ECS Full Form – ECS का पूरा नाम क्या है?

ट्रांसफर करना वह भी एक बैंक से दूसरे बैंक के किसी अकाउंट में काफी आसान हो चुका है इसकी सबसे बड़ी वजह है कि आज तेजी से विकसित हो रही तकनीक ने हमारे काम को काफी आसान कर दिया है तो अगर आप नहीं जानते हैं कि ECS का फुल फॉर्म क्या है (ECS Full Form).

इसके अलावा आपको ये भी बताएँगे की इस शब्द का हिंदी में में पूरा नाम क्या है और इसका क्या अर्थ है.

ECS का फुल फॉर्म क्या है – What is the full form of ECS in Hindi?

ECS का फुल फॉर्म “Electronic Clearing Service” होता है.

इसे हिंदी में “इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सर्विस” कहते हैं. इसका अर्थ “विद्युतीय समाशोधन सेवा” होती है.

ECS बैंक में पैसे ट्रांसफर करने का एक बहुत ही अच्छा विद्युतीय विकल्प है. इसके द्वारा एक बैंक खाते से दूसरे बैंक खाते में बहुत ही आसानी से पैसे ट्रांसफर किए जा सकते हैं. यह विद्युतीय मोड प्रकृति में दोहराव और आवधिक है.

यह किसी भी ग्राहक को खाते से जुड़े विद्युतीय क्रेडिट और डेबिट कार्ड से लेन देन की सुविधा भी प्रदान करता है. संस्थानों द्वारा ब्याज, वेतन, लाभांश आदि के वितरण के लिए मात्रा का भुगतान करने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है.

इसके अलावा पानी के बिल, कर संग्रह, टेलीफोन/बिजली, ऋण की किस्ते चुकाना, बीमा प्रीमियम, म्यूचुअल फंडों में आवधिक निवेश इत्यादि के लिए मात्रा के थोक संग्रह के लिए भी किया जाता है.

यह राष्ट्रीय स्वचालित क्लीयरिंग हाउस (NACH) के तहत ईसीएस ( ECS) में राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) द्वारा संचालित संसाधित लेनदेन शामिल है.

ईसीएस की दो प्रकार की सेवाएं हो सकती हैं:

ECS Credit: एक संस्था द्वारा बड़ी संख्या में लाभार्थियों (उदाहरण के लिए कर्मचारियों, निवेशकों आदि) के लिए क्रेडिट कार्ड दर्ज करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है.

यह क्रेडिट उपयोगकर्ता संस्थान के ब्याज, वेतन, लाभांश, पेंशन इत्यादि के वितरण के लिए राशियों के भुगतान को सक्षम बनाता है.

ECS Debit: एक संस्था द्वारा बड़ी संख्या में खातो (उदाहरण के लिए उपयोगिता सेवाओं के उपभोक्ताओं, म्यूचुअल फंडों में निवेशकों, उधारकर्ताओं आदि) के लिए ईसीएस का उपयोग कर केंद्र के अधिकार क्षेत्र के भीतर विभिन्न स्थानों पर बैंक शाखाओं के साथ बनाए रखने के लिए किया जाता है.

आसान शब्दों में कहा जाए तो ईसीएस डेबिट में, हम अपने ऋण, म्यूच्यूअल फंड, पॉलिसी के प्रीमियम आदि के लिए EMI के रूप में भुगतान करते हैं. इस सर्विस के द्वारा सही समय पर बिलों का भुगतान किया जाता है.

इसमें ग्राहकों की संतुष्टि को ज्यादा से ज्यादा अहमियत दी जाती है. इसमें भुगतान में देरी होने पर भी कोई शुल्क नहीं लगता है.

इस सर्विस से कागज का उपयोग बहुत ही कम हो गया है.

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में आपने जाना की ECS का फुल फॉर्म क्या है (What is the full form of ECS in Hindi)?

यहां आपने यह भी जाना कि इस शब्द का हिंदी में पूरा नाम क्या है और इसका अर्थ क्या होता है अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे दोस्तों के साथ में जरूर शेयर करें.

Leave a Comment