धोनी  घुटनों का इलाज 40  रुपए में:रांची के जंगल जड़ी-बूटी लेने जाते हैं

दुनिया को अपनी बल्लेबाजी का दीवाना बना चुके महेंद्र सिंह धोनी इन दिनों घुटने के दर्द से परेशान हैं। वे इसका इलाज झारखंड के जंगल में बने एक छोटे से आश्रम में करवा रहे हैं। धोनी एक वैद्य की आयुर्वेदिक दवाई खा रहे हैं। जिनकी फीस महज 40 रुपए है।

राजधानी रांची से 70 किमी दूर लापुंग के जंगली इलाके में रहने वाले वैद्य वंदन सिंह खेरवार उनका इलाज कर रहे हैं। वैद्य ने ही बताया कि लगभग एक महीने से धोनी उनकी दवाएं ले रहे हैं। वे हर 4 दिन में जड़ी-बूटियां लेने आश्रम आते हैं।

वंदन पहली बार तो धोनी को पहचान ही नहीं पाए वैद्य ने बताया कि धोनी जब पहली बार उनके पास आए तो वह उन्हें पहचान ही नहीं पाए। साथ में आए लोगों ने जब परिचय कराया तब पता चला कि वे तो धोनी हैं, जिन्हें उन्होंने टीवी पर बल्ला घुमाते देखा है। धोनी जिस दिन आश्रम आते हैं वहां लोगों की काफी भीड़ हो जाती है।

धोनी को कैल्शियम की कमी है वैद्य ने कहा कि धोनी ने विस्तार से उन्हें अपनी तकलीफ बताई। कैल्शियम की कमी के कारण उनके दोनों घुटनों में दर्द है। जिससे उन्हें चलने में तकलीफ होती है। वैद्य ने बताया कि इलाज के लिए वे सिर्फ 20 रुपए फीस लेते हैं और 20 रुपए की दवा देते हैं।

उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा कि धोनी एक ईमानदार मरीज की तरह अपने 40 रुपए खुद देते हैं। उन्होंने बताया कि धोनी पिछली बार 26 जून को उनके पास आए थे।

धोनी के माता-पिता भी खा चुके हैं उनकी दवा वैद्य वंदन ने दावा किया कि धोनी के माता-पिता भी उनकी दवा ले चुके हैं। उन्होंने कहा कि दोनों को घुटने में समस्या है और पिछले तीन महीने से उनका इलाज कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि माता-पिता को इलाज से आराम है, इसलिए धोनी भी उनके पास आ रहे हैं।

वैद्य वंदन ने बताया कि धोनी जब भी आते हैं तो उनके साथ फोटो खिंचवाने वालों की भीड़ लग जाती है। यही वजह है कि वह आने पर गाड़ी से बाहर नहीं आते हैं। उन्हें दवा गाड़ी तक ही पहुंचा दी जाती है। धोनी दवा पीते हैं। गांव वालों के साथ खुद मोबाइल पकड़कर तस्वीर खिंचवाते हैं।