IAS क्या है और इसका फुल फॉर्म

जॉब तो बहुत तरह के होते हैं लेकिन बहुत सारे लोगों की ख्वाहिश होती है कि वह ऐसा जॉब करें जिसमें उनके हाथों में पावर हो और वह देश की सेवा कर सकते हैं. IAS क्या है (What is IAS in hindi) इसके बारे में आपने जरूर सुना होगा क्योंकि ये भारत के सबसे सर्वश्रेष्ठ पदों में से एक है. एक आईएएस ऑफिसर की जो इज्जत होती है उसे देख कर छात्रों को आईएएस अफसर बनने की बहुत इच्छा जग जाती है.  जब किसी पद के लिए इतनी इज्जत और इतना रुतबा हो तो इसे पाने के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ती होगी. यही वजह है कि हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपको यह बताने का इरादा किया है कि आईएएस कैसे बने.

जिन लोगों को यह नहीं पता कि आईएएस का फुल फॉर्म क्या होता है और आईएएस के लिए सब्जेक्ट कौन से पढ़ने पड़ते हैं उसके बारे में भी हम यहां बात करेंगे. इस आर्टिकल में हम आपको आईएएस बनने के टिप्स इन हिंदी बताएंगे जिसे पढ़कर अगर आपको इस के बारे में लेकर कोई डाउट होगा तो क्लियर हो जाएगा. आपको इससे काफी मदद भी मिलेगी. सच कहूं तो एक समय था जब मैं इंजीनियर बनना नहीं चाहता था और सोचता था कि काश मैं भी आईएएस ऑफिसर के लिए तैयारी कर सकूं. लेकिन यह किस्मत की बात है अगर अभी आप 1 छात्र हैं और पढ़ रहे हैं तो फिर आपको जरूर इसके लिए एक बार प्रयास करना चाहिए और जी तोड़ मेहनत करनी चाहिए. आईएएस का क्वेश्चन किस प्रकार से पूछा जाता है और इसके लिए कौन से सब्जेक्ट पढ़ने जरूरी है. इसका इंटरव्यू निकालना कितना कठिन होता है यह भी हम जानेंगे.

एक आईएएस ऑफिसर के रूप में किसी को देखकर तो सभी हैरान होते हैं लेकिन कम ही लोगों को पता होता है कि आईएएस की सैलरी कितनी होती है, ये भी पता चल जाएगा कि सरकार द्वारा एक आईएएस ऑफिसर को कितनी सैलरी दी जाती है. मैं समझ सकता हूं कि आप इसके लिए कितने उत्सुक हैं इसलिए अब चलिए जानते हैं कि आईएएस क्या है (What is IAS in hindi) और इस का फुल फॉर्म क्या है.

आईएएस क्या है – What is IAS in hindi

ias kya hai hindi

IAS, आईपीएस, आईएफएस इत्यादि 24 सेवाओं में से एक बहुत ही प्रतिष्ठित सेवा है, जिसके लिए UPSC उम्मीदवारों के चयन के लिए सिविल सेवा परीक्षा (CSE) आयोजित करता है.  Indian Administrative Services को लोकप्रिय रूप से IAS के रूप में जाना जाता है और औपचारिक रूप से इसका गठन 1947 में किया गया था. इसे भारत में सबसे प्रीमियम सर्विस के रूप में जाना जाता है और एक अट्रैक्टिव और चुनौतीपूर्ण करियर प्रदान करती हैं. इस सर्विस से जुड़ने वाले लोग जो बहुत अच्छा काम करते हैं उनके पास फेम होता है ग्लैमर होता है.

भले ही ज्यादातर लोग सोचते हैं कि जिला मजिस्ट्रेट या कलेक्टर सबसे शक्तिशाली कैलेंडर पोस्ट है. एक आईएएस अपने काम के सभी स्तरों पर सत्ता में रहता है मतलब उसी का चर्चा सबसे अधिक होता है. आईएएस वो सेवा है जो अधिकारी को किसी भी सरकारी संगठन के टॉप पर रखती हैं. अगर आप एक मजबूत इरादे वाले व्यक्ति हैं तो आप एक आईएएस अधिकारी के रूप में बहुत सी चीजें बदल सकते हैं. इस पद की गरिमा यही है कि जो लोग बदलाव लाने में सक्षम होते हैं वह इसके महत्व को भलीभांति समझते हैं.

आईएएस की सेवा भारत सरकार के प्रशासनिक सिविल सेवा है. आईएएस अधिकारी केंद्र सरकार, राज्य सरकारों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं. पुलिस और वनों के साथ, अखिल भारतीय सेवाओं में से एक है. इसके कैडर को केंद्र सरकार और राज्य दोनों द्वारा नियोजित किया जा सकता है. आईएएस अधिकारी के चयन की प्रक्रिया यूपीएससी के एग्जाम द्वारा की जाती है. और यह अलग अलग राज्य सरकारों के अधीन पोस्ट किए जाते हैं. अधिकारी सार्वजनिक कार्यालय के प्रशासन के महत्वपूर्ण काम के वजह से समाज में उच्च सम्मान और कद रखते हैं.

एक कहावत के अनुसार:

सरकार एक ट्रस्ट है और अधिकारी ट्रस्टी और ट्रस्ट और ट्रस्टी दोनों लोगों के फायदे के लिए बनाए गए हैं.

IAS का फुल फॉर्म – Full form of IAS in Hindi and English

Indian Administrative Services

भारतीय प्रशासनिक सेवा

आईएएस की तैयारी कैसे करे

यह सवाल पूछने में काफी आसान लगता है लेकिन इसका जवाब बहुत ही पेचीदा है. किसी सम्मानजनक पद पर जाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है. और इसके लिए कई रातों तक कड़ी मेहनत करके तैयारी करनी होती हैं. जो बच्चे स्कूल या फिर हाई स्कूल में पढ़ते हैं और इस परीक्षा में पास होना चाहते हैं उनको उसी वक्त तैयारी शुरू कर देनी चाहिए. जो दिमाग से बहुत तेज है उन्हें भी इस परीक्षा में पास होने के लिए जी तोड़ मेहनत करनी पड़ती है तो आप समझ लीजिए कि एक एवरेज स्टूडेंट को कितनी मेहनत करनी पड़ती होगी.

आईएएस की तैयारी कैसे करे यह जानने के लिए आपको इससे जुड़ी हर जानकारी को लेना होगा. यानी कि परीक्षा की तैयारी शुरू करने के पहले ये जान लेना है की इसके लिए कम से कम कितनी शिक्षा का होना जरूरी है. इसमें उम्र की क्या सीमा है, इस का सिलेबस क्या है और किस तरह के क्वेश्चन पूछे जाते हैं. साथ ही यह भी जानना होगा इसकी इंटरव्यू किस तरह से ली जाती है. इन सभी चीजों के बारे में हम बारी-बारी से आपको बताने की पूरी कोशिश करेंगे जो आपको समझ में आ सके.

  • शैक्षणिक योग्यता ग्रुप में मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से डिग्री का होना 
  • उम्र की सीमा 
  • सिलेबस के अनुसार पढ़ना 
  • प्लान के अनुसार पढ़ाई करना
  • हाई स्कूल के पहले पढ़े गए विषयों का revisoion करना
  • हर विषय पर ध्यान देना
  • इंटरव्यू के लिए उचित तैयारी करना

आईएएस के लिए क्वालीफिकेशन

  • जो भी उम्मीदवार आईएएस की परीक्षा में बैठना चाहता है उसको भारत में केंद्रीय या राज्य अधिनियम द्वारा स्थापित एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन द्वारा शामिल यूनिवर्सिटीज में से किसी एक की डिग्री होनी चाहिए या फिर अगर डीम्ड यूनिवर्सिटी हो जो Grants commission Act 1956 धारा 3 के तहत एक विश्वविद्यालय के रूप में मान्यता होनी चाहिए, तो यहां से शिक्षा लेने वाले डिग्री धारक उम्मीदवार आईएएस की परीक्षा में बैठ सकते हैं.
  • जो भी कैंडिडेट क्वालीफाइंग एक्जाम के लिए बैठना चाहते हैं या फिर बैठने का इरादा रखते हैं और अपने चल रहे पढ़ाई की रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं वह भी प्रिलिमिनारी  एग्जामिनेशन (प्रारंभिक परीक्षा) में उपस्थित होने के लिए एलिजिबल है.
  • यूपीएससी कुछेक मामलों में एक उम्मीदवार को योग्य उम्मीदवार के रूप में foregoing requisite qualification के बिना एक उम्मीदवार के रूप में मान सकता है अगर उसने अन्य संस्थानों द्वारा आयोजित एक परीक्षा उत्तीर्ण की है जिसका मानक आयोग की राय में उसके प्रवेश को सही ठहराते हैं.
  • वैसे कैंडिडेट जो एमबीबीएस या किसी भी मेडिकल परीक्षा के अंतिम साल में पास हुए हैं लेकिन अभी तक इंटर्नशिप पूरा करने के लिए Main Examination (मुख्य परीक्षा) में शामिल नहीं हो सकते हैं. हालांकि उन्हें अपने Main Examination (मुख्य परीक्षा) एप्लीकेशन के साथ जमा करना होगा.

आईएएस की आयु सीमा

आईएएस के लिए कम से कम उम्र की सीमा 21 वर्ष रखी गई है जबकि जनरल कैटेगरी में आने वाले लोगों के लिए अधिकतम उम्र की सीमा परीक्षा के साल में 1 अगस्त को 32 वर्ष से कम होनी चाहिए है और दूसरे कैटेगरी के लोगों के लिए कैटेगरी के हिसाब से उम्र की सीमा रखी गई है.

CategoryAge
SC/ST32 + 5 साल एक्स्ट्रा = 37 साल
OBC32 + 3 साल एक्स्ट्रा = 35 साल
General32 साल
Physically challanged (विकलांग)32 + 10 साल =42 साल
Economically weaker Section (EWS)32 साल

आईएएस की परीक्षा में कितनी बार बैठ सकते हैं

General Category – 6 बार
OBC – 9 बार
Economically weaker section (EWS) – 6 बार
SC/ST – कोई सीमा नहीं

आईएएस कैसे बने

भले ही इस परीक्षा को आईएएस परीक्षा के नाम से जाना जाता है लेकिन ऑफीशियली तौर पर इसे UPSC सिविल सेवा परीक्षा कहा जाता है. UPSC CSE में 3 चरण होते हैं.

Prelims,  Mains, और Interview

भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) मैं शामिल होना बहुत कठिन है क्योंकि इसमें कंपटीशन बहुत ज्यादा है लेकिन जिनका एटीट्यूड और अप्रोच सही होता है उनके लिए यह इंपॉसिबल नहीं है.

Civil Services Examination (CSE)

UPSC (Union Public Service Commission) इस सेवा के लिए सही उम्मीदवारों का चयन करने के लिए जिम्मेदार सरकार एजेंसी है. हर साल सभी 24 सेवाओं के लिए केवल 1000 उम्मीदवारों का चयन किया जाता है.

हर साल यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों की संख्या लगभग 10 लाख है, जिसमें से लगभग 5 लाख की संख्या में कैंडिडेट परीक्षा के दिन (Preliminary exam) में प्रजेंट होते हैं.

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा को बड़े पैमाने पर दुनिया की सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है. जिसमें परीक्षा के अवधि, सिलेबस की गहराई और कंपटीशन भी शामिल है.

इस एग्जाम में 3 चरण होते हैं.

  • Preliminary Exam (objective) – प्रारंभिक परीक्षा
  • Main Examination – मुख्य परीक्षा
  • Interview – इंटरव्यू

Preliminary Exam (objective) – प्रारंभिक परीक्षा

प्रारंभिक परीक्षा के लिए यूपीएससी परीक्षा पैटर्न में 1 दिन में 2 पेपर होते हैं. दोनों पेपरों में objective type question के साथ multiple choice answer वाले क्वेश्चन भी होते हैं. Preliminary examination (प्रारंभिक परीक्षा) Main examination (मुख्य परीक्षा) के लिए उम्मीदवारों को filter करने के लिए एक क्वालीफाइंग स्टेज है. इस लेवल पर score किए गए अंकों को final merit list में नहीं गिना जाता है, हालांकि उम्मीदवारों को इस परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी करनी होती है क्योंकि कट ऑफ unpredictable होता है और हर साल औसत अंक पर निर्भर करते हैं. यूपीएससी Preliminary examination (प्रारंभिक परीक्षा) की डिटेल नीचे दी गई है.

  • आईएएस के Preliminary exam 2 कंपलसरी पेपर शामिल होंगे General Ability test (GAT) और Civil Service Aptitude Test (CSAT). यह उम्मीदवारों के एनालिटिकल स्किल को टेस्ट करेगा.
  • सभी सवाल ऑब्जेक्टिव पूछे जाते हैं. उम्मीदवारों को हर सवाल के लिए चार विकल्प दिए जाते हैं जिसमें से किसी एक को चुनना आवश्यक होगा.
  • इसमें पूछे जाने वाले सवाल हिंदी और इंग्लिश दोनों भाषाओं में होंगे. हालांकि दसवीं की अंग्रेजी की नॉलेज चेक करने के लिए पूछे जाने वाले कंप्रीहेंशन पैसेज अंग्रेजी भाषा में होगा उसका अनुवाद उपलब्ध नहीं रहेगा.
  • IAS Preliminary exam का मुख्य उद्देश्य योग्य उम्मीदवारों को क्वालीफाई कराना है. Mains exam के लिए क्वालिफाई होने के लिए उम्मीदवारों को कम से कम 33 परसेंट नंबर यहां पर लाना होगा.

Preliminary Exam का सिलेबस और सब्जेक्ट

पेपर 1 में पूछे जाने वाले सवाल objective type के होंगे और कुल 200 marks के सवाल पूछे जाते हैं. और इसके लिए 2 घंटे का समय दिया जाता है. इसमें करंट अफेयर्स में multiple choice सवाल पूछे जाते हैं.

Paper – 1

  • Current affairs
  • Economic and Social Development, Poverty, Sustainable development
  • General Science
  • Biodiversity and Climate change
  • Issues on Environmental Ecology
  • Geography
  • Indian Politics
  • India and World History

पेपर 2 में पूछे जाने वाले सवाल objective types के होंगे और कुल 200 marks के सवाल पूछे जाते हैं. और इसके लिए 2 घंटे का समय दिया जाता है. इसमें Aptitude Test में multiple choice सवाल पूछे जाते हैं.

Paper – 2

  • Logical reasoning
  • Analytical ability
  • General Mental ability
  • Data Interpretation
  • Problem Solving and Decision Making ability
  • Comprehension
  • Communication Skill
  • Interpersonal Skills

Main Examination (मुख्य परीक्षा)

यह पेपर उम्मीदवार को उसके विशेष विषय कि educational expertise का आकलन करता है. सिविल सेवा Main Examination का उद्देश्य academic talent और उम्मीदवार की क्षमता को पहचाना और उन्हें आगे बढ़ाना है. परीक्षा का उद्देश्य केवल अपनी जानकारी और memory की जांच करने के बजाय overall intellectual traits और concept की समझ का आकलन करना है. कैंडिडेट के पर्सनल सूटेबिलिटी को चेक करने के लिए निष्पक्ष observers के बोर्ड द्वारा कैंडिडेट की इंटरव्यू ले जाती है. यह टेस्ट में द्वार के मानसिक कैलीबर judge करने के लिए किया जाता है. इंटरव्यू के लिए बुलाए जाने वाले उम्मीदवारों की संख्या वैकेंसी की संख्या से लगभग दोगुनी होती है.

Mains Exam का सिलेबस और सब्जेक्ट

इस में पूछे जाने वाले भारतीय भाषाओं और इंग्लिश के सवाल हाई स्कूल लेवल के होते हैं. इस परीक्षा में आने वाले marks फाइनल रैंकिंग में काउंट नहीं किए जाते हैं.
लिखित परीक्षा में आने वाले वाले सवाल इन विषयों से पूछे जाते हैं.
Paper – 1
Essay (निबंध)

उम्मीदवार अपनी मर्जी से अपने पसंद के टॉपिक पर निबंध लिख सकते हैं.

Paper – 2

इस पेपर में इतिहास, भूगोल, विरासत, संस्कृति आदि से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं जो प्राचीन भारत से संबंधित होते हैं.
General Studies – 1 (History and Geography of the World, Indian Culture & Heritage)

  • भारत का इतिहास – प्राचीन और आधुनिक
  • भौगोलिक महत्व
  • वास्तुकला, साहित्य आदि में महत्वपूर्ण परिवर्त.
  • विविधता
  • वैश्वीकरण
  • विश्व इतिहास की उल्लेखनीय घटनाएं

Paper – 3

इस पेपर में भारतीय शासन जिसमें स्वतंत्रता के बाद के सुधारों के बारे में सवाल पूछे जाते हैं.
General Studies – 2 (Polity, Social Justice, Constitution, ,International relations & Governance)

  • भारत का संविधान
  • दुनिया का संवैधानिक विश्लेषण
  • राष्ट्र और समाधान के प्रमुख मुद्दे
  • संसद और विधानसभाएं
  • सरकार में विभाग और संरचनाएं
  • सरकार द्वारा कल्याणकारी योजनाएँ

Paper – 4

इस पेपर में आधुनिक भारत और हाल के मुख्य घटनाओं के बारे में प्रश्न पूछे जाते हैं.
General Studies – 3 (Economic Development, Management Security, Technology, Environment, Disaster and Bio diversity)

  • भारतीय अर्थव्यवस्था
  • पर्यावरण अध्ययन
  • खेती
  • विज्ञान
  • सूचान प्रौद्योगिकी
  • रिसर्च और डेवलपमेंट
  • इंफ्रास्ट्रक्चर विकास
  • औद्योगिक विकास
  • विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धियां
  • सुरक्षा चुनौतियां

Paper – 5
General Studies – 4 (Aptitude, Integrity, & Ethics)

  • लोक प्रशासन में नैतिकता
  • इमोशनल इंटेलिजेंस
  • व्यवहार विश्लेषण
  • फंक्शनल वैल्यू

Paper – 6
Optional Subject – Paper 1

Paper – 7
Optional Subject – Paper 2

कैंडिडेट नीचे दिए गए लिस्ट में से अपने पसंद की विषय को वैकल्पिक विषय के रूप में चुन सकते हैं.

  • कृषि
  • मनुष्य जाति का विज्ञान
  • पशुपालन और पशु चिकित्सा विज्ञान
  • रसायन विज्ञान
  • वनस्पति विज्ञान
  • वाणिज्य और लेखा
  • अर्थशास्त्र
  • भौतिक विज्ञान
  • राजनीति विज्ञान और अंतर्राष्ट्रीय संबंध
  • मनोविज्ञान
  • इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
  • असैनिक अभियंत्रण
  • दर्शन
  • भूगोल
  • कानून
  • प्रबंध
  • अंक शास्त्र
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • चिकित्सा विज्ञान
  • भूगर्भशास्त्र
  • भारतीय इतिहास
  • सार्वजनिक प्रशासन
  • नागरिक सास्त्र
  • आंकड़े
  • प्राणि विज्ञान

Interview – साक्षात्कार

  • Mains की परीक्षा में पास होने वाले उम्मीदवारों की पर्सनैलिटी टेस्ट की जाती है. इसके अंतर्गत साइकोमेट्रिक टेस्ट, एसेसमेंट टेस्ट के साथ पर्सनल इंटरव्यू भी शामिल होता है. इंटरव्यू का उद्देश्य यह है कि competent board और निष्पक्ष observer के द्वारा पब्लिक सेवा में करियर के लिए उम्मीदवार की पर्सनालिटी सूटेबिलिटी का आकलन करना है.
  • सामान्य रुचि के मामले पर भी उम्मीदवार से सवाल पूछे जाते हैं.
  • इस टेस्ट के जरिए कैंडिडेट के मेंटल कैलीबर को भी जज किया जाता है.
  • कैंडिडेट के बुद्धि की परीक्षा के साथ साथ उसके करंट अफेयर्स की जानकारी चेक की जाती है इसके अलावा यह भी चेक किया जाता है कि उम्मीदवार विपरीत परिस्थितियों में मानसिक रूप से कितनी सतर्कता है.
  • इसके अलावा उम्मीदवार की फैसला करने का संतुलन, उसके रुचि की विविधता और गहराई, लीडरशिप की क्षमता, सामाजिक सामंजस्य, बौद्धिक और मोरल इंटीग्रिटी भी देखी जाती.
  • इस टेस्ट को कैंडिडेट के भाषण की रूचि के अनुसार आयोजित किया जाता है.
  • इंटरव्यू में कुल मिलाकर 275 नंबर के सवाल पूछे जाते हैं. आईएएस में कुल 225 अंक के सवाल होते हैं.
  • उम्मीदवारों को कुल नंबर के आधार पर रैंक दिया जाता है और फिर लास्ट इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है.

आईएएस के परीक्षा में मार्किंग का तरीका

  • Mains Examination मिलाकर 1750 नंबर के सवाल पूछे जाते हैं.
  • हर क्वेश्चन के लिए 2.5 मार्क दिए जाते हैं.
  • कैंडिडेट की राय कंटेंट फ्लोर समस्याओं को लेकर उनकी समझदारी स्थिति को समझने की क्षमता और परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए उसको लेकर निकाले जाने वाले हाल और प्रयोग की जाने वाली भाषा के आधार पर ग्रेड दिया जाता है.
  • कैंडीडेट्स के पास दो ऑप्शनल पेपर चुनने के लिए आजादी होती है.

संक्षेप में

इस पद की गरिमा हर इंसान पहचानता है क्योंकि इसके पीछे कड़ी मेहनत छिपी होती है और इस पद पर काम करने वाले ऑफिसर पर कई तरह की जिम्मेदारी दी जाती है. इसीलिए हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताने की कोशिश की है कि एक आईएएस ऑफिसर बनना काफी कठिन है लेकिन असंभव नहीं है.

आज के पोस्ट में आप ने जाना कि आईएएस क्या है (What is IAS in hindi). इसे हमारे देश का सबसे प्रतिष्ठित पद माना जाता है. आईएएस की तैयारी कैसे करें और आईएएस कैसे बने इसके बारे में भी हमने आपको जानकारी दी है.

इस परीक्षा की तैयारी के लिए बातें भी हमने इस आर्टिकल के माध्यम से आपको दी है. आईएएस के सब्जेक्ट कौन से हैं जिससे कि इस परीक्षा में सवाल पूछे जाते हैं. आईएएस का फुल फॉर्म क्या होता है.

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी. हमारे देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है और लोग अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए लगा रहे हैं. अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी होते तो फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप में अधिक से अधिक शेयर करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here