NEFT क्या है और ये कैसे काम करता है ?

अगर आप इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं तो NEFT क्या है (What is NEFT in Hindi) और इसमें कितने टाइम लगता है? इस के बारे में जरूर सुना होगा. बैंक से जुड़े हर नियम की जानकारी रखना जरुरी है ताकि आपको अपना काम करने में आसानी हो.

एक वक़्त ऐसा था जब हम सिर्फ पैसों की लेन देन  हाथों से करते थे यहाँ तक की पैसे की जगह सामान से भी बदल लेते थे. ऐसा इसीलिए क्यूंकि करेंसी का अधिक इस्तेमाल नहीं होता था.

लेकिन जब से बैंक का दुनिया में उदय हुआ तब से लोग पैसे को सुरक्षित रखने के लिए इस का इस्तेमाल करने लगे. फिर लोगों के बीच पैसे के लेन  देन  बढ़ने लगी और अब तो लोगों को बैंक भी नहीं जाना पड़ता है. ऐसा इसीलिए क्यूंकि अब इंटरनेट से बैंक का सारा काम आसानी से हो जाता है.

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर के हम अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को घर बैठे ही पैसे भेजते हैं. ऑनलाइन पैसे भेजने के तीन तरीके हैं नेफट, RTGS, और और IMPS. वैसे तो इन सभी तरीकों से हम पैसे भेज सकते हैं लेकिन इन में से आज हम NEFT क्या होता है (What is NEFT in Hindi) ये इस पोस्ट में डिटेल में जानेंगे

NEFT क्या है – What is NEFT in Hindi?

NEFT इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर करने का एक ऐसा तरीका है जिसके माध्यम से किसी बैंक भी बैंक का खाताधारक दूसरे बैंक के खाताधारक को पैसे भेजने की सुविधा देता है. NEFT का फुल फॉर्म National Electronic Funds Transfer होता है जिसे हिंदी में राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण भी बोलते हैं और ये रिज़र्व बैंक  के अंतर्गत काम करता है.

इसकी शुरुआत नवंबर 2005 में  जिसका कार्यभार इंस्टिट्यूट फॉर डेवलपमेंट एंड रिसर्च इन बैंकिंग टेक्नोलॉजी (IDBRT) को सौंपा गया.

भारत में जितने बैंक एनईएफटी enabled हैं उनमे खाताधारक इस सुविधा का इस्तेमाल कर के पैसों का ट्रांसफर बहुत ही आसानी से कर सकते हैं. इसमें इलेक्ट्रॉनिक संदेशों का उपयोग  किया जाता है. RTGS के विपरीत इसमें फण्ड ट्रांसफर रियल टाइम के आधार पर नहीं होता.

ये साप्ताहिक दिनों में  सुबह 8 बजे से शाम 7 :30 बजे के बीच 23 settlement में काम करती है. हर आधे घंटे के बैच के रूप में इसमें फंड ट्रांसफर किया जाता है.

इसे महीने के 1st, 3rd और 5th शनिवार के बीच किया जाता है.

अगर इस समय के बाहर किसी समय में कोई फण्ड ट्रांसफर शुरू किया जाता है तो उस वक़्त ट्रांसफर तो नहीं होगा लेकिन अगले ओपनिंग सेटलमेंट समय में ये फंड ट्रांसफर कम्पलीट होता है.

महीने के दूसरे और चौथे शनिवार के अलावा रविवार और त्योहारों के दिनों में फंड ट्रांसफर नहीं किया जाता है.

इस की सुविधा पुरे देश में 101 बैंकों के 82500 शाखाओं में से 74600 शाखाओं में अवेलेबल है. इसके अलावा जो बैंक इस सुविधा से लैस हैं उन में ऑनलाइन बैंकिंग के माध्यम से उनके वेबसाइट में ये सेवा काम करती है.

इस सेवा काफी अधिक लोकप्रियता हासिल की है इसका मुख्य कारण है की ये समय की बचत करती है और इसमें फंड ट्रांसफर करना आसान है.

इस बात का सबूत ये है की 2008 में जितने में इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर किये गए थे उन में से 42% इसी सेवा द्वारा की गयी थी.

NEFT कैसे काम करता है?

मैं यहाँ आपको इस सुविधा द्वारा होनेवाले फंड ट्रांसफर के बारे step by step बताने  जा रहा हूँ जिससे आप भी इसके वर्किंग प्रोसेसस को आसानी से समझ जायेंगे.

NEFT की सुविधा 2 तरीकों से दी जाती है जिसमे से पहली है ऑनलाइन और दूसरी है ऑफलाइन. ऑफलाइन की बात करे तो कुछ बैंक ऐसे हैं जो इस की सुविधा ATM के द्वारा भी देते हैं.

ऑनलाइन सुविधा के लिए कस्टमर को अपने अकाउंट में ऑनलाइन बैंकिंग activate करना होता है इसके लिए उसे beneficiary detail देने होते हैं जैसे Name, Address, Bank name, Branch name, IFSC Code, Account type, Account Number.

अब कस्टमर द्वारा दिए गए जानकारी को बैंक मैसेज के रूप में तैयार कर के pooling centre भेजता है जिसे NEFT सर्विस सेंटर भी बोला जाता है.

सके बाद pooling सेंटर उस मैसेज को NEFT clearing सेंटर भेजता है जिससे की उसे अगले उपलब्ध बैच के लिए शामिल किया जाये. इसे नेशनल क्लीयरिंग सेल, भारतीय रिज़र्व बैंक मुंबई चलाती है.

क्लीयरिंग सेंटर destination बैंक के अनुसार सभी फंड्स को छांटता है उसके बाद सभी originating बैंक से fund receive कर के destination बैंक को भेजने के लिए receiving entries को तैयार करता है.

फिर pooing सेंटर के द्वारा एक एक कर के destination बैंक को message को forward किया जाता है.

इसके बाद सभी destination बैंक क्लीयरिंग सेंटर से मैसेज रिसीव करता है और पैसे को beneficiary के अकाउंट में क्रेडिट कर देता है.

NEFT fund transfer करने का तरीका

हमने ये पहले ही जाना की NEFT में फंड ट्रांसफर करने का 2 तरीका है जिसमे से एक ऑनलाइन और दूसरा ऑफलाइन है. चलिए एक एक कर के दोनों तरीकों के बारे में जानते हैं  द्वारा फंड ट्रांसफर कैसे किया जाता है.

Online Method

  1. NEFT द्वारा फंड ट्रांसफर करने के लिए इंटरनेट बैंकिंग का active होना जरुरी है. अगर आपके पास इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा नहीं है तो आप बैंक जाकर इसके लिए आवेदन कर सकते हैं. ऑनलाइन फंड ट्रांसफर करने के लिए सबसे पहले हमे अपने बक की वेबसाइट में लॉगिन करना है.
  2. इसके बाद बारी आती है की आप किस beneficiay को फंड ट्रांसफर करना चाहते उसके अकाउंट को add करना.  तो आपको अपने अकाउंट में Add Payee – Add New Beneficiary  में जाकर अपने दोस्त या रिश्तेदार के अकाउंट को add करना है.
  3. अकाउंट add करने पर आपको 30 minutes तक इंतज़ार करना पड़ता है. नया अकाउंट add करने के लिए आपको कुछ जरुरी डिटेल्स की जरुरत पड़ेगी जो मैं आपको यहाँ बता रहा हूँ. Bank Name, Account Number, Name, IFSC Code, Branch Name इत्यादि.
  4.  Add new Payee द्वारा नया beneficiary account जोड़ लेने के बाद थोड़ी देर इंतज़ार करने के बाद अकाउंट approve हो जाता है. अब आपको Fund Transfer में जाना है.
  5. Fund Transfer में जाकर आपको Payee को select करना है और Transfer type चुनना है. Transfer methods में आपको RTGS, NEFT और IMPS के ऑप्शन मिलेंगे आपको इन में से बस NEFT select करना है.
  6. इसके बाद बस आपको अपना amount डालना है और Pay में क्लिक करना है. आपका पैसा आपके नए beneficiary को मिल जाएगी.

Offline Method

अगर आप के पास इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा नहीं है तो आप ऑफलाइन भी NEFT द्वारा फंड ट्रांसफर कर सकते हैं.

  1. ऑफलाइन फंड ट्रांसफर करने के लिए आपको अपने ब्रांच में जाना होगा.
  2. आप जिसे फंड ट्रांसफर करना चाहते हैं उसका नाम,बैंक,ब्रांच का नाम, IFSC code, Account type और account number जैसी details बैंक को देनी होगी.
  3. इसके बाद जितना भी राशि भेजना उस राशि को बताना पड़ता है.
  4. फिर आपको अपने branch वाले बैंक को ये अधिकार देते हैं की वो आपके अकाउंट से उस राशि को debit करे और उस फंड को भेज सके.
  5. इसके बाद सभी जानकारी को फॉर्म में भरकर बैंक आगे का प्रोसेस पूरा कर के fund को beneficiary के अकाउंट में भेज देती है.

NEFT में कितने टाइम लगता है?

इस में पैसे के ट्रांसेक्शन के लिए हर घंटे में कुछ बैच का इस्तेमाल होता है. अगर हम बात करें तो ये 12 बैच जो की सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे तक चलता रहता है. यही शनिवार के दिन सुबह 8 बजे से 1  बजे तक 6 बैच चलते हैं.

NEFT Transaction Charge

आपको ये जानकारी अवश्य जानना चाहिए क्यों की जब भी आप NEFT द्वारा पैसा भेजते हैं तो अलग अलग राशि के अनुसार आपको कुछ fees चार्ज के रूपमे देना पड़ता है. य

े चार्ज आपके द्वारा भेजे जाने वाले beneficiary कोनहि देना होता लेकिन जो भेजने वाला sender होता है उसे इस राशि का भुगतान करना पड़ता है. NEFT transaction के लिए क्या चार्ज देना होता है चलिए इसे जान लेते हैं.

Transaction ChargesNEFT Fees
Amounts Rs.10000 के लिएRs. 2.50 + Applicable GST
Amounts Rs. 10,000 से लेकर Rs 1 लाख तकRs. 5 + Applicable GST
Amounts Rs, 1 लाख से Rs. 2 लाख तकRs.15 + Applicable GST
Amounts Rs 2 लाख से Rs. 5 लाख तकRs. 25 + Applicable GST
Amount Rs 5 लाख से 10 लाख तकRs 25 + Applicable GST

ये चार्जेज फिक्स नहीं होते और ये वक़्त के साथ बदलते रहते हैं. इसीलिए आप जिस भी ब्रांच से NEFT tranaction करना चाहते हैं उसके बारे में चार्जेज पता कर लें.

NEFT के लाभ – Benefit of NEFT in Hindi

Safe and Effective :  ये ऑनलाइन फंड ट्रांसफर करने का बहुत ही आसान और सुरक्षित तरीका है. इसमें आप किसी भी amount को कम समय में अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भेज सकते हैं.

Low Processing Charges: Internet बैंकिंग या NEFT द्वारा किया जाने वाला transaction काफी सुविधा देता है. इसमें flexible payment ऑप्शन दिए जाते हैं जो काफी किफायती होती है.

इस सुविधा का उपयोग करने के लिए आपको अधिक पैसे खर्च करने की जरुरत नहीं पड़ती. इसकी प्रोसेसिंग चार्ज काफी कम होती है और इसके द्वारा आप fund ट्रांसफर काफी आसानी से क्र सकते हैं.

Rapid Settlement : अगर दूसरे transaction तरीकों की बात करें तो NEFT से ट्रांसफर काफी तेज़ गति से होता है. इस में account settlement भी काफी तेज़ी से होता है और इसकी वजह से बिज़नेस से जुड़े हर काम आसानी से ुरे किये जा सकते हैं.

Higly Dependable : NEFT इंटरनेट बैंकिंग में इस्तेमाल होने वाला एक बहुत ही प्रमुख सुविधा है जो लोगों के बीच काफी पॉपुलर हुआ. इससे बैंक पेमेंट और ऑनलाइन फंड ट्रांसफर यानि भेजना और रिसीव करना काफी आसान हो गया.

भारत के सभी बैंक RBI द्वारा संचालित नियमों का पालन करती हैं और इसीलिए ये काफी सुरक्षित माना जाता है.

NEFT के नुक्सान – Disadvantages of NEFT in Hindi

Highly technical : इस तरह की सुविधा की सबसे बड़ी बात ये है की इसका इस्तेमाल करने के लिए कंप्यूटर और इंटरनेट इस्तेमाल करने का ज्ञान होना जरुरी है. यही इस सुविधा के इस्तेमाल में सबसे बड़ी disadvantage है.

हमारे देश में अधिकतर लोग ऐसे हैं जो educated नहीं हैं और बहुत से educated तो हैं लेकिन उन्हें कंप्यूटर और इंटरनेट का ज्ञान नहीं है. इसी वजह से NEFT का प्रयोग करना सबके लिए संभव नहीं है.

The Risk and Fear of Online Payment: वैसे तो अब ऑनलाइन फंड ट्रांसफर को बहुत अधिक सिक्योर और सुरक्षित किया जा चूका है लेकिन जब ये सुविधा आयी थी उस वक़्त इंटरनेट में एंटी सुरक्षा नहीं थी और ऑनलाइन बैंकिंग करने वाले लोगों के मन  में ये डर भी होता था की कोई उनके अकाउंट को एक्सेस न कर ले.

NEFT सुविधा देने वाले बैंक

  • SBI State Bank of India
  • ICICI Bank LTD
  • HDFC
  • Axis Bank
  • Bank of Baroda
  • Syndicate bank
  • Dena Bank
  • Central Bank of India
  • Punjab National bank PNB
  • Union Bank of India

संक्षेप में

इस पोस्ट के माध्यम से आपने ये जाना की आखिर ये NEFT क्या होता है और ये कैसे काम करता है?  मैंने इस विषय से जुडी हर जानकारी को आपके लिए सरल भाषा में बताने की कोशिश की है इसीलिए आप यहाँ ये भी समझ गए होंगे की इसके फायदे और नुक्सान क्या हैं? इस सुविधा का इस्तेमाल कर के बैंक में लाइन लग कर घंटों इंतज़ार करने से बच जाते हैं.

आज बैंकिंग बहुत विकसित हो चूका है और लोगों के हाथों में बहुत सारे विकल्प हैं जिससे की वो अपने पैसे की transaction कर सकते हैं. अब वो चाहे मोबाइल वॉलेट हो या फिर UPI , इंटरनेट बैंकिंग हो या फिर Payment बैंकिंग हमारे हाथों में है की हम कैसे अपने पैसे को ट्रांसफर करते हैं.

मुझे उम्मीद है की आपको NEFT क्या है (What is NEFT in Hindi) इसमें कितने टाइम लगता है?पोस्ट अच्छी लगी होगी .

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ जरुर शेयर करें. हो सकता है उन्हें इस जानकारी की जरुरत हो इसीलिए आप सभी से अनुररोध है की आप इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें। ताकि हमारे ब्लॉग को आगे बढ़ने में मदद मिल सके. अगर आपको किसी भी तरह की doubt हो या फिर कुछ सवाल है तो आप हमे comment के माध्यम से पूछ सकते हैं.

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

31 thoughts on “NEFT क्या है और ये कैसे काम करता है ?”

  1. Wasim bhai maine apna pf online apply kiya tha friday ko pf settle ho gaya tha but abhi tak acount me paisa nahi aya kya problem ho sakta hai settle hone ke kitne din bad ata hai

    Reply
    • Wasim Bhai jankari mila bohut achha laga
      NEFF hone baad kitna din me paisa account me aata hai koi simit samay 10din 20din waise koi pakka samay bata sakte hai kya

      Reply
  2. Maine 8:05 per BOB se Pytm A/C me 1573₹ NEFT kiya. AC se debit hua per PytmA/C Me Credit nahi hua. Kya karen? Kitna wait karen?

    Reply
  3. Muje meri friend ne Neft se paise bheja hai 13 April ko but aj 15 April ho gaya hai par paisa mila nehi….kya karu sir ???

    Reply
  4. Mere frnd ne mujhe 14 sep 2020 ko subha 10baje neft kiya pr ajj 17 sep hogi mujhe abhi tk peyment nahi mili mere bank me

    Reply
  5. MAINE UCO BANK ACCOUNT SE ICICI ME TRANSFER KIYA NEFT DWARA LEKIN 16 GHANTE HO GYE HAI ABHI TAK ICICI ME PAISE NAHI PAHUCHE HAI
    AUR UCO BANK ME DEBIT BATA RAHA HAI KYA KARE

    Reply
  6. Kisi ne agar NEFT se paise transfer kar diye ho tou jis account me transfer kiye h usme aane me kitna time lagega

    Reply

Leave a Comment