ISRO Full Form – ISRO का पूरा नाम क्या है?

NASA का नाम तो आपने सुना ही होगा कि अंतरिक्ष अनुसंधान में इस संस्थान के सबसे बड़ी भूमिका है.

लेकिन हमारे भारत में भी अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र है जिसे हम इसरो के नाम से जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसरो का फुल फॉर्म क्या है (ISRO Full Form).

अगर आप नहीं जानते हैं कि इस शब्द का हिंदी में पूरा नाम क्या है और इसका अर्थ क्या होता है तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें.

हमारा देश भारत भी अन्य देशों से अंतरिक्ष मामलों में कम नहीं है क्योंकि अभी तक हमने चांद और मंगल पर अपने प्लान को सक्सेसफुली एग्जीक्यूट किया है और आगे भी प्रयास किए जा रहे हैं कि चांद में अपना यार उतारा जाए.

ताकि वहां से नमूने लेकर उनकी जांच की जा सके और पता लगाया जा सके कि चांद में पानी मौजूद था या नहीं था .

भारत की तरफ से मंगलयान मिशन सक्सेसफुल सफलतापूर्वक पूरा किया गया था और मंगल के ऑर्बिट में हमारा भेजा हुआ मिशन सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया गया एवं वहां से कई तरह के रिसर्च में पूरी की गई.

ISRO का फुल फॉर्म क्या है – What is the full form of ISRO in Hindi?

ISRO का फुल फॉर्म “Indian space research organisation” होता है.

इसे हिंदी में “ इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन” कहते हैं.

इसका अर्थ भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन होता है.

15 अगस्त 1969 को विक्रम साराभाई द्वारा ISRO की स्थापना की गई थी.

भारत को विश्व का छठा देश बनाने में इसरो का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान रहा है.

क्योंकि इसके सफल प्रयासों के कारण है यह स्वयं सैटेलाइट और अन्य उपकरण का निर्माण करता है एवं इसे अंतरिक्ष की कक्षा में स्थापित भी कर सकता है.

पूरे भारत देश में इसरो संगठन के कई केंद्र है, जिससे अनुसंधान एवं तकनीक का विकास किया जाता है.

भारत सरकार का अंतरिक्ष विभाग के अंतर्गत इसरो एक ऐसा संगठन है जिससे अंतरिक्ष संबंधित अनुसंधान करके सैटेलाइट और तकनीक का निर्माण किया जाता है.

विकास के कार्य  और भारत की सुरक्षा के लिए इस तकनीक का प्रयोग किया जाता है.

भारत को आंतरिक  तथा बाहरी सुरक्षा प्रदान करने एवं अंतरिक्ष कार्यक्रमों के लिए इसरो ही उत्तरदाई  होता है. इसका मुख्यालय बेंगलुरु में स्थित है.

भारत चंद्रयान-2 जैसे भी सफल परीक्षण किए हैं. इसे 22 जुलाई 2019 में श्रीहरिकोटा से भारत के समय अनुसार अपराहन 2:43 को सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया गया.

ऐसा करने से भारत विश्व के सामने एक अंतरिक्ष शक्ति बनकर उभरा है. इसरो और उनके वैज्ञानिकों को इसका पूरा श्रेय दिया जाता है. पूरे भारत देश में इसरो के 6 प्रमुख केंद्र एवं कई अन्य इकाइयां, सुविधाएं, एजेंसी और  प्रयोगशाला  स्थापित है .

यह केंद्र इस प्रकार है: – विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी)  तिरुअनंतपुरम, द्रव नॉर्दर्न प्रणाली केंद्र (एलपीएससी) तिरुअनंतपुरम, इसरो उपग्रह केंद्र (आईएसएसी) बेंगलुरु, सतीशधवन अंतरिक्ष केंद्र (SDSC – SHAAR) श्रीहरिकोटा, बेंगलुरु और महेंद्र गिरी में, अंतरिक्ष उपयोग केंद्र (SEC ), अहमदाबाद में और राष्ट्रीय सुदूर संवेदन केंद्र ( एनआरएससी) हैदराबाद में स्थित है.

निष्कर्ष

जहाँ एक ओर नासा ने मंगल गृह में अपना रोवर सफलता पूर्वक उतरा जो वहां पर घूमकर सूचनाएं भेजता है. वहीँ दूसरी ओर हमारे देश के वैज्ञानिकों ने भी एक ऑर्बिटर मंगल गृह के कक्षा में प्रवेश कराया।

जो लगातार इस के चक्कर काटता है और वहां से सूचनाएं भी भेजता है. अब आपको समझ में आ गया होगा कि ISRO का फुल फॉर्म क्या है (What is the full form of ISRO in Hindi) और इसका अर्थ क्या होता है.

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो ऐसे दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here