रहेंगे और ना ही फिजिकली फिट रहेंगे.

11. रिवीजन करें

पढ़ाई तो सभी बच्चे एक समान ही मेहनत के साथ करते हैं लेकिन अच्छी परफॉर्मेंस और अच्छे नंबर वही ला पाते हैं जो टॉपिक को पढ़ने के साथ-साथ रिवीजन भी करते हैं.

जब हम किसी टॉपिक को पढ़ते हैं या फिर याद करते हैं तो यह 24 घंटे तक हमारे दिमाग में फ्रेश रहता है और उसके बाद फिर इसकी यादें धुंधली होती चली जाती है.

इसका मतलब यह है कि हम उस टॉपिक को फिर थोड़ा थोड़ा भूलते चले जाते हैं. इसीलिए हर टॉपिक का रिवीजन करना जरूरी है.

रिवीजन करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आपने जिस टॉपिक को आज पढ़ा है उसे 24 घंटे बाद एक बार रिवाइज कर ले और फिर उस टॉपिक को एक हफ्ते बाद सिर्फ रिवाइज करें.

इतना कर लेने पर आपको यह टॉपिक हमेशा के लिए याद हो जाएगी.

आप हर दिन पढ़ाई के लिए टाइम टेबल बनाते हैं उसमें रिवीजन करने का भी एक घंटा अलग से रखें जिसमें आप 1 दिन पहले के टॉपिक को रिवाइज करें.

इस तरह से आपको कोई भी टॉपिक याद भी हो जाएगी और आप उसे भूलेंगे भी नहीं.

संक्षेप में

कई विद्यार्थियों के ऐसे सवाल होते हैं कि लम्बे क्वेश्चन आंसर कैसे याद करें? इसके बारे में अभी हमने इस टॉपिक में बताया कि अगर आपको लंबे जवाब याद करने हैं तो इसके लिए आपको उस टॉपिक के मुख्य पॉइंट को लिखकर याद करना है और टॉपिक को अच्छे से एक बार पढ़ लेना.

इस तरह से हम लंबे से लंबा टॉपिक भी आसानी से याद कर सकते हैं. अक्सर पढ़ाई को लेकर लोग परेशान रहते हैं और सबसे अधिक इस बात को लेकर परेशान होते हैं कि पढ़ा हुआ जल्दी याद कैसे करें.

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको इस पोस्ट से कुछ ना कुछ तो जरूर मदद मिली होगी. हमने इस टॉपिक को बहुत ही आसान शब्दों में आप को समझाने की कोशिश की है. अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक, टि्वटर इंस्टाग्राम, पर फेसबुक में अधिक से अधिक शेयर करें.

1 COMMENT

  1. हेलो फ्रेंड्स
    मैं भी बीएससी केमिस्ट्री ऑनर्स करना चाहता हूं एडमिशन ले चुका हूं मुझे केमिस्ट्री मैं बहुत कुछ सीखना चाहता हूं ऐसे फुटवेयर कंपाउंड एडवाइजर के तौर पर जॉब करता हूं अगर कोई सर कोई भाई हेल्प करना चाहते हो प्लीज मुझे हेल्प करना मैं कुछ सीख सकूं और आगे डिवेलप कर सकूं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here