Ind vs Eng :इंग्लैंड  दौरा ख़त्म  होते ही इस खिलाड़ी का करियर भी खत्म, 

भारतीय क्रिकेट टीम को इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के आखिरी मुकाबले में 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा है.

इस हार के साथ ही भारतीय टीम का इंग्लैंड में सीरीज जीतने का सपना एक बार फिर से चूर हो गया है. ये सीरीज 2-2 से बराबरी पर खत्म हुई.

पांचवें टेस्ट के खत्म होने के साथ ही टीम इंडिया के एक खिलाड़ी का करियर भी लगभग खत्म होने की ओर बढ़ गया है. इस खिलाड़ी ने लंबे समय से बेहद खराब प्रदर्शन किया है.

सीरीज के साथ इस खिलाड़ी का करियर भी खत्म भारत और इंग्लैंड के बीच खत्म हुई 5 मैचों की टेस्ट सीरीज के साथ ही टीम इंडिया के ओपनिंग बल्लेबाज शुभमन गिल का करियर भी खत्म होता हुआ नजर आ रहा है. 

गिल का प्रदर्शन पिछले कुछ समय से अच्छा नहीं रहा है और ये खिलाड़ी अबतक एक भी शतक नहीं ठोक पाया है.

ऐसा लग रहा है कि 22 साल की उम्र में टीम इंडिया के बल्लेबाज शुभमन गिल का टेस्ट करियर खत्म हो जाएगा. गिल ने पांचवें टेस्ट में कप्तान और कोच दोनों को ही बुरी तरह निराश कर दिया. 

इस टेस्ट मैच में भारत के कप्तान रोहित शर्मा और ओपनिंग बल्लेबाज केएल राहुल दोनों ही नहीं खेल रहे हैं. ऐसे में शुभमन गिल को चेतेश्वर पुजारा के साथ ओपनिंग के लिए उतारा गया, लेकिन शुभमन गिल ने इस सुनहरे मौके को बर्बाद कर दिया.

बर्मिंघम टेस्ट की पहली पारी में शुभमन गिल सिर्फ 17 रन बनाकर आउट हो गए. दूसरी पारी में तो शुभमन गिल का और भी बुरा हाल रहा.

 बर्मिंघम टेस्ट की दूसरी पारी में शुभमन गिल सिर्फ 4 रन बनाकर चलते बने. अपने इस फ्लॉप प्रदर्शन की वजह से शुभमन गिल ने भारतीय टीम का भरोसा तोड़ दिया है और उन्होंने निकट भविष्य में टेस्ट टीम के दरवाजे अपने लिए लगभग बंद कर लिए हैं.

रोहित की वापसी के साथ ही कटेगा पत्ता टीम इंडिया में अब रोहित शर्मा की वापसी के साथ ही शुभमन गिल का पत्ता कटना तय है. वही रोहित के साथ एक बार फिर से स्टार बल्लेबाज केएल राहुल पारी की शुरुआत करते हुए नजर आएंगे.

शुभमन गिल के कंधों पर टीम इंडिया को एक मजबूत शुरुआत दिलाने की जिम्मेदारी थी, लेकिन गिल इस चुनौती को पूरा करने में कामयाब नहीं हो पाए हैं. ऐसे में उन्हें टीम से बाहर बैठाने में ही सेलेक्टर्स की भलाई होगी.

एजबेस्टन टेस्ट में टीम इंडिया को 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा है. टीम इंडिया ने इंग्लैंड के सामने इस मुकाबले को जीतने के लिए 378 रनों का टारगेट दिया था. इस लक्ष्य को इंग्लैंड ने 3 विकेट के नुकसान पर ही हासिल कर लिया.