Khadya Suraksha Yojana :19 लाख लोगों को राशन का गेहूं मिलेगा, खर्च राज्य सरकार देगी, 5 लाख के लिए बनेगी नई कैटेगरी

नमस्कार , आप सभी पाठकों का हमारे इस आर्टिकल में स्वागत है। आज का हमारे आर्टिकल बहुत  खास होने वाला है। क्योंकि इस आर्टिकल के माध्यम से हम आज आप सभी पाठकों के साथ एक बहुत से ज्यादा महत्वपूर्ण विषय में चर्चा करने वाले हैं। 

यदि उस विषय के विषय में बात करें तो यह विषय है खाद्य सुरक्षा योजना। अपनी जानकारी के लिए हम आपको बता दे कि अभी तक खाद्य सुरक्षा योजना के तहत आवेदन करने वालों की संख्या लाखों तक पहुंच चुकी है और अभी तक इन्हें अप्रूव नहीं किया गया है। 

इससे संबंधित सभी जानकारी हमारे इस आर्टिकल के माध्यम से आप सभी के साथ साझा करने वाले हैं। इसके लिए अत्यावश्यक है कि आप हमारे इस आर्टिकल को आखिर तक अवश्य पढ़ें। क्योंकि इस आर्टिकल के माध्यम से हमने खाद्य सुरक्षा योजना से संबंधित जानकारियां प्रदान की है। 

खाद्य सुरक्षा योजना क्या है :- 

खाद्य सुरक्षा योजना के नाम से ही इस बात का स्पष्टीकरण प्राप्त हो जा रही है कि यह खाद्य संबंधित योजना है। इस योजना के तहत लाभार्थियों को गेहूं तथा अन्य अनाज जैसे कि चावल बहुत ही ज्यादा कम मूल्य जरूर प्रदान किए जाने वाले हैं। 

इस योजना के तहत अभी तक लगभग लगभग 19.57 लाख लोगों ने आवेदन किया है। किंतु इस योजना के तहत लाभार्थियों की संख्या सुनिश्चित की गई थी जो कि 15 लाख के आसपास थी। 

आपकी जानकारी के लिए हम आप को इस बात से अवगत करा दें कि खाद्य सुरक्षा योजना में अब नवीन नाम जोड़ने हेतु राज्य सरकार अब एक नई कैटेगरी बनाएगी। जिसमें ऐसे लोगों को सम्मिलित किया जाने वाला है जिन्हें कोरोनावायरस कार के माध्यम से आर्थिक सहायता प्रदान की गई थी। 

किंतु अभी तक इसका निर्णय नहीं किया गया है। यह सभी मीडिया रिपोर्टों के अनुसार प्रदान की गई जानकारियों के अनुरूप बताई जा रही है। किंतु से संबंधित सभी जानकारियों को सीएम स्तर के माध्यम से सभी के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा।  

जाने किनको दूसरी कैटेगरी में शामिल किया जाएगा :-

बात की जाए इस योजना के तहत बनाई जाने वाली दूसरी कैटेगरी की तो इसमें उन लोगों को शामिल किया जाएगा जिन्हें कोरोना काल के समय सरकार के द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की गई थी। फिलहाल तो राज्य सरकार ने बजट में 1000000 नए लोगों को योजना से जोड़कर गेहूं प्रदान करने की घोषणा की थी। 

किंतु जब से इसके वास्ते आवेदन का पोर्टल खोला गया है तब से कोई 19.57 लाख लोगों ने आवेदन कर रखा है। किंतु एक बात कि स्पष्टीकरण हम आपको पहले ही प्राप्त कर प्रदान कर देते हैं कि इस योजना के तहत किए गए आवेदनों को अभी तक अप्रूव नहीं किया गया। 

ये भी अवश्य पढ़ें:

कितने नए लोगों को जोड़ा जाएगा :-

आपकी जानकारी के वास्ते आपको इस बात से अवगत करा दें कि अभी तक केंद्र सरकार के माध्यम से तय की गई सीमा के अनुरूप राज्य सरकार 1500000 लोगों को ही जोड़ के इस योजना के तहत लाभ प्रदान करेगी। 

ऐसे में अब लगभग 500000 लोगों के वास्ते एक नई कैटेगरी का निर्माण किया जाएगा।  इसके लिए खर्च की बात की जाए तो इसका खर्च भी राज्य सरकार ही प्रदान करेगी। 

इस प्रकार जोड़े जाएंगे नाम :-

यदि इस योजना के तहत जोड़े जाने वाले नए नामों की बात की जाए तो इसके वास्ते 32 कैटेगरी में 19,57, 993 आवेदन किए गए थे। अर्थात आवेदन कर्ताओं की संख्या बहुत ही ज्यादा है। 

इस पोर्टल को बंद हुए अब तक कुल 3 महीने हो चुके हैं किंतु अभी तक अंतिम निर्णय नहीं होने की वजह से आवेदनों स्क्रूटनी भी नहीं हो पाई है। जानकारी के मुताबिक फाइनेंस विभाग भी को भी इसकी फाइल भेजी गई थी किंतु उसने इसे वापस कर दिया। 

जाने राजस्थान का हाल :-

वर्तमान में राजस्थान में कुल 4 दशमलव 46 करोड लोगों को गेहूं प्रदान किए जाने वाला है। क्योंकि इसके लिए मत निर्धारित की गई थी। जिसमें सभी लगभग 4.26 करोड को इस योजना का लाभ प्रदान किया जा रहा है।  

64 लाख लोग खाद्य सुरक्षा योजना से किए गए बाहर :-

सरकार ने खाद्य सुरक्षा योजना में लोगों को जोड़ने की तैयारी प्रारंभ कर दी है। दूसरी और अब तक प्रदेश के लगभग 6400000 लोगों खाद सुरक्षा योजना से निष्कासित कर दिए गए हैं। अब तक लगभग 83000 सरकारी कर्मचारी भी हटाए जा चुके हैं। स्वयं अपना नाम हटवाने वाले लोगों की संख्या 1.97% लाख है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक इसमें दो पहिया वाहन रखने वाले लोगों को निष्कासित कर दिया जाएगा जिसके लिए जांच की जा रही है। 

जयपुर के साथ चार जिलों में एक लाख से ज्यादा आवेदक :-

जयपुर के साथ-साथ 4 जिलों में 100000 से भी ज्यादा आवेदन खाद्य सुरक्षा योजना में नाम जुड़वाने हेतु 32 निर्धारित की गई थी। आवेदन करने वाले 85% से भी ज्यादा ग्रामीण क्षेत्रों से संबंधित है। 

ग्रामीण क्षेत्रों में सर्वाधिक फॉर्म लघु कृषक कैटेगरी से आए हैं।city क्षेत्रों में श्रमिक सबसे ज्यादा है। अजमेर में 65184, अलवर में 86979, बांसवाड़ा में 40723, बारां में 28276, बाड़मेर में 112572, भरतपुर में 85294, भीलवाड़ा में 84148, बीकानेर में 75026, बूंदी में 41842 आवेदन आए हैं। 

जाने क्या कहा खाद्य मंत्री , प्रताप सिंह खाचरियावास :-

इस परिस्थिति में खाद्य मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा है कि “काेराेना काल में जिन लाेगाें काे राज्य सरकार ने आर्थिक मदद पहुंचाई, उनकी भी एक कैटेगरी बनाई जा सकती है। जितने आवेदन आए हैं, हम सभी काे गेहूं देना चाहते हैं। क्याेंकि जरूरतमंद है इसीलिए ताे आवेदन किया है। सीएम स्तर पर निर्णय लिया जाएगा।”

निष्कर्ष :-

आज के हमारे इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको खाद्य सुरक्षा योजना से संबंधित बहुत सारी मूलभूत जानकारियां प्रदान की है। हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा प्रदान की गई है सभी जानकारियां आपको बहुत ही ज्यादा पसंद आई होगी। यदि आप हमसे कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं अथवा हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं तो क्या कार्य आप कमेंट के द्वारा आसानी से कर सकते हैं। 

लाभदायक पोस्ट पढ़ें


Important Links

WTechni HomeClick Here
Other postsClick Here
Join Telegram ChannelClick Here

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment

×