DDT Full Form – DDT का पूरा नाम क्या है?

खेतों में विभिन्न प्रकार के फसल बोये जाते हैं लेकिन इसकी और उपजाऊ शक्ति बढ़ाने के लिए खाद का इस्तेमाल किया जाता है जिसमे एक नाम काफी प्रचलित है. इसीलिए आज की इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे की DDT का फॉर्म क्या है (What is the full form of DDT in Hindi)?

इस आर्टिकल में हम ये भी बताएँगे की DDT Full form in hindi क्या होता है एवं इसका क्या अर्थ है.

DDT का फॉर्म क्या है – What is the full form of DDT in Hindi?

DDT का फुल फॉर्म Dichloro – Diphenyle – Trichloroethane होता है.

इसे हिंदी में डाईक्लोरो – डायफिनायल – ट्राई क्लोरो  ईथेन कहते हैं.

DDT एक कीटनाशक है जिसे कृषि में उपयोग किया जाता है. इसे मलेरिया के विरुद्ध उपयोग में लाया  जाता है. इसे कृषि कीटनाशक के रूप में 1950 के बाद प्रयोग में लाया गया था. यह एक प्रकार का कृमिनाशक  भी है.

पूर्व में इसे (Lice) जू के उपचार के लिए भी इस्तेमाल किया जाता रहा है. यह एक क्रिस्टलीय,रंगहीन, बेस्वाद एवं ऑर्गेनोक्लोराइड पदार्थ है.

यह इंसानों के साथ-साथ जानवरों के लिए भी जहरीला पदार्थ है. यह अपने कीटनाशक गुणों के लिए प्रसिद्ध है. संयुक्त राज्य अमेरिका के बाहर इसका प्रयोग मलेरिया फैलाने वाले मच्छरों के नियंत्रण में अभी भी है.

पर्यावरण और जानवरों के ऊतकों में लंबे समय तक इसके संबंधित रसायन बने रहते हैं.

इसकी खोज स्विस रसायनज्ञ पॉल हरमन मूलर (Paul Hermann Muller) द्वारा 1939 में की गई थी. इसका संश्लेषण ऑस्ट्रिया के रसायनज्ञ ओथमार जाइडलर द्वारा 1874 में किया गया था.

यह संयुक्त राज्य अमेरिका में सार्वजनिक बिक्री के लिए अक्टूबर 1945 तक उपलब्ध था. “कई आर्थ्रोपोड्स के खिलाफ संपर्क जहर के रूप में डीडीटी की उच्च दक्षता की खोज के लिए फिजियोलॉजी या मेडिसिन में नोबेल पुरस्कार” से मूलर को 1948 में सम्मानित किया गया था.

इसके उपयोग पर संयुक्त राज्य अमेरिका ने 1972 में प्रतिबंध लगा दिया था. कृषि उपयोग पर अधिकांश विकसित देशों में 1970 एवं 1980 के दशक में प्रतिबंध लगा दिया गया था.

भारत देश एकमात्र ऐसा देश है जहां इसका निर्माण अभी भी हो रहा है एवं साथ ही यह सबसे बड़ा उपभोक्ता भी है.

यह भारत देश के कई हिस्सों में अप्रभावी भी है. कृषि उपयोग पर 1989 में प्रतिबंध लगने पर इसके मलेरिया-रोधी उपयोग में कमी आई है.

कार्बनिक यौगिकों की संख्या प्रकृति में 10 लाख से भी अधिक है. इसकी जीवन पद्धति में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है. इसमें कार्बन के साथ-साथ हाइड्रोजन भी रहता है.

कुछ कार्बन के यौगिकों को कार्बनिक यौगिकों की श्रेणी में ऐतिहासिक एवं परंपरागत कारणों से नहीं रखा जाता है. कार्बन डाइऑक्साइड एवं कार्बन मोनोऑक्साइड इसके प्रमुख हैं.

कार्बोहाइड्रेट, अमीनो एसिड, आर एन ए, प्रोटीन एवं डीएनए इत्यादि सभी जैव अणु कार्बनिक योगिक ही हैं. हाइड्रोकार्बन , कार्बन एवं हाइड्रोजन के यौगिकों को कहते हैं.

हाइड्रोकार्बन तीन श्रेणियों में विभाजित किए जा सकते हैं:- ईथेन श्रेणी, एथिलीन श्रेणी एवं एसिटिलीन श्रेणी.ईथेन श्रेणी के हाइड्रोकार्बन संतृप्त हैं अर्थात हाइड्रोजन की मात्रा इनमें और अधिक नहीं बढ़ाई जा सकती.

एथिलीन में दो कार्बनो के बीच में एक द्विबंध (=) है. एसिटिलीन में त्रिगुण बंध वाले योगिक अस्थाई होते हैं.

निष्कर्ष

इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको बताया की DDT का फॉर्म क्या है (What is the full form of DDT in Hindi)?

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें.

Leave a Comment