CPU क्या है और कैसे काम करता है?

क्या आप जानते हैं की CPU क्या है (What is CPU in Hindi)? कंप्यूटर के बारे में जानकारी चाहिए तो CPU के बारे में जानना जरुरी है. क्या वजह है की इसे कंप्यूटर का दिमाग बोला जाता है ? कंप्यूटर का दिमाग कहे जाने वाले CPU का क्या काम है ?  इन सवालों को लेकर अक्सर लोग दुविधा में होते हैं. क्या आप जानते हैं जब हम कंप्यूटर में काम करते हैं तो किस तरह ये हमारे काम को पूरा करता है. इस पोस्ट के माध्यम से हम CPU के बारे पूरी जानकारी लेंगे.

आप एक इंसान का ही उदाहरण ले ले. जब हमे कुछ काम करना रहता है तो अपने हाथों और पैरों का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन उस काम को शुरू करने से पहले हमारे दिमाग के अंदर उसको हम सोचते हैं फिर दिमाग हमारे हाथ और पैर को सन्देश भेजता है. जिससे हम उस काम को पूरा कर लेते हैं. ठीक उसी तरह जब हम कीबोर्ड या माउस से कुछ काम करने के लिए डाटा अंदर डालते हैं तो ये कंप्यूटर के दिमाग यानि CPU तक जाता है. उसके बाद CPU उस इनपुट किये गए जानकारी को समझता है और उसके तहत काम को पूरा करता है.  हर इंसान का दिमाग का अलग अलग होता है और उसकी सोचने समझने की capacity या क्षमता भी अलग अलग होती है. Computer में भी काम करने की ताक़त CPU की क्षमता पर निर्भर करता है. जितना powerful CPU होगा Computer उतना तेज़ और जल्दी काम को पूरा करेगा. साथ ही बहुत मुश्किल काम को करने में भी ये कम समय लेगा.

घर में इस्तेमाल होने वाला सिस्टम और ISRO में इस्तेमाल होने वाले सिस्टम में जमीन आसमान का फर्क है. ऐसा क्यों ? इसका अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते हैं की ISRO का अपने सिस्टम के माध्यम से अंतरिक्ष के rocket और satellite को कण्ट्रोल करते हैं तो कितने शक्तिशाली सिस्टम की जरुरत पड़ती है जबकि घर में प्रयोग होने वाला सिस्टम में हम बस एंटरटेनमेंट और basic काम करते हैं. इन दोनों तरह के सिस्टम में मुख्य अंतर CPU की capacity ही होती है. जैसा काम वैसा ही CPU की क्षमता. आखिर CPU में ऐसा क्या होता है जो इसकी क्षमता अलग अलग हो जाती है. देर किस बात की चलिए जानते हैं CPU क्या होता है (What is CPU in Hindi).

CPU क्या है (What is CPU in Hindi)

दोस्तों CPU का पूरा नाम क्या है? ये जानना जरूरी है अगर आप इसके बारे में जानना चाहते हैं. CPU का full form Central Processing Unit होता है. Central processing unit कंप्यूटर का primary unit होता है जो सरे instruction(निर्देशों) को process करता है. ये लगातार ऑपरेटिंग सिस्टम और applications  को चलाता रहता है. इसके साथ ही ये यूजर के द्वारा किये गए इनपुट को रिसीव करता है और उसके आधार पर दूसरे सभी सॉफ्टवेयर को चलाता है. ये इनपुट किये गए डाटा को प्रोसेस कर के आउटपुट हमे दे देता है.

cpu kya hai hindi central processing unit in hindi

Definition of CPU in Hindi

Central Processing Unit एक ऐसा यूनिट है जो कंप्यूटर के अंदर के होने वाले सभी process को पूरा करता है. ये कंप्यूटर के एक भाग से दूसरे भाग तक निर्देशों के flow को (control) नियंत्रित करता है.  CPU का सारा काम एक chipset पर निर्भर करता है जो motherboard में स्थित छोटे छोटे chips का एक ग्रुप है.

Definition of  CPU in English

Central Processing Unit is a unit which performs the maximum process inside a computer. This controls the flow of instruction from one part to another part of a computer system. CPU work on a chipset and it heavily depends on it which is a group of microchips located on the motherboard.

Central processing Unit को और दूसरे नामों से भी जाना जाता है. जैसे Processor, Microprocessor, और central processor.

CPU एक आधार होता है और एक तरह से यही कंप्यूटर को कंप्यूटर बनाता है.  लेकिन ये भी सच है की सिर्फ CPU अकेला कंप्यूटर नहीं हो सकता. ये हर ऑपरेशन को पूरा करने वाला एक brain (दिमाग) होता है. ये छोटा कंप्यूटर chip होता है जो कंप्यूटर के motherboard यानि main circuit बोर्ड में स्थित होता है चाहे वो सिस्टम कोई सा भी हो  desktop ,PC, लैपटॉप या टैबले.  ये मेमोरी यानि जो डाटा स्टोर कर के रखता है उससे  और वीडियो को रेंडर कर के दिखने वाला ग्राफ़िक् कार्ड से भी बिलकुल ही अलग होता है. Central processing Unit की जो chip होती है बहुत सारे छोटे छोटे transistors से मिलकर बना होता है. इन transistors की मदद से ही कंप्यूटर का प्रोग्राम रन करता है और calculation का काम पूरा कर लेता है.

Central processing Unit या CPU technology को और विकसित करने के लिए transistor को और छोटे से छोटे आकर में बनाया जा रहा है. ताकि ज्यादा transistors का उपयोग कर के speed को बहुत ज्यादा बढ़ाया जा सके. जैसे जैसे वक़्त गुजर रहा है वैसे ही CPU technology भी विकसित होती जा रही है और दिनबदिन इसमें तेज़ काम करने की क्षमता भी बढ़ती जा रही है.  इस नियम को विकसित करने वाले वैज्ञानिक का नाम Gordon Moore है. इनके इस transistors के लगातार बढ़ने के नियम को Moore’s law भी बोलते हैं.

CPU काम कैसे करता है?

कंप्यूटर के बारे में जानकारी हासिल करने वालों को CPU की पूरी जानकारी होनी जरुरी है. क्यों की अगर हम कहें की कंप्यूटर के बारे में सब कुछ जानते हैं और CPU क्या है ये मालूम ही नहीं तो फिर ये गलत बात है. कंप्यूटर के  मस्तिष्क के रूप में काम करने वाला भाग Central processing Unit आखिर काम कैसे करता है ? जो इतनी तेज़ स्पीड से हर कैलकुलेशन को seconds के अंदर में पूरा कर के हमारे प्रॉब्लम को हल कर देता है. ये एक चमत्कार नहीं बल्कि विज्ञानं है जो काम हम कॉपी और कलम से करने में घंटों लगा देते हैं उसे बस ये एक enter बटन प्रेस करते ही हल कर देता है. भले ही आज के CPU बहुत advance हो चुके हैं लेकिन इनके काम करने का तरीका वही basic फंक्शन है जो पुराने किया करते थे. इसके basic function fetch, decode और execute हैं. चलिए इनके बारे में detail में जानकारी हासिल करते हैं.

Fetch

Fetch  का मतलब होता है “लाना”. इस स्टेप में प्रोग्राम मेमोरी से instruction receive किये जाते हैं. Instruction का मतलब numbers या series of numbers. Instruction बहुत सारे होते हैं लेकिन कैसे पता चलता है की कौन सा instruction किस location में है? तो इसके लिए एक Program counter (PC ) होता है जो प्रोग्राम मेमोरी में  instruction के address(लोकेशन) को निर्धारित करता है. Program Counter instruction के address को number के रूप में स्टोर कर के रखता है. जब एक instruction fetch यानि receive कर लिया जाता है तो Program Counter के length को instruction की लम्बाई के अनुसार बढ़ा दिया जाता है ताकि वो अगले instruction का address रख ले.

Decode

ममोरी से जो instruction fetch कर के लाया जाता है उससे ये पता चलता है की आखिर अब CPU को क्या काम करना है. Decode का मतलब होता है instruction को decoder. इस स्टेप में  instruction को एक circuit में pass कर दिया जाता है जिसे instruction decoder भी बोलते हैं, जो instruction को signal में convert कर देता है जिससे CPU के दूसरे पार्ट्स को कण्ट्रोल किया जाता है.

Execute

Instruction लाने और उसे signal में convert कर लेने के बाद तीसरा स्टेप होता है execute. CPU के बनावट के अनुसार execute में एक action या फिर कई action हो सकते हैं. Decoded  instruction को CPU relavent parts तक भेजती है जिससे वो पार्ट्स instruction  के आधार पर अपना काम कर सके. इस तरह एक action या action की series को complete कर लिया जाता है. उसके बाद results को internal CPU register में write कर लिया जाता है. इससे बाद वाले instruction के लिए reference तैयार हो जाता है.

Components of CPU in Hindi – CPU के components क्या क्या हैं?

Central Processing Unit कई components से मिलकर बना होता है और सभी के अलग अलग काम भी होते हैं. आप भी इसके बारे में जानना चाहते हैं की आखिर ये components क्या हैं और कैसे काम करते हैं. चलिए इसे भी जानते हैं विस्तार से.

CPU के मुख्यता 3 Components हैं.

  1. Storage Unit or memory Unit
  2. Control Unit
  3. ALU (Arithmetic and Logic Unit)

Storage or Memory Unit

Memory Unit system के data, instruction और results को स्टोर कर के रखती है. ये कंप्यूटर के दूसरे units को जरुरत पड़ने पर information supply भी करती है. इसे दूसरे नामो से भी जाना जाता है जैसे main memory, primary memory, internal storage unit और Random Access Memory.

Storage or Memory Unit की जितनी size होगी उसके अनुसार ही इसकी speed, capability और power होती है. Memory unit 2 तरह के होते हैं. जिसे हम Primary memory और Secondary memory के नाम से भी जानते हैं.

Memory Unit के मुख्य Function ये हैं.

  • Storage or Memory unit जरुरत के अनुसार Processing के लिए सभी instruction और data को store कर के रखता है.
  • ये processing के बिच में मिलने वाले results को भी store कर लेता है.
  •  Output device तक भेजने के पहले ही ये processing के final results को store कर के रख लेता है.
  • सभी input और output device main memroy से transmit किये जाते हैं.

Control Unit

जैसा की इसका नाम ही बता रहा है, इस यूनिट का काम है नियंत्रण करना. Control Unit कंप्यूटर के सभी पार्ट्स के के ऑपरेशन को कंट्रोल करता है. ये यूनिट वास्तविक में data processing करने का काम नहीं करती.

Control Unit के मुख्य function ये हैं.

  • कंप्यूटर के दूसरे units तक instruction और data के transfer को control में रखने की जिम्मेदारी Control Unit की होती है.
  • Control Unit कंप्यूटर के सभी units को manage और coordinate करने का काम भी करती है.
  • ये memory से instruction को रिसीव करती है, उसके बाद उसे interpret कर के कंप्यूटर के operation को direction (दिशानिर्देश) देती है.
  • Memory Unit, Input और output device से communicate करके डाटा और results को transfer करती है.
  • Control unit न तो डाटा को process करने का काम करती है और न ही डाटा को स्टोर करती है.

ALU Arithmetic and Logic Unit

ALU मुख्यता 2 भागो में बनता हुआ होता है.

  1. Arithmetic Section
  2. Logical Section

Arithmetic Section

Arithmetic सेक्शन का काम है अंकगणित से जुड़े problem को हल करना जैसे addition, subtraction, multiplication और division. मुश्किल से मुश्किल problems का हल इन्ही operation की मदद से निकला जाता है.

Logic Section 

Logic section का काम logic (तार्किक) operation को पूरा करना है. जैसे comparing(तुलना करना), selecting(चुनाव करना), matching(match करना), merging(मिला देना).

Types of CPU in Hindi  – CPU के प्रकार

CPU कंप्यूटर का  महत्पूर्ण भाग जिसे हम Central Processing Unit के नाम से भी जानते हैं. ये कंप्यूटर के एक component से दूसरे component के बीच transfer होने वाले डाटा,instruction, और calculation को handle करता है. कंप्यूटर जिस speed से काम करता है वो CPU की क्षमता या capacity पर निर्भर करता है की वो कितना powerful है. इसीलिए ये निर्णय आपको लेना होता है की आप क्या काम करना चाहते हैं और उस के अनुसार कौन सा CPU चुनना चाहिए. दुनिया के 2 सबसे बड़े CPU बनाने वाली कंपनियां Intel और AMD है. वो अपने अनुसार अलग अलग CPU का प्रोडक्शन करते हैं.

Single Core CPU

Single Core CPU कंप्यूटर CPU में सबसे पुराने प्रकार हैं और शुरुआत में सिर्फ इसी प्रकार का CPU उपलब्ध था जिसे कंप्यूटर में प्रयोग किया जाता था. ये Single Core एक समय में सिर्फ एक ही operation को शुरू कर सकता था. इसीलिए ये multi -tasking के लिए अच्छे नहीं माने जाते. इसका मतलब ये है की जब एक operation पहले से शुरू हो और दूसरा ऑपरेशन शुरू कर दिया जाये तो इसकी परफॉरमेंस की क्षमता बहुत घट जाती थी और ये बहुत slow करता था. इस में एक बार में सिर्फ एक ही ऑपरेशन को शुरू किया जा सकता था, दूसरा ऑपरेशन पहले के ख़तम होने से थोड़ी देर पहले शुरू किया जाता. हर नए ऑपरेशन के साथ कंप्यूटर और slow काम करता था क्यूंकि इसकी speed कम होती जाती थी. कंप्यूटर CPU के power को मापने के लिए clock speed का इस्तेमाल किया जाता था. और इसकी क्षमता clock speed पर निर्भर होती थी.

Dual Core CPU

Dual Core CPU एक Single core CPU ही होता है लेकिन इसमें २ core होते हैं और इसीलिए ये अकेले  2 CPU के बराबर काम करता है. ये कई मायनो में Single Core CPU से अलग है. Single Core में एक operation के ख़तम होने के बाद ही दूसरा operation चल सकता था लेकिन इसमें एक बार में एक से ज्यादा operation एक साथ run  किया जाता है. इसीलिए इस CPU को multi -tasking भी बोला जाता है. इसमें Dual Core की पूरी क्षमता इस्तेमाल करने के लिए operating system और program दोनों में एक special code का लिखा होना जरुरी है जिसे SMT (Simultaneous multi -threading technology) भी कहा जाता है. Dual Core CPU single core से तेज़ काम करता है लेकिन इससे भी तेज़ Quad Core काम करता है.

Quad Core CPU

Quad Core CPU को multi core CPU भी बोल सकते हैं जो Single Core CPU में 4 core से बना होता है. जिस तरह Dual Core work load को 2 core में बाँट देता है उसी तरह Quad Core 4 core में बाँट देता है. इस तरह ये एक बेहतर multitasking के रूप में सेवा देता है. लेकिन इसका मतलब ये नहीं है की आप सिर्फ एक application को चलाओगे तो ये 4 गुना  से चलेगा. जब तक SMT code का इस्तेमाल नहीं होगा program की speed का एहसास भी नहीं होगा. इस तरह के CPU तब बहुत useful साबित होते हैं जब एक साथ बहुत सारे programs चलाने की जरुरत पड़ती है. जैसे video editing, डिजाइनिंग,games इत्यादि.

CPU का महत्व – Importance of CPU in Hindi

Central Processing Unit को कंप्यूटर का brain यानि दिमाग भी बोला जाता है. ये कंप्यूटर के arithmetic और logic calculation को पूरा करता है. हर काम इसी से होकर पूरा होता है. बिना CPU के कंप्यूटर का वजूद possible नहीं है.

दोस्तों अगर हम कंप्यूटर सिस्टम की बात करें तो जब कोई मार्केट जाता है desktop सिस्टम खरीदने के लिए तो वो सबसे ज्यादा ध्यान इस बात का रखता है की CPU कितनी capacity का है और इसका configuration क्या है. इसके अंदर processor, RAM, Memory सभी आते हैं. अगर कोई जाए और ऐसे ही बिना मतलब के कंप्यूटर को उठा ले आये तो उसे इसका पता बाद में चलेगा जब वो कई सरे नहीं कर सकेगा. जिसे जैसी  होती है वो उस हिसाब की capacity वाला CPU खरीदता है.

अगर आप video editing का काम करते हैं, या designing सॉफ्टवेयर में काम  करते हैं तो आपके पास designing के अनुसार ही system लेना पड़ेगा नहीं तो slow performance वाले Central processing Unitमें आप अपना काम नहीं कर सकेंगे.

आप पहले ही देख छूके हैं की central processing unit किस तरह instruction को रिसीव करके उसे signal में decode करता है फिर उसे अलग अलग components तक उससे जुड़े टास्क पूरा करने के लिए भेजता है. High performance work के लिए Central processing Unit का भी high capacity का होना बहुत जरुरी है.

CPU के Advantages in Hindi

वैसे तो कंप्यूटर हमारे बहुत काम आता है लेकिन अगर बात करें की CPU से हमे क्या फायदा होता है तो ये भी जानना जरुरी है. क्यों की इसकी जानकारी के बिना आप अपने काम के अनुसार कंप्यूटर की पहचान नहीं कर सकते. तो चलिए ऐसे ही कुछ Central processing Unit के important advantages के बारे में जान लेते हैं.

Dynamic Circuit

आजकल के जो आधुनिक कंप्यूटर processor होते हैं वो मुख्यता dynamic circuit होते हैं. इसमें लाखों छोटे छोटे switches होते हैं जिसे हम transistors बोलते हैं. जब कोई यूजर किसी एप्लीकेशन में काम करते हुए डाटा इनपुट करता है तो Processor के दूसरे parts इन switches के configuration को control करते हैं. इन छोटे छोटे switches मिलकर एक dynamic circuit बनाते हैं है जो बहुत जटिल होता है. इस के जरिये कंप्यूटर अपने function को पूरा करता है.

Fast calculation

जो सबसे पहला advantage है computer प्रोसेसर का वो ये है की ये बहुत तेज़ गति से matematical calculation को पूरा करते हैं. यही वजह है की कुछ कामों को करने में कंप्यूटर इंसान से बहुत आगे है जैसे mathematical modeling. कंप्यूटर की काम करने की क्षमता इसी फ़ास्ट calculation पर आधारित होता है चाहे वो काम game खेलना हो या designing का काम करना.

Basic Computer Function

किसी भी कंप्यूटर के लिए processor का बहुत अधिक महत्व है. कंप्यूटर के दूसरे पार्ट्स इसी के इर्द गिर्द लगे हुए होते हैं. इसके बिना कंप्यूटर का हर पार्ट बस एक ढांचा बन कर रह जायेगा. computer से जुड़ा हर input output device इसी के जरिये काम करता है जिससे की input किये गया डाटा processor में जाता है और process होने के बाद output के रूप में दिखा देता है. जहाँ processor है वही से computer अपना काम शुरू करता है.

Conclusion

फ्रेंड्स आपको ये पोस्ट CPU क्या है (What is CPU in Hindi) और ये काम कैसे करता है कैसी लगी इसमें आपने Central processing Unit से जुड़े बहुत सारे facts को जाना. आपने यहाँ ये भी जाना की आखिर ये CPU कंप्यूटर के लिए इतना महत्वपूर्ण क्यों होता है?और इसके advantages क्या हैं? अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो comment कर के जरूर अपना सुझाव दे. जहाँ कहीं सुधर कर ने की जरुरत लगती है वहां भी हमे सलाह दे ताकि हम आपको और सरल भाषा में हर topic की जानकारी दे सके. कंप्यूटर के बारे में जानकारी की इच्छा रखने वाले दोस्तों को ये post को जरूर शेयर करें.

CPU क्या है और कैसे काम करता है?
5 (100%) 1 vote

Leave a Reply

%d bloggers like this: