GST Rates: क्या हुआ सस्ता और अब क्या मिल रहा महंगा जानिए जीएसटी में हुए क्या बदलाव।

किसी देश की अर्थव्यवस्था में वहां की जनता के द्वारा प्रदान किए गए राजस्व का बहुत अधिक महत्व होता है। देश में निवास करने वाले सभी नागरिकों को राजस्व देना होता है। राजस्व चुकाना सभी नागरिकों का कर्तव्य होता है। प्रारंभ में राजाओं का राज हुआ करता था । तब उन्हें कर के रूप में अपने द्वारा उत्पादित फसलों के कुछ हिस्से को देना होता था। किंतु वर्तमान में राजतंत्र की समाप्ति हो चुकी है। अब संसार के ज्यादातर देश वह स्थान में लोकतंत्र का शासन लागू हो चुका है।

प्रारंभ में राजस्व अर्थात टैक्स लोकतंत्र शासन में अलग अलग तरीके से लिया जाता था। अर्थात एक ही टेक्स्ट नहीं दिया जाता था। बहुत से टैक्स को देना पड़ता था। परंतु वर्तमान में हमारे देश भारत में यह नियम बदल चुका है। जहां पहले विभिन्न जगहों पर टैक्स लगता था अब वह टैक्स एक ही जगह पर मिला कर दिया जाता है।

इस सम्मिलित टैक्स को जीएसटी टैक्स(GST Tax )  कहा जाता है। आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि अभी हाल ही में हमारे देश भारत के वित्त मंत्री श्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में भारतीय अर्थव्यवस्था को ध्यान में रखते हुए जीएसटी काउंसिल की 47वी बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसलों को लिया गया है।

जानिए क्या है बदलाव जीएसटी टैक्स में:-

जैसा कि हम सभी को पता है कि भारत में निवास करने वाले सभी नागरिकों को जीएसटी टैक्स देना पड़ता है। जीएसटी काउंसिल के 47 वी बैठक में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। जिन के ऊपर हम विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे।

भारतीय ग्राहकों को 18 जुलाई 2022 से कुछ प्रोडक्ट्स पर दाम बढ़ाकर बताया जाएगा। बहुत से प्रोडक्ट पर अब जीएसटी टैक्स लगना प्रारंभ हो जाएगा जो पहले नहीं लगा करता था।

अब महंगाई को हवा मिलेगी। जहां देश की अर्थव्यवस्था में सुधार करने हेतु दामों में वृद्धि होगी वही कुछ उत्पादों पर लगने वाले कर में गिरावट आएगी।

यह परिवर्तन आर्थिक रूप से बहुत अधिक बड़ा है। 

जानिए कौन सी चीजों पर बढ़ेगा मूल्य:-

वैसे तो इस 47 में जीएसटी काउंसिल की बैठक में बहुत से फैसले लिए गए हैं। जिससे देश की जनता को संभवत थोड़ी तकलीफ हो सकती है।

किंतु इससे देश की तरक्की की गति में तीव्रता आएगी। उचित है कि व्यक्ति सर्वप्रथम अपने तथा अपने परिवार के विषय में सोचता है। इसी के परिणामस्वरूप बढ़ाने वाली महंगाई से कभी-कभी उन्हें क्रोध तक आ जाता है।

किंतु भारत देश के सभी नागरिकों को यह सोचना चाहिए कि इस बढ़ती हुई महंगाई से भले ही उन्हें तकलीफ हो रही है। किंतु इससे देश के विकास की गति में रफ्तार मिल रही है।

बहुत से चीजों पर सरकार ने दाम को बढ़ाया है:-

हमारी देश की गरीब जनता पर अब आर्थिक दबाव बढ़ेगा। जीएसटी काउंसिल (GST Council) ने एक महत्वपूर्ण घोषणा कर दी है। जिसके अंतर्गत उन सभी चीजों पर , जिनका प्रयोग हमारी देश की गरीब आम जनता रोजाना किया करती है पर GST Tax Rate बढ़ा दिया गया है।

इस आर्थिक बदलाव से हमारी देश की जनता को बहुत बड़ा झटका लगा है। भारतीय केंद्रीय सरकार ने देश के कई प्रोडक्ट ओर सर्विस पर जीएसटी रेट को बढ़ा दिया है। इसके परिणाम स्वरूप अब रोजाना मिलने वाली सभी वस्तुएं महंगी हो जाएगी।

ना केवल वस्तुएं महंगी होगी अपितु सेवाएं भी महंगी कर दी जाएगी। जहां देश में मिलने वाली वस्तुएं अथवा उत्पादों और सर्विस अथवा सेवाओं का मूल्य बढ़ा है वहीं कुछ चीजों से जीएसटी टैक्स (GST Tax Rate)हटा दिया गया है।

आपके जानकारी के लिए आपको बता दें कि जीएसटी काउंसिल के 45 वी बैठक में, जिसकी अध्यक्षता हमारे देश के वित्त मंत्री श्री निर्मला सीतारमण जी कर रहे थें, मैं बहुत सी वस्तुओं और सेवाओं का मूल्य निर्धारित किया गया है।

जो कि दिनांक 18 जुलाई 2022 से लागू हो चुकी है। बाजार में सभी वस्तुएं सेवाएं इसी मूल्य के अनुसार उपलब्ध कराई जाएगी।

चलिए जानते हैं क्या है वस्तुओं और सेवाओं की नई मूल्य सूची:-

  • आटा , पनीर , दही जैसी पहले से पैक की जा चुकी वस्तुओं का, जिन पर लेबल पहले से लगा हुआ होता है, वाले प्रोडक्ट्स पर अब पांच परसेंट टैक्स लग जाएगा। 
  • हॉस्पिटल में अब सेवाएं भी महंगी हो जाएगी क्योंकि अब से ₹5000 (गैर आईसीयू) से ज्यादा किराया वाले कमरों पर अब पांच परसेंट की दर से जीएसटी टैक्स लागू होगा।
  • एटलस के साथ-साथ मैप तथा चार्ट पर अब 12% की दर से जीएसटी टैक्स लागू किया जाएगा। अर्थात जितना इनका मूल्य है उसका 12% और उस मूल्य में जोड़ दिया जाएगा। तत्पश्चात आपको इस मूल्य पर भुगतान करना होगा।
  • यदि कोई व्यक्ति है, जो नया चेक बुक (लूज या बुक के रूप में)लेने का इच्छुक है तो उसको 18% की जीएसटी टैक्स चार्ज लगेगी।
  • जीएसटी टैक्स के दायरे से आज तक होटल रूम चार्जेज बाहर थे। लेकिन अब इन पर भी जीएसटी टैक्स लगेगा। अब होटल रूम चार्जेस यदि ₹1000 प्रतिदिन से कम है तो 12% जीएसटी टैक्स देना पड़ेगा।

क्या किसी ने इस बदलाव का विरोध नहीं किया:-

भला ऐसा कैसे हो सकता है कि लोकतंत्र सरकार में सत्ता वाली सरकार कोई बदलाव करें और विपक्षी दल उसका विरोध ना करें।

ऐसा तो कदापि संभव नहीं है तो जाहिर सी बात है कि विपक्षियों ने इस बदलाव का पुरजोर विरोध किया। किंतु इस विरोध से कोई खास प्रभाव नहीं पड़ा जो बदलाव किए जा चुके हैं, वे 18 जुलाई 2022 से जनहित में जारी हो चुके हैं।

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि इस बदलाव को लेकर विपक्षियों ने खूब विरोध किया। इस विरोध में राहुल गांधी ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

बाजार के किन वस्तुओं को जीएसटी टैक्स से मिली थी राहत:-

जीएसटी काउंसिल के 47 वी बैठक में बहुत से ऐसी सेवाओं और वस्तुओं पर भी जीएसटी टैक्स लागू कर दिया गया है , जिन पर पहले यह टेक्स नहीं लगता था। इन सभी वस्तुओं में अब 5 फ़ीसदी किधर से जीएसटी टैक्स लागू किया जाएगा।

चलिए जानते हैं क्या है वे वस्तुएं :-

  • मछली
  • दही
  • पनीर
  • लस्सी
  • शहद
  • सुखा मखाना
  • सुखा सोयाबीन
  • मटर
  • गेहूं
  • अन्य अनाज
  • मुरमुरे

जानिए कौन सी वस्तुएं रहेगी जीएसटी टैक्स () से परे:-

लगभग सभी वस्तुओं में तो जीएसटी टैक्स लागू कर दिया गया है। किंतु अभी भी कुछ वस्तुएं ऐसी है जो जीएसटी टैक्स रहित है। जिनका नाम हमने नीचे में बताया है-

  • अनपैक्ड प्रोडक्ट्स
  • अनलेबल्ड प्रोडक्ट्स
  • अनब्रांडेड प्रोडक्ट्स

निष्कर्ष:-

इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको जीएसटी की नई दरो के विषय में विस्तार पूर्वक बताया है। हम उम्मीद करते हैं कि हमारे आर्टिकल आपको पसंद आया होगा और यदि आपको प्रश्न से पूछना चाहते हैं तो कमेंट के जरिए पूछ सकते हैं।

लाभदायक पोस्ट पढ़ें


Important Links

WTechni HomeClick Here
Other postsClick Here
Join Telegram ChannelClick Here

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment

×