URL Full Form – URL का फुल फॉर्म क्या है?

आज हम में से अधिकतर लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं लेकिन कम ही लोगों को पता होता है कि यूआरएल का फुल फॉर्म क्या है (URL Full Form). टेक्निकल लोगों को अधिकांशत या बताई होता है कि इसका अर्थ क्या है हिंदी में पूरा नाम क्या होता है?

वैसे हर किसी को जानना चाहिए की क्योंकि आज इंटरनेट पर लोगों का रुझान बढ़ता जा रहा है और इसलिए इसकी लोकप्रियता भी बढ़ रही है. माता-पिता भी चाहते हैं उनके बच्चे एडवांस टेक्नोलॉजी सीखे पर किसी से पीछे ना रहे.

अगर आप इस पोस्ट को पढ़ रहे हैं और यह जानने की इच्छा रख रहे हैं कि इसका पूरा नाम क्या होता है तो वास्तव में आप तकनीक की दुनिया में प्रवेश कर चुके हैं और इसीलिए यह जानने के लिए यहां पर आए हैं.

यूआरएल का पूरा नाम क्या है – What is the full form of URL in Hindi?

url ka full form kya hai - URL का फुल फॉर्म क्या है?
URL का फुल फॉर्म क्या है?

यूआरएल का फुल फॉर्म Uniform Resource Locator है.

हिंदी में कहें तो इसका पूरा नाम यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर होता है जिसका अर्थ है सम स्रोत निर्धारक. URL क्या होता है इसे सरल शब्दों में आपको बता देते हैं इसका इस्तेमाल किसी भी ऑनलाइन वेब पेज को नाम देने या फिर उसे खोजने के लिए होता है अगर सीधी भाषा में कहें तो इंटरनेट में किसी भी वेबसाइट के एक पेज का यह एड्रेस होता है.

इसकी मदद से हम उस वेबसाइट के पेज पर पहुंच सकते हैं जहां से आपको जानकारी लेनी होती है. उदाहरण के लिए मान लीजिए कि हमें दिल्ली में रह रहे रिश्तेदार को किसी प्रकार का पार्सल या फिर चिट्ठी भेजना है तो हम उनका एड्रेस लिखेंगे.

इस प्रकार एड्रेस की सहायता से जो डाकिया होता है वह हमारे चिट्ठी या पार्सल को हमारे रिश्तेदार तक आसानी से पहुंचा देगा. ठीक उसी प्रकार इंटरनेट में भी वेब एड्रेस होता है जिसकी मदद से किसी भी पेज में पहुंचा जा सकता है.

हां लेकिन हर पेज का अपना अलग ही एड्रेस होता है. दो अलग-अलग पेज का एक एड्रेस नहीं हो सकता है.

यूआरएल कैसे काम करता है?

अगर शुरुआत के समय की बात करें तो उस वक्त वेब एड्रेस नहीं होता था सीधे तौर पर ip-address का इस्तेमाल किया जाता था. आईपी एड्रेस क्या होता है तो यह भी चाहिए जान लेते हैं आईपी का पूरा नाम होता है इंटरनेट प्रोटोकोल.

लेकिन आईपी एड्रेस को याद करना काफी मुश्किल है और इसीलिए बैक एंड पर आईपी ऐड्रेस काम करता है एंड पर हमें अक्षर से लिखे हुए वेब एड्रेस दिखाई देते हैं. बिना आईपी एड्रेस के किसी भी नेटवर्क में कनेक्ट कर पाना नामुमकिन है.

हर कंप्यूटर, स्मार्टफोन, इंटरनेट कनेक्शन का अपना अलग आईपी एड्रेस होता है एड्रेस के माध्यम से किसी भी यंत्र को ट्रेस भी किया जाता है. आप जो डिवाइस इस्तेमाल कर रहे हैं इंटरनेट चलाने के लिए उसका भी एक अपना अलग आईपी एड्रेस होता है.

चलिए अब एक उदाहरण के द्वारा समझ लेते हैं कि आई पी एड्रेस की जगह में इस एड्रेस प्रकार का इस्तेमाल क्यों होता है. मान लीजिए आपको amazon.com खोलना है. तो अगर आपको एक आईपी एड्रेस दे दिया जाए और कहा जाए कि इसे याद रखें ठीक मोबाइल नंबर की तरह तब कितने आईपी एड्रेस याद रखते हैं?

मुश्किल से 10 आईपी एड्रेस को आप याद कर के रख सकते हैं. लेकिन अगर उससे ज्यादा की आपको जरूरत हो तो क्या करेंगे आप?

इस समस्या को हल करने के लिए URL का इस्तेमाल किया गया.

आईपी एड्रेस कुछ इस तरह का होता है 172.125.14.23 और एक यूआरएल एड्रेस इस प्रकार का होगा https://www.amazon.com

मान लीजिए यह एड्रेस amazon.com का है. इसी प्रकार से किसी दूसरे वेबसाइट का एड्रेस होगा. अब आप ही बता दीजिए की किस प्रकार के एड्रेस को आप याद रखने में आसानी महसूस करेंगे

तो हमें वेबसाइट का इस तरह से डिजिट में एड्रेस को याद रखना पड़े इसके लिए काफी मददगार साबित हुआ.

निष्कर्ष

हमारे देश में इंटरनेट की पॉपुलर सिटी पिछले कुछ वर्षों में काफी तेजी से बढ़ी है. इंटरनेट यूजर्स की संख्या की वृद्धि इतनी तेज गति से हुई है कि इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या की बात करें तो बाकी दुनिया के जितने भी देश हैं उनसे कहीं आगे भारत पहुंच चुका है.

लेकिन इंटरनेट से जुड़ी हर प्रकार की जानकारी का होना अभी काफी जरूरी है और इसीलिए आज के पोस्ट में हमने आपको बताया कि यूआरएल का पूरा नाम क्या है (What is the full form of URL in Hindi) एवं इसका अर्थ क्या है.

हम उम्मीद करते हैं कि इस पोस्ट से आपको काफी कुछ सीखने को मिला होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here