Tally कैसे सीखें?

टैली एक ऐसा कोर्स है जिस की डिमांड लगभग सभी व्यवसाय नौकरियों के लिए होती है जिसमें उम्मीदवारों को अकाउंटेंट के रूप में नौकरी दी जाती है. इसीलिए आज की इस पोस्ट में हम में आपको बताएँगे की Tally कैसे सीखे?

वही यह अनिवार्य होता है की उम्मीदवारों को Tally की जानकारी होना आवश्यक है. आज हम दिल्ली से संबंधित लगभग सभी जानकारियों को आपको देने का प्रयास करेंगे.

टैली क्या है – What is Tally in Hindi?

टैली एक ऐसा कोर्स है जिसकी जानकारी लगभग उन सभी उम्मीदवारों के पास होनी चाहिए जिन्हें अकाउंटेंट के रूप में किसी डिपार्टमेंट में काम करना होता है.

जो विद्यार्थी अकाउंटेंट की तैयारी कर रहे होते हैं उन्हें टैली कोर्स को कंप्लीट करना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि टैली के अंतर्गत अकाउंटेंट अपने कंपनी या डिपार्टमेंट के सारी लेनदेन की रिपोर्ट किसी के अंदर बना कर रखती है.

टैली अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर का बहुत ही पॉपुलर सॉफ्टवेयर माना जाता है. इस कोर्स को सीखना आज के जनरेसन में लगभग सभी विद्यार्थियों के लिए बहुत ही आवश्यक है.

क्योंकि बिना टैली के जानकारी के आप अगर पार्ट टाइम जॉब भी कर रहे हैं तो आपको यहयह सॉफ्टवेयर बहुत ही जरूरी है तभी जाकर आपको जॉब मिलेगी.

इसके बारे में विस्तार जानने के लिए आप Tally क्या है जरूर पढ़ें.

टैली का महत्व

आज के युग में लगभग सारे कामों को कंप्यूटर के अनुसार ही हैंडल किया जाता है इसलिए हर एक व्यक्ति को हर एक स्टूडेंट को कंप्यूटर का बेसिक नॉलेज के साथ-साथ इस टैली कोर्स को करना बहुत आवश्यक है.

यदि मैं अपनी जिंदगी में आगे बढ़ना चाहते हैं तो क्योंकि आज के इस डिजिटल इंडिया में हर एक काम कंप्यूटर के थ्रू किया जा रहा है जिसमें अगर मुझे छोटा काम भी करना हो तो उसके लिए भी कंप्यूटर का नॉलेज होना बहुत जरूरी है.

इसलिए हमें छोटी उम्र से ही कंप्यूटर का ज्ञान को प्राप्त करना शुरू कर देना चाहिए ताकि आगे चलकर हमें कंप्यूटर से संबंधित कोई भी परेशानी ना हो.

यह कोर्स हर एक नौकरी वाले के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होती है क्योंकि टैली कोर्स उनकी कामों में आम भूमिका निभाते हैं जिसके द्वारा वे अपने कंपनी के सारे हिसाब ओं को पैसे के लेनदेन को या अन्य कई कामों को दिल्ली के अंदर रिकॉर्ड बना कर रखते हैं.

इसका सबसे महत्वपूर्ण कार्य कैलकुलेशन करने का होता है. इसके द्वारा हम बड़े से बड़े कैलकुलेशन को सेकंड में कैलकुलेट कर सकते हैं. यह हिसाब किताब में हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है.

पहले के जमाने में हम लोगों को कैलकुलेशन करने में जहां 2 घंटा ढाई घंटा लगता था वही आज इस सॉफ्टवेयर की मदद से वही कैलकुलेशन की प्रक्रिया कुछ ही सेकंड में पूरी होती है.

पहले जमाने में हमारे पूर्वज अपने कामों के नेक जोक को कागजों में लिखित रूप में रखते थे जो यदि भुला जाए तो बहुत ही परेशानी होती थी वही आज हर एक रिकॉर्ड को दिल्ली के अंदर रखा जा सकता है जिसे हम जब चाहे तब आसानी पूर्वक देख सकते हैं.

यह हमारे कामों में अहम भूमिका निभाती है इसलिए इस कोर्स को सभी विद्यार्थियों को करनी चाहिए ताकि आगे चलकर उन्हें कोई परेशानी ना हो.

टेली का इतिहास 

टेली हर एक अकाउंटेंट के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है क्योंकि इसके अंदर सारे रिकॉर्ड स्कोर सहज कर रखा जाता है जिसमें टाइम बहुत ही कम खपत होती है इसलिए यह हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है.

यह एक अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है जिस का अविष्कार श्री श्याम सुंदर गोयन तथा इनके सुपुत्र भरत गोयन द्वारा सन 1986 ईस्वी में भारत के बेंगलुरु नामक स्थान में किया गया था.

टैली का अविष्कार टैली सॉल्यूशन पीवीटी एलटीडी कंपनी द्वारा की गई थी यह कंपनी इसके अविष्कारक की कंपनी है जिसका नाम कुछ समय पश्चात पीयू ट्रॉनिक पीवीटी एलटीडी हो गया था.

इसके अविष्कारक श्री श्याम सुंदर गायका टैली सॉल्यूशन पीवीटी एलटीडी नामक कंपनी को चलाया करते थे जिसके अंतर्गत वे टैक्सटाइल मिल्स और प्लांट स्कोर कच्चा माल क्या करते थे.

इन सभी कामों के नेक जोक तथा लेनदेन का रिकॉर्ड बनाने में बहुत ही ज्यादा समय लग जाता था जिससे उन्हें काफी परेशानी होती थी.

एक दिन श्री श्याम सुंदर गायनका जीने अपने बेटे से कहा कि कोई ऐसा सॉफ्टवेयर का निर्माण करो जिससे कैलकुलेशन से संबंधित कोई प्रॉब्लम ही ना हो.

उनके बेटे भरत गोयंका ने मैथमेटिक्स ऑनर्स से स्नातक की डिग्री प्राप्त के साथ-साथ सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी पूरी कर चुकी थी.

इससे वह अपनी कड़ी मेहनत और लगन से टैली नामक सॉफ्टवेयर का निर्माण किया जो आज भी लगभग सभी कंपनियों में इसकी डिमांड उच्च स्तर तक रहती है.

ऐसा कोई भी उम्मीदवार नहीं है जो बिना टेली किए कोई एग्जाम को क्लियर करने का तैयारी कर रहे हैं. व्यवसाय से संबंधित नौकरी को हासिल करने के लिए इस सॉफ्टवेयर की जानकारी होना बहुत ही जरूरी है.

टैली के फायदे

इस सॉफ्टवेयर उन उम्मीदवारों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है जो अकाउंटेंट के लाइन में जाना चाहते हैं अकाउंटेंट से संबंधित जॉब को हासिल करना चाहते हैं.

यदि कोई उम्मीदवार व्यवसाय से संबंधित नौकरी को पाने के लिए उनकी तैयारी कर रहे होते हैं तो उन्हें की कोर्स करनी होती है.

यदि आप कोई कंपनियां या डिपार्टमेंट में जॉब के लिए एग्जाम क्लियर करके जाते हो तो आपसे आपकी कंप्यूटर स्किल पूछी जाती है उस समय आप यह बताते हो कि आप टैली कोर्स को किए हो तो आपको डायरेक्ट अकाउंटेंट पद में भेज देते हैं.

टेली करने का फायदा यह है कि आपको किसी भी कंपनी में डायरेक्ट अकाउंटेंट के पद में स्थगित कर दिया जाता है.

दूसरा यह है कि टेली हमारे बड़े से बड़े कैलकुलेशन को कैलकुलेट कर कम से कम समय में हमें प्रस्तुत करता है.

साथ ही सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह हमारे समय बचत करता है क्योंकि समय हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है समय एक ऐसी अमूल्य चीज है जो किसी के लिए नहीं रुकती.

इसलिए यदि हमें किसी चीज से समय बच रही है तो वह हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है.

इस कोर्स सभी स्टैंडर्ड के विद्यार्थी कर सकते हैं चाहे वह आर्ट्स से हो या कॉमर्स से हो या साइंस से हो क्योंकि आज की जनरेशन में किसी भी विषय से पढ़ाई कर 12वीं पास करने के बाद टैली करने के दौरान हम किसी भी डिपार्टमेंट में काम कर सकते हैं.

टैली कैसे सीखे? 

हर एक कैंडिडेट जो टैली सीखने में  इच्छुक रहते हैं वे दो तरीके से कोर्स को कंप्लीट कर सकते हैं पहला ऑनलाइन कोर्स दूसरा ऑफलाइन कोर्स.

 टैली सॉफ्टवेयर ऑनलाइन कोर्स

कुछ ऐसे कैंडिडेट होते हैं जो ऑनलाइन कोर्स द्वारा टैली सॉफ्टवेयर की पढ़ाई को कंप्लीट करते हैं.

यदि आप भी इसको ऑनलाइन द्वारा सीखना चाहते हैं तो कुछ बातें ध्यान में रखने की जरूरत है जैसे यदि आपकी कोर्स कंप्लीट हो चुकी है तो आपको उस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के द्वारा एक सर्टिफिकेट प्रदान किया जाएगा और वह सर्टिफिकेट ग्लोबली रूप में माननीय होनी चाहिए.

इन सभी को ध्यान में रखते हुए आप अपने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म को यूज़ करके टैली की पढ़ाई करें.

यदि आप टैली कंप्लीट करने के दौरान किसी भी डिपार्टमेंट या आप कंपनी में जाते हैं तो इंटरव्यू के दौरान आपको इस कोर्स का कंप्लीट किए हुए सर्टिफिकेट को दिखाना होता है.

उस टाइम आपके सर्टिफिकेट में यह देखा जाता है कि यह ग्लोबली रूप से मान्यता प्राप्त है या नहीं.

टैली सॉफ्टवेयर ऑफलाइन कोर्स

कुछ ऐसे कैंडिडेट होते हैं जो ऑफलाइन कोर्स के द्वारा अपने टैली कोर्स को सीखते हैं.

यदि आप भी ऑफलाइन कोर्स को सीखना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले एक इंस्टिट्यूट की जरूरत होगी जिसमें आप उस एरिया के सबसे प्रसिद्ध इंस्टिट्यूट में जाकर टैली सीखे.

इससे टैली सीखने की हर प्रक्रिया आप अच्छी तरीके से सीख सकते हैं.

इसके साथ आपको सर्टिफिकेट की भी कोई  इसु नहीं होगी प्रसिद्ध इंस्टिट्यूट किसी चीज का डर नहीं होता और आपको मान्यता प्राप्त डिफिकेट भी मिलेगी इसकी कोई संकोच भी नहीं रहती.

आपको अपने टाइम के अनुसार यदि टैली सीखनी है तो आप ऑफलाइन इंस्टिट्यूट में आसानी पूर्वक सीख सकते हैं यदि आपको एक महीना के अंदर सीखना है तो वहां आपको एक महीना के अंदर ही सिखा दिया जाएगा.

टैली कितने दिन का कोर्स होता है? 

टैली कोर्स को कंप्लीट कराना इंस्टिट्यूट पर आधारित होता है यदि वह चाय तो आपको 1 महीने में सिखा सकते हैं या 2 महीने में या फिर 3 महीने में.

भारत में मुख्यता कोर्स 3 महीने की होती है जिसमें उन्हें पहले मैंने में एकाउंटिंग की बेसिक चीजों के बारे में जानकारी बताई जाती है.

दूसरे महीने और तीसरे महीने में टैली सॉफ्टवेयर की सारी टॉपिको को बताया जाता है जो  बहुत ही महत्वपूर्ण होता है जीएसटी, पैरोल, कंप्यूटराइज्ड अकाउंटिंग इत्यादि.

टैली की फीस क्या होती है? 

फीस इस बात पर निर्भर करती है कि आप कौन से इंस्टिट्यूट से टैली की पढ़ाई कर रहे हैं.

यदि आप फेमस इंस्टिट्यूट से टैली को सीख रहे हैं तो वहां पर आपकी चार्ज 6000 लगेंगे वहीं अगर आप एवरेज फिक्स में टैली सीखना चाहते हैं तो 3000 से 6000 के बीच लगेगी.

अतः कोर्स की फीस इंस्टिट्यूट पर आधारित होती है एरिया पर स्थित है यदि फेमस एरिया पर स्थित है.

टैली में सैलरी क्या है? 

यह खासकर अकाउंटेंट के लिए बहुत ही आवश्यक है और ज्यादातर टैली एक अकाउंटेंट ही सीखता है.

इसकी जानकारी रखना भी बहुत ही आवश्यक है क्योंकि बिना इस के वे कोई भी डिपार्टमेंट में काम नहीं कर सकते.

इसकी सैलरी अकाउंटेंट के एक्सपीरियंस पर आधारित है क्योंकि जो अकाउंटेंट इस सॉफ्टवेयर में ज्यादा एक्सपीरियंस है तो उनकी सैलरी 25,000 से 30,000 तक होती है .

वहीं दूसरी ओर यदि अकाउंटेंट टैली में ज्यादा एक्सपीरियंस नहीं है 10,000 से 20,000 तक की होती है.

निष्कर्ष 

टैली इतनी महत्वपूर्ण है की इसी के कार्य के अनुसार सैलरी भी दी जाती है इसलिए एली को सीखना बहुत ही आवश्यक है.

हम उम्मीद करते हैं की आपको समझ में आ गया होगा की टैली कैसे सीखें?

आशा है आपको हमारे बहुत ही पसंद आया हो यदि आपको पसंद आया हो तो आप इसे दोस्तों में जरूर शेयर करें.

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment

×