कंप्यूटर पर निबंध – Essay on Computer in Hindi

आज का जमाना कंप्यूटर का है अगर अगर किसी इंसान को कंप्यूटर नहीं आता है तो फिर उसके लिए इस दुनिया में काम करना थोड़ा कठिन हो सकता है. इसलिए आज के इस लेख के माध्यम से हम कंप्यूटर पर निबंध लेकर आए हैं जिसके जरिए आप कंप्यूटर के महत्व को समझ सकेंगे.

स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों को या कॉलेज जाने वाले विद्यार्थी हर कोई कंप्यूटर के बारे में जरूर जानता है और यह समझता है कि उसके लिए कंप्यूटर क्यों जरूरी है? इस यंत्र की वजह से दुनिया में अनेक ऐसे काम है जो आसानी से किए जा सकते हैं.

स्कूल हो, कार्यालय, उद्योग हो या खेल के मैदान हर जगह इस यंत्र का अन्य उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है. आज आप यहां जान सकेंगे कि कंप्यूटर के उपयोग क्या क्या है?

कंप्यूटर पर छोटे एवं बड़े निबंध – Short & Long Essay on Computer in Hindi

निबंध – 1 (200 शब्द)

प्रस्तावना

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो मुख्यतः गणना करने के इस्तेमाल में उपयोग में लाई जाती है लेकिन इसके अनगिनत उपयोग हैं जैसे इसके द्वारा हम एक दूसरे से संचार कर सकते हैं और कई प्रकार के डिजाइन वाले काम भी किए जा सकते हैं.

यह एक ऐसा यंत्र है इंसान को चांद की सैर कराई इसी की वजह से आज वैज्ञानिक सूरज के अध्ययन के लिए अंतरिक्ष यान भेज चुके हैं

कंप्यूटर आज हमारे बहुत सारे कामों को सरल कर दिया है. आज दुकानों में इसका इस्तेमाल बिल बनाने के लिए किया जाता है और यह गणना करने में उतना ही समय लगता अलग आता है जितना एक बटन दबाने में लगता है.

विद्यार्थियों के लिए फादेमंद

आजकल के युवाओं को कंप्यूटर का इतना अधिक जरूरत हो चुका है कि इसकी शिक्षा लेने काफी जरूरी है. चाहे देश हो या विदेश हर प्रकार के कामों में इसका इस्तेमाल बिल्कुल आम हो चुका है.

किसी भी कंपनी, उद्योग, कारखाना इत्यादि में भी कंप्यूटर के इस्तेमाल के द्वारा ही यंत्रों को नियंत्रित किया जाता है इसलिए उतना ही जरूरी है जितना पढ़ाई लिखाई करना.

निष्कर्ष

आज के दौर में इंसानों के लिये कंप्यूटर के इतने फायदे हैं जिन्हे गिननही जस सकता. लेकिन इसके गलत उपयोग जैसे अश्लील वेबसाइट, साइबर अपराध, जैसे नुकसान भी है जिसकी वजह से बच्चों का भविष्य बिगड़ सकता है. थोड़ी सावधानी अपनाकर इससे बचा जा सकता हैं.

निबंध – 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

दिन प्रतिदिन कंप्यूटर का उपयोग हर जगह बढ़ता जा रहा है. चाहे स्कूल कॉलेज हो या फिर कोई सरकारी विभाग अगर जिनको कंप्यूटर पर काम करना नहीं आता उन्हें इसकी ट्रेनिंग दी जा रही है.

भविष्य में सारे काम इसी से ही रह जाएंगे इसमें कोई शक नहीं है. यहां तक कि 10 लोगों का काम करने के लिए सिर्फ एक इंसान की जरूरत पड़ेगी जो कंप्यूटर को ऑपरेट कर सकेगा. सबसे बड़ी खास बात यह है कि किसी भी काम को कम से कम समय में और पूरी शुद्धता से कर सकता है.

कंप्यूटर की विशेषता

आज आप दुनिया के किसी भी हिस्से पर चले जाएं कंप्यूटर का उपयोग हर जगह करते हुए लोग आपको दिखाई देंगे. आज के युवा भी कंप्यूटर से जुड़े हुए कोर्स करना चाहते हैं और जॉब प्राप्त करने के लिए कंप्यूटर के कोर्स को करना काफी जरूरी भी है.

कंप्यूटर की कुछ खास विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

काम करने की गति: इस यंत्र की सबसे खास बात यह है कि काम करने की तेज गति कम समय में जटिल समस्याओं का समाधान कर देती है और रिजल्ट दे देती है.

असीमित स्टोरेज: कंप्यूटर एक ऐसा यंत्र है जिसमें हम अपने किए जाने वाले काम के डाटा को स्टोर करके रख सकते हैं स्टोरेज की क्षमता इतनी है कि आप हजारों लाखों किताबों को इस में स्टोर करके रख सकते हैं या फिर अलग से हार्ड डिस्क का भी उपयोग कर सकते हैं जो हमें अश्मित स्टोरेज करने की क्षमता प्रदान करती है.

डेटा की सुरक्षा: हम जो भी काम अपने कंप्यूटर में करते हैं उसे भविष्य के लिए सुरक्षित रख सकते हैं इसके अलावा उसे सुरक्षित एवं गोपनीय रखने के लिए सॉफ्टवेयर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं और अपने फाइल को लॉक करके भी रख सकते हैं.

ऑटोमेशन: इसमें कई सारे ऐसे कार्य हैं जो आप एक बार कमांड कर दे तो कंप्यूटर खुद-ब-खुद उसे पूरा खुद बंद भी हो जाएगा उदाहरण के लिए मान लीजिए कि उसे 3 घंटे और इस बीच आपको कुछ भी नहीं करना है तो उसमें आप टाइमिंग सेट कर सकते हैं जिससे वो खुद ब खुद काम खत्म करके बंद हो जाएगा.

निबंध – 3 (500 शब्द)

प्रस्तावना

दुनिया के सबसे बड़े अविष्कारों में से एक आविष्कार कंप्यूटर भी है जिसने इंसानों की जिंदगी को ही बदल दिया. आज इंसान चांद और मंगल ग्रह तक अभियान कर रहे हैं यह सिर्फ और सिर्फ इस यंत्र की वजह से ही संभव हो सका है.

आखिर यह कंप्यूटर क्या है और यह कैसे काम करता है कि इंसानों के जटिल से जटिल कामों को भी आसानी से हल कर लेता है. यह एक इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है जिसमें विभिन्न भाग होते हैं जैसे इनपुट डिवाइस, सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट, और आउटपुट डिवाइस.

चार्ल्स बैबेज ही वो इंसान थे जिन्हें कंप्यूटर का पिता कहा जाता है क्योंकि दुनिया का पहला कंप्यूटर उन्होंने ही बनाया था जिसका नाम था एनालिटिकल इंजन. इस यंत्र को उन्होंने सन 1830 ईस्वी में अविष्कार किया था.

कंप्यूटर का कार्य सिद्धांत

कंप्यूटर में विभिन्न प्रकार के पार्ट होते हैं जो अपने कार्य को करते हैं. सबसे पहले तो यह उपयोगकर्ता द्वारा सूचनाओं को इनपुट डिवाइस के द्वारा ग्रहण करता है उसके बाद अपने सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट के माध्यम से उपयोगकर्ता द्वारा दिए गए समस्या का समाधान करता है एवं आउटपुट यंत्र के द्वारा सूचनाओं को समाधान के साथ दिखा देता है.

कंप्यूटर हमारे द्वारा दी गई भाषा को नहीं समझता है बल्कि वह जिस भाषा को समझता है उसे मशीन लेवल लैंग्वेज बोलते हैं. हम जो डाटा एवं सूचना कंप्यूटर में इनपुट डिवाइस के द्वारा इसको देते हैं उसे यह सिर्फ 0 और 1 के द्वारा ही समझता है. हमारे द्वारा दी गई जानकारी और पुलिस के द्वारा कंप्यूटर में रिजल्ट दिखाता है बहुत ही कम समय में एक लंबी प्रक्रिया होती है.

कंप्यूटर के लाभ

कंप्यूटर के अनेक फायदे हैं जो निम्नलिखित:

समय की बचत: गन्ना करने वाले कार्यों में यह हमारी काफी सहायता करता है और हमारी काफी समय को भी बचाता है. यह काफी तेज गति से करना करता है और जटिल से जटिल सवालों पर जवाब भी सेकंड में हमें दे देता है

संचार की सुविधा: कंप्यूटर कनेक्शन होने पर हम अपने मैसेज को कहीं भी भेज सकते हैं इसके अलावा हम अपने परिजनों से बातचीत भी बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं

काम में शुद्धता: यह यंत्र अपने कामों को पूरी श्रद्धा के साथ पूरा करता है और इसमें 0% एयर होता है इसके द्वारा दिए गए जवाब चाहे सा भाग कितने भी जटिल हो हमेशा ही सही जवाब देता है

स्टोर करने की कैपेसिटी: इस यंत्र में हम काफी बड़ी बड़ी फाइल को इंस्टॉल कर के भविष्य के लिए रख सकते हैं और इस्तेमाल कर सकते हैं अब जब तक चाहें इस यंत्र में अपने सूचनाओं और डाटा को इकट्ठा करके रख सकते हैं

कम समय में अधिक काम: इसके काम करने की गति काफी तेज होती है जिससे यह 10 इंसानों का काम अकेले कर सकता है वह भी कम समय में.

कंप्यूटर का इतिहास

कंप्यूटर के विकास को कई पीढ़ीयो में अलग-अलग जो निम्नलिखित है:

पहली पीढ़ी: इससे पहले पीढ़ी में बहुत ही भारी कंप्यूटर को बनाया गया था जिसमें वेक्यूम ट्यूब का इस्तेमाल किया गया था और जो पूरे कमरे के बराबर का आकार का था यह 1940 से 1957 तक का समय था.

दूसरी पीढ़ी: बीएफ वीडियो 1947 से 1963 के बीच की है जब मैं क्यों की जगह ट्रांजिस्टर का उपयोग होने लगा था इनका आकार थोड़ा कम था और उनका वजन भी कम था

तीसरी पीढ़ी: इस समय अंतराल में इंटीग्रेटेड सर्किट का इस्तेमाल किया गया और यह समय 1963 से 1971 तक रहा.

चौथी पीढ़ी: 1971 के बाद अभी तक के समय को चौथी पीढ़ी कहा जाता है जिसमें हम पर्सनल कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं और आज माइक्रो प्रोसेसर का इस्तेमाल किया जाता है.

पांचवी पीढ़ी: यह पीढ़ी भविष्य कंप्यूटर पर आधारित है जिसमें कंप्यूटर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर काम करेंगे

निष्कर्ष

कंप्यूटर एक ऐसा यंत्र बन चुका है जिस पर इंसान पूरी तरह से निर्भर हो चुके हैं और अपने सभी कार्यों को इसी पर करना पसंद करते हैं वैसे इस यंत्र ने लोगों को इतना फायदा पहुंचाया है कि इसके महत्व को नकारा नहीं जा सकता.

निबंध – 4 (600 शब्द)

प्रस्तावना

कंप्यूटर क्या है यह सभी को पता है कि यह एक इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है जो उपयोगकर्ता द्वारा दिए गए सूचनाओं को इनपुट यंत्र के माध्यम से स्वीकार करता है उसे प्रोसेस करता है और फिर आउटपुट यंत्र के द्वारा सूचनाओं को हमें दिखाता है.

इस यंत्र की सबसे खास बात यह है कि इस पर आपने आज जो भी काम किया है उसे स्टोर करके रख सकते हैं और भविष्य में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है.

कंप्यूटर इंसानों द्वारा की जाने वाली सबसे बड़ी अविष्कारों में से एक आविष्कार है जिसने इंसानों के काम करने की क्षमता को बढ़ाया और साथ ही उनकी परेशानियों को भी कम किया. इस यंत्र ने ऐसे ऐसे काम को भी संभव किया है जो एक आम इंसान के द्वारा अपने हाथों से करने के लिए संभव कभी नहीं हो सकता था.

कंप्यूटर के विभिन्न पार्ट्स

कंप्यूटर एक ऐसा यंत्र है जो विभिन्न प्रकार के भागों से मिलकर बना हुआ है. मुख्य दायित्व तीन भागों में बांटा गया है.

इनपुट डिवाइस

कंप्यूटर उपयोगकर्ता द्वारा दी गई जानकारी को ग्रहण करने के लिए इनपुट डिवाइस का इस्तेमाल करती है जिसमें प्रमुख रुप से माउस, कीबोर्ड, स्कैनर इत्यादि आते हैं.

प्रोसेसिंग डिवाइस

इनपुट डिवाइस के द्वारा ग्रहण करने वाली जानकारी को कंप्यूटर यंत्र प्रोसेस करती है और उसमें प्रक्रिया करने के बाद आगे बढ़ा देती है जो आउटपुट डिवाइस तक पहुंचती है. सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट जिसे संक्षेप में सीपीयू भी कहते हैं को इस यंत्र का दिमाग कहा जाता है. इसके अंदर भी कंट्रोल यूनिट और अर्थमैटिक और लॉजिक यूनिट उपयोगकर्ता द्वारा दिए गए समस्या का समाधान करते हैं और उसे आउटपुट डिवाइस को भेज देते हैं.

आउटपुट डिवाइस

वैसे यंत्र जिसके द्वारा हम अपनी समस्याओं के समाधान और सूचनाओं को रिजल्ट के रूप में देखते हैं यह सुनते हैं उसे आउटपुट डिवाइस कहां जाता है जैसे मॉनिटर, स्पीकर और प्रिंटर इत्यादि.

कंप्यूटर के उपयोग

यह एक ऐसा यंत्र है जिसके कई प्रकार के उपयोग हैं और रोजाना जिंदगी में भी हम इसका भरपूर उपयोग करते हैं. इस यंत्र के कुछ महत्वपूर्ण उपयोग निम्नलिखित हैं:

शिक्षा : स्कूल और कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं को आज कंप्यूटर की शिक्षा अनिवार्य रूप से दी जाती है. यह एक ऐसा यंत्र है जो पढ़ने के बाद भी कहीं नौकरी करने जाएंगे तो वहां काम करने के लिए इसकी जरूरत पड़ेगी.

रक्षा विभाग: हर देश का अपना एक रक्षा विभाग होता है जो नए अस्त्र-शस्त्र एवं तकनीक का विकास करते हैं जो भविष्य में उनके लिए सुरक्षा में काफी अहम भूमिका निभाते हैं. इन सभी विशेष कार्यों को करने के लिए एवं रिसर्च के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल वैज्ञानिक अवश्य ही करते हैं.

मौसम विभाग: आज हम देखते हैं कि हमारे वैज्ञानिक समय से पहले ही आगे के कई दिनों का मौसम का अनुमान लगा लेते हैं यह सिर्फ और सिर्फ इस यंत्र की वजह से ही संभव हो सका है.

पर्यावरण में हो रही गतिविधियों एवं हवाओं की दिशाओं का पता सुपर कंप्यूटर के द्वारा लगाया जाता है और फिर लोगों को मौसम की जानकारी समाचार एवं न्यूज़ चैनल के माध्यम से बताई जाती है.

अस्पताल: मरीजों के इलाज करने के लिए एवं उनकी बीमारी का सटीक पता लगाने के लिए कंप्यूटर आधारित उपकरणों की सहायता ली जाती है एवं ऑपरेशन करने में भी इनका इस्तेमाल करके मरीजों की जान बचाई जाती है.

बैंक: बैंकिंग प्रणाली इस यंत्र से काफी ज्यादा प्रभावित है जो कि यहां पर होने वाले लगभग सारे कार्य इसी पर किए जाते हैं. लोगों को अब घर बैठे ही इतनी सुविधा मिल जाती है कि वह अपना पैसा किसी को भी भेज सकते हैं उनको बैंक आने की जरूरत नहीं पड़ती.

मनोरंजन: मनुष्य अपना समय मनोरंजन में भी गुजरते हैं और इसके लिए इस यंत्र में वह गेम खेलते हैं, वीडियोस देखते हैं एवं गाने सुनते हैं.

निष्कर्ष

कंप्यूटर में इंसानों की जिंदगी को बहुत ही आसान बना दिया है जो काम पहले घंटों में हुआ करते थे आज वह मिनटों में पूरा हो जाते हैं यह सिर्फ और सिर्फ इस यंत्र की वजह से ही संभव हो सका है

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment