राशन कार्ड के जारी हुए नए नियम, किन्हें करना होगा राशन कार्ड सरेंडर,

जो लोग राशन कार्ड के लिए अपात्र हैं और उन्होंने राशन कार्ड (Ration Card) बनवाया है और राशन का लाभ उठा रहे हैं। सरकार उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। 

जो लोग राशन कार्ड के लिए अपात्र हैं और उन्होंने राशन कार्ड (Ration Card) बनवाया है और राशन का लाभ उठा रहे हैं। सरकार उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। 

अन्यथा वे कार्रवाई के हकदार होंगे। सरकारी विभागों में शिकायतें मिली है कि कोरोना महामारी (Corona Pandemic) इस दौरान जो लोग इस योजना के दायरे में नहीं आते हैं,

उन्होंने भी राशन कार्ड बनाकर इसका फायदा उठाना शुरू कर दिया है।! दरअसल, कोरोना महामारी में लॉकडाउन के दौरान सरकार ने गरीब लोगों को राशन देने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की शुरुआत की और मुफ्त अनाज बांटना शुरू किया।

इस योजना का लगातार विस्तार किया जा रहा है। इस योजना में चावल, गेहूं और चना के अलावा अन्य चीजें दी जाती हैं। 

इन खाद्य पदार्थों का लाभ उठाने के लिए जो लोग इस श्रेणी में नहीं आते हैं या संपन्न वर्ग के बावजूद राशन ले रहे हैं। 

उन्होंने फर्जी दस्तावेज लगाकर राशन कार्ड भी बनवाए हैं। सरकार ने ऐसे लोगों की जांच शुरू कर दी है और उनकी सूची जारी की जाएगी।

सरकार ने कहा है कि अगर अपात्र लोगों ने राशन कार्ड बनवाए हैं तो उन्हें सरेंडर कर देना चाहिए।

अगर वे कार्ड सरेंडर नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। 

शर्तों के अनुसार जिस व्यक्ति के पास 100 वर्ग मीटर से अधिक का प्लॉट, फ्लैट या मकान हो, जिसके पास चार पहिया वाहन या ट्रैक्टर हो,

 जिसकी वार्षिक आय गांव में 2 लाख और शहरों में 3 लाख से अधिक हो, ऐसे लोग राशन योजना के हकदार नहीं हैं 

और उन्हें राशन कार्ड सरेंडर करना चाहिए। तहसील या डीएसओ कार्यालय में राशन कार्ड जमा करना आवश्यक है।

ऐसा नहीं करने पर कार्ड रद्द कर दिया जाएगा और कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

इतना ही नहीं चूंकि राशन का लाभ लिया जा रहा है तो उस राशन की भी वसूली की जाएगी। राशन कार्ड योजना (Ration Card Yojana) को सख्ती से लागू करने के लिए सरकार ने ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ योजना शुरू की है। 

यह योजना देश के 32 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में चलाई जा रही है। इस योजना के तहत खाद्य सुरक्षा योजना में शामिल 86 प्रतिशत आबादी लाभान्वित हो रही है। 

मजदूर वर्ग को सबसे अधिक लाभ मिल रहा है क्योंकि वे अक्सर काम के लिए अपने स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हैं। 

 इन लोगों का राशन नहीं रुका है इसका पूरा लाभ ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ योजना में दिया जा रहा है।