ग्राम सचिवालयों में मिलेंगीअब गांव में बन जाएगा पैन आधार और राशन कार्ड

पैन, आधार और राशन कार्ड आदि बनवाने के लिए अब आपको भटकना नहीं होगा। ग्राम सचिवालयों में ही ये सभी सुविधाएं मिल जाएंगी। यहां जन सेवा केंद्र भी चलेंगे जहां 243 तरह की सेवाएं मिल सकेंगी। 

यदि आप गांव में रहते हैं पैन, आधार और राशन कार्ड बनवाने के लिए अब इधर-उधर भटकने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये सब गांव में ही बन जाएंगे। ग्राम सचिवालयों में अब जनसेवा केंद्र भी चलेंगे। यहां आधार, पैन, राशन कार्ड, जन्म-मृत्यु व आय-जाति प्रमाणपत्र, वृद्धावस्था, विधवा, दिव्यांग पेंशन, किसान सम्मान निधि के आवेदन और प्रमाणपत्र बनाने समेत 243 तरह की सेवाएं मिल सकेंगी। 

सचिवालयों में तैनात पंचायत सहायक विलेज लेवल इंटरप्रेन्योर (वीएलई) की तर्ज पर काम करेंगे। जनपद की सभी 694 ग्राम पंचायतों में केंद्रीयकृत व्यवस्था होने से ग्रामीणों को दौड़ नहीं लगानी होगी।

यह भी पढ़ें: यूपी के मंत्री के लिए नहीं खुला आगरा कॉलेज का गेट, नाराज हो वापस लौटे दो सर्विस प्रोवाइडरों को मिली जिम्मेदारी जिले के आठों ब्लॉकों में सीएससी स्थापना व संचालित करने के लिए दो डिस्ट्रिक्ट सर्विस प्रोवाइडरों (डीएसपी) को जिम्मेदारी दी गई है। 

इनमें वयम संस्था को विद्यापीठ, हरहुआ, सेवापुरी व पिंडरा और एसआरईआई संस्था को आराजी लाइन, चिरईगांव, चोलापुर व बड़ागांव विकास खंड से जुड़े गांवों की जिम्मेदारी दी गई है।

‘ऊपर’ तक होगी मॉनीटरिंग जिला परियोजना प्रबंधक सौरभ सिंह ने बताया कि मिनी सचिवालयों में बनने वाले कॉमन सर्विस सेंटर की ग्राम पंचायत स्तर (प्रधान-सेक्रेट्री) से जिला स्तर तक मॉनीटरिंग होगी। सीएससी में रोज होने वाली प्रक्रिया की रिपोर्ट बनेगी। पंचायत सहायकों को अलग से आईडी और पासवर्ड दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: मंत्री राकेश सचान ने सजा के खिलाफ दाखिल की अपील, जमानत अर्जी भी लगाई जिले में दो हजार कॉमन सर्विस सेंटर संचालित अभी डिस्ट्रिक्ट ई-गवर्नेंस सेल की ओर से जनपद में करीब 2000 कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) यानी जनसेवा केंद्र संचालित हैं। 

इनके माध्यम से ऑनलाइन आवेदन से लेकर प्रमाणपत्र बनाने तक के दो सौ से ज्यादा काम होते हैं। ग्राम सचिवालयों में जनसेवा केंद्र संचालित करने के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है। अगले महीने से यह व्यवस्था शुरू होने की सम्भावना है।