प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना क्या है और इसके फायदे?

नमस्कार दोस्तों. क्या आप प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना के बारे में जानकारी ढूंढ रहे हैं? अगर हाँ, तो आप बिलकुल ठीक जगह पर आये हैं. इस आर्टिकल में हम आपको प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना से जुड़ी हर जानकारी देंगे और वो भी हिंदी में प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना क्या है  (Ujjwala yojana in Hindi). इस आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़ें.

प्राचीन काल में मनुष्य ईधन के रूप में लकड़ी का प्रयोग करता था. इससे कुछ फायदे भी होते थे और कुछ नुक्सान भी. अगर फायदे की बात करें तो वो यह था की लकड़ी कहीं पर भी आसानी से प्राप्त की जा सकती थी. चाहे जंगल हो या रेगिस्तान, मनुष्य अपने भोजन के अनुसार सूखी लकड़ी ढूंढता और उसकी मदद से अपने भोजन को खाने के लिए तैयार करता. लेकिन दूसरी तरफ यदि हम इससे होने वाले नुक्सान की बात करें तो इसका सबसे बड़ा नुक्सान यह था की इससे वायु प्रदूषण होता है.

वायु प्रदुषण बहुत सी बीमारियों को जन्म देता है. इससे अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, निमोनिया, और खांसी जैसी कई समस्याएं होती हैं. अगर हम वायु प्रदूषण से होने वाली मृत्यु की बात करें तो वर्ल्ड हेल्थ ओर्गनइजेशन (WHO) की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2016 में 1,10,000 बच्चों की मृत्यु हुई. यह पिछले पाँच वर्षों में सबसे अधिक है.

इन्ही समस्याओं को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार एक ऐसी योजना हो लायी जिसकी मदद से वायु प्रदूषण को काफी हद तक कम किया जा सके. और इस योजना का नाम था प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना. उज्ज्वला योजना को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने मई, 2016 में लांच किया. यह योजना पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के अंतर्गत आती है. इस योजना के तहत सरकार गरीबी रेखा के नीचे वाले परिवारों को एल.पी.जी कनेक्शन प्रदान करेगी.

pradhanmantri ujjawal kya hai hindi

प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना क्या है – (PMUY) Pradhanmantri Ujjwala Yojana in Hindi

भारत कई हिस्सों में गरीबों को एल.पी.जी सिलिंडर बहुत मुश्किल से मिलता था. और ग्रामीण क्षेत्रों में तो स्थिति और भी दयनीय थी. महिलाओं को चूल्हे पर खाना बनाना पड़ता था जिससे उनके स्वास्थ पर हानिकारक प्रभाव पड़ते थे. वे कई बीमारीओं का शिकार होती थीं. WHO रिपोर्ट के अनुसार हर वर्ष लगभग 5 लाख लोगों की मृत्यु चूल्हे पर खाना  बनाते वक़्त निकलने वाली हानिकारक गैस की वजह से होती थी. इसके अलावा इन हानिकारक गैसों की वजह से हृदय रोग, लंग कैंसर और अस्थमा जैसी जानलेवा बीमारियां होती हैं. कुछ एक्सपर्ट्स के अनुसार एक घंटे में इन गैसों का अनावरण लगभग 400 सिग्रेटे पीने के बराबर होता है.

प्रत्येक घर को एल.पी.जी कनेक्शन दे कर ऐसी बड़ी समस्याओं से छुटकारा दिलाना इस योजना का उद्देश्य है. इससे औरतों को सम्मान भी मिलेगा और वे बीमारियों से भी बच पाएंगी. और तो और इससे ग्रामीण क्षेत्रों में रोज़गार बढ़ेगा.

लाभार्थी

इस योजना के अंतर्गत हर एक बी.पी.एल परिवार को एल.पी.जी कनेक्शन दिया जायेगा . गरीबी रेखा के नीचे की सूची में आने वाले परिवारों का चयन राज्य सरकार के परामर्श से किया जायेगा.

बी.पी.एल परिवार वह परिवार होता है जिसकी आय शहरी क्षेत्र में प्रतिदिन 33.33 रुपये से कम और ग्रामीण क्षेत्र में प्रतिदिन 27.2 रुपये से कम होती है.

वैसे तो लाभार्थियों का चयन आय के आधार पर होगा, लेकिन प्रार्थमिकता SC एवं ST और समाज के पिछड़े वर्गों को दी जाएगी. इस योजना की एक अहम् बात यह है की इसके अंतर्गत नया कनेक्शन केवल औरतों के नाम पर ही दिया जायेगा. यह महिला सशक्तिकरण की ओर एक महत्त्वपूर्ण कदम है.

प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के लिए कैसे आवेदन करें

आखिर उज्जवला योजना के लिए आवेदन कैसे करें? जी इसके आवेदन की प्रक्रिया बहुत ही आसान है आपको इसके लिए टेंशन लेने की बिलकुल भी जरुरत नहीं है. ये खासकर भारतीय महिलाओं को आगे बढाने के लिए शुरू किया गया है ताकि हर महिला सशक्त रहे और अपने परिवार को प्रगति की ओर ले जाये तथा देश का विकास भी हो.

इस योजना के लिए आवेदन करने के दो तरीके हैं.

पहला तरीका तो ये है की आप अपने नज़दीकी एलपीजी केंद्र में जाएँ और वहां से आप आवेदन करने के लिए फॉर्म मांग सकते हैं. एलपीजी आवेदन  प्रयोग होने वाला आवेदन पत्र बिलकुल मुफ्त है.

दूसरा तरीका ये है की आप ऑनलाइन इसके ऑफिसियल वेबसाइट में जाकर इसके फॉर्म को डाउनलोड  हैं. फॉर्म प्राप्त करने के बाद इसके 2 पेज जो भी जानकारी भरनी है उसे भर लें जैसे आधार कार्ड नंबर,नाम, एड्रेस, बैंक खाता नंबर इत्यादि. इसके बाद जरुरत के अनुसार अपनी इच्छा से गैस सिलिंडर कितने वजन का चाहिए वो भी चुन लें. इस में आपको दो तरह के वजन के सिलिंडर मिलते हैं 5किलो और 14 किलो.

PMUY के लिए जरुरी डाक्यूमेंट्स

यहाँ से आप जान लें की आखिर उज्जवला योजना  दस्वावेज आपके पास होना जरुरी है.

  • राशन कार्ड का ज़ेरॉक्स कॉपी
  • क्रेडिट कार्ड या बैंक स्टेटमेंट
  • LIC Policy
  • पहचान पत्र जैसे आधार कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस
  • बिजली का बिल
  • रेजिडेंशियल सर्टिफिकेट
  • पासपोर्ट का कॉपी
  • पासस्पॉर्ट साइज फोटो
  • पंचायत मुखिया द्वारा अधिकृत BPL प्रमाण पत्र

इस योजना के अंतर्गत निम्न वर्गों को भी लाया जायेगा:

  1. प्रधानमंत्री आवास योजना के SC/ST लाभार्थी
  2. अंत्योदय अन्न योजना
  3. जंगलों में रहने वाले लोग
  4. अति पिछड़ा वर्ग
  5. द्वीप पर रहने वाले लोग
  6. नदी के द्वीप पर रहने वाले लोग
  7. चायपत्ती चुनने वाले आदिवासी

कैबिनेट ने इस योजना के अंतर्गत आने वाले लाभार्थियों को बढ़ाया

दिसंबर 2018 में कैबिनेट कमिटी ऑन इकनोमिक अफेयर्स ने इस योजना के अंतर्गत आने वाले लाभार्थियों को बढ़ाने का अहम् निर्णय लिया है. अब नए एल.पी.जी कनेक्शन इन सूचियों में न शामिल किये गए गरीब परिवारों को भी दिया जायेगा. नया कनेक्शन लेने के लिए उन्हें कुछ ज़रूरी दस्तावेज प्रदान करने होंगे.

योजना की अवधि

प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना को तीन वित्तीय वर्षों, 2016-17, 2017-18, और 2018-19 के लिए लागू किया जायेगा.

प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना से जुड़े कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य

  • इस योजना के अंतर्गत नया एल.पी.जी कनेक्शन केवल बी.पी.एल परिवार की महिलाओं के नाम पर दिया जाएगा. इसके तहत उन परिवारों को 1600 रुपये की वित्तीय सहायता दी जाएगी.
  • शुरुआत में सरकार ने इस योजना को शुरू करने के लिए 8,000 करोड़ रुपये की धनराशि आवंटित की जिसका एक अहम् हिस्सा ‘गिव इट अप’ कैंपेन से मिला.
  • सरकार का उद्देश्य तीन वर्षों में 8 करोड़ नए एल.पी.जी कनेक्शन वितरण करने का है और वित्तीय वर्ष 2018-19 तक लगभग 3.78 करोड़ कनेक्शन प्रदान किये जा चुके हैं.
  • प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना से हर वर्ष लगभग 1 लाख लोगों को रोज़गार मिल पायेगा. इससे ‘मेक इन इंडिया’ प्रोजेक्ट को भी बूस्ट मिलेगा क्यूंकि सिलिंडर और चूल्हे के पार्ट्स जैसे की गैस रेगुलेटर, सिलिंडर कैप, स्टोव, गैस पाइप आदि भारत में ही उत्पादित किये जायेंगे और इससे युवाओं को रोज़गार मिलेगा और ग्रामीण क्षेत्रों का विकास होगा.

 

प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना के समविज्ञापन क्या है और क्या महत्व है

कुछ चुनौतियाँ

यह योजना भारत को विकास की सीढ़ीओं पर चढाने के सक्षम है, लेकिन इस योजना के समक्ष कुछ चुनौतियाँ आ सकती हैं. जिनमे से पहली है गैस सिलिंडर को रिफिल करवाने की चुनौती. हालाँकि, सरकार एल.पी.जी कनेक्शन  गरीबों को मुफ्त में देगी लेकिन बढ़ते एल.पी.जी के दामों को देखकर यह कहना बिलकुल भी गलत नहीं होगा की उन परिवारों को सिलिंडर को दोबारा भरवाने में समस्याओं का सामना करना पड़ेगा. दूसरी चुनौती की बात करें तो वो यह है की इस योजना के अंतर्गत बी.पी.एल परिवारों को ही एल.पी.जी कनेक्शन दिया जायेगा और परिवारों का चयन वर्ष 2011 की जनगड़ना के अनुसार किया जायेगा. वर्ष 2011 के बाद और भी कई परिवार बी.पी.एल की सूची में शामिल हुए होंगे और उन तक यह सेवा पहुँचाना सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती हो सकती है. इसके लिए सरकार को नए अभिलेख की ज़रूरत पड़ सकती है.

इसके अलावा ‘भ्रष्टाचार’ भी इस योजना के सफल लांच के लिए एक बड़ी चुनौती है. सिलिंडर डिलीवरी एजेंट्स और एजेंसी सिलिंडर को ब्लैक कर सकते हैं जिससे कई ज़रूरतमंद परिवार इस सेवा से वंचित रह जायेंगे.

इन चुनौतियों से कैसे निपटा जा सकता है?

प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना को एक सफल योजना के लिए सरकार को कुछ बड़े कदम उठाने पड़ेंगे. सरकार को सिलिंडर की डिलीवरी, और बुकिंग की प्रक्रिया को ऑनलाइन और पारदर्शी बनाना चाहिए. इससे भ्रष्टाचार से लड़ने में मदद मिलेगा और ब्लैक में बिक रहे सिलिंडर पर भी काफी हद तक रोक लगेगी. इसके अलावा, सरकार को नए अभिलेख के आधार पर बी.पी.एल परिवारों का चयन करना चाहिए ताकि कोई भी परिवार इस योजना से होने वाले लाभ से वंचित न रह पाए. सरकार को कुछ ऐसी योजनाएं भी लानी चाहिए जिससे की गरीब परिवार काम दामों में अपने गैस सिलिंडर को दोबारा आसानी से रिफिल करवा सकें.

PMUY के फायदे

चलिए जान लेते हैं की इस योजना से हमारे देश में किस तरह के फायदे मिलेंगे.

  • कोयला, लकड़ी, गोबर के उपले का इस्तेमाल नहीं होंगे इस तरह से इन संसाधनों की बचत होगी और इनका इस्तेमाल किसी और काम में हो सकता है. साथ ही पेड़ों की कटाई जो ईंधन प्राप्त करने के लिए की जाती है वो कम हो जायेगा.
  • इन जीवाश्म ईंधन के उपयोग होने से जो हानिकारक धुंआ निकलता है उससे वातावरण दूषित होता है तो इस तरह एलपीजी के उपयोग से हानिकारक धुंआ से सेहत का बचाव होगा.
  • एलपीजी के उपयोग होने से स्त्रियों के साथ साथ पुरे परिवार का स्वास्थ्य बेहतर  रहेगा.
  • धुंआ की वजह से जो मृत्यु दर है वो कम हो जाएगी.
  • दूषित वातावरण की वजह से बच्चों का स्वास्थ्य की खराबी है उसमे भी सुधार  होगा.

अक्सर पूछे  जाने वाले प्रश्न:

  • क्या कोई भी इस योजना का लाभ उठा सकता है?

नहीं, इस योजना का लाभ केवल आर्थिक रूप से पिछड़े लोग ही उठा सकते हैं. नया एल.पी.जी कनेक्शन केवल गरीबी रेखा के निचे की श्रेणी में आने वाले परिवारों को मिलेगा.

  • क्या उज्ज्वला योजना राज्य सरकार की योजना है?

नहीं, उज्ज्वला योजना केंद्रीय सरकार द्वारा शुरू की गयी योजना है. हर राज्य के लोग इस योजना का लाभ उठा सकते हैं.

  • क्या नया एल.पी.जी कनेक्शन केवल महिलाओं के नाम पर ही मिलेगा?

जी हाँ, नया एल.पी.जी कनेक्शन परिवार की महिलाओं के नाम पर ही दिया जायेगा. यह महिला सशक्तिकरण की तरफ एक बड़ा कदम है.

  • प्रधान मंत्री उज्ज्वला  योजना का लाभ कैसे उठाएं?

इस योजना का लाभ उठाने के लिए परिवार की महिला को नए एल.पी.जी कनेक्शन के लिए फॉर्म भर कर अपने नजदीकी एल.पी.जी डिस्ट्रीब्यूटर के पास जमा करना होगा. फॉर्म जमा करते वक़्त अपना पता, जनधन बैंक अकाउंट नंबर और परिवार के सभी सदस्यों का आधार नंबर जमा करना अनिवार्य है. फॉर्म की प्रोसेसिंग होने के बाद आयल मार्केटिंग कम्पनीज (OMC) द्वारा नया कनेक्शन दिया जायेगा.

  • क्या गैस रिफिल करवाने के लिए भुगतान करना होगा?

नया कनेक्शन लेने के बाद सरकार द्वारा आपको सिलिंडर मुफ्त में भरा हुआ दिया जायेगा, लेकिन इसके बाद आपको गैस रिफिल करवाने पर भुगतान खुद ही करना पड़ेगा.

  • एक परिवार को कितने कनेक्शन मिल सकते हैं?

एक परिवार को केवल एक ही एल.पी.जी कनेक्शन मिलेगा.

संक्षेप में

आज के पोस्ट में आपने जाना की प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना क्या है (What is Pradhanmantri Ujjawala Yojana in Hindi).एक भारत सरकार द्वारा शुरू की गयी एक बहुत ही बड़ी और महत्वपूर्ण योजना है. इस योजना के क्या फायदे हैं ये भी इस पोस्ट को पढ़ने से आप समझ ही गए होंगे. इस योजना का लाभ उठाने के लिए  डाक्यूमेंट्स की जरुरत है ये भी आप समझ ही गए होंगे. यह भारत को एक उजले कल की ओर ज़रूर ले जाएगी. इस योजना के तहत हर गरीब परिवार को एल.पी.जी कनेक्शन दिया जायेगा जिससे महिलाओं के स्वास्थ में सुधार होगा. इसके अलावा, इस योजना की बदौलत प्रदूषण काफी हद तक रुकेगा और ट्यूबरक्लोसिस, अस्थमा, पनुयमोनिआ, ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियां रुकेंगी. हो सकता है की इस योजना को शुरूआती दिनों में कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़े, लेकिन एक बार इस योजना केसफल कार्यान्वयन के बाद भारत एक ऐसे मुकाम पर होगा जिस पर पहुँचने का बाकी देश केवल सपना देखते हैं.

दोस्तों, यह आर्टिकल आपको कैसा लगा, ये हमें कमेंट बॉक्स के ज़रिये ज़रूर बताएं. अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे इसे शेयर करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग इस योजना के बारे में जान पाएं और इसका सही लाभ उठा पाएं.हम उम्मीद करते हैं की आपको हमर आर्टिकल प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना हिंदी में – Ujjwala yojana in hindi से कोई मदद तो ज़रूर मिली होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here