आवासीय प्रमाण पत्र कैसे बनायें?

कई ऐसे मौके होते हैं जब आपको आवासीय पत्र की जरुरत पड़ती है. इसीलिए आप भी ये जानना चाहते होंगे की Residential Certificate यानि की आवासीय प्रमाण पत्र कैसे बनायें?

आज के समय मे सभी लोगो को रहने के लिए आवास की आवश्यकता होती है.

आवासीय प्रमाण पत्र का उपयोग कई मायनों मे जरुरी है. आप कहाँ रहते हैं ये प्रमाण बताने के लिए रेजिडेंशियल सर्टिफिकेट का उपयोग आवश्यक होता है.

इस प्रमाण को कई राज्यों मे मूल निवास प्रमाण पत्र भी कहा जाता है.

इसका इस्तेमाल कई जगहों में किसी भी परिचय व प्रुफ के तौर पर भी बताया जा सकता है.

आपको इस लेख मे माध्यम से रेजिडेंशियल सर्टिफिकेट कैसे बना सकते हैं इस के बारे मे बताया जाएगा.

अतः आप इस लेख को अंत तक पढे ताकि आपको इसके बारे मे पूरी जानकारी मिल सके.

आवास प्रमाण पत्र क्या है – What is residential certificate in Hindi?

देश के सभी लोगो के लिए यह एक ऐसा दस्तावेज़ है जो किसी भी सरकारी कार्यो मे काफी आवश्यक होता है, इसके बिना कोई कार्य नही होता.

अगर आप कोई विद्यार्थी है ओर किसी स्कूल या संस्थान मे दाख़िला लेना चाहता है तो उस स्थिति मे इस प्रमाण की जरुरत पड़ती है.

चाहे आप किसी भी सरकारी योजना या फायदे के अनुसार आवेदन करते है तो उस स्थिति मे आपको निवास को प्रमाणित करने वाले दस्तावेज को भी आवेदन पत्र के साथ लगाने की आवश्यकता होती है.

आमतौर पर देखा जाये तो यह एक आधिकारिक दस्तावेज है जिसका उपयोग यह साबित करने के लिए किया जा सकता है कि कोई व्यक्ति किसी विशेष राज्य / केंद्र शासित प्रदेश का निवासी है.

यह प्रमाणित करने के लिए इस दस्तावेज को संबंधित राज्य सरकार / केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन द्वारा जारी किया गया है.

यह एक ऐसा दस्तावेज का पेपर है जो लोगों को अपने संबंधित राज्यों में शांति से रहने की अनुमति देता है, जिससे उन्हें सरकार के जरिये दी जाने वाली सभी जरुरी सेवाओं का उपयोग करने की अनुमति मिलती है.

यह दस्तावेज सरकार के द्वारा हर जाति, श्रेणी या समूह के लोगों को आवेदन कर जाती है.

यह ध्यान रखना काफी जरुरी है की जब एक महिला की शादी किसी भी राज्य के एक स्थायी निवासी पुरुष से होती है तो महिला भी अब शादी के बाद उसी राज्य की प्रमाण हासिल करने के योग्य हो जाती है.

इस प्रमाण पत्र का उपयोग राज्य में मिलने वाले छात्रवृत्ति योजनाओं के लाभ उठाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

मूल निवास प्रमाण पत्र बनाने के लिए आवश्यक दस्तावेज़

देश के हर राज्य मे मूल निवास बनने या आवासीय प्रमाण पत्र बनाने के लिए आपको कुछ आवश्यक दस्तावेज़ों की आवश्यकता पडती है जो की निम्न है एवं यह दस्तावेज़ जरूरी भी है.

आवेदन पत्र

आवेदन को मूल निवास प्रमाण पत्र बनाने से पहले एक आवेदन पत्र की आवश्यकता होती है जिसे आप अपने राज्य की आधिकारिक वैबसाईट से या किसी भी तहसील कार्यालय से प्राप्त कर सकते है.

इस फार्म मे आपको संपूर्ण जानकारी भर के इस पर दो गवाहों के हस्ताक्षर करवाने होते है.

दो नये फोटो

आवेदन को अपने आवेदन पत्र पर दो फोटो लगाने की आवश्यकता होती है, यह फोटो 6 माह पुराने नही होने चाहिए। 

राशन कार्ड

आवेदक जिसको आवासीय प्रमाण पत्र बनाना है उसको अपने फार्म के साथ राशन कार्ड की एक प्रति भी लगानी होती है जिसमे आपका व परिवार का पता दर्ज होना चाहिए। 

आधार कार्ड

आवेदन को अपने आवेदन पत्र की एक फोटो प्रति भी आवेदन पत्र के साथ लगानी होती है जो की काफी जरूरी होती है एवं इस आधार कार्ड पर भी आपका फोटो व पता सही अंकित होना चाहिए। 

बिजली बिल

आवेदक को अपने आवेदन पत्र के साथ अपने लाईट का बिल भी लगाना होता है जो की आपके पते को प्रमाणिक करेगा। 

घर मे किसी का बना हुआ आवासीय प्रमाण पत्र

अगर आपके घर मे पूर्व मे किसी का रहने का स्थानीय प्रमाण पत्र बना हुआ है तो आपको उसे अपने इस आवेदन पत्र के साथ लगाना होगा.

जिससे की आपका ये सर्टिफिकेट जल्दी से बन जाये.

अगर आपके परिवार के किसी भी सदस्य का पूर्व मे प्रमाण पत्र नही बना हुआ है तो उस स्थिति मे कोई दिक्कत नही होगी क्योंकि यह जरूरी दस्तावेज़ों मे शामिल नही है.

आवासीय प्रमाण पत्र क्यो जरूरी है?

आप को ये जरूर मालूम होना चाहिए की ये सर्टिफिकेट की क्यो आवश्यकता पड़ती है इसके बारे मे आपको आगे बताने जा रहे हैं.

  • रेजिडेंशियल सर्टिफिकेट की आवश्यकता देश व राज्य मे किसी भी सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करने के लिए या किसी भी योजना का लाभ लेने के लिए पड़ती है.
  • अगर आपके पास आवासीय प्रमाण पत्र या मूल निवास प्रमाण पत्र है तो उसे आप किसी भी आवेदन पत्र के लिए इस्तेमाल कर सकते है.
  • आय प्रमाण पत्र बनवाने के लिए भी इस प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती ही है.
  • किसी भी आवेदन प्रमाण पत्र जहा आपके आवास का प्रमाण मांगते है वहा आप इस प्रमाण पत्र का उपयोग कर सकते है.
  • केन्द्र सरकार द्वारा लागू ‘‘प्रधानमंत्री आवास योजना’’ मे आवेदन करने के साथ ही आप इस प्रमाण पत्र का उपयोग कर सकते है जिससे आपको इस योजना का लाभ आसानी से मिल सकता है.
  • आवासीय प्रमाण पत्र हर प्रकार के कार्य को पूरी करने के लिए एक आवश्यक दस्तावेज के रूप मे कार्य करता है.

अगर आप आय को प्रमाणित करने वाले इनकम सर्टिफिकेट को बनाने के तरीके के बारे जानना चाहते हैं तो आय प्रमाण पत्र कैसे बनाये ये जरूर पढ़ें.

आवासीय प्रमाण पत्र कैसे बनाएं?

आपको इस लेख के माध्यम से हम एक उदाहरण के तौर पर एक राज्य राजस्थान मे किस प्रकार आवेदन करते है, उसके बारे मे बताया जा रहा है.

सामान्यतः सब राज्य मे एक समान ही प्रक्रिया होती है.

Step 1

सर्वप्रथम आपको राजस्थान राज्य मे आपको अपने नज़दीकी ई-मित्र पर जाना होता जहा आपको अपना आवेदन पत्र जमा करवाना होगा.

अगर आपके राज्य के बारे मे आपको पता करना है तो Google.in मे Domicile Certificate के आगे अपने राज्य का नाम लिख कर सर्च करे तो आपके राज्य की वैबसाईट ओपन हो जाएगी.

Step 2

वहा पर जाने के बाद आपको अपना आवेदन पत्र जमा करवाना होगा और उसके साथ ही जो आवश्यक दस्तावेज़ होते है उनको आवेदन पत्र के साथ जमा करवाने होगे.

Step 3

वहा आपको आवेदन पत्र जमा करवाने के बाद आपको आगामी 3 दिनों मे आपका आवासी प्रमाण पत्र बन जाएगा इसके बाद आप उसे उस ई-मित्र से ही जाकर प्राप्त कर सकते है.

आवासीय प्रमाण पत्र का स्टेटस कैसे चैक करे?

अगर आप राजस्थान मे आवासीय प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करते है तो आपको एक ट्रांजेक्शन नम्बर दिया जाता है जिसकी मदद से आप अपने आवासीय प्रमाण पत्र का स्टेटस चैक कर सकते है:

Step 1 – सर्वप्रथम आपको इस लिंक पर आना होगा.

http://emitra.rajasthan.gov.in/content/emitra/en/GetTransactionStatus.html

Step 2 – इस लिंक पर आने के बाद आपको यहा अपना ट्रांजेक्शन नम्बर डाल कर सर्च पर क्लिक करे जिसके बाद आपको अपना ट्रांजेक्शन का स्टेटस दिख जाएगा.

आवासीय प्रमाण पत्र के लिए शुल्क

वैसे तो राजस्थान मे आवासीय प्रमाण पत्र बनाने के लिए कोई शुल्क नही लिया जाता है.

दूसरे अन्य राज्यों की बात करे तो इसमे आपको उन राज्यों की आधिकारिक वैबसाईट पर जाकर आप चैक कर सकते है. 

निष्कर्ष

सरकार की तरफ से कई प्रकार की सेवाएं प्रदान की जाती हैं जिसके लिए विभिन्न प्रकार के दस्तावेजों की जरुरत पड़ती है.

जिसमे से इनकम और जाति को प्रमाणित करने वाले सर्टिफिकेट शामिल हैं. लेकिन बहुत सारे लोगों को आज भी नहीं मालूम की Residential certificate कैसे बनायें? इसीलिए आज के इस आर्टिकल हमने आपको ये जानकारी दी.

उम्मीद करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा.

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे दसौतों के बाद भी शेयर करें.

प्रश्न 1 – आवासीय प्रमाण पत्र क्या है ?

उत्तर – अगर आप किसी भी सरकारी योजना या फायदे के अनुसार आवेदन करते है तो उस स्थिति मे आपको मूल निवास भी आवेदन पत्र के साथ लगाने की आवश्यकता होती है वहा पर आप अपना आवासीय प्रमाण पत्र भी लगा सकते है।

प्रश्न 2 – Residential certificate का क्या चार्ज है ?

उत्तर – वैसे तो राजस्थान मे आवासीय प्रमाण पत्र बनाने के लिए कोई शुल्क नही लिया जाता है, एवं अन्य राज्यों की बात करे तो इसमे आपको उन राज्यों की आधिकारिक वैबसाईट पर जाकर आप चैक कर सकते है। 

प्रश्न 3 – आवासीय प्रमाण पत्र को और किन किन नामों से जाना जाता है ?

उत्तर – मूल निवास प्रमाण पत्र को ही आवासीय प्रमाण पत्र कहा जाता है। 

प्रश्न 4 – Residential certificate कौन सा विभाग जारी करता है?

उत्तर – आवासीय प्रमाण पत्र राजस्थान मे तहसील कार्यालय जारी करता है.

प्रश्न 5 – Residential certificate क्यो आवश्यक है?

उत्तर – आवासीय प्रमाण पत्र की आवश्यकता देश व राज्य मे किसी भी सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करने के लिए या किसी भी योजना का लाभ लेने के लिए पडती है. अगर आपके पास आवासीय प्रमाण पत्र या मूल निवास प्रमाण पत्र है तो उसे आप किसी भी आवेदन पत्र के लिए इस्तेमाल कर सकते है.

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment