Math में 100 मार्क्स कैसे लाएं?

हर बच्चे को पता होता है की पढाई में गणित कितना महत्व रखता है लेकिन हर कोई इस विषय को पढ़ने में अच्छा नहीं होता है. कई बच्चे तो इस विषय का नाम सुनकर ही बहुत अधिक घबराते हैं. लेकिन जो सामान्य होते हैं वो जरूर इच्छा रखते हैं ये जानने की कोशिश करते हैं की मैथ में टॉपर कैसे बने?

वैसे कहूं तो गणित में 100 अंक कैसे लाये इसका जवाब देना कोई बड़ी बात नहीं है. लेकिन इसके लिए जो कड़ी मेहनत करनी पड़ती है वो ज्यादा जरुरी है. इसके लिए हर प्रकार का गणित से जुड़े फार्मूला याद रखना जरुरी है और इसका प्रतिदिन अभ्यास करना भी जरुरी है. सबसे ज्यादा जरुरी जो चीज़ है वो है इस विषय में रूचि पैदा करना लेकिन मैथ में इंटरेस्ट कैसे बनाये ये बहुत जरुरी है.

इस लेख में हम आपको बताएँगे की अपने गणित को कैसे स्ट्रांग बनायें ताकि आप भी गणित विषय में टोपर बन सकें. आपको ये तो पता ही होगा की गणित सीखना और इस के सवालों को हल करने के कई तरीके होते हैं और अलग अलग लोग इसके सवालों का अपने ही तरीके से हल करते हैं. हम आपको यहाँ पर वो सभी तरीके बताएँगे जिससे की आप गणित में टॉपर बन सकेंगे. तो चलिए अब जान लेते हैं की मैथ में 100 मार्क्स कैसे लाएं?

मैथ में टॉपर कैसे बने?

math me topper kaise bane

गणित बनाने का मतलब सिर्फ यह नहीं है कि आप अपने सवालों के जवाब फॉर्मूला याद कर के दे दिए. आपको यह समझना जरूरी है कि आप जो चीज पढ़ रहे हैं वह किस बारे में है और इससे आपके जीवन पर क्या फायदा हो सकता है.

गणित के जो कैलकुलेशन है वह हमारी वास्तविक जिंदगी में भी कई जगह काम आते हैं. इसका सबसे साधारण सा उदाहरण है कि हमारा जो घर बना हुआ होता है उसके पहले जमीन की नपाई की जाती है तब जाकर विभिन्न आकार के कमरों को बनाया जाता है.

कमरों की संख्या कितनी होगी यह पूरे क्षेत्रफल पर निर्भर करता है यानी कि जितनी जमीन हमारे पास उपलब्ध है उस पर निर्भर करता है.

टॉपर बनना इतना भी आसान नहीं होता है इसके लिए आपको कठिन परिश्रम करना पड़ता है लेकिन आज के समय में कठिन परिश्रम से ज्यादा जरूरी है स्मार्ट वर्क करना.

आप भी अपने वर्ग या फिर स्कूल में टॉपर बन सके इसके लिए हम आपको यहां पर कुछ तरीके बता रहे हैं तो आपको अपने जीवन में इन सभी तरीकों को अपनाना है और आप भी एक टॉपर के रूप में अपने क्लास में पहचाने जाएंगे.

अगर गणित बारे में विस्तार से जानकारी चाहते हैं तो हमारे लिखे हुए आर्टिकल गणित क्या है जरूर पढ़ें.

1. मैथ के सवालों को खुद हल करें

गणित में एक इंटेलिजेंट स्टूडेंट बनने के लिए आपको अपने किताब के सभी गणित के सवालों को खुद ही हल करना पड़ेगा.

अगर आप अपने शिक्षक पर निर्भर कर रहेंगे तो फिर आपको मैथ सीखने में काफी परेशानी हो सकती है. आप का मैथ का शिक्षक आपके मार्गदर्शन के लिए होता है ना कि आपके सभी सवालों का जवाब देने के लिए.

मैथ के सवाल को हल करने में जहां भी फंस रहे हो वहां पर आप अपने शिक्षक या फिर अपने किसी ऐसे दोस्त की मदद लें जो पहले से गणित को भली-भांति जानते हैं. कभी भी उनसे पूरे सवाल को हल करने के लिए ना बोले.

जब आप खुद आत्मनिर्भर बन जाएंगे आपके लिए हर सवाल एक लक्ष्य के समान होगा और जब आप एक भी सवाल तो खुद करते हैं तो यह आपके आत्मविश्वास को भी बढ़ाता है. गणित को अगर आप समझ चाहते हैं तो यह आपके लिए सबसे आसान विषयों में से एक विषय बनेगा.

इस विषय से प्यार करने लगेंगे और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपके लिए हर सवाल एक लक्ष्य के समान होगा पर इस लक्ष्य को प्राप्त करते ही आप अपने अगले लक्ष्य की तैयारी करेंगे. यही आपके लिए सबसे खुशी वाला काम होगा.

2. फॉर्मूला सीट को स्टडी टेबल के सामने चिपकाए

गणित के सबसे महत्वपूर्ण महत्वपूर्ण इस के फार्मूले होते हैं. इसके अंतर्गत कई प्रकार के Theorem भी होते हैं जो इन फार्मूला को सिद्ध करने में मदद करते हैं.

इन फार्मूला की उत्पत्ति कैसे होती है यह सीखना भी बहुत जरूरी है. एक बार जब आप इनकी उत्पत्ति के बारे में सीख जाते हैं तो फिर आपके लिए सवालों के जवाब भी करना काफी आसान हो जाता है. यह विषय पूरी तरह से सैद्धांतिक और व्यवहारिक इस्तेमाल पर निर्भर करता है.

आपने जो भी चैप्टर शुरू किया हो उसके जितने भी फार्मूले हैं आप अपने स्टडी टेबल के सामने उस से लगा ले. अच्छा यही होगा कि आप एक A3 साइज का पेपर खरीद कर लाए और उस पर सूत्रों को बड़े बड़े आकार में लिखें.

इससे होगा यह कि जब आप इसके सवालों का जवाब करने लगेंगे तो आपको बार-बार फॉर्मूले के पेज को पलट कर देखना नहीं पड़ेगा और बड़े अक्षरों की वजह से आप अपने कुर्सी पर बैठे हुए दीवार पर चिपके हुए पर मिलो को आसानी से बढ़कर इस्तेमाल कर सकेंगे. इस बात को गांठ बांध लीजिए कि आपको गणित के सूत्रों को कभी भी रट कर याद नहीं करना है.

जो बच्चे फार्मूला रखते हैं और याद रखने की कोशिश करते हैं उनके लिए इसे भूलना कोई बड़ी बात नहीं है. लेकिन जो बच्चे गणित केफॉर्मूलों को समझ जाते हैं उन्हें इसे रट कर याद नहीं करना पड़ता. बल्कि गणित के सवालों को हल करते हुए फार्मूला खुद ही याद हो जाता है.

3. गणित में कभी भी रट्टा ना लगाएं

गणिती एक ऐसी विषय है जिसमें ढेर सारे फार्मूले होते हैं. अधिकतर बच्चे इन सूत्रों को याद करते हैं. यह बिल्कुल गलत बात है. कभी भी गणित के सूत्रों को रट कर याद ना करें. इसे होगा यह कि आप उस वक्त तो याद कर लेंगे लेकिन कुछ समय बाद उन्हें भूल जाएंगे.

सबसे बेहतरीन उपाय यह है कि आप बार-बार सवालों को हल करें. जैसा कि हमने ऊपर आपको एक फार्मूले फार्मूले को A3 आकार के पेपर में लिखकर दीवार पर चिपकाना है जहां पर आप पढ़ते हैं. अब जितनी बार सवालों को हल करेंगे उतनी बार इन चित्रों का इस्तेमाल करेंगे और आपको याद करने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि जब आप बार-बार किसी भी सूत्र को इस्तेमाल करते हैं तो यह आपके दिमाग पर अच्छे ढंग से बैठ जाता है.

4. टाइम टेबल बनाकर इस पर विशेष ध्यान दें

जब किसी भी काम को प्लान के साथ किया जाता है तो प्लान फेल होने का बहुत ही कम चांस होता है. चाहे किसी भी प्रकार का क्षेत्र हो और किसी भी प्रकार का काम हो तभी में एक निश्चित प्लानिंग और आइडिया की जरूरत होती है.

जब एक प्लान के अनुसार काम किया जाता है तो प्रत्येक चीजों को ध्यान देकर करना होता है. जिससे किसी भी प्रकार के असफलता के चांसेस कम होते हैं. इसीलिए पढ़ाई के लिए टाइम टेबल बनाना बेहद जरूरी है. स्टडी टाइम टेबल कैसे बनाएं इसके ऊपर हमने पूरी एक आर्टिकल लिख रखी है जिससे आप पहले पढ़ ले.

अगर आपने यह आर्टिकल पढ़ लिया है तो अब चलिए आगे बढ़ते हैं. यह आप पर निर्भर करता है कि आपको इस विषय पर कितना समय देना है. हो सकता है आप गणित में बहुत अच्छे हैं फिर भी आप तो नंबर नहीं ला पाते खैर कोई बात नहीं इस आर्टिकल को पढ़कर आप वह भी ले आएंगे.

लेकिन अगर आप एक सामान्य छात्र हैं जिनके गणित में अंक 60 70 परसेंट होते हैं तुम्हें आपको सलाह दूंगा कि इस विषय पर प्रतिदिन तीन से चार घंटे जरूर लगाएं. जिसमें अधिकतर समय आपको अभ्यास पर देना है. गणित में इसके अलावा पीछे पड़े हुए पाठों का रिवीजन करना भी काफी अहम है.

आप ऐसा जरूर करें कि अपने टाइम टेबल में एक घंटा रिवीजन का रखें और दो से तीन घंटा नए सवालों का अभ्यास करने में लगाएं.

5. गणित में ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस करें

गणित ऐसा विषय है इसमें वही विद्वान हैं जो हर दिन अपना समय इस विषय पर लगाता है. जो इससे दूरी करता है गणित उससे दूर हो जाता है. इसमें आप यहां इतना महत्वपूर्ण है जितना हमारा रोज का खाना खाना. अगर आप प्रतिदिन दो से तीन वक्त का खाना खाते हैं तो जिस तरह यह आपके लिए जरूरी है ठीक उसी प्रकार गणित में आपको अभ्यास करना उतना ही जरूरी है.

जैसे कि ऊपर के पॉइंट में हमने आपको बताया कि गणित विषय के सवालों के अभ्यास में आप रोजाना दो से 3 घंटे जरूर बताएं. अभ्यास आपके गणित को काफी मजबूत बना देगा.

6. सकारात्मक सोच रखें

आपको अपने अंदर एक सकारात्मक सोच रखनी है कि गणित बहुत भारी विषय नहीं है. आप उन लोगों से पूछो जिन्हें गणित बहुत पसंद है वह कहेंगे कि उनका सबसे रूचि वाला जो विषय है वह यही है. इसका यही कारण है कि जो इसे बनाना पसंद करते हैं वह इसमें आनंद उठाते हैं.

जब आप इसी सोच के साथ की गणित आपको भी आनंद देगा आप इसकी पढ़ाई करते हैं तो निश्चित तौर पर आप नए-नए सवालों को हल करेंगे पर जब आप सही-सही इसे पूरा कर लेंगे तो बहुत खुशी मिलेगी. गणित करने वाले इंसान को सकारात्मक होना काफी जरूरी है.

7. प्रतिदिन गणित विषय को पढ़ें

जब आप अपना डेली रूटीन बनाएं तो टाइम टेबल में प्रत्येक दिन इस विषय के लिए अपनी क्षमता के अनुसार समय दें. ऐसा आपको बिल्कुल भी नहीं करना है कि 3 दिन और अगले दिन आपने इस विषय को छोड़ दिया.

या तो बिल्कुल भी नहीं करना है बल्कि आपको किसी भी स्थिति में इस विषय में किसी भी प्रकार का गैप नहीं देना है. हर दिन अपने रूटीन के अनुसार इस विषय को जरूर पढ़ें अन्यथा आपका जो रिदम है वह टूट जाएगा और आप इस विषय को ठीक तरीके से समझ नहीं सकेंगे.

8. गणित के ट्यूटोरियल वीडियोस ऑनलाइन देखें

आप इंटरनेट का इस्तेमाल तो जरूर करते ही होंगे तो आप इसका फायदा और अधिक इस विषय के जरिए उठा सकते हैं. ऑनलाइन कैसे चैनल है जहां पर गणित के विभिन्न टॉपिक के ऊपर लेक्चर दिया जाता है और तरह-तरह के ट्रिक भी सिखाए जाते हैं.

इन वीडियो से आपको एक फायदा यह है कि आपने बार-बार रिपीट करके देख सकते हैं और इनके द्वारा हल किए गए सवालों को काफी अच्छी तरह से समझते हैं

9. गणित के विषय में दोस्तों से डिस्कशन करें

अपने सभी दोस्तों के साथ में गणित से जुड़े सवालों के बारे में डिस्कस करने की कोशिश करें. सभी आपके क्लासमेट हैं तो आप जो पढ़ रहे होंगे वह भी वही पढ़ रहे होंगे. इनके विभिन्न विषयों की जो सूत्र हैं या फिर सवाल है अगर आपको कहीं समझ में नहीं आ रहा तो उनके साथ जाकर उस सवाल को डिस्टर्ब करें.

हो सकता है आपके दोस्तों में से किसी एक को उस सवाल को आसानी से समझ में आ गया हो और वह आपको भी समझा दे.

निष्कर्ष

गणित में 100 मार्क्स लाना बहुत बड़ी बात नहीं है. उनके लिए जो लेकिन यह उनके लिए है जो रेगुलर पढ़ाई करते हैं. हर बच्चा चाहता है कि वह अपने क्लास में 100 में से 100 नंबर लाए ताकि घर वाले भी खुश रहें और उनकी सोसाइटी में भी नाम हो हो

गणित में इंटेलिजेंट बनने के लिए आपको इसमें समय देना पड़ेगा. लेकिन इसके पहले आपको इस विषय में अपना इंटरेस्ट भी बनाना पड़ेगा. जब आप मार देंगे से रेगुलर ली पढ़ने लगेंगे तो आपको इसमें रूचि जरूर जाग जाएगी.

इस लेख के माध्यम से हमने आपको मैथ समझने का तरीका क्या है आसान शब्दों में बताया. हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह लेख मैथ में टॉपर कैसे बने भली-भांति समझ में आ गई होगी. कल आप भी तैयारी करके अपने क्लास में जरूर टॉपर बनेंगे. अगर यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here