Insurance क्या है और कितने प्रकार के होते हैं?

क्या आपने अभी तक कोई बीमा नहीं किया है तो जरूर करा लें और अगर आपको नहीं मालूम की बिमा क्या है (What is insurance in Hindi) और क्यों जरुरी है तो आज की पोस्ट इसी के बारे में है जहाँ हम जानेंगे की इन्सुरेंस कितने प्रकार के होते हैं. जीवन का क्या भरोसा आज है और कल नहीं इसीलिए हर इंसान को इतना इंतज़ाम करना बहुत जरुरी है ताकि अगर आने वाले समय में स्वास्थ्य, दुर्घटना और मृत्यु होने पर पीछे परिवार को परेशानी का सामना ना करना पड़े. आपने अक्सर अपने टीवी पर इन्सुरेंस का प्रचार करने वाले विज्ञापन देखें होंगे लेकिन क्या ये विज्ञापन देखने के बाद आपने कभी सोचा की आखिर बीमा/इन्सुरेंस करने के फायदे क्या हैं? हम तो हर रोज़ कई कंपनियों के बारे में सुनते रहते हैं जो अनेक तरह के इन्सुरेंस के बारे में बताते रहते हैं इसीलिए आज हम ये भी अच्छे से समझेंगे की इन्सुरेंस कितने प्रकार के होते हैं.

बिमा करने के अनेक फायदे हैं लेकिन सबसे जरुरी बात ये है की जब आप अपने जीवन काल में किसी भी प्रकार का बीमा करा लेते हैं तो आप टेंशन फ्री हो जाते हैं. बस आपको उनके नियम और शर्तों के अनुसार करना है फिर आपकी जिंदगी में आने वाली कई परेशानियों का समाधान इन्सुरेंस कंपनी कर देती हैं जिसका वो वादा करते हैं. मुझे भी शुरू में लगता था की आखिर ये इन्सुरेंस क्या होता है जिसके पीछे लोग इतने परेशान होते रहते हैं. जो परिवार चलाने वाले लोग होते हैं उन्हें मालूम होता है की परिवार को आरामदायक ज़िन्दगी देना कितना मुश्किल होता है  और जब उसी कमाने वाले आदमी के साथ कुछ बुरा हो जाए तो इसका असर पुरे परिवार पर पड़ता है. परिवार का हर सदस्य इससे प्रभावित होता है पढाई करने वाले बच्चे, अगर कोई शादी लायक बेटी हो तो उसकी शादी करने के लिए एक बार में  सकते बल्कि उसके पैदा होने के तुरंत बाद से उसका बीमा करा दिया जाता है ताकि शादी के वक़्त तक बीमे की रकम अच्छी खासी हो जाये और उसकी शादी की जा सके. हम इस पोस्ट में इन्सुरेंस क्या होता है (what is insurance in hindi)और इसका क्या महत्व है तो जानेंगे ही साथ ही ये भी जानेंगे की इसके कितने प्रकार होते हैं.

इन्सुरेंस क्या है – What is insurance in Hindi

insurance kya hai hindi

इन्सुरेंस एक ऐसी सुविधा है जिसमे बीमा करने वाली कंपनी अपने बीमा धारक को किसी भी प्रकार का नुक्सान, बीमारी , दुर्घटना , मृत्यु के बाद आपको या फिर आपके परिवार के किसी भी मेंबर को बीमा की रकम अदा करने का वादा करती है.

अगर आपने अपने दूकान का बीमा करवाया है और दूकान में किसी तरह से दुर्घटना होकर नुक्सान होता है तो ऐसे में बीमा कंपनी इस नुक्सान का भरपाई करती है. इन्सुरेंस का का मतलब होता है बीमा.

आज की दुनिया काफी तेज़ हो चुकी है इस विकास के दौर में मशीन का महत्व बढ़ता जा रहा है.मशीनों के इस दौर में इंसानो पर खतरा काफी अधिक मंडराता जा रहा है. अधिक गाड़ियों के चलने पर रोड में होने वाले दुर्घटनाओं की भी संख्या भी बढ़ चुकी है. स्वास्थ्य को लेकर भी नहीं कहा जा सकता है किसे कब और कौन सी बीमारी पकड़ ले. आये दिन हम नयी नयी बिमारियों के बारे में जानते हैं जो नए हैं. तो कुल मिलाकर बात ये है की अगर कोई कहता है की वो 60 साल तक जियेगा वो भी बिना परेशानी के तो ये नामुमकिन है. ज़िन्दगी में परेशानियां और मुसीबतें आती रहती हैं इनसे कोई नहीं बचता . ऐसे में जीवन में बीमा का काफी महत्व बन जाता है. अगर घर में कमाने वाला सिर्फ एक आदमी है और परिवार के अन्य सदस्य उस पर निर्भर रहते हैं तो ज़ाहिर है की उस इंसान के जीवन पर बाकी लोगों का भी जीवन और भविष्य निर्भर करता है. रास्ते में चलते हुए दुर्घटना बहुत आम बात ही. या फिर कहे बीमारी का हो जाना  या फिर सबसे बुरी मृत्यु, तो उनके बाद परिवार को अधिक परेशानी का सामना न करना पड़े इसीलिए ये बीमा कंपनियां उस व्यक्ति के रिश्तेदार को मुआवज़ा देकर काफी मदद करते हैं.

जब हम कोई वाहन खरीदने जाते हैं चाहे वो  2 पहिया हो या 4 पहिया हो उसका इन्सुरेंस  कराना भारत सरकार द्वारा अनिवार्य कर दिया गया है. तो जिस भी शोरूम से आप गाड़ी खरीदने जाएँ वो गाड़ी का बीमा खुद ही कर के देते है. अगर कोई नए बिज़नेस की शुरुआत करते हैं तो उसमे काफी पूंजी लगानी पड़ती है और मान लीजिये किसी दुर्घटना जैसे आग लग जाना, दूकान में चोरी हो जाना ये सब हो जाए तो वो इंसान भी डूब जायेगा और इस स्थिति में इन्सुरेंस  कंपनी बीमा के तौर पर मुआवज़ा देकर दुबारा बिज़नेस शुरू करने का मौका देते हैं. इस तरह इन्सुरेंस/बीमा एक तरह का नहीं बल्कि ये कई प्रकार के होते हैं और आप कोई सा भी अपनी जरुरत के हिसाब से चुन कर करा सकते हैं.

इन्सुरेंस का महत्व – Importance of Insurance in Hindi

इन्सुरेंस कितना महत्वपूर्ण है ये समझना बहुत जरुरी है, क्यूंकि हर इंसान को इसकी जरुरत पड़ती है  चलिए समझते हैं इसके महत्व को आसान शब्दों में.

  1. हर परिवार की ख़ुशी उसके मुखिया के वित्तीय सपोर्ट की बदौलत चलती है, इसीलिए जैसे ही कोई इंसान अपना परिवार शुरू करता है तो इन्सुरेंस खासकर उस वक़्त से बहुत ही महत्चपूर्ण बन जाता है. इसका मतलब एक तरह से ये है की जो भी परिवार का मुख्य इंसान है उसकी जिंदगी सुरक्षित हो ताकि किसी भी तरह की फाइनेंसियल परेशानी ना आये और अगर उस मुखिया के साथ कुछ बुरा होता है तो फिर बीमा एक तरह का बहुत बड़ा सहारा बन जाता है और उस मुखिया की जगह सपोर्ट करता है.
  2.  क्या आप जानते हैं कल क्या होगा ? जी नहीं आप क्या कोई नहीं जान जनता की आगे क्या होने वाला है. क्या पता कल आप को कुछ हो और आपके पीछे पूरा परिवार रोता बिलखता छूट जाए और देखने वाला कोई न हो. इस तरह का टेंशन कभी कबार लोगों के मन में तो आ ही जाता है लेकिन क्या आप चाहते हैं की इस तरह का टेंशन न रहे ज़िन्दगी में तो इसके लिए इन्सुरेंस से अच्छा कोई चीज़ नहीं. ये आपकी ज़िन्दगी के साथ भी चलेगा और आपको फायदा देगा और आपकी ज़िन्दगी के बाद भी आपके काम को आपकी परिवार के लिए पूरा करेगा. इस तरह ये आपको टेंशन और दबाव से मुक्त करेगा.
  3. अभी भले आपकी फाइनेंसियल कंडीशन अच्छी नहीं है लेकिन अगर आपने बीमा कर रखा है तो भविष्य में एक वक़्त ऐसा आएगा जब आपको बीमा की रकम मिलेगी और उस वक़्त आपके पास अच्छे पैसे होंगे जो आपकी जिंदगी में ख़ुशी के पल लेकर आएगा.
  4. ये तो सभी जानते हैं की पैसा ही सबकुछ नहीं होता, पैसों से खुशियां नहीं खरीदी जा सकती है. पैसे का महत्व सेहत और जीवन के आगे कुछ भी नहीं है. लेकिन इन्सुरेंस करने के बाद आपको एक मानसिक शान्ति मिलती है जो आपको ख़ुशी वाली ज़िन्दगी देती है.
  5. अगर आपकी मृत्यु हो जाती है जो की एक सच्चाई है और इससे कोई नहीं बच सकता और अभी बेटी की शादी बाकि रह गयी थी या फिर बच्चों की पढाई पूरी नहीं हुई थी. लेकिन अगर आपने बीमा करा रखा है तो भी आपके जाने के बाद बेटी की शादी भी हो जाएगी और बच्चो की पढाई भी अच्छे से निपट जाएगी.

इन्सुरेंस के प्रकार – types of insurance in Hindi

जीवन बीमा  – Life insurance in Hindi

जीवन बीमा हमारे देश भारत की सबसे अधिक कराई जाने वाली बीमा योजना है. शायद ही कुछ लोग होंगे जिन्होंने जीवन बीमा न करा कर रखा हो. जीवन बीमा योजना एक सुरक्षा है जो बीमा धारक व्यक्ति के अंत से होने वाले नुक्सान के लिए है. इस में एक टाइम पीरियड के लिए बीमा किया जाता है  होने पर वो राशि कंपनी द्वारा व्यक्ति को दे दी जाती है या फिर उस इंसान की मौत होने  परिवार वालों को दी जाती है.

इंसान की जान से बढ़कर कुछ नहीं होता है. जब एक व्यक्ति पर कई लोगों का जीवन निर्भर करता हो तो फिर उस व्यक्ति के जीवन का कितना महत्व है इसका अंदाज़ा लगा पाना काफी मुश्किल है. उस व्यक्ति की जान की भरपाई कोई नहीं कर सकता है लेकिन उसके जान के चले जाने के बाद उसकी वजह से भरपाई वाली राशि से परिवार को सहारा मिल जाता है. जो व्यक्ति जीवन बीमा की सेवा लेता है उसे कंपनी को निश्चित अवधि के लिए राशि को जमा करते रहना पड़ता है.

स्वास्थ्य  बीमा – Health Insurance in Hindi

आज के दौर में स्वास्थ्य बीमा का महत्व काफी बढ़ चूका है. जब कभी स्वास्थ्य को लेकर इमरजेंसी का समय आता है तब ये इन्सुरेंस बहुत काम आता है. हम सभी पता है की आज अस्पतालों में इलाज़ कराना कितना महंगा हो चूका है. जो होशियार लोग हैं वो इस बीमा को जरूर कराकर रखते हैं. जब भी आप हेल्थ इन्सुरेंस कराएं तो देख लें की बीमा देने वाली कंपनी किस किस हॉस्पिटल में इलाज़ कराने का विकल्प दे रही है. क्यूंकि इस में आपको उन्ही हॉस्पिटल में इलाज़ कराने की सुविधा मिलती है जिनके साथ ये अपना टाई अप रखते हैं.  कई बीमा कंपनियां हैं जो पुरे परिवार का हेल्थ इन्सुरेंस की सुविधा प्रदान करती हैं.

 घर का बीमा – Home Insurance

भारत में सबसे अधिक आबादी मध्यम वर्ग परिवार की होती  है.मिडिल क्लास फॅमिली के लिए एक खुद का घर बनाना किसी सपने से कम नहीं होता है. घर बनाने में काफी पैसे लगते हैं जो एक इंसान पूरी ज़िन्दगी की कमाई से बचत कर के जमा करता है तब बना पाता है. इतनी मेहनत और लम्बे समय समय के संघर्ष के बाद जोड़ जोड़ कर बनायीं गयी पूंजी से बनने वाला घर किसी प्राकृतिक विपदा या दंगा फसाद से बर्बाद हो जाता है तो सोचिये उस इंसान और उसके परिवार का क्या हाल होगा. प्राकृतिक विपदा को कोई रोक भी नहीं सकता इसके अलावा कभी किसी दंगे या हड़ताल की चपेट में आ जाने पर भी घर बर्बाद हो सकता है. इसीलिए इन सूरतों में अगर बीमा कराया हुआ है तो फिर इससे बेहतर और कुछ नही.

घर का बीमा कराने पर प्रकृति से  आने वाले विपदा जैसे भूकंप, बाढ़, बिजली का गिरना ,आग लग जाना इसके अलावा मानव निर्मित विपदाएं जैसे दंगा, फसाद, हड़ताल, चोरी, हमला इन सभी विपदाओं के बाद होने वाले नुक्सान के लिए बीमा की रकम दी जाती है.

वाहन का बीमा – Vehicle Insurance

आजकल ख़रीदे जाने वाले हर दो पहिया और चार पहिया वाहनों का बीमा उसी वक़्त करना पड़ता है. भारतीय सरकार द्वारा इस पूर्ण रूप से अनिवार्य कर दिया गया है. अगर इसके बिना रोड में गाड़ी चलते हैं तो आपको कानूनन गलत माना जायेगा और इसके लिए आपको दंड भी भरना होगा. वाहन बीमा में सिर्फ वाहन का ही नहीं बल्कि इसके साथ साथ third पार्टी का भी होता है. इसकी वजह से वाहन द्वारा हुए किसी व्यक्ति के नुक्सान के बदले में मुआवज़ा दिया जाता है.

ट्रैवेल बीमा – Travel Insurance

हाल ही में ट्रैवेल यानी यात्रा बीमा काफी तेज़ी से लोगों के बीच में  होता जा रहा है. हमारे देश में हर रोज़ करोड़ों लोग देश के अंदर ही यात्रा करते हैं. बहुत सारे लोग विदेश की यात्रा करने भी जाया करते हैं. आपने अगर कभी खुद से ट्रैन टिकट बुक करने के लिए इंडियन रेलवे की साइट पर गए होंगे तो वहां आपने Travel insurance का ऑप्शन जरूर देखा होगा अगर नहीं देखा है तो अगली बार जरूर देख लें.

ट्रैन से यात्रा करने पर आप  सिर्फ 1 रूपये में यात्रा बीमा का लाभ उठा सकते हैं. इसमें आपको 10 लाख रूपये तक का कवर दिया जाता है. ये एक वैकल्पिक सेवा है आप चाहे तो इस बीमा को करा सकते हैं और अगर न चाहे तो इस सेवा को छोड़ भी सकते हैं. ठीक इसी तरह से आपको  ट्रैवेल बीमा करने  की सुविधा प्रदान की जाती है.  यात्रा बीमा कराने पर यात्रा के बीच में बैगेज, सामान के खो जाने या चोरी हो जाने पर, या  फिर किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या होने पर मेडिकल की सुविधा दी जाती है.

दुर्घटना बीमा – Personal accident Insurance

अनिगनत गाड़ियों के सड़कों पर लगातार चलते रहने के कारण दुर्घटनाओं की संख्या में भी काफी इज़ाफ़ा हुआ है. इसी कारण दुर्घटना बीमा योजना दुर्घटना से होने वाले शारीरिक नुक्सान पर मुआवजा के तौर पर भरपाई करती है. सड़क पर चलते हुए होने वाले दुसरघटना पर हॉस्पिटल में भर्ती होने के बाद उस राशि को अदा कर दिया जाता है.

जब कोई दुर्घटना योजना के तहत पालिसी को चुनता है तो उसका सारा खर्च कंपनी ही उठाती है यही वजह है की दुर्घटना योजना काफी जरुरी है. इस योजना को शुरू करने के पहले नियम व शर्तें जरूर पढ़ लें.

फसल का बीमा – Crop Insurance

भारत की अधिकतर जनसंख्या गाँव में रहती है. गाँव के लोगों का मुख्य काम खेती ही होती है. हमारे देश में हमेशा से किसानो की स्थिति अच्छी नहीं है. आज भी यहाँ के किसान अपनी खेती करने के लिए मौसम पर ही निर्भर रहते हैं और अब तो ग्लोबल वार्मिंग की वजह से पूरी दुनिया में मौसम का चक्र असंतुलित होता जा रहा है. समय पर बारिश नहीं होती है जिससे किसानों को काफी नुक्सान उठाना पड़ता है. यही वजह है की हर साल कई किसान आत्महत्या भी कर लेते हैं. इन्ही कारणों के मद्देनज़र किसान के लिए फसल बीमा योजना की शुरुआत की गई है. फसल लगाने के बाद अगर किसी भी कारण से फसल बर्बाद हो जाता है तो बीमा कंपनी पुरे नुक्सान की भरपाई करती है.

संक्षेप में

दोस्तों बीमा करवाना हर इंसान के लिए काफी जरुरी है. इसीलिए आज की पोस्ट में हमने यहाँ पर जाना की बिमा क्या है (What is insurance in hindi) और इसका क्या महत्व है. इस के कई प्रकार हैं लेकिन हर व्यक्ति हर तरह की पालिसी करा ले ये एक मिडिल क्लास के इंसान के लिए संभव नहीं है. इसीलिए इसकी जानकारी होनी भी जरुरी है की कौन सी पालिसी आपके लिए फायदेमंद है और आपके जीवन के लिए उस के अनुसार आपको भरपूर फायदा मिले. इसीलिए हमने यहाँ ये भी जाना की इन्सुरेंस के प्रकार क्या हैं (types of insurance in hindi).

उम्मीद करता हूँ की इस पोस्ट में आपको बीमा के बारे में सारी जरुरी जानकारी मिल गई होगी. इन्सुरेंस क्या होता है ये आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा. हम ब्लॉग में हमेशा ऐसी जानकारी लाते रहते हैं जो आपके जीवन में मदद करे और आपकी जानकारी को भी बढ़ाये. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे फेसबुक,ट्विटर,इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप्प में भी अधिक से अधिक शेयर करें.

9 COMMENTS

  1. बहोत ज्यादा एक्सपर्ट तरीके से आपने समझाया आप थोड़ा सिखायों क्या आपकी सभी पोस्ट 1-4 में ही show होती है गूगल पे…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here