चलती ट्रेन में वेटिंग टिकट कन्फर्म करने के लिए TTE का झंझट खत्म! जानें

Indian Railway : भारतीय रेल यात्रियों के लिए एक अच्छी खबर है। अब वेटिंग टिकट कन्फर्म करने के लिए एक नया सिस्टम शुरू होने जा रहा है।

नई व्यवस्था के तहत वेटिंग टिकट वाले यात्रियों को टीटीई का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। सीट खाली होते ही उनका टिकट अपने आप कन्फर्म हो जाएगा।

नई व्यवस्था के तहत वेटिंग टिकट वाले यात्रियों को टीटीई का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। सीट खाली होते ही उनका टिकट अपने आप कन्फर्म हो जाएगा।

नों में अक्सर देखा जाता है कि वेटिंग टिकट वाले यात्री आगे-पीछे टीटीई का चक्कर लगाते रहते हैं। कई बार लाख अनुरोध करने के बाद भी टिकट कन्फर्म नहीं होता है और कई बार चंद रुपये की रिश्वत देकर टिकट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन,

 अब ऐसा नहीं होगा, क्योंकि भारतीय रेलवे अपने सिस्टम में बदलाव करने जा रहा है। अब यात्री चलती ट्रेन में आसानी से टिकट कन्फर्म कर सकेंगे। इस नई व्यवस्था के तहत सभी टीटीई हैंड होल्डिंग डिवाइस से लैस होंगे।

जैसे ही इस डिवाइस पर आरक्षित सीट खाली हो जाती है, इसे रीयल टाइम में अपडेट कर दिया जाएगा और इस तरह वेटिंग टिकट वाले यात्रियों की सीटें अपने आप कन्फर्म हो जाएंगी।

ज्ञात हो कि मौजूदा व्यवस्था के तहत ट्रेन के रवाना होने के करीब 30 मिनट पहले अपडेटेड चार्ट जारी किया जाता है. इसके बाद टीटीई मैन्युअल रूप से चलती ट्रेन में आरएसी और फिर वेटिंग टिकट की पुष्टि करता है।

सिस्टम मैनुअल होने के कारण इसमें टीटीई की मर्जी जाती है। वे आरएसी के बजाय अक्सर वेटिंग यात्रियों को टिकट कन्फर्म करते हैं।

ऐसे में जिसका टिकट पहले कंफर्म हो जाना चाहिए था, उसे परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि अब नई व्यवस्था के तहत वेटिंग टिकट वाले यात्रियों को इस समस्या से निजात मिल जाएगी।

यात्रियों की शिकायतों को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने लिया ये फैसला : दरअसल, रेलवे अधिकारियों को लगातार टीटीई की मनमानी की शिकायतें मिल रही थीं।

त्रियों की इस समस्या को देखते हुए अधिकारियों ने व्यवस्था में बदलाव करने का फैसला किया है। रेलवे बोर्ड ने अब सभी टीटीई को हैंड होल्डिंग डिवाइस उपलब्ध कराने का आदेश दिया है। अब ये उपकरण सभी रेलवे मंडलों के टीटीई को दिए जा रहे हैं।

आगरा मंडल को भी जल्द उपकरण मिलेंगे : आगरा संभाग के एक अधिकारी ने बताया कि जल्द ही उनकी जगह भी 300 उपकरण मिलने वाले हैं.

आरक्षित सीट खाली होते ही डिवाइस पर टीटीई को रीयल टाइम अपडेट करना होगा। जिसके बाद सीट खाली होते ही यात्री के मोबाइल पर सीट कंफर्मेशन का मैसेज पहुंच जाएगा। इस तरह यात्रियों को न तो टीटीई के चक्कर लगाने पड़ेंगे और न ही अपनी जेब गर्म करनी पड़ेगी।