भारतीय टीम मैनेजमेंट पर लगाए आरोप  इंडिया से पत्ता कटने का फूटा गुस्सा

कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के लिए IPL में धमाल मचाने वाले क्रिकेटर नीतीश राणा को टीम इंडिया के लिए सिर्फ 3 इंटरनेशनल मैचों में खेलने का मौका मिला, जिसके बाद इस खिलाड़ी को भुला दिया गया. 

नीतीश राणा ने टीम इंडिया के लिए आखिरी इंटरनेशनल मैच साल 2021 के श्रीलंका दौरे पर खेला था. श्रीलंका के खिलाफ उस सीरीज में नीतीश राणा को 1 वनडे और 2 टी20 मैचों में खेलने का मौका मिला, लेकिन वह कुछ खास कमाल नहीं कर पाए. 

साल 2021 के श्रीलंका दौरे पर नीतीश राणा को पहली बार टीम इंडिया के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू का मौका मिला था. 

नीतीश राणा अपनी काबिलियत के मुताबिक इन मैचों में प्रदर्शन नहीं कर पाए. नीतीश राणा ने अपने एकमात्र वनडे में 7 रन और 2 टी20 मैचों में सिर्फ 15 रन ही बनाए थे. नीतीश राणा को उनके इस खराब प्रदर्शन के बाद टीम इंडिया से बाहर कर दिया गया. 

नीतीश राणा ने हाल ही में इंडिया टुडे को दिए एक इंटरव्यू में भारतीय टीम मैनेजमेंट के फैसले पर सवाल उठाए हैं. नीतीश राणा के मुताबिक वह श्रीलंका के उस दौरे (जुलाई 2021) पर अपनी बैटिंग पोजीशन में खुश नहीं थे. 

नीतीश राणा ने कहा, 'एक क्रिकेटर होने के नाते मैं हमेशा ही इंटरनेशनल क्रिकेट में मौकों की तलाश में रहता हूं.

मैं उस बैटिंग पोजीशन पर सहज नहीं था, जो मुझे दी गई थी. लेकिन मैं कोई बहाना नहीं देना चाहूंगा.'नीतीश राणा ने कहा, 'मेरे हाथ में रन बनाना और अपने खेल में सुधार करना है. 

मैं आगे आने वाले आईपीएल सीजन में 500 से अधिक रन बनाने की कोशिश करूंगा, जिससे सेलेक्टर्स का ध्यान अपनी ओर खींच सकूं. अगर कोई मुझे 400 रन बनाने के बाद भी नहीं चुन रहा तो मेरा काम है कि मैं 600 रन बनाऊं.'