क्रिकेटर बीवी के कारन रातभर कार में सोया सुबह ऑस्ट्रेलिया को रुला लिया

फेसबुक, यूट्यूब और इंस्टाग्राम की दुनिया बहुत मायावी है. और इस माया में आजकल एक नई चीज जुड़ी है. इसे कभी रील्स तो कभी शॉर्ट्स के नाम से जाने जाते हैं. और ये संख्या में बहुत ज्यादा और प्रकांड तरीके से वायरल कंटेंट है.

जिसे देखो वही, अपना फोन चलाते हुए ये देखता रहता है. और इस कंटेंट में एक तरह की चीज मुझे अक्सर दिख जाती है. मैनर्स वाले लड़के. जो रेस्टोरेंट में कभी अपनी पार्टनर के लिए कुर्सी खींचते हैं. तो कभी गाड़ी का दरवाजा खोलते हैं.

अरे हां, गाड़ी का दरवाजा खोलने से एक मशहूर लाइन याद आ गई. वो लाइन जो प्रिंस फिलिप ने सालों पहले बोली थी. उन्होंने कहा था,

अब ये बात कितनी सही है और कितनी ग़लत, इसमें ना पड़ते हुए अपना फोकस बीवी और गाड़ी पर रखते हैं. क्योंकि आज के हमारे क्रिकेट के क़िस्से में ये दो पात्र काफी अहम हैं.

और इस क़िस्से का तीसरा पात्र एक भयानक स्पीड वाला बोलर है. वो बोलर, जिसका रनअप देखकर ही दिग्गज कांप उठते थे. फ्रेडरिक सीवर्ड्स ट्रूमैन उर्फ़ फ्रेड ट्रूमैन नाम के ये महाशय टेस्ट क्रिकेट में 300 विकेट लेने वाले पहले प्लेयर भी हैं.

और इनके क़िस्से से पहले हम आपको थोड़ा इनके खौफ़ के बारे में बता देते है. ट्रूमैन ने अपने डेब्यू से ही कमाल करना शुरू कर दिया था.

 इंडिया के खिलाफ़ लीड्स में अपने डेब्यू की दूसरी पारी में ट्रूमैन ने पंकज रॉय, दत्ता गायकवाड़, एमके मंत्री और विजय मांजरेकर को क्रीज़ पर खड़े होने का भी मौका नहीं दिया. इन बल्लेबाजों के कुछ समझ पाने से पहले ही ट्रूमैन इन्हें वापस भेज चुके थे. और इस डेब्यू के बाद ये रुके ही नहीं.

और चलते-चलते आ गया साल 1961. ऑस्ट्रेलिया की टीम इंग्लैंड के दौरे पर थी. 6 जुलाई को लीड्स में दोनों टीम्स के बीच तीसरा टेस्ट मुकाबला शुरू हुआ. इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की. और उनकी पारी खत्म हुई 237 रन पर.

और चलते-चलते आ गया साल 1961. ऑस्ट्रेलिया की टीम इंग्लैंड के दौरे पर थी. 6 जुलाई को लीड्स में दोनों टीम्स के बीच तीसरा टेस्ट मुकाबला शुरू हुआ. इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की. और उनकी पारी खत्म हुई 237 रन पर.