हैंडराइटिंग कैसे सुधारें और अच्छी राइटिंग कैसे लिखें

स्कूल या फिर कॉलेज में पढ़ने वाली जितने भी स्टूडेंट होते हैं वह सभी चाहते हैं कि उनकी हैंडराइटिंग सुंदर दिखे और उनकी तारीफ उनके टीचर के साथ साथ सभी लोग करें लेकिन हर किसी की हैंडराइटिंग सुंदर नहीं होती है. इसलिए आज के पोस्ट में हम जानेंगे कि हैंडराइटिंग कैसे सुधारें (how to improve handwriting in hindi). फिर चाहे बच्चे स्कूल में पढ़ता हो या फिर कॉलेज में वह अपनी लिखावट को लेकर काफी परेशान होता है और जानना चाहता है कि हिंदी और इंग्लिश में हैंडराइटिंग कैसे सुधारें.

यह भी देखने को मिलता है कि जिन बच्चों की हैंडराइटिंग बहुत सुंदर होती है उन्हें शिक्षक भी बहुत पसंद करते हैं और उनके नंबर भी बहुत अच्छे होते हैं. यही देखकर दूसरे बच्चे भी उस बच्चे से जाकर पूछते हैं कि अच्छी राइटिंग कैसे लिखें. यह चीज मेरे साथ भी बचपन में हो चुकी है क्योंकि जब मैं दूसरी स्टैंडर्ड में पढ़ता था तो मेरे एक दोस्त की हैंडराइटिंग बहुत सुंदर थी. मैं उसे बार-बार पूछा करता था कि यार यार मुझे भी हैंड राइटिंग अच्छी करनी है, तुम मुझे बताओ कि लिखावट को कैसे सुधारें.

जब बच्चे नर्सरी में पढ़ते हैं उस वक्त से उनको लिखना सिखाया जाता है उस समय ना तो पेन का इस्तेमाल कराया जाता है और ना ही पेंसिल का. बल्कि बच्चों को चौक से शब्दों को लिखने के लिए सिखाया जाता है. लेकिन जब बच्चा आगे की क्लास में पढ़ता है तो फिर उसे पेंसिल दी जाती है और साथ में एक इरेज़र भी होता है जो गलत होने पर शब्दों को मिटाने के काम आता है. उस वक्त से बच्चों में यह इच्छा जग जाती है कि उनके हैंडराइटिंग भी काफी आकर्षक हो. अक्सर देखा जाता है कि जो बच्चे पढ़ाई में अच्छे होते हैं उनके हैंडराइटिंग अच्छी हो ही जाती है. इसके लिए भी रुचि का होना बहुत जरूरी है बिना इंटरेस्ट के कुछ भी नहीं हो सकता है. इसलिए आज के पोस्ट में चलिए जानते हैं कि अच्छी राइटिंग कैसे लिखें (good handwriting tips in hindi).

हैंडराइटिंग कैसे सुधारें – How to improve handwriting in Hindi

Handwriting kaise sudhare

कहा जाता है ना कि फर्स्ट इंप्रेशन इज़ द लास्ट इंप्रेशन यह हैंडराइटिंग के मामले में भी बहुत फिट बैठता है. एग्जाम में लिखे हुए पेपर को जब कोई टीचर चेक करता है तो अच्छा  हैंडराइटिंग देख कर ही समझ जाता है कि यह बच्चा पढ़ने वाला है और यह काफी मेहनती है. इस बात को भी नहीं नकारा जा सकता है कि आज के समय में लिखावट का बाहर की दुनिया में ज्यादा महत्व नहीं और इससे अपने करियर पर किसी तरह की दिक्कत नहीं आने वाली है.

लेकिन जो बच्चे स्कूल और कॉलेज में पढ़ते हैं, अगर पढ़ाई में बेहतर करना चाहते हैं तो इसके लिए अच्छी हैंडराइटिंग का होना जरूरी है. अच्छी हैंडराइटिंग ना होने पर उनके रिजल्ट पर इसका बुरा प्रभाव भी पड़ सकता है.

वैसे आज का समय तो डिजिटल राइटिंग का जमाना है जिसमें लोगों को पेन का कम इस्तेमाल करना होता है. अधिकतर काम तो डिजिटल तरीके से ही किया जाता है. यहां तक कि सरकारी और प्राइवेट कंपनियां भी अपने ऑफिस में सभी काम को करने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल करने लगे हैं और इसमें बस एक ही काम रह जाता है वह होता है सिग्नेचर का. तो इस दौर में कहे तो लिखावट के उतने मायने रह नहीं गए है.

लेकिन यहीं पर अगर हम बात करें की पढ़ाई में इसके महत्व की तो यह जान ले पढ़ाई का जो तरीका पहले से था वह अब भी वही है और भविष्य में भी टेक्नोलॉजी के साथ साथ यही तरीका इस्तेमाल होता रहेगा. यानी कि बच्चों को पढ़ना और लिखना तो सीखना ही पड़ेगा. यह एक तरह से बुनियाद की तरह होता है जिसके बिना हम डिजिटल इस्तेमाल होने वाली चीजों का ही प्रयोग नहीं कर सकेंगे. बच्चों को पेंसिल और पेन का उपयोग करके ही एग्जाम लिखना होता है.

बचपन से ही जब हमारे माता पिता हमारे हैंडराइटिंग को देखते हैं तो उसे सुधारने में लग जाते हैं. और हम पर काफी दबाव डालते हैं कि अपनी हैंडराइटिंग को सुधारने के लिए मेहनत करो ताकि इसका फायदा पढ़ाई में मिले और अच्छा रिजल्ट आए. चलिए हम जान लेते हैं कि अच्छी हैंडराइटिंग लिखने के लिए क्या करना है.

इंग्लिश में राइटिंग कैसे सुधारे

इंग्लिश एक ऐसी भाषा है जिसमें अगर आप प्रैक्टिस करेंगे तो हैंड राइटिंग बहुत सुंदर दिखेगी. मुश्किल काम नहीं है बस आपको बार-बार इसके लिए प्रयास करना है. जितनी अधिक कोशिश करेंगे और साथ ही साथ अच्छा लिखने की प्रैक्टिस करेंगे आपकी हैंडराइटिंग बेहतर होती जाएगी. इंग्लिश में अपनी हैंडराइटिंग सुधारने के लिए क्या क्या करें चलिए जानते हैं.

1. अच्छे पेन का इस्तेमाल करें

आप माने चाहे ना माने लेकिन जब आप एक अच्छे पेन का इस्तेमाल करेंगे जिसकी ग्रिप अच्छी होती है तो आपकी अच्छी हैंडराइटिंग में इससे काफी फायदा होता है. यह आप को डिसाइड करना है कि आप के लिए कौन सी पेन बेहतर है. जब आप अपने पेन के साथ कंफर्टेबल होते हैं तो फिर आपकी उंगलियां भी बहुत अच्छे से काम करते हैं. इसीलिए जब आप नीचे बताए गए स्टेप्स को फॉलो करते हैं तो उसके पहले अपने लिए एक बेहतर पेन चुने और फिर उसका इस्तेमाल करें. आप को सुधार जल्दी नजर आएगी.

2. पेन पर अच्छी पकड़ बनाए

जी हां यह भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण पॉइंट है क्योंकि बचपन से बहुत सारे बच्चे ऐसे होते हैं जो पेंसिल या पेन को बहुत ही जोर से दबा कर पकड़ते हैं जिससे कि मूवमेंट सही से नहीं हो पाता और शब्द अच्छे से नहीं लिखे जा सकते हैं. अपनी उंगलियों से पेन पर उतनी ही पकड़ बना के रखे जितनी जरूरी हो ज्यादा प्रेशर ना दें ताकि आप जब शब्दों को लिखे तो यह आराम से मूवमेंट कर सके. यह आपके राइटिंग स्किल को बेहतर बनाने में बहुत फायदेमंद होगा.

3. अंग्रेजी की नोटबुक में अल्फाबेट्स लिखना शुरू करें

अच्छी हैंडराइटिंग बनाने के लिए आपको अब शुरुआत से सारे काम करने होंगे. यानी कि एक अच्छा सेंटेंस लिखने के लिए यह जरूरी है कि उस पर लिखे गए हर लेटर सुंदर तरीके से लिखे हो. यह तभी हो सकता है जब आप एक-एक लेटर को अकेला सुंदर लिखते हैं. अगर आपकी राइटिंग खराब है तो सबसे पहले आपको यही काम करना होगा. आपके आसपास स्टेशनरी स्टोर या फिर बुक स्टोर या फिर लाइब्रेरी वगैरह में जाएं और वहां से चार लाइनों वाली इंग्लिश वाली नोटबुक खरीदें. उसके बाद इंग्लिश के कैपिटल लेटर और स्माल लेटर बारी बारी करके A-Z सुंदर लिखने की पूरी प्रैक्टिस करें.

अगर आपको प्रैक्टिस के लिए हैंडराइटिंग के पेपर चाहिए तो मैं यहां पर आपको डाउनलोड लिंक दे रहा हूं यहां से आप पेपर को प्रिंट करके उसको देखकर प्रैक्टिस कर सकते हैं.

Handwriting Practise
https://www.handwritingworksheets.com/

4. पेपर को रोटेट करके एक्सपेरिमेंट करें

अधिकतर दाया हाथ से लिखने वाले लोग होते हैं उन्हें पेपर को सीधा रखकर ही लिखना पसंद होता है. लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपने नोटबुक को थोड़ा टेढ़ा कर लेते हैं जिससे उन्हें हैंड राइटिंग अच्छी करने में मदद मिलती है. मैं अपनी बात करूं तो मैं भी अपनी नोटबुक थोड़ा रोटेट करके ही लिखता हूं.

आप एक बार जरूर ट्राई करके देखें कि क्या आप सीधे पेपर में ही अच्छा लिख पाते हैं या फिर आपको भी पेपर को रोटेट करने से कुछ फायदा होता है. यह तरीका बिल्कुल पर्सनल तरीका है इसीलिए आप हर एंगल पर अपने पेपर को रोटेट करके देखें कि आपको लिखने में कौन सा पोजीशन सही लगता है.

5. अधिक से अधिक समय लिखें

मैं आपको यही सलाह दूंगा कि आप हर दिन कम से कम 1 घंटे तक बहुत ही धीमी गति से इंग्लिश के लेटर्स को लिखने की प्रेक्टिस करें. शुरुआत कैपिटल लेटर से करें जब आप इसमें सुधार देखें तो फिर स्माल लेटर में जाएं जितना हो सके प्रैक्टिस करें. अब जितना समय हैंडराइटिंग के लिए देंगे आपकी राइटिंग में उतनी ज्यादा सुधार होगी.

6. अपनी खुद की स्टाइल बनाएं

लिखावट एक ऐसी कला है जो हर किसी की व्यक्तिगत होती है. और यह समय के साथ साथ और विकसित होती चली जाती है. इसमें आपको शुरुआत में तो शब्दों के सुंदरता पर ध्यान देना है. जैसे जैसे आपकी प्रैक्टिस आगे बढ़ती चली जाएगी आपकी हैंडराइटिंग तो सुंदर दिखेगी साथ ही आप की स्पीड भी बढ़ती जाएगी.
इस तरह आपका एक खुद का नया स्टाइल भी विकसित होता चला जाएगा.

हिंदी में राइटिंग कैसे सुधारे

हिंदी हमारे देश की राष्ट्रभाषा है. सभी स्कूल और कॉलेजों में हिंदी भाषा पढ़ाई जाती है. यहां तक कि स्कूलों में यह विषय कंपलसरी रूप से पढ़ना होता है. इसलिए इसका ज्ञान होना जरूरी है. साथ ही साथ इस की हैंडराइटिंग पर भी ध्यान देना काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि अधिकतर स्कूल हिंदी भाषा में ही सभी विषयों को पढ़ाते हैं. इसलिए हिंदी की हैंडराइटिंग अच्छी होगी तभी जब सभी विषयों में नंबर भी अच्छे आएंगे. हम इस पोस्ट में आ गया को बताएंगे की हिंदी की हैंडराइटिंग को कैसे बेहतर बनाएं.

1. लाइन वाली नोटबुक पर प्रैक्टिस करें

हिंदी की हैंडराइटिंग बेहतर बनाने के लिए आपको पूरे सफेद पेपर पर नहीं लिखना है बल्कि वैसे नोटबुक में आपको प्रैक्टिस करनी है जिसमें लाइनें होती हैं. इसमें ऊपर की लाइन के आधार पर आप सारे अक्षरों को लिखें. और हिंदी भाषा में लिखे जाने वाले सभी शब्दों के ऊपर एक लकीर खींची होती है तो आप जब यह लकीर खींचे तो भी इसे ध्यान से खींच क्योंकि हिंदी शब्द के सुंदरता इसी में है.

2. पेन या पेंसिल को सही तरीके से पकड़े

जब हम लिखना शुरू करते हैं तो सभी के पेन पकड़ने का स्टाइल अलग अलग होता है. कोई पेन को उसके Nib की तरफ नजदीक से पकड़ते हैं तो कोई दूर से पकड़ते हैं. किसी की पकड़ मजबूत होती है तो किसी की पकड़ ढीली. किसी भी भाषा की लिखावट अच्छी हो इसके लिए आपको अपने पेन को सही तरीके से पकड़ना होता है. जवाब बहुत ही सख्त पकड़ बनाते हैं तो लिखते वक्त आपके हाथ की मूवमेंट अच्छी नहीं होती है जिसकी वजह से शब्दों की लिखावट भी अच्छी तरीके से नहीं निकलती.

आप अपने पैन को हल्के grip के साथ पकड़े ताके आपका पैन आपके कंट्रोल के अनुसार ही काम करें लेकिन ज्यादा सख्त भी ना रहे. इससे आपके हैंडराइटिंग अब जिस तरह से चाहो वैसे बना सकते हैं.

3. अक्षरों और शब्दों के बीच की दूरी

जब हम हिंदी हैंडराइटिंग की बात करते हैं तो इसमें जो अक्षर होते हैं वह दो तरह के स्वर वर्ण और व्यंजन वर्ण. इन सभी लेटर को सुंदरता के साथ लिखने के लिए आपको इस बात का ध्यान रखना है की इनके बीच की दूरी निश्चित रूप से बनी रहे. एक शब्द दूसरे शब्द से तो अलग लिखे जाते हैं लेकिन जो इसके अक्षर होते हैं उन्हें भी इस तरह से लिखे कि उनके बीच कम से कम दूरी बनी रहे. तभी जाकर हिंदी की राइटिंग देखने में अच्छी लगेगी.

4. जल्दी-जल्दी ना लिखें

अच्छे लिखावट के लिए सबसे जरूरी बात यह है कि आप अभ्यास करते वक्त बहुत ही धीमी गति से एक एक शब्दों को ध्यान देकर लिखें. जितना वक्त लग सकता है लगाएं लेकिन शब्दों को लिखते वक्त यह जरूर देखें कि शब्द देखने में सुंदर लग रहे हैं या नहीं.

जब जल्दबाजी करते हैं और जल्दी जल्दी लिखते हैं तो आपकी हैंडराइटिंग बिगड़ती चली जाती है. जब प्रैक्टिस कर रहे हैं तो आपको किसी प्रकार की जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए क्योंकि इससे आपकी हैंडराइटिंग में सुधार तो होगा नहीं बल्कि यह और खराब हो जाएगी. पहले आप गुणवत्ता पर ध्यान दें फिर धीरे-धीरे जितनी प्रैक्टिस आप करेंगे और जितना समय लिखने में देंगे आपकी हैंडराइटिंग उतनी बढ़िया होगी और स्पीड भी बढ़ता चला जाएगा.

5. शुद्धता का ध्यान रखें

हिंदी में गलती होने के बहुत चांसेस होते हैं. इसमें आकार और मात्रा काफी महत्वपूर्ण होते हैं और सबसे अधिक विद्यार्थियों के नंबर इसके कारण ही कट जाते हैं. तो जब आप हिंदी की प्रैक्टिस लिखने के लिए करते हैं तो उस समय ध्यान दें और इसकी शुद्धता का ध्यान रखें.

आप अपने टेक्स्ट बुक में लिखी गई कहानियों को पहले देख देख कर लिखें. हर एक मात्रा और आकार की भी वेरिफिकेशन करें कि कहीं आप गलत तो नहीं लिख रहे हैं. जब आप शुद्ध लिखने लगते हैं तो आपकी हिंदी में बेहतर हो जाती है साथ ही लिखावट की प्रैक्टिस करने के दौरान शुद्धता और गुणवत्ता दोनों बढ़िया हो जाते हैं.

6. लिखे जाने वाले कॉपी का रोटेशन चेक करें

बहुत सारे विद्यार्थी आजकल ऐसे हैं जो सीधी कॉपी को रखकर अच्छे तरीके से नहीं लिख पाते हैं. इसलिए वह अपने नोटबुक को टेढ़ी करके लिखते हैं जिससे उन्हें लिखने में काफी आरामदायक लगता है और उनकी लिखावट काफी सुंदर दिखाई देती है.

मेरी आपके लिए ये सलाह हैं कि पहले तो आप सीधी कॉफी रख कर देखें कि आपको लिखने में कैसा महसूस होता है उसके बाद हर एंगल में अपनी कॉपी को रखकर लिखने का प्रयास करें. आपको जिस ऐंगल में लगे कि आपको लिखने में कंफर्टेबल है और लिखावट भी अच्छी हो रही है तो उसी एंगल पर लिखना शुरू कर दें.

संक्षेप में

कई बच्चे अपने लिखावट को लेकर परेशान होते हैं इसलिए आज के पोस्ट में हमने जाना है कि हम अपनी हैंडराइटिंग कैसे सुधारें (how to improve handwriting in hindi). जिन बच्चों की लिखावट बहुत सुंदर होती है उन्हें अपने शिक्षकों से काफी शाबाशी मिलती है साथ ही उनके नंबर में बहुत अच्छे उठते हैं. लेकिन वहीं दूसरी तरफ जिन बच्चों की लिखावट अच्छी नहीं होती है उनकी भी दिली ख्वाहिश होती है कि वह सुंदर लिख सके और उनकी भी तारीफ हर जगह हो और एग्जाम में अच्छे नंबर लाकर पास कर सकें. इसलिए हमने आज के पोस्ट में यह भी बताया कि हिंदी में राइटिंग कैसे सुधारे जिससे कि आपकी हिंदी में अच्छे नंबर आ सकें.

इसके अलावा हमने इस पोस्ट में यह भी बताया कि इंग्लिश में राइटिंग कैसे सुधारे. आज इंग्लिश का जमाना है और सभी इंग्लिश बोलना और लिखना चाहते हैं. ऐसे में हमारा कोई स्टूडेंट पीछे रहे यह अच्छी बात नहीं है. अच्छी राइटिंग कैसे लिखें इस पोस्ट को पढ़कर आप समझ ही गए होंगे. ऊपर बताए गए सारे स्टेप्स को आप एक-एक करके फॉलो करें. अगर आप इस पोस्ट को फॉलो करते हैं तो आपके राइटिंग स्किल में सुधार बहुत जल्दी देखने को मिलेगी. अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम, फेसबुक में अधिक से अधिक शेयर करें.

 

3 COMMENTS

  1. Ji aise comment padh kar kari inspiration milta hai aur aage aur bhi mehnat karne ki taaqat bhi milti hai.

    Aap jaise visitors ke liye isi tarah ke content hum aur ready karte rahenge jisse aapko fayda ho.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here