भारतीय त्योहारों पर निबंध – Indian festivals essay in hindi

भारत विभिन्न नेताओं का देश है जहां पर कई सभ्यताएं एक साथ फलती फूलती हैं. इस लेख के माध्यम से हम आपके लिए भारतीय त्योहारों पर निबंध (Indian festivals essay in hindi) लेकर आए हैं जिसका उपयोग आप अपने स्कूल और कॉलेज के प्रोजेक्ट के लिए कर सकते हैं.

भारत का इतिहास काफी पुराना है और यहां पर संस्कृति और सभ्यता भी काफी विख्यात है. विभिन्न धर्मों के लोग एक साथ मिलकर रहते हैं और सारे त्योहारों को भी एक साथ मनाते हैं.

भारत त्योहारों का देश है क्योंकि विभिन्न धर्मों के लोग कई प्रकार के त्योहारों को मनाते हैं. हिंदुओं द्वारा मनाए जाने वाला सबसे प्रमुख त्योहार दशहरा, दिवाली, होली, रक्षाबंधन इत्यादि है वही मुसलमानों द्वारा बनाए जाने वाले प्रमुख त्योहार ईद, मुहर्रम और बकरीद है. सिखों का सबसे प्रमुख त्यौहार वैशाखी और ईसाई क्रिसमस को अपना सबसे बड़ा पर्व मानते हैं.

इस लेख के माध्यम से हम भारतीय त्योहारों पर निबंध (essay on indian festivals in hindi language) लिख कर लाए हैं जो विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों के लिए बिल्कुल शाम की है और वह अपने स्कूल में इसका प्रयोग कर सकते हैं.

भारतीय त्योहारों पर छोटे एवं बड़े निबंध – Short and Small essay on Indian festivals

निबंध – 1 (200 शब्द)

परिचय

त्यौहार के मौके आते हैं और लोगों के चेहरे पर खुशियां देखी जा सकती है. भारत में अनेक प्रकार के त्योहार मनाए जाते हैं और पर्व के मौके पर स्कूल कॉलेज और कार्यालयों में छुट्टी होती है ताकि लोग अपने परिवार के साथ पूरे आजादी के साथ खुशियां मना सकें.

भारत में विभिन्न सभ्यताएं एक साथ रहती है और शुरुआत से ही यहां पर धर्म और जाति में विविधता देखने को मिलता है. लेकिन सबसे प्रमुख बात यह है कि सभी धर्मों के लोग एक साथ मिलकर शांति के साथ रहते हैं.

देश की पहचान

भारतीय त्योहार एक प्रकार से पूरे विश्व में देश की पहचान बनाती है. जब भी होली का त्यौहार आता है विदेशों से अनेक पलानी। इसे देखने के लिए आते हैं. खास तौर पर यह पर्व जिस जगह से जुड़ा होता है वहां पर लोगों की भीड़ और बढ़ जाती है. होली के मौके पर मथुरा मुख्य केंद्र होता है जहां पर कई सैलानी इस त्यौहार को देखने के लिए आते हैं.

त्योहारों का महत्व

त्योहारों के आने के पहले ही लोग खरीदारी करना शुरू कर देते हैं. अनेक प्रकार की मिठाइयां तैयार की जाती है जिसे दोस्तों रिश्तेदारों में भी बांटा जाता है. नए कपड़े पहने जाते हैं और परिवार के साथ लोग दूसरी जगहों में घूमने के लिए जाते हैं.

निष्कर्ष

कुल मिलाकर देखा जाए तो एक त्यौहार ढेर सारी खुशियां लेकर आती हैं. भारतीय लोगों को इन त्योहारों से काफी लगाव होता है जो इनकी आस्था को मजबूत करती है. इसके अलावा यह एकता का भी संदेश देती है.

निबंध – 2 (300 शब्द)

परिचय

दुनिया के किसी भी देश में कितने प्रकार के त्योहार नहीं मनाया जाते हैं जितना सिर्फ अकेला भारत में मनाया जाता है. इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि यहां पर विभिन्न धर्मों के लोग एक साथ रहते हैं. यहां पर पर मनाए जाने वाले पर्वों में भी काफी विविधता देखी जाती है.

प्रत्येक धर्म का अपना एक इतिहास है और वह अपनी सभ्यता एवं संस्कृति को बनाए रखते हैं और उनसे जुड़े त्योहारों को मनाते हैं. भारत एक प्राचीन देश है जहां पर काफी पुरानी सभ्यता है लेकिन इसके बावजूद कई प्रकार की संस्कृति एक साथ रहती है.

भारत में मनाए जाने वाले विभिन्न पर्व

हिंदू धर्म में विभिन्न पर्व मनाया जाते हैं जिनमें सबसे प्रमुख दिवाली, दशहरा, होली और रक्षाबंधन है. इनके मौके पर पूरे देश में विद्यालयों, कॉलेज और कार्यालयों में अवकाश दिया जाता है.

लोग अपनी सुविधा अनुसार खरीदारी करते हैं और अपने बच्चों एवं परिवार के साथ मिलकर त्योहारों को पूरी धूमधाम से मनाते हैं. इसके अलावा कई ऐसे राज्य हैं जहां पर इन त्योहारों को अलग तरीके से भी मनाया जाता है. दुर्गा पूजा कोलकाता में बहुत ही अनोखे ढंग से मनाया जाता है. इस मौके पर बड़े-बड़े पंडाल तैयार किए जाते हैं जो आकर्षण का केंद्र होते हैं.

गणेश चतुर्थी का पर्व महाराष्ट्र में काफी धूमधाम से मनाया जाता है. तमिलनाडु का एक अनोखा पर्व है वहीं पूरे केरला में काफी उत्साह के साथ मनाया जाता है. लेकिन अधिकतर त्योहार पूरे देश भर में ही उत्साह के साथ मनाया जाते हैं.

स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और गांधी जयंती राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाते हैं. इन सभी का उद्देश्य बस एक ही होता है खुशियां।

निष्कर्ष

हमारा भारत काफी विशाल देश है और यहां पर कई राज्य हैं जिनमें कई क्षेत्रीय त्यौहार भी मनाए जाते हैं. अक्सर त्योहार धार्मिक संस्कृति के आधार पर पर बनाए जाते हैं.

लेकिन फिर भी हमारे देश में सभी धर्म के लोग खुशी खुशी एक साथ एक साथ रहते हैं और अपने पर्व को सही ढंग से मनाते हैं.

निबंध – 3 (500 शब्द)

परिचय

भारत एक त्योहारों का देश है जिसमें विभिन्न सामाजिक सांस्कृतिक और आध्यात्मिक त्यौहार हर दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण होते हैं. इन त्योहारों से देश की अखंडता एवं प्रभुता की पहचान की जाती है. विविधताओं से भरे इस देश के त्योहारों को विदेशी लोग भी देखकर काफी उत्साहित होते हैं.

हर साल विदेशों से लाखों सैलानी भारत आते हैं और भारत के विभिन्न त्योहारों का आनंद उठाते हैं. फिर चाहे होली हो, दिवाली हो, ईद हो या क्रिसमस भारतीय लोगों के साथ मिलकर इन का आनंद लेते हैं.

त्योहारों में विविधता

भारत एक लोकतांत्रिक देश है और इसीलिए यहां पर हर धर्म के लोग एक साथ मिलजुल कर रहते हैं और अपने त्योहारों को भी पूरी स्वतंत्रता से मनाते हैं. एक साथ रहने की वजह से लोगों को एक दूसरे के रीति रिवाज, संस्कृति और सभ्यता को जानने और समझने का मौका मिलता है.

एक दूसरे के त्योहारों में लोग एक दूसरे को आमंत्रित करते हैं और खुशियां एक साथ मिलकर मनाते हैं. इससे देश की एकता और अखंडता अटूट होती है और मजबूती के साथ आगे बढ़ती है.

खुशियों का अवसर

त्योहारों के आने के पहले ही लोग तैयारी करना शुरू कर देते हैं. यही मौका होता है जब लोग अपने रिश्तेदारों को आमंत्रित करते हैं और उनसे मिलने जाते हैं. ऐसा कोई भी धर्म नहीं है जिसमें कोई त्यौहार ना हो बंकी हर धर्म में कई त्योहार होते हैं.

इस प्रकार अगर आप एक कैलेंडर को देखेंगे तो उसमें उस साल भर में अनेक मौकों में विभिन्न त्योहारों की तारीख देखने को मिलेंगी. लोग कई दिनों के पहले से ही इसकी तैयारी करने के लिए अपने घरों को सजाते हैं नए कपड़े खरीदे जाते हैं और पर्व के दिन विभिन्न प्रकार के पकवान भी बनाए जाते हैं.

हमारा देश चांद तक पहुंच चुका है लेकिन फिर भी जब वह घर वापस आता है तो परिवार के साथ खुशियां मनाता है. वास्तव में किसी पर्व के समय में ही दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ मिलकर एक साथ खुशियां मनाने का मौका मिलता है.

त्योहारों द्वारा दिए जाने वाले संदेश

भारत में जितने भी त्योहार मनाए जाते हैं उनके पीछे कोई ना कोई कारण होता है और वह एक अनोखा संदेश देते हैं जो संपूर्ण मानव जाति के भलाई के लिए ही होती है.

दशहरा असत्य पर सत्य की जीत की निशानी है. ठीक उसी प्रकार दिवाली को रोशनी का त्योहार कहा जाता है. रक्षाबंधन भाई बहन के प्यार को दर्शाता है जिस दिन भाई अपनी बहन की रक्षा करने की प्रतिज्ञा लेता है. ऐसा दिन होता है जिस दिन दो दुश्मन भी अपने गिले शिकवे भुला गले मिलते हैं और आपस की रंजिश खत्म कर देते हैं.

यह कई ऐसे भी लोग होते हैं जो देश के विभिन्न भागों में एक साथ मनाए जाते हैं जैसे पोंगल, मकर संक्रांति, और वैशाखी इत्यादि.

निष्कर्ष

भारत एक ऐसा देश है जहां पर हर धर्म के लोग रहते हैं और अपने धार्मिक अनुष्ठानों को पूरी स्वतंत्रता के साथ करने का अवसर प्राप्त करते हैं. लोगों के त्यौहार मनाने के तरीके अलग-अलग होते हैं जो प्रत्येक राज्य के लोगों के संस्कृति और रहन-सहन पर निर्भर करता है.

उत्तर और दक्षिणी भारत में कई प्रकार के विविधता देखने को मिलती हैं चाहे वह रहन-सहन के तरीके हो या फिर खाने में. चाहे जो भी हो लेकिन त्यौहार का एकमात्र उद्देश्य होता है अपनी धार्मिक आस्था को मजबूत करना और खुशियां बांटना.

निबंध – 4 (600 शब्द)

परिचय

भारत विविधताओं का देश है जहां पर अनेक धर्म और संस्कृति के लोग एक साथ रहते हैं. इस देश में मनाए जाने वाले त्योहार यहां की महानता को दर्शाते हैं. पूरी दुनिया के लोग भारत को इसकी संस्कृति की वजह से ही पहचानते हैं. जब कभी भी त्योहारों का समय आता है विदेशों से भी लोग यहां के रंगों को देखने के लिए पहुंचते हैं.

भारत में मनाए जाने वाले त्योहारों में अनेक विविधताएं हैं और इसी की वजह से लोगों को यह काफी आकर्षित करती है. यह जीवन के अभिन्न अंग है जो इंसानों के लिए एक ताजगी का काम करते हैं.

त्योहारों का महत्व

इंसान अपनी जिंदगी में काफी व्यस्त होता है. परिवार की जीविका चलाने के लिए उसे काफी कड़ी मेहनत करनी पड़ती है. एक अच्छी और आरामदायक जिंदगी अपने परिवार को देने के लिए हर दिन नौकरी या बिजनेस करते हैं और वहां से फिर अपनी जीविकोपार्जन करते हैं.

इतनी भागदौड़ वाली जिंदगी में खुशियों के रंग भरने के लिए ही त्यौहार ए बनाई जाती हैं. इस वक्त एक इंसान अपने पूरे परिवार के साथ मिलकर खुशियां मनाता है इसके अलावा अपने धर्म से जुड़ा ओ भी महसूस करता है. भारत वही देश है जहां पर आज भी हर साल रावण को जलाया जाता है और विजयदशमी का पर्व मनाया जाता है और इसके ठीक 20 दिनों के बाद में दिवाली भी मनाई जाती है.

जब ईद का त्यौहार आता है तो इसमें भी हिंदू मुसलमान मिलकर इस त्योहार को मनाते हैं. इस तरह के मौके पर सेवइयां मिठाई के रूप में खिलाई जाती हैं और इस प्रकार खुशियों का समा बनता है. ठीक इसी प्रकार 25 दिसंबर के दिन क्रिसमस के त्यौहार को विश्व के साथ-साथ पूरे भारत में मनाया जाता है.

लोगों के जीवन में खुशियों का सबसे अच्छा कारण त्यौहार ही होते हैं. भले ही एक इंसान साल के पूरे समय में कड़ी मेहनत करके रोजी रोटी कमाता है लेकिन त्यौहार के मौके पर नए कपड़े खरीद कर अपने बच्चों को जरूर कहलाता है

भारत में मनाए जाने वाले विभिन्न त्योहार

दिवाली

यह त्यौहार दशहरा के ठीक 20 दिन बाद मनाया जाता है. इस दिन लोग अपने घरों में और घर के बाहर दिया जलाते हैं और हर जगह रोशनी से जगमगाती है. इसे रोशनी का भी त्यौहार कहा जाता है.

दशहरा

इस त्यौहार को विजयदशमी भी कहा जाता है क्योंकि इस दिन अत्याचारी रावण का वध हुआ था और अधर्म पर धर्म की जीत की खुशी में इस त्यौहार को हर वर्ष दशहरा के रूप में मनाया जाता है. इस अवसर पर देश के विभिन्न राज्यों और जगहों में रावण का पुतला जलाया जाता है. मेलों का आयोजन किया जाता है.

ईद

यह मुसलमानों का सबसे बड़ा त्यौहार है. इसके पहले पूरे रमजान में 30 दिनों का रोजा रखा जाता है और इसी की खुशी में ईद का त्यौहार मनाया जाता है. ईद के दिन विशेष मिठाई के तौर पर सेवइयां बनाई जाती है.

क्रिसमस

यह क्रिश्चियन संप्रदाय द्वारा मनाया जाता है. 25 दिसंबर के दिन इस त्यौहार के मौके पर पूरा विश्व क्रिसमस मनाता है.

निष्कर्ष

इंसान का धर्म कुछ भी हो त्योहारों का चलन हमेशा से होता रहा है. यह जीवन में खुशियों के रंग भरने के लिए महत्वपूर्ण होते हैं. जब विदेश से लोग भारत आते हैं और यहां की विविधताओं को देखते हैं तो आश्चर्यचकित रह जाते हैं. यहां तक कि कई लोग ऐसे भी हैं जो भारत में ही रहते हुए दूसरे राज्यों के रीति रिवाज और संस्कृति एवं त्योहारों को देखकर आनंद उठाते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here