Google क्या है और किसने बनाया है? What is Google in Hindi

इंटरनेट में बार बार पूछे जाने वाले सवालों में एक सवाल ये है की Google क्या है (What is Google in Hindi)? और आप भी इसी सवाल का जवाब ढूँढ रहे हैं तो मैं आपको बता दूँ की आप बिलकुल सही जगह पर हैं क्यों की आपको गूगल से जुड़ी हर जानकारी यहाँ मिलेगी साथ ही मैं ये भी बताऊंगा कि गूगल किसने बनाया है? आज इस का इस्तेमाल पूरी दुनिया करती है. दुनिया के हर कोने में लोगो के बीच इसकी बहुत अहमियत है और सभी को हेल्प करती है. वो कैसे ? वो ऐसे समझ ले की ये एक दरवाज़ा है जो हमें इंटरनेट में छुपे लाखो करोड़ो वेबसाइट से मिलाता है. इस दरवाज़े पे जब हम knock करते हैं और जिसका नाम लिख देते हैं वो उसके के लिए सेकंड भी नहीं लेता और उसकी हर जानकारी हमें दे देता है.

ये हमारे इतने काम आता है इसीलिए आपके अन्दर ये जानने की इच्छा हुई होगी की गूगल चीज़ क्या है, गूगल की शुरुआत कैसे हुई है (History of Google in Hindi). तो ये सारी जानकारी देकर मैं आप की इच्छा को यहाँ पूरा करूँगा. इसके अलावा हम यहाँ और भी जानकारी हासिल करेंगे जैसे की गूगल का पुरा नाम क्या है और ये किस देश की कंपनी है? गूगल क्या चीज़ है इसके बनाने वाले का नाम क्या है? जिसने पूरी दुनिया को अपने इस काम से हैरान कर के रखा है. कोई इसे गूगल बाबा कहता है तो कोई ज्ञानी बाबा. तो बिना कुछ और बात करते हुए चलिए जानते हैं कि गूगल क्या है और इसका इतिहास क्या है.

Google क्या है? (What is Google in Hindi)

गूगल किसी दूसरे वेबसाइट की तरह ही एक वेबसाइट है जिसे सभी सर्च इंजन के नाम से जानते है. ये दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है जिसमे आप कुछ भी सर्च करोगे तो उसकी जानकारी आपको जरुर मिलेगी.  ये जवाब तो सभी लोग जानते हैं लेकिन ये बहुत कम जानते हैं कि Google एक Multinational Company है , जो सर्च इंजन के साथ ही और भी सेवाएं देता है जैसे क्लाउड होस्टिंग, ईमेल सर्विस, स्टोरेज ड्राइव, इंटरनेट analytics, advertisement. आप हर रोज़ प्ले स्टोर में अपने उपयोग के लिए मोबाइल एप्लीकेशन भी डाउनलोड करते होंगे, जो गूगल की ही सर्विस है.

आप इंटरनेट चलाते होंगे तो उसके लिए ब्राउज़र के रूप में क्रोम , स्मार्टफोन में ऑपरेटिंग सिस्टम (एंड्राइड) इस्तेमाल करते होंगे, ये भी इसी का प्रोडक्ट है. इंटरनेट की दुनिया में गूगल को राजा कहा जाये तो गलत नहीं होगा. अलेक्सा दुनिया के सभी वेबसाइट की ट्रैफिक के अनुसार लिस्ट बनाती है जिसमे गूगल नंबर 1 पर है क्यों की इसे सबसे ज्यादा visit किया जाता है. इसके प्रोडक्ट जैसे यूट्यूब नंबर 2 पर और ब्लॉगर के साथ बाकि सभी इस लिस्ट में टॉप 100 में ही होते है.

Google में पर सेकंड 40,000 queries सर्च किये जाते है.  जिसका मतलब है की एक दिन में 5.7 करोड़ सर्च queries ये प्रोसेस करता है. अब तो आप समझ गए होंगे की इसे सबसे ज्यादा ट्रैफिक कैसे मिलती है. इतनी खतरनाक ट्रैफिक आती है तो गूगल की कमाई कितनी होगी? क्या आप अंदाज़ा लगा सकते हैं? नहीं… तो चलिए मैं बताता हूँ की गूगल पर सेकंड Rs.59,607 कमाता है. जिसका मतलब है ये हर दिन Rs. 8.5 करोड़ की कमाई करता है.

Google का इतिहास (History of Google in hindi)

आज इंटरनेट की दुनिया में गूगल राजा है.  ये इंटरनेट से जुड़ी हर तरह की सेवा देता है जिससे लोगो को फायदा होता है. इसीलिए ये कंपनी सबसे आगे है. लेकिन इसे किसने बनाया इसकी शुरुआत कब कैसे और कहाँ से हुई ये बहुत कम लोग जानते हैं. जिसमे आज आप भी शामिल हो जाएंगे. वो वक़्त 1996 का था जब PHD कर रहे 2 छात्रों ने मिलकर आज के इस गूगल की शुरुआत की थी.

Google किसने बनाया इसका अविष्कार किसने किया ?.

कैलिफ़ोर्निया में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स Larry Page और Sergey Brian वो 2 लड़के थे जिन्होंने अपनी प्रोजेक्ट के रूप में गूगल को बनाया और इस तरह दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन की रचना हुई. इसमें कोई शक नहीं इंटरनेट के इतिहास में से एक गूगल सबसे बड़ा अविष्कार है. आज के दिन जो ये है वो यहाँ तक कैसे पहुंचा इसका सफ़र कैसा रहा चलिए जानते हैं.

  1. इन सब की शुरुआत 1995 के गर्मी के मौसम में हुई थी जब Larry Page और Sergey Brian की मुलाक़ात स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में हुई. वैसे दोनों ही बहुत इंटेलीजेंट थे इसीलिए उस वक़्त उन के विचार मिलते नहीं थे लेकिन फिर भी दोनों काफी डिस्कशन करते थे. और अंत में दोनों का झगड़ा पार्टनरशिप पर आकर के ख़तम हुआ.
  2. दोनो ने मिलकर एक सर्च इंजन बनाया जो पेज को रैंक देने के लिए बैकलिंक को जरुरी मानते थे. इसीलिए उन्होंने इसे BACKRUB नाम दिया. ये उन पेजेज को हाई रैंक देता था जो शब्द (words) सबसे ज्यादा बार सर्च किये जाते थे और वो जिस पेज में होते थे. इसके अलावा भी ये उन पेजेज को रैंक देते थे जिन के बैकलिंक्स अधिक होते.
  3. 1997 में दोनों ने BACKRUB का नाम बदल के Google कर दिया. गूगल वर्ड actually Googol से बना है जिसे गलत लिख के बनाया गया है. Googol एक मैथमेटिकल टर्म है जिसका मतलब है 1 के पीछे 100 जीरो.
  4. अगस्त 1998 में SUN Microsystems के Andy Bechtosheim ने Larry और Brian को $100000 का चेक दिया जिससे ऑफिसियल Google Inc. कंपनी बनी और garage से निकल के अपने पहले ऑफिस तक पहुंची.
  5. फिर 1998 में अपना पहले Doodle लांच किया जो  Burning Man festival in Navada के रूप में था. तब से लगातार ये नए थीम्स और सेलेबटरेशन Doodle के रूप में हमें दिखता है.
  6. इस ने 2001  में अपना पहला इंटरनेशनल ऑफिस टोक्यो में बनाया और फिर 3 साल बाद नया हेडक्वॉर्टर बना जिसे आज हम Googleplex के नाम से जानते हैं.
  7. इसके बाद से कंपनी ने पीछे मुड़ के कभी नहीं देखा. इसने एक के बाद एक नयी सेवाएं लांच की जो सिर्फ users के फायदे के लिए थी. इसी में जीमेल सर्विस भी शामिल है. जिसमे डाटा स्टोर करने के लिए काफी स्पेस दिया गया.
  8. 2005 से ये लगातार नयी नयी सर्विस लांच करता रहा है जैसे Maps और Analytics और 2006 में गूगल Calender और Translator. इस की मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्राइड 2007 में लांच की गयी. और अभी सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले ब्राउज़र क्रोम को 2008 में शुरू किया गया.
  9. इसी बीच गूगल ने सबसे बड़े वीडियो शेयरिंग वेबसाइट यूट्यूब को 2006 में खरीदकर अपने बिज़नेस को और आगे बढा दिया.
  10. इस ने एक लैब को लांच किया जिसे गूगल X  के नाम से जाना जाता है, जो delivery drones और self driving cars को डेवेलोप करने का काम करती है.
  11. इस तरह ये दुनिया का सबसे पॉपुलर सर्च इंजन बन गया. यहाँ तक की गूगल शब्द को लेक्सिकन में एक “Verb” के रूप में शामिल किया गया. इसका मतलब होता है “वर्ल्ड वाइड वेब में कुछ सर्च करना.”

एक नज़र Google के इतिहास का 1995 से अभी तक

दोस्तों चलिए जल्दी से देख लेते हैं की 1995 से अभी तक ये हम तक कैसे पहुंचा.

1995: ये वो साल था जब Larry Page और Sergey Brian स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में आपस में मिले.

1996: Larry और Sergey ने एक साथ मिलकर एक प्रोजेक्ट पर काम किया जिसका नाम BACKRUB दिया. जो वेबसाइट के बैकलिंक्स को Analyse करती और साथ सर्च किये वर्ड्स को webpages में सर्च कर के उन्हें रैंक देती थी.

1997: ये वो साल था जब गूगल ऑफिशियली बनाया गया.

1998: ये finally Incorporation के रूप में 4th सितम्बर को बना लेकिन ये अपना बर्थडे 27th को मनाते है और इसे ऑफिस के रूप में Google Inc.कंपनी के रूप में स्थापित किया गया.

1999: इसी साल अपने 8 employees के साथ ऑफिस के जगह को बदल दिया गया. उस वक़्त कंपनी ने पूंजी के 25Million डॉलर का इन्तेज़ाम किया.

2000: Google.com ने अपने साइट को 10 version में रिलीज़ किया. जिसमे  french, Swedish, Danish,  German, Italian,  Portuguese, Dutch, Spanish, Finnish, और Norwegian शामिल है और इसने याहू के साथ उसका default search provider बनने का एग्रीमेंट भी किया।

2001:  इस ने Deja.com के Usenet Discussion Service को भी खरीद लिया.

2002: 4000 सोर्सेज के साथ गूगल न्यूज़ को लांच किया.

2003:इस ने Pyra Labs को ख़रीदा जो की bloggers के क्रिएटर है.  American Dialect society के द्वारा “गूगल” को ईयर 2002 के लिए सबसे ज्यादा useful वर्ड चुना गया।

2004: जीमेल सर्विस लांच किया गया.

2005: इसी साल  नयी सर्विसेज G-Map, G-earth और G-Talk की शुरुरात हुई.

2006:  इस साल इसको चीन में लांच किया गया और यूट्यूब को खरीद के गूगल में मिला दिया गया। G-apps और G-Suite को लांच किया गया.

2007:  Online advertising कंपनी Double click को इस ने ख़रीदा.

2008: Yahoo के साथ पार्टनरशिप का announcement किया गया और इसके अलावा chrome browser लांच हुआ.

2009: Sergey brin और Larry Page दुनिया के सबसे पावरफुल लोगो में 5th नंबर हासिल किया.

2010: ये कंपनी इसी साल मोबाइल मार्किट की दुनिया में एंटर हुआ जिसके लिए उसने अपने पहले एंड्राइड फ़ोन Nexus One को बनया।

2011: Google+ का लांच किया गया जिसके सीईओ Larry Page बने. इसी साल Cloud प्लेटफार्म भी शुरू किया गया.

2012: इसने नए प्रोजेक्ट की शुरुआत की जिसका नाम था Project Glass. इसके साथ ही स्टोरेज के लिए Drive  और Application के लिए Play Store लांच किया गया.

2013: इस साल में इसने अपने chat platform की शुरुरात की जिसका नाम है Hangout.

2014: Nest नाम की कंपनी को इस ने खरीद लिया जो Wifi enabled thermostat, smoke detector सिस्टम बनाती है।

2015: इसने एलान किया की अब वो अल्फाबेट नाम से होल्डिंग कंपनी के रूप में सबको reorganize करेंगे।  Larry इसके सीईओ बने जबकि इसी साल Sundar Pichai को गूगल का सीईओ बनाया गया।

2016: Learning course के लिए Udacity लांच की गयी.
तो दोस्तों अब तक आप इस का इतिहास अच्छे से जान हो गए होंगे. और इस हिसाब से नहीं लगता की ये कभी रुकेगा.  हर दिन कुछ नया लाते रहते हैं. अब तो बस हमें देखना है की आगे और क्या सर्विस हमें देते हैं.

Google की useful services ( Services and products of Google)

हम रोज़ गूगल के ही सर्विसेज का इस्तेमाल करते है। शायद ये आपको मालूम होगा की इस के कितने प्रोडक्ट्स है। क्यों की आप भी इनका इस्तेमाल हर रोज़ करते होंग। अगर नहीं मालूम तो कोई बात नहीं हम यहाँ आपको बतायेंगे।

Analytics:

Analytics वेबमास्टर और App  डेवलपर के काम आता है. जब कोई वेबसाइट बनता है तो उसे Google वेबमास्टर में जाकर रजिस्ट्रेशन करना होता है और अपने वेबसाइट का sitemap अपलोड करना होता है और इसके साथ ही Analytics में account signup करना होता है जिससे webmaster को ये पता चलता है की उसके वेबसाइट को कितने लोगो ने Google के माध्यम से आकर खोला है.

Android:

ये अभी मोबाइल में उपयोग होने वाला सबसे पॉपुलर ऑपरेटिंग सिस्टम है.

Gmail:

 जीमेल का इस्तेमाल मेल भेजने और रिसीव करने के लिए इस्तेमाल होता है साथ ही एक gmail ID में लोगिन कर के आप गूगल के हर सर्विस का इस्तेमाल कर सकते है। बस आपको सर्विस में इसी gamil अकाउंट  से signup करना होता है।

Drive:

ऑनलाइन अपने फाइल्स को स्टोर करने के लिए फ्री में हम इस ड्राइव का इस्तेमाल करते हैं साथ ही फाइल्स को शेयर कर के डाउनलोड भी कर सकते हैं.

Docs:

ऑनलाइन माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस से जुड़े सारे काम करने के लिए इसका इस्तेमाल करते है। इसमें एक्सेल और वर्ड के सभी फाइल्स को ऑनलाइन देख सकते हैं पढ़ सकते हैं.

Calender:

कपणे रोज़ के कामो को इसमें हम सचेडूले बना कर रख सकते है। और आने वाले इवेंट्स को सेव कर के रख सकते है।

Earth:

Earth भी हमारे बहुत काम का feature है.  इस का उपयोग कर के दुनिया के कोने कोने को हम आराम से घर बैठे देख सकते हैं.

Map:

आप तो गूगल Map के बारे में पहले से बहुत कुछ जानते ही होंगे और इसका इस्तेमाल भी करते होंगे. Google Map हमे rela time navigation की सुविधा भी देता है जिससे हम अपना current location देख पाते हैं और इस तरह दुनिया के किसी भी कोने में जाएँ हम पता लगा सकते हैं की उस वक़्त हम  और अब कहाँ और कैसे जाना है. आप सफ़र करते हुए भी अपनी लोकेशन को देख सकते हैं.

Talk:

इस सर्विस का इस्तेमाल कर के हम Voice और मैसेज के द्वारा बात कर सकते हैं.

Photos:

यहाँ से आप बहुत सारे फोटोज फ्री में डाउनलोड कर के इस्तेमाल कर सकते हैं.

Translator:

आप किसी भी भाषा को अपनी भाषा में अनुवाद कर सकते है। ये क़रीब 100 भाषा को ट्रांसलेट करने के लिए programmed  है।

Firebase:

Mobile apps के यूजर डेटा सेव करने और पुश नोटिफ़िकेशन भेजने के लिए Firebase का इस्तेमाल करते हैं. ये उनके Mobile app के visitor के डाटा को manage करने में बहुत काम आता है।

Conclusion

दोस्तों मैं उम्मीद करता हु की आपको गूगल क्या है (What is Google in Hindi) की जानकारी बहुत पसंद आई होगी। अब आप किसी को भी इस से जुड़े सवालो जैसे गूगल किसने बनाया हैऔर इस का इतिहास (History of Google in Hindi)  का जवाब दे सकते है। ये इतनी बड़ी कंपनी है की हर कोई इससे जुड़ना चाहता है। वैसे गूगल अपने लैब में अब ऑटोमेशन में भी काम कर के कुछ अलग करने में लगा है।

दोस्तोँ अगर आपको आज की पोस्ट अछि लगी हो तो इसे अपने फ्रेंड्स के साथ भी जरुर शेयर करे। इसे उन्हें भी ये जानने में मदद मिलेगी कि गूगल किसे कहते हैं और इसकी शुरुआत कैसे हुई। अपने फसबूक, ,  और गूगल  में इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर

Google क्या है और किसने बनाया है? What is Google in Hindi
5 (100%) 12 votes

8 Comments

  1. Abhishek bhandari September 13, 2018
    • wasim akram September 13, 2018
  2. Afzal khan September 27, 2018
  3. mirajkhan October 23, 2018
    • wasim akram October 23, 2018
  4. Akhilesh November 13, 2018
    • wasim akram November 13, 2018

Leave a Reply

%d bloggers like this: