Post Office : हर महीने मिलेंगे 4950 रुपये शादीशुदा लोग खुलवाएं यह खाता

बाजार के उतार-चढ़ाव के जोखिम के बीच आपको बहुत सोच-समझ कर निवेश (Investment) चुनना चाहिए. निवेश (Investment) का आप ऐसा ऑप्‍शन चुनें जहां आपका पैसा पूरी तरह सुरक्षित हो और आपको गारंटीड रिटर्न भी मिले.

अगर आप भी निवेश  (Investment) करने की सोच रहे है और अच्छा रिटर्न भी पाना चाहते तो पोस्ट ऑफिस (Post Office)  की इस स्कीम के बारे में जानें। 

पोस्ट ऑफिस (Post Office) की मंथली इनकम स्कीम ( Monthly Income Scheme) एक ऐसी सुपरहिट स्‍माल सेविंग्‍स स्‍कीम(Superhit Small Savings Scheme) है, जिसमें सिर्फ एकबार आपको पैसा लगाना पड़ता है.

MIS अकाउंट का मैच्योरिटी पीरियड (maturity period) 5 साल का होता है. यानी, पांच साल बाद से आपको गारंटीड मंथली इनकम (guaranteed monthly income) होने लगेगी.

POMIS स्कीम में सिंगल और ज्‍वाइंट (single and joint) दोनों तरह का खाता खुलवाया जा सकता है. मिनिमम 1,000 रुपये के निवेश से अकाउंट खुल सकता है

सिंगल अकाउंट में मैक्सिमम(Maximum in single account) 4.5 लाख रुपये का निवेश कर सकते हैं. वहीं, ज्वाइंट खाते में निवेश की लिमिट 9 लाख रुपये है.

MIS में मिलते हैं कई लाभ(There are many benefits available in MIS) पोस्ट ऑफिस MIS स्कीम में दो या तीन लोग मिलकर भी ज्वाइंट अकाउंट खुलवा सकते हैं. इस अकाउंट के बदले में मिलने वाली आय को हर मेंबर को बराबर दिया जाता है. ज्वाइंट अकाउंट को कभी भी सिंगल अकाउंट में कन्वर्ट करा सकते हैं. 

सिंगल अकाउंट को भी ज्वाइंट अकाउंट में कन्वर्ट करा सकते हैं. अकाउंट में किसी तरह का बदलाव करने के लिए सभी अकाउंट मेंबर्स की ज्वाइंट एप्लीकेशन देनी होती है.

मैच्योरिटी यानी पांच साल पूरा होने पर इसे आगे 5-5 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है. MIS अकाउंट में नॉमिनेशन की सुविधा है. इस स्‍कीम पैसा पूरी तरह सेफ होता है. इस पर सरकार की सॉवरेन गारंटी होती है. 

जानकारी के मुताबिक, मंथली इनकम स्‍कीम(monthly income scheme) पर सालाना 6.6 फीसदी ब्याज मिल रहा है. इसका भुगतान हर महीने होता है.

आप जान लीजिए कि पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (Post Office Monthly Income Scheme) में कोई भी भारतीय नागरिक निवेश(Indian citizen investment) कर सकता है.