BBM Full Form – बीबीएम का फुल फॉर्म क्या है?

अगर आप बिजनेस मैनेजमेंट से जुड़ी पढ़ाई की इच्छा रखते हैं और जानना चाहते हैं कि बीबीएम का फुल फॉर्म क्या है (BBM Full form) और इसका हिंदी मतलब क्या होता है तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें.

शुरू से ही बहुत से ऐसे छात्र होते हैं जिन्हें उनके साथ होते हैं लेकिन वह मास्टर डिग्री है और उससे पहले आपको ही ग्रेजुएशन डिग्री होती है जिसे आप किसी भी विषय से कर सकते हैं.

बेहतर तो यही चाहते हैं उसे जल्द से जल्द शुरू कर दें और हमारी यही सलाह रहेगी कि आप रिजर्वेशन करने जाएं तो बैचलर डिग्री में भी बिजनेस मैनेजमेंट से जुड़े ही करें.

अगर आपको नहीं मालूम कि इस शब्द का हिंदी में पूरा नाम क्या है और इस का अर्थ क्या है तो यहां पर आपको सारी जानकारी दी जाएगी.

बीबीएम का पूरा नाम क्या है – What is the full form of BBM in Hindi?

BBM Full Form

बीबीएम का फुल फॉर्म Bachelor of Business Management है.

इसे हिंदी में हम बैचलर ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट भी बोल सकते हैं. इसका हिंदी अर्थ होता है व्यवसाय प्रबंधन में स्नातक.

बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज भी बोला जाता है जोकि अंडर ग्रैजुएट प्रोग्राम के तहत आता है.

यह कोर्स 3 साल का होता है.

इस कोर्स को इस प्रकार से डिजाइन किया गया है जिससे कि छात्रों को इस प्रकार से पढ़ाया जाए कि उनका स्किल नेतृत्व करने के लिए बन जाए और वह बड़ी-बड़ी बिजनेस और कॉर्पोरेट विश्व में नेतृत्व का काम कर सकें.

यह कोर्स मुख्य चार भागों में बटा हुआ होता है:

  • मार्केटिंग मैनेजमेंट
  • फाइनेंसियल मैनेजमेंट
  • ऑपरेशनल मैनेजमेंट
  • ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट मैनेजमेंट

भारत में कई कॉलेज और यूनिवर्सिटी और द्वारा कोर्स को कराया जाता है जिसमें थ्योरी और प्रैक्टिकल दोनों तरीके से फाइनेंसियल सिद्धांतों को लड़कों को पढ़ाया जाता है.

इस में एडमिशन लेने के लिए छात्र को 12 वीं पास होना जरूरी होता है जोकि किसी मान्यता प्राप्त वोट से संबंध रखते हो और वहां से पढ़ाई अपनी कंप्लीट की हो.

बीबीए में प्रवेश की प्रक्रिया

  1. प्रवेश परीक्षा
  2. पर्सनल इंटरव्यू
  3. एडमिशन

बीबीएम के लिए योग्यता

  • इस कोर्स को करने के लिए छात्र का 10+2 पास करना जरूरी है और परीक्षा उन्होंने इंग्लिश में लिखा हो और साथ ही उनका 50% मिनिमम अंक होना जरूरी है.
  • जो छात्र कॉमर्स बैकग्राउंड लेकर पढ़ाई करते हैं उनके कटऑफ में कुछ छूट दी जाती है.
  • कॉलेज या फिर संस्थान द्वारा ऑर्गेनाइज किए गए टेस्ट को पास करना जरूरी होता है.

संक्षेप में

कई विद्यार्थी ऐसे हैं जिन्हें मैनेजमेंट से जुड़े जवाब काफी पसंद होते हैं और वह एमबीए करने की ख्वाहिश भी रखते हैं. लेकिन मास्टर डिग्री करने के पहले बैचलर की डिग्री भी करनी पड़ती है.

आपको मालूम होना चाहिए कि अगर आप 12वीं पास कर लेते हैं तो उसके बाद भी आप रेगुलर की डिग्री मैनेजमेंट कोर्स कर सकते हैं और उसके बाद भी जवाब किया जा सकता है.

किसी की पोस्ट में हमने आपको यह बताया कि BBM का हिंदी में पूरा नाम क्या होता है एवं उसका फुल फॉर्म क्या है.

पोस्ट अच्छी लगी हो. तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here