धारा 370 क्या है?

अगर आप सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते है तो आपने धारा 370 के चर्चे सोशल मीडिया पर काफी सुने होंगे। क्योंकि हाल में सरकार ने इसमें काफी बदलाव किए है। जिसके चलते है यह धारा अभी भी काफी ट्रेंडिंग में चली आ रही है इतना तो शायद आपने सुना ही होगा।

लेकिन क्या आप आख़िर धारा 370 क्या है, और इसे क्यो लागू किया है, इन सबके बारे में जानते है शायद नही जानते होंगे क्योंकि इसका इतिहास काफी लम्बा है इसलिए इसकी जानकारी मिलना थोड़ा मुश्किल काम हो जाता है।

लेकिन अब अगर आप इसके बारे में जानना चाहते है तो आपके लिए आज का हमारा यह आर्टिकल बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है।

क्योकि आज मैं आपको धारा 370 के बारे में बताने वाला हूँ। सो अगर आप इसके बारे में जानना चाहते है तो लेख को अंत तक पढ़े।

बैसे आपको थोड़ा बता दु की धारा 370 जम्मू और कश्मीर में लागू होने वाली एक क़ानूनी नियम है।जिसे सरकार ने बदल दिया है। या हम कहे सकते है कि यह धारा एक ऐसा क़ानूनी नियम है जो जम्मू और कश्मीर का पूरा इतिहास बदल दिया।

जो अभी सोशल मीडिया, टेलीविशन न्यूज़ पेपर हर जगह काफी चर्चा में रहा था, ओ चलिये आज हम भी इसकी चर्चा के बारे में थोड़ा डिटेल में जान लेते है।

धारा 370 कैसे बनी थी?

इसके पीछे बहुत बड़ी कहानी है। आइये मै आपको बताता हुं, यह बात तब की है जब राजा हरिसिंह स्वतंत्र रहना चाहते थे, और तभी पाकिस्तानी सैनिको ने जम्मू और कश्मीर पर आक्रमण कर दिया था यह बात 1947 की है,

तब जम्मू और कश्मीर का विभाजन चल रहा था, भारतीय सघ में शामिल करने की प्रक्रिया शुरु हुई ही थी तभी यह सब हुआ था और राजा हरिसिंह ने जम्मू और कश्मीर के इस मुद्दे को देखते हुए भारत में विलय के लिए अनुमति दे दी।

ये भी जाने –

17 अक्टूबर 1949 की एक घटना ने जम्मू और कश्मीर को पूरा बदल के रख दिया, यह नियम इसलिए लगाना पड़ा क्योंकि आधे जम्मू और कश्मीर पर पाकिस्तान ने कब्ज़ा कर लिया था। और इस वजह से वहा के मूलनिवासी वहा फस गए थे।

और फिर संसद में माननीय गोपाल स्वामी आयंगर ने धारा 370 लागू करने की बात उठाई। क्योंकि जम्मू और कश्मीर पूरा संविधान लागू करना और उसके मुताबिक काम करना मुमकिन नहीं दिख रहा था।

और अंततः धारा 370 लागू हुआ और यह बात भी हुई की जम्मू और कश्मीर के हालात बेहतर हो जायेंगे तब धारा 370 हटा दिया जायेगा।

तो चलिए मैं आपको इस लेख में बताता हूँ की धारा 370 क्या है, धारा 370 जम्मू और कश्मीर क्यों लागु हुई? जम्मू और कश्मीर के धारा 370 की पूरी जानकारी के लिए पूरा लेख पढ़े।

धारा 370 से क्या होता है?

धारा 370 क्या होता है? तो मैं इस लेख में आपको बताना चाहूँगा की धारा 370 के तहत जम्मू और कश्मीर को यह विशेष अधिकार दिलाता है. इस धारा के तहत जम्मू कश्मीर खुद से कोई भी कानून को बनाकर उसको लागू करने का अधिकार है। धारा 370 के अधिकार के कारण जम्मू कश्मीर पर धारा 365 नहीं लागू होती है।

जिसके कारण वहा पर राष्ट्रपति को संविधान बर्ख़ास्त करने की इजाज़त नहीं देती है. धारा 365 के तहत राष्ट्रपति के पास इतना शक्ति होती है की में वो किसी भी राज्य पर गवर्नर की सलाह पर एमरजेंसी लागू कर सकते है। धारा 370 से जम्मू कश्मीर की हालत में पहले से बहुत सुधार हुआ है।

कश्मीर में धारा 370 क्या प्रभाव पड़ा?

जम्मू-कश्मीर में यह धारा कुछ विशेष वजह से है। जब जम्मू-कश्मीर के हालत बहुत गंभीर थे, तब यह निर्णय लिया गया जम्मू-कश्मीर का भारत में विलय करना ज्यादा बड़ी जरुरत थी। धारा 370 का अधिकार कुछ विशेष करने के लिए दिया गया था नीचे मैं कुछ ज़रुरी बाटे बताना चाहूँगा,धारा 370 जम्मू कश्मीर में क्यों है आइये जानते है।

1. धारा 370 के तहत जम्मू कश्मीर के नागरिक के पास दोहरी नागरिकता होती है।
2. धारा 370 के तहत जम्मू कश्मीर का झंडा अलग होता है।
3. जम्मू कश्मीर में महिलाओं पर सरीरियत कानून लागू है।
4. भारत के उच्चतम न्यायलय के दिए गए कानून जम्मू कश्मीर में नहीं लागू होते।
5. जम्मू कश्मीर में धारा 370 के तहत RTI और CGI जैसे कानून नहीं लागू होते है।
6. जम्मू कश्मीर की महिला अगर किसी अन्य देश में विवाह कर लेती है, तो उसकी नागरिकता ख़तम हो जाती है।
7. और अगर जम्मू कश्मीर की महिला पाकिस्तान के किसी नागरिक से शादी करती है तो उसे वहा की नागरिकता मिल जाएगी।
8. धारा 370 के तहत कश्मीर में अल्पसंख्यकों हिन्दू-सिख को 16% आरक्षण नहीं मिलता है।
9. धारा 370 की वजह से ही कश्मीर में रहने वाले पाकिस्तानियों को भी भारतीय नागरिकता मिल जाती है।
10. धारा 370 के तहत जम्मू कश्मीर से बहार रहने वाली लोग वह ज़मीन नहीं ले सकते है।

भारतीय संविधान में धारा 370 का क्या महत्व है?

हमारे भारतीय संविधान में 448 अनुच्छेद, तथा 12 अनुसूचियां हैं जो की हर भारत में रहने वाले सभी व्यक्ति के लिए एक सामान है। वैसे ही धरा 370 जम्मू कश्मीर के लिए है, जब बाल राजा हरि सिंह ने पाकिस्तान के साथ डालने में सहायता मांगी तब भारत ने जम्मू कश्मीर को भारत में शामिल करने की बात की गयी।

हरि सिंह ने 26 अक्टूबर 1947 को स्टूडेंट ऑफ एक्सेशन पर हस्ताक्षर किए और गवर्नर जनरल लॉर्ड माउंटबेटन ने 27 अक्टूबर 1947 को इसे स्वीकार कर लिया। 1954 के आदेश तक लगभग पूरे संविधान को जम्मू और कश्मीर तक विस्तारित किया गया था जिसमें अधिकार संवैधानिक संशोधन भी शामिल थे।

अनुच्छेद 370 राज्यों की तुलना में जम्मू कश्मीर की शक्तियों को कम करता है यह जम्मू कश्मीर की तुलना में आज भारत की लिए अधिक उपयोगी है. तो धारा 370 से जम्मू और कश्मीर के नागरिकों को सुरक्षा प्रदान होती है। पाकिस्तान के वजह से होने वाले दंगों से वहा पर यह प्रावस्थान किया गया है।

धारा 370 का विरोध क्यो?

धारा 370 विरोध शुरू से ही होता चला आ रहा था, शुरू में नेहरू जी ने भरपूर धारा 370 का बिरोध किया था। कांग्रेस पार्टी शुरू में ही धारा 370 को हटाने की मांग कर रही थी। श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी ने कहा था, की यहाँ धारा 370 भारत को छोटे छोटे टुकड़ो में बाट देगा उन्होंने इस धारा के किये भूख हड़ताल भी की थी।

11 सितम्बर,1964 में संसद में प्रकाशवीर शास्त्री जी ने धारा 370 हटाने का प्रस्ताव पेश किया था।और फिर सरकार कई बार इसके जबाब की तारीखे बदलती गयी. अंततः गृहमंत्री गुलजारी लाल नंदा जी ने कहा था,इस विधेयक में अभी कुछ क़ानूनी कमियाँ है।और उन्होंने कहा इसमें सरकार की कमज़ोरी साफ नजर आती है।

तो जैसा की हम सब जानते है, की भारत हम सब की मात्र भूमि है। और भारत के संबिधान के हिसाब से सब के लिए बराबर कानून है। जम्मू और कश्मीर राजा हरिसिंह के समय से हमारे भारत देश का हिस्सा है,.

तो फिर क्यों जम्मू कश्मीर के लिए अलग कानून बनाया जाये, और वह पर क्यों दूसरी कानून का चलन हो? वह का झंडा क्यों हो दूसरा? हमारे देश के सभी नागरिक एक सामान है, तो हम सभी जम्मू कश्मीर में जा कर अपनी ज़मीन क्यों नहीं ले सकते थे? तो इन्ही सब कारणों के कारन धारा 370 को जो की नेहरू के दौर की लड़ाई थी। इस धारा 370 को अगस्त 2019 में समाप्त कर दी गयी।

धारा 370 हटाने के बाद

अगस्त 2019 में धारा 370 को खत्म कर दिया गया। इस धारा को हटाने के बात राज्य में बहुत सारी बढ़ोतरी हुई है, धारा 370 ख़त्म होने के बाद जम्मू कश्मीर का एक उचित दर्जा मिल गया। अब वह दो हिस्सों में बट दिया गया है, जिसमे जम्मू कश्मीर पहला और लद्दाख दूसरा केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया है।

अब जम्मू कश्मीर में व्यापार में बढ़ोत्तरी होगी, वह व्यापार और उद्योग आयेगा जिसकी वजह से राज्य की GDP बढ़ेगी। अब इंडस्ट्री और व्यापार की वजह से वह के स्थानीय लोगो को रोज़गार मिलेगा। जम्मू कश्मीर के लोगो की जरूरत पूरी होंगी, वह स्कूल,हॉस्पिटल,सड़कें और पर्यटक स्थानों में सुधार होगा।और वह के लोगो की जीवनशैली में बदलाव आएगा।

धारा 370 पहले

इस धारा के नियम अभी तक क्या-क्या थे उसके लिए आप नीचे जान सकते है-

  • जम्मू कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता थी।
  • जम्मू कश्मीर का झंडा अलग था।
  • जम्मू कश्मीर के विशेष धार थे।
  • आर्टिकल 365 लागू नहीं था।
  • उच्चतम न्यायलय के कानून जम्मू कश्मीर में नहीं लागू थे।
  • RTI और CGI जैसे कानून नहीं लागू थे।
  • विधानसभा का कार्य कल 6 वर्ष के लिए होता था।

धारा 370 अब

अभी तक इस धारा के हिसाब से जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए पूरी तरह से आज़ादी नही दी गयी थी लेकिन अब इसमे बदलाव करके वहां के नागरिकों के लिए बड़ी राहत दी है। इस धारा में अब क्या बदलाव किए है वह निम्लिखित है –

  • जम्मू कश्मीर के नागरिक के पास एकल नागरिकता है।
  • जम्मू कश्मीर का झंडा तिरंगा है।
  • जम्मू कश्मीर के कोई विशेष धार नहीं।
  • उच्चतम न्यायलय के कानून जम्मू कश्मीर में लागू है।
  • आर्टिकल 365 लागू है।
  • RTI और CGI जैसे कानून नहीं लागू है।
  • विधानसभा का कार्य कल 5 वर्ष के लिए होता है।

धारा 370 से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि इस धारा का काफी लंबा इतिहास है। इस धारा से कई प्रकार की विशेष बातें जुड़ी है चलिये उनके वारे में जानने की कोशिश करते है –

  • यह धारा भारत के संविधान का महत्वपूर्ण हिस्सा है।
  • 1949 की भारत की जनगणना में इस धारा को जम्मू कश्मीर में लागू किया गया था।
  • 1960 में सर्वोच्च न्यायलय ने जम्मू कश्मीर के उच्च न्यायलय के निर्णय के विरुद्ध अपीलों को स्वीकार करना शुरू किया था लेकिन इसे अवरुद्ध कर दिया गया।
  • धारा 370 जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा दिलाने के लिए मुख्य बताया जाता है।

निष्कर्ष

धारा 370 एक ऐसा नियम जो सिर्फ जम्मू कश्मीर के लिये ही नही बल्कि पूरे देश के लिए एक तरह से समस्या का सबब बना हुआ था लेकिन अब इसे सरकार ने हटाकर सभी के लिए अच्छी ख़बर दी है।

बाकी हम आपको आज के इस लेख में धारा 370 क्या है ? और धारा 370 क्यों लागू हुई ? इस तरह के कई प्रश्न जो आपके मन में थे यह लेख में उन सभी के जबाब आपको यहां मिल गए होंगे।

आशा करता हू की मेरा यह लेख आपको पसंद आया होगा धारा 370 से संबंधित आपके सभी प्रश्नों का जबाब आपको मिल गए होंगे। लेकिन अगर अब भी आपके मन मे इससे जुड़ा कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट करके जरूर पूछे।

इसके साथ ही मुझे आपसे उम्मीद की आप इस लेख को जरुरत मंद लोगो तक ज़रूर पहुचायेंगे। अगर आपको धारा 370 से संबंधित कुछ जानकारी हो जो मैंने इस लेख में न बताया हो, मुझे Comment Box वह जानकारी ज़रूर दे। धन्यवाद्

2 COMMENTS

  1. हेल्लो डिअर वसिम
    आज के टाइम में ऐसी कंटेंट की बहुत जरुरत है जिससे की लोगो को ३७० के बारे में सही जानकारी मिले धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here