BAMS Full Form – BAMS का पूरा नाम क्या है?

अंग्रेजी दवाओं से परेशां होकर कई लोगों ने दूसरे इलाज़ पद्धतियों की तरफ रुख किया है. आपको होमियोपैथी और आयुर्वेदिक के बारे में तो मालूम होगा ही लेकिन क्या आप जानते हैं की BAMS का फुल फॉर्म क्या है (BAMS Full Form).

अगर आप इस ाहबद से आज भी परिचित नहीं है तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़ने से आपको समझ में आजयेगा की यह किस प्रकार आयुर्वेद से जुड़ा हुआ एक शब्द है.

आप ये भी जानेंगे की इस शब्द का हिंदी में पूरा नाम क्या होता है और इसका क्या अर्थ है?

BAMS का फुल फॉर्म क्या है – What is the full form of BAMS in Hindi?

BAMS का फुल फॉर्म Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery है.

इसे हिंदी में बैचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी होता है. जिसका अर्थ है आयुर्वेदिक चिकित्सा और सर्जरी के स्नातक.

यह एक अंडरग्रेजुएट डिग्री प्रोग्राम है. यह डिग्री उन लोगों को दी जाती है जो मेडिकल के फील्ड में एक साल की इंटर्नशिप के साथ साथ पांच और आधे साल के मेडिसिन कोर्स पूरी की है.

इस कोर्स को करने के लिए सबसे पहले तो आपको 12वीं साइंस में फिजिक्स, केमिस्ट्री के साथ बायोलॉजी की पढ़ाई करनी पड़ेगी.

जब 12वीं क्लास पास हो जायेंगे तो आपको इस डिग्री को करने के लिए इस में प्रवेश पाने के लिए एक प्रवेश परीक्षा भी पास करनी पड़ेगी.

पास होने के बाद में आपको आपके स्कूल के अनुसार मेडिकल कॉलेज पढ़ाई करने के लिए भेज दिया जाता है जिसमें आप एडमिशन ले सकते हैं.

इस के सिलेबस में आधुनिक शरीर रचना विज्ञान, सर्जरी के सिद्धांत, आधुनिक दवाओं के सिद्धांत, ईएनटी, फार्माकोलॉजी और कई और अधिक के टॉपिक के साथ-साथ आयुर्वेद विषयों का डीप स्टडी शामिल है.

अगर आपको लगता है की आयुर्वेद सिर्फ बिमारिओं की इलाज करता हो तो आपको ये जानना चाहिए की ये न केवल बीमारियों के इलाज के बारे में बात करता है बल्कि बीमारियों की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए समाधान भी प्रदान करता है.

आयुर्वेद के अनुसार, मानव शरीर में तीन प्रकार के रोगों के कारण रोग या बीमारियां उत्पन्न होती हैं; कपा, पित्त और वात.

इस कोर्स की डिग्री पूरी करने वाले स्टूडेंट को आयुर्वेदाचार्य के रूप में नामित किया जाता है. वह एक चिकित्सक के रूप में पंजीकरण पर शिष्टाचार शीर्षक “डॉक्टर” का उपयोग कर सकते हैं.

कोर्स के बाद जॉब

आप ये जानने की इच्छा रखते होंगे की जो लोग आयुर्वेद से जुड़े कोर्स करते हैं उन्हें किस तरह के जॉब मिलते हैं. इस कोर्स को करने के बाद उपलब्ध जॉब :निम्नलिखित हैं:

  • अस्पताल हेल्थकेयर प्रबंधन में एमबीए
  • आयुर्वेद परामर्श
  • हर्बल उत्पाद कारख़ाना
  • हेल्थ साइंस या न्यूट्रिशन में एम.एस.सी.
  • सामान्य अभ्यास या अस्पताल प्रशासन
  • क्लीनिकल रिसर्च फ़ील्ड
  • आयुर्वेद में एमडी या एमएस कार्यक्रमों में प्रवेश लें
  • हेल्थ सुपरवाइजर
  • पंच कर्म (मालिश) केंद्र
  • आयुर्वेदिक चिकित्सक
  • चिकित्सा पर्यटन

निष्कर्ष

सिर्फ एलॉपथी ही लोगों की रोगों का इलाज़ नहीं करता बल्कि सदियों पुराणी आयुर्वेद इससे कई गुना बेहतर है.

समय के साथ भले लोग एलॉपथी और होमियोपैथी की तरफ आकर्षित हो गए थे लेकिन अब देखा जा सकता है की आयुर्वेद फिर से लोगों के बिच पहली पसंद बन रहा है.

इस क्षेत्र में भी पढ़ने वाले छात्रों का ध्यान जाना जरुरी है ताकि वो इससे जुड़े कोर्स को कर सके और इस फील्ड में भी डॉक्टर की कमी न हो.

इसीलिए आज की पोस्ट में हमने आपको ऐसे ही एक कोर्स की जानकारी दी और बताया की BAMS का फुल फॉर्म क्या है (What is the full form of BAMS in Hindi)?

अगर ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here