OTT का फुल फॉर्म क्या होता है? ओटीटी के प्रकार और फायदे.

आज की जनरेशन में ओटीटी प्लेटफार्म के माध्यम से मनोरंजन के लिए  वीडियोस और वेब सीरीज या फिल्में देखी जा रही है, आज आप हमारे इस आर्टिकल के माध्यम से जानेंगे की ओटीपी का फुल फॉर्म क्या है (OTT Full Form).

सभी वीडियोस  एप जैसा यह ओटीटी प्लेटफॉर्म भी हमारे मनोरंजन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह प्लेटफॉर्म भी इंटरनेट से जुड़ा हुआ होता है जिस के थ्रू हम अनेक प्रकार के सीरियल या फिल्में या फिर सोशल मीडिया से संबंधित वीडियोस देख पाते हैं.

ओटीटी क्या है – What is OTT in Hindi?

ओटीटी एक ऐप है जो इंटरनेट से जुड़ा हुआ होता है जिसके माध्यम से हम अपने इच्छा अनुसार किसी भी प्रकार की वीडियोस या फिल्में देख पाने में सक्षम होते हैं. 

इस प्लेटफार्म के जरिए ओरिजिनल सीरियल और फिल्में दिखाई जाती है जिसमें किसी भी प्रकार की डायलॉग को कट नहीं किया जाता ओरिजनली बनाए गए वीडियोस हमें इस प्लेटफार्म के जरिए देखने को मिलता है.

वहीं दूसरी और अगर हम दूसरे ऐप के माध्यम से कोई वीडियोस देखते हैं या फिल्म देखते हैं तो उसमें हमें कुछ स्टेप काटकर दिखाई जाती है 

लेकिन ओटीटी एप् एक ऐसा प्लेटफार्म है जिसने हमें ओरिजिनल सीरियल फिल्म देखने को मिलता है.

ओटीपी का फुल फॉर्म क्या है – OTT Full Form?

ओटीटी का फुल फॉर्म Over The Top (ओवर द टॉप) होता है.

जिसके माध्यम से हम लोग अपनी इच्छा अनुसार किसी भी प्रकार के वीडियोस देख पाते हैं जिसके अंतर्गत हमें ओरिजिनल वेब सीरीज देखने को मिलता है जिसमें किसी भी प्रकार की डायलॉग या स्टेप कट नहीं होती.

हालांकि बहुत से ऐसे ऐप है जिसके जरिए लोग वीडियोस देखते हैं लेकिन इस ओटीटी प्लेटफॉर्म के जरिए हम अपनी इच्छा अनुसार किसी भी प्रकार की वीडियोस आसानी पूर्वक और ओरिजिनल देख पाते हैं.

अमेरिका जैसे बड़े देश में इंटरटेनमेंट के साधन के लिए ओटीटी जैसे ऐप का अत्यधिक इस्तेमाल किया जा रहा है जिसके माध्यम से वहां के लोग हर एक प्रकार की फिल्में या वेब सीरीज इस ओटीटी प्लेटफॉर्म के जरिए ही देखते हैं.

वहीं अगर हम भारत की बात करें तो भारत देश में भी इस ओटीटी ऐप की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है अधिकतर लोग के फोन में या ऐप उपलब्ध होता है और इसके माध्यम से लोग अपने अनुसार कई प्रकार के फिल्में या वेब सीरीज देखते हैं.

ओटीटी के एप्लीकेशन

भारत में प्रयोग किए जाने वाले ओटीटी प्लेटफॉर्म के एप्लीकेशंस निम्नलिखित है:-

  • नेटफ्लिक्स
  • जी 5
  • ऐमेज़ॉन प्राइम
  • बूट
  • हॉटस्टार

इन सभी एप्लीकेशन ओटीटी प्लेटफार्म के अंतर्गत आता है जिसका इस्तेमाल भारत के लोगों द्वारा उपयोग किए जाने वाले इंटरनेट के साधन जैसे फोन लैपटॉप ,कंप्यूटर इत्यादि में किया जाता है. 

यूजर ओटीटी के इन एप्लीकेशन को अपने फोन या कंप्यूटर में डाउनलोड करके इसका इस्तेमाल अपने  अनुसार वीडियोस को देखने में करते हैं.

जो यूजर ओटीटी  के इन एप्लीकेशंस का यूज करते हैं उनको इसके लिए सब्सक्रिप्शन लेना पड़ता है तभी वह इन एप्लीकेशंस का इस्तेमाल कर सकते हैं, 

भारत में ओटीटी के इन एप्लीकेशन का सब्सक्रिप्शन मंथली डेढ़ सौ से 300 रुपए देकर लेना होता है. आप ईयरली भी सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं. 

इस प्रकार ओटीटी  के एप्लीकेशंस का इस्तेमाल करने के लिए हमें कुछ पैसे पे करने होते हैं तभी हम zee5 , अमेजॉन प्राइम या नेट फिक्स इत्यादि जैसे एप्लीकेशंस का यूज कर सकते हैं.

ओवर द टॉप सर्विस के फायदे

जब से ओटीपी सर्विस आई है उस समय से लोग इस प्लेटफार्म के जरिए अपने फोन या लैपटॉप में इसे डाउनलोड करने के साथ-साथ सब्सक्रिप्शन लेकर अपने मनोरंजन के लिए विभिन्न प्रकार के एंटरटेनमेंट वीडियोस या फिल्में देखते हैं.

क्योंकि जब ओटीटी सर्विस हमारे यहां उपलब्ध नहीं थी उस समय लोगों का मनोरंजन टीवी कनेक्शन, d2h, डीटीएच, डिश टीवी इत्यादि से होता था वे लोग इन सभी कनेक्शन का उपयोग करके टीवी के माध्यम से फिल्में यह सीरियल देखा करते थे.

ओटीटी के एप्लीकेशन के माध्यम से हमें ओरिजिनल कंटेंट या वेब सीरीज देखने को मिलता है, अन्य प्लेटफार्म के अपेक्षा इस ओटीटी प्लेटफॉर्म में ओरिजिनल वीडियोस दिखाई जाती है, वहीं अन्य प्लेटफार्म में जब आप किसी फिल्म को देखते हैं तो उसमें कई ऐसे डायलॉग होते हैं जो कट कर दिए जाते हैं लेकिन इस एप्लीकेशंस में हमें ओरिजिनल कंटेंट देखने को मिलती है.

ओटीटी प्लेटफॉर्म के कुछ एप्लीकेशन जैसे अमेज़न प्राइम और नेटफिक्स ने अपने खुद का ओरिजिनल कंटेंट बनाना शुरू किए हैं जिसमें हमें  मनचाही वीडियो देखने को मिलेगा.

ओटीटी  के अनेक एप्लीकेशंस उपलब्ध है जिसमें यूज़र अपने इच्छा अनुसार किसी भी एप्लीकेशन स्कोर अपने मोबाइल या लैपटॉप में डाउनलोड करके इसका यूज अपना मनोरंजन के लिए कर सकता है.

यूजर इस ऐप को अपने फोन या लैपटॉप में ऐप स्टोर के द्वारा डाउनलोड कर सकते हैं और फिर मंथली या ईयरली इसका सब्सक्रिप्शन लेकर अपने अच्छा अनुसार कंटेंट देखते हैं.

ओटीटी सर्विस के प्रकार:-

ओटीटी सर्विस के प्रकार निम्नलिखित हैं:-

  • TVOD
  • SVOD
  • AVOD

TVOD( transactional Video on demand):-

इस ओटीटी सर्विस को फिल्म डायरेक्टर के द्वारा बनाए गए फिल्म को एक बार खुद से देखने के लिए खरीदा जाता है या फिर कई बार इस सर्विस को किराए पर भी लिया जाता है जिसके माध्यम से बनाए गए फिल्म देखे जाते हैं.

SVOD ( subscription Video on demand):-

ओटीटी के एप्लीकेशन का यूज़ करने के लिए यूजर के द्वारा सब्सक्रिप्शन लिया जाता है सब्सक्रिप्शन लेने के बाद ही ओरिजिनल कंटेंट या वेब सीरीज देखी जा सकती है.

AVOD ( advertising Video on demand):-

इस ओटीटी सर्विस में यूजर को फ्री में कंटेंट दिखाया जाता है जिसमें उन्हें कंटेंट के साथ-साथ एड्स भी देखने पड़ते हैं. यह सर्विस एड्स का एडवर्टाइज के लिए बना है जिसमें कंटेंट के साथ-साथ एड्स का एडवर्टाइजमेंट भी दिखाया जाता है.

ओटीटी विज्ञापन क्या है?

ओटीटी विज्ञापन में छोटे तथा बड़े कंपनियों के प्रोडक्ट का एडवर्टाइजमेंट दिखाया जाता है, इस एप्लीकेशन में कंटेंट के साथ-साथ एड्स भी  प्रदर्शित कराई जाती है जिसमें यूजर ओटीटी विज्ञापन के द्वारा विभिन्न प्रकार के ऐड्स को भी देखते हैं.

कंपनियों के लिए ओटीटी विज्ञापन अधिकतर इस्तेमाल किए जाते  है जिसमें कंपनी के द्वारा बनाए गए प्रोडक्ट का प्रचार के लिए अनेक प्रकार के वीडियो के साथ  प्रोडक्ट का ऐड भी दिखाता है.

ओटीटी विज्ञापन,कंपनी के प्रोडक्ट का ऐड प्रदर्शित करने के लिए लाखों लाख रुपए लेते हैं यदि किसी कंपनी के द्वारा टूथपेस्ट बनाया गया हो और उस कंपनी को इसका ऐड वीडियो के साथ डालना है तो इसके लिए ओटीटी विज्ञापन लाखों लाख रुपए लेती है.

फिर उनका ऐड सीरियल हो या फिल्म हो इसके प्रचार के रूप में दिखाते हैं. ओटीटी विज्ञापन बिजनेस के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण विज्ञापन माना जाता है.

क्योंकि इस ओटीपी विज्ञापन के द्वारा बहुत सारी कंपनियां अपने बनाए गए प्रोडक्ट का ऐड दिखा पाती है जिससे लोगों को इनके द्वारा बनाए गए प्रोडक्ट के बारे में जानकारी मिलती है और इस तरह उनके प्रोडक्ट अच्छी मात्रा में बिकते हैं. एक प्रोडक्ट का एडवर्टाइज के लिए कई लाख रुपए दिए जाते हैं.

भारत में ओटीटी प्लेटफॉर्म

भारत में ओटीटी प्लेटफॉर्म के बहुत सारे एप्लीकेशन यूजर के द्वारा इस्तेमाल किए जाते हैं जैसे अमेजॉन प्राइम, zee5, बूट इत्यादि, इन सभी एप्लीकेशंस के जरिए लोग अपनी पसंदीदा फिल्म सीरियल, न्यूज़, स्पोर्ट्स, किड्स शो देखते हैं.

इन सभी ओटीटी प्लेटफॉर्म में कुछ मेंबरशिप बेस्ट होता है तो कुछ ओटीटी प्लेटफॉर्म के एप्लीकेशन सब्सक्रिप्शन पर बेस्ट होता है तो कुछ एप्लीकेशन फ्री में होता है जिसमें ऐड दिखाए जाते हैं.

भारत के ओटीटी प्लेटफॉर्म्स निम्नलिखित हैं:-

  • Amazon prime videos
  • SONY LIV
  • ZEE5
  • VOOT

अमेज़न प्राइम वीडियो:-

अमेज़न प्राइम वीडियो प्लेटफार्म का एक ऐसा एप्लीकेशन है जिसके माध्यम से हमें अपने मनोरंजन के लिए अनेक प्रकार की वीडियोस सीरियल और फिल्में ओरिजिनल ही दिखाई जाती है.

सोनी लिव :-

सोनी लिव सभी ओटीटी  एप्लीकेशंस के जैसा एक महत्वपूर्ण एप्लीकेशन माना जाता है जो भारत के  मनोरंजन के लिए वीडियोस ऑन डिमांड कहा जाता है, यह भारत में बनाए गए होलीवुड फिल्म के संगीत को बढ़ावा देने वाला भारत का पहला ओटीटी प्लेटफॉर्म है.

सोनी लिव एप्लीकेशन का सब्सक्रिप्शन लेने के लिए प्रतिमाह ₹299 तय करने होते हैं तथा 6 महीने का सब्सक्रिप्शन लेने के लिए ₹999 करना होता है.

Zee5:-

ओटीटी के इस एप्लीकेशन को भारतीय वीडियो सॉन्ग डिमांड कहा जाता है जो काफी प्रसिद्ध है इसे 14 फरवरी 2018 ईस्वी को लॉन्च किया गया था जिसमें 12 भाषाओं का कंटेंट भी तैयार किया गया था.

Zee5 का का यूज करके लोग बिना एड्स के कोई भी वेब सीरीज या सीरियल या फिर  फिल्म ओरिजिनल ही देख सकते हैं क्योंकि इस एप्लीकेशन में एड्स या किसी चीज का एडवर्टाइजमेंट नहीं किया जाता. यूजर मनचाहे वीडियोस बिना एड्स के देख सकते हैं.

VOOT:-

बूट  ओटीटी का ऐसा एप्लीकेशन है जो सिर्फ भारत में उपलब्ध है इसे मार्च 2016 ईस्वी को लांच किया गया था, इस एप्लीकेशन में सीरियल फिल्में और अन्य वीडियोस एड्स के साथ दिखाए जाते हैं इसके साथ साथ विभिन्न भाषाओं के वीडियोस हमें इस एप्लीकेशन में देखने को मिलता है. 

यह एप्लीकेशन 2020 में बूट सिलेक्ट नाम की पेट सब्सक्रिप्शन सेवा लांच की. बूट ओरिजिनल कंटेंट पेट सब्सक्रिप्शन पर उपलब्ध कराती है जो यूजर इस ऐप का सब्सक्रिप्शन लेते हैं उन्हें ही इस एप्लीकेशन के द्वारा ओरिजिनल कंटेंट प्रदान किए जाते हैं.

यह सभी एप्लीकेशंस ओटीटी प्लेटफार्म के अंतर्गत आता है इन सभी के साथ-साथ ऐसे बहुत से ओटीटी एप्लीकेशंस आने वाले हैं, जिसमें ओरिजिनल कंटेंट दिखाया जाएगा. 

पूरे विश्व भर में बड़ी-बड़ी कंपनियां अपनी सुविधा के लिए  ओटीटी एप्लीकेशंस का इस्तेमाल अधिक से अधिक कर रहे हैं.

निष्कर्ष

ओटीटी प्लेटफॉर्म सभी इंटरनेट यूजर्स के लिए बहुत हेल्पफुल माना जाता है इसलिए इसका उपयोग दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. 

आज हमने इस आर्टिकल के माध्यम से आपको बताया की ओटीटी का फुल फॉर्म क्या होता है (What is the full form of OTT in Hindi)?

इसके साथ-साथ आप यह भी जाने की ओटीटी  के एप्लीकेशंस कौन-कौन हैं एवं इसके प्रकार कितने हैं?

आशा है आपको ओटीटी से संबंधित जानकारी आसानी पूर्वक समझ में आई होगी.

Leave a Comment