LPG Price Hike: महंगा हुआ रसोई गैस और CNG, फटाफट चेक करें और जाने नए भाव

हमारे जीवित रहने में वायु के बाद योगदान देने वाला सर्वाधिक महत्वपूर्ण भोजन ही है और भोजन तैयार करने के लिए ईंधन के रूप में हम एलपीजी सिलिंडर गैस का उपयोग करते हैं. लेकिन इसकी दामों में बढ़ोतरी एक चिंता करने वाला विषय है और इस आर्टिकल में हम आपको LPG Price Hike की जानकारी देने जा रहे हैं.

इतना सब पढ़ने के पश्चात हमें इस बात का पूर्ण विश्वास है कि हमारे इस आर्टिकल में क्या है, इसके विषय में आपको थोड़ा-थोड़ा मालूम होना शुरू हो गया होगा.

आज के इस आर्टिकल में हम आप सभी लोगों के साथ एलपीजी गैस सिलेंडर के प्राइस हाइक टुडे के विषय में आवश्यक जानकारियां साझा करने वाले हैं. 

अगर आपके भी घर में एलपीजी गैस सिलेंडर कनेक्शन है. तो आपके लिए यह बहुत ज्यादा जरूरी है.

आप हमारे इस आर्टिकल के साथ आखिर तक जुड़े रहे हैं. जिससे कि आपको संबंधित हर एक जानकारी की प्राप्ति हो सके.

एलपीजी प्राइस हाइक टुडे:

गैस वितरण कंपनी ने इस बात की पुष्टि कर दी है, कि सरकार ने 1 अक्टूबर से गैस कीमतों में 40% तक की वृद्धि कर दी है. जिसके परिणाम स्वरूप उसे यह कदम उठाने हेतू विवश होना पड़ रहा है.

मुंबई में पाइप के माध्यम से आपूर्ति की जाने वाली रसोई गैस, सीएनजी गैस की कीमतों में ₹4 प्रति यूनिट एसपीएम की वृद्धि की गई है.

इसके अतिरिक्त सीएनजी के मूल्य में भी ₹6 प्रति किलो के हिसाब से बढ़ा दिया गया है. 

इस बात का अनुमान हमें है, कि इस वृद्धि से आम व्यक्ति का जीवन कितना अधिक प्रभावित होने वाला है.

आज के इस पोस्ट में हम आप लोगों को इससे संबंधित हर एक जानकारी विस्तारपूर्वक बताएंगे. तो आपको चिंतित होने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है. 

त्योहारों के समय में आम लोगों को महंगाई का झटका लगने वाला है. यह झटका लग चुका है, मुंबई में सीएनजी और पीएनजी के भाव में बहुत ही तेजी से वृद्धि देखने को मिल रही है.

वास्तविकता में सरकारी कंपनियों ने नेचुरल गैस की कीमतों में 40% तक की रिकॉर्ड बढ़त कर दी है.

जिसके पश्चात सीएनजी एवं पीएनजी की कीमतों में बहुत ही तेजी से वृद्धि दिखाई दे रही है.

मुंबई के पश्चात संभावना इस बात की बहुत ही अधिक प्रबल है, कि दिल्ली सहित अन्य शहरों में भी सीएनजी तथा पीएनजी के भाव में वृद्धि देखने को मिल सकती है.

मुंबई में बढ़े सीएनजी एवं पीएनबी के मूल्य:

महानगर गैस लिमिटेड अर्थात एमजीएल ने सीएनजी के मूल्य में ₹6 प्रति किलो के हिसाब से वृद्धि कर दी है.

पाइप के माध्यम से आपूर्ति किए जाने वाले रसोई गैस सीएनजी की कीमतों में भी ₹4 प्रति यूनिट एसपीएम की वृद्धि की जा चुकी है.

आपको बता दें कि इन नए मूल्यों को सोमवार मध्य रात्रि से ही लागू कर दिया जाने वाला था.

इसके साथ-साथ मुंबई तथा आसपास के क्षेत्र में भी वाहनों में इंधन के स्वरूप में इस्तेमाल किए जाने वाले कंप्रेस्ड नेचुरल गैस अर्थात सीएनजी का खुदरा दाम भी बढ़ कर के ₹86 प्रति किलो हो चुका है.

वही कंप्रेस्ड नेचुरल गैस के मूल्यों की यदि बात की जाए. तो इसके मूल्य में 52.50 रुपए प्रति एस सी एम हो चुका है.

एमजीएल ने इस बात की पुष्टि की है, कि इस बढ़ोतरी के पश्चात सीएनजी तथा पेट्रोल के मध्य में मूल्य बजट घटकर के 45% तक ही रह जाएगा.

भले ही पीएनजी तथा एलपीजी के मध्य में या अंतर केवल और केवल 11% ही चुका है. कंपनी ने इस बात की पुष्टि कर दी है, कि सरकार ने 1 अक्टूबर से गैस कीमतों में 40% तक की बढ़ोतरी कर दी है.

जिसके परिणाम स्वरूप उसे यह कदम उठाने हेतु विवश होना पड़ रहा है. 

प्राकृतिक गैस की कीमतें 40% बढ़ चुकी:

पेट्रोलियम मंत्रालय के अंतर्गत पेट्रोलियम मूल्य तथा विश्लेषण प्रकोष्ठ ने 30 सितंबर को 1 अक्टूबर से अगले महीने के वास्ते घरेलू स्तर पर उत्पादित गैस की कीमतों में 40% तक की भारी वृद्धि करने की घोषणा कर दी है.

इससे पूर्व भी 1 अप्रैल को अंतर्राष्ट्रीय कीमतों का गैस के मूल्य पर 110% तक की वृद्धि कर दी गई थी.

सरकार साल में दो बार 1 अप्रैल तथा 30 सितंबर को गैस के मूल्य में संशोधन किया करती है. गैस के मूल्य में बढ़त के साथ शहरों में गैस का वितरण करने वाली कंपनियों की लागत में भी वृद्धि हुई है.

जिससे कि इसका हिस्सा ग्राहकों पर डालना पड़ रहा है.

ये सब यदि सरल शब्दों में कहा जाए तो इस बोझ का भार इतना अधिक है, कि इसका वाहन कंपनियां अकेले नहीं उठा पा रही है और परिणाम स्वरूप इसने इसके भार को आम जनता के कंधों पर भी लाद दिया है.

हालांकि यह बात अलग है, कि इस महंगाई भरे दौर में सभी लोग इस परिवर्तन से पूरी तरह से नाखुश है. 

पुनः प्रारंभ कर दी जाएगी सब्सिडी:

अगर आप भी एक गैस सिलेंडर कनेक्शन धारक है, तो इस बात से आप पूरी तरह से अवगत होंगे, कि गैस सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी को बंद कर दिया गया था.

जिसके कारण की बात करें तो करोना काल के प्रारंभ में ही इस सब्सिडी को बंद कर दिया गया था. 

लेकिन अगर मीडिया रिपोर्टों की मानें तो अगले साल अर्थात 2023 में यह सब्सिडी को पुनः से प्रारंभ कर दिया जाएगा. जब से यह बात लोगों के समक्ष आ रही है.

तब से वे अत्यंत प्रसन्न है. किंतु अब एलपीजी गैस सिलेंडर पर बढ़ती कीमतों से यह अत्यंत चिंता का विषय बन चुका है.

निष्कर्ष:

आज के आर्टिकल में हम आप सभी प्रिय पाठकों का तहे दिल से धन्यवाद करते हैं.जो आपने हमारे इस आर्टिकल को आखिरी तक पढ़ा.

इस आर्टिकल में हमने एलपीजी गैस सिलेंडर की बढ़ती कीमतों के विषय में आवश्यक जानकारियां उपलब्ध कराई है. हम आशा करते हैं, कि हमारा यह प्रयास आपको बहुत ही ज्यादा पसंद आया होगा.

Ahmed Ruhul Amin

हिंदी भाषा के माध्यम से सरकारी योजना, परीक्षा, नौकरी, तकनीक और ट्रेंडिंग जानकारी लिखना मुझे बहुत पसंद है.

Leave a Comment