आपको पता  नई होगा की आपके आधार कार्ड से फर्जी सिमहैं जाना पड़ेगा जेल   

मौजूदा दौर में आधार कार्ड (Aadhaar) को सबसे अहम दस्तावेज कहना शायद गलत नहीं होगा। लेकिन ऐसा नहीं है कि आधार से फ्रॉड संभव नहीं है। खासतौर पर मोबाइल सिम लेने के लिए आधार कार्ड का धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है। 

आधार कार्ड (Aadhaar Card) की फोटो कॉपी की मदद से बिना आपकी इजाजत कई सारे फर्जी सिम (Fake SIM) जारी कर दिए जाते हैं, जिसका आपको अंदाजा भी नहीं होता है। 

इन फ्रॉड की घटनाओं पर लगाम लगाने कि लिए डिपॉर्टमेंट ऑफ टेलिकम्युनिकेशन (DoT) की तरफ से एक नई वेबसाइट लॉन्च की गई है। 

साथ ही टेलिकॉम एनालिटिक्स फॉर फ्रॉम मैनेजमेंट एंड कंज्यूमर प्रोटेक्शन (TAFCOP) नाम से एक पोर्टल शुरू किया गया है। जहां से यूजर्स पता लगा सकते हैं कि आखिर उनके आधार कार्ड पर कितने रजिस्टर्ड सिम कार्ड रजिस्टर्ड हैं। इसके बाद यूजर्स ऑनलाइन मोड से ही रजिस्टर्ड फर्जी सिम को ब्लॉक कर सकते हैं। 

फर्जी सिम की वजह से उठाना होगा भारी नुकसान अगर आपके आधार कार्ड (Aadhaar Card) पर फर्जी मोबाइल सिम कार्ड दर्ज हैं, तो आपको भारी नुकसान पड़ सकता है, क्योंकि आपके नाम पर रजिस्टर्ड फर्जी सिम से कोई भी गलत काम होने पर आपको दोषी माना जाएगा। साथ ही ऐसे मामलों में आपको जेल तक जाना पड़ सकता है।

कैसे फर्जी सिम कार्ड करे पहचान सबसे पहले https://www.tafcop.dgtelecom.gov.in/ वेबसाइट पर जाना होगा। और वहां अपना मोबाइल नंबर भरना होगा।उसके बाद आपको एक one time password (OTP) आएगा।

ओटीपी सब्मिट करने के बाद एक लिस्ट दिखेगी, जहां से आपको पता चल जाएगा कि आखिर आपके आधार पर कितने नंबर रजिस्टर्ड हैं। 

उसके बाद आप जो नंबर आप इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं, उसको ब्लॉक कर दीजिए। कंज्यूमर को एक ट्रैकिंग आईडी दी जाएगी, जिससे पता लगाया जा सकेगा कि आधार आधार पर अवैध नंबर इश्यू कराने वाले के खिलाफ क्या एक्शन लिया गया है?