Business Ideas : मात्र 2 लाख में शुरू किया केक-पेस्ट्री का धंधा, आज है सालाना 75 करोड़ रुपये का कारोबार

Business Ideas in hindi : मात्र 2 लाख में शुरू किया केक-पेस्ट्री का धंधा, आज है सालाना 75 करोड़ रुपये का कारोबार : बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो अपनी सफलता को साबित करके संसार के समक्ष मिसाल रख देते हैं। किंतु यदि इन चुनिंदा लोगों की बात की जाए तो इनकी सफलता के पश्चात नए सितारे के तौर पर संसार के समक्ष प्रस्तुत हो जाते हैं।

आज के हमारे article में हम आप सभी पाठकों का तहे दिल से स्वागत करते हैं हम आशा करते हैं. आज के article के माध्यम से हम आपको तीन ऐसे दोस्तों के विषय में बताने वाले हैं जिन्होंने अपनी दोस्ती के दम पर सफलता को हासिल कर पूरी दुनिया के सामने मिसाल रख दी है। 

यदि आप भी इन तीन दोस्तों की सफलता की कहानी जाने के लिए उत्सुक है तो इसके लिए अति आवश्यक है.आप हमारे article के साथ अंत तक जरूर जुड़े रहे। हमने इस आर्टिकल में उन तीन दोस्तों के नाम तथा उनके द्वारा शुरू किए गए बिजनेस के विषय में भी बहुत सी जानकारियां आपके साथ साझा करने की कोशिश की है। 

सदैव तीन तिगड़ा काम बिगड़ा नहीं होते:-

आप पाठकों में से अधिकतर लोगों ने यह कहावत अवश्य ही सुनी होगी कि तीन तिगड़ा काम बिगड़ा होते हैं। किंतु यह पुरानी कहावतें हैं यदि आज के समय में देखा जाए तो ऐसा कुछ भी नहीं होता है। 

हम आज आपको तीन ऐसे मित्रों से मिलवाने वाले हैं जिन्होंने अपनी दोस्ती के दम पर खुद की कंपनी खड़ी कर दी। ना केवल पाठकों के साथ उस कंपनी का नाम साझा करेंगे अपितु उस कंपनी की सफलता के विषय में भी आपके साथ मूलभूत जानकारियां साझा करेंगे। 

ये भी अवश्य पढ़ें:

कहानी शुरू हुई थी वर्ष 2010 में:-

यह कहानी जो हम आपको बताने वाले हैं यह काल्पनिक कहानी नहीं है इस बात की स्पष्टीकरण हम आपको पूर्व ही प्रदान कर देते हैं। तीन दोस्त 1 दिन बातों बातों में ही बिजनेस को शुरू करने के विषय में सोचते हैं और इस पर निर्णय भी ले लेते हैं। 

उन्होंने इस व्यवसाय को शुरू करने की कोशिशें तो वर्ष 2010 में ही प्रारंभ कर दी थी किंतु उनकी यह मेहनत रंग 2016 में लाइ। इन तीन दोस्तों ने 2010 में ₹200000 के निवेश के साथ बेकरी का एक बिजनेस शुरू किया। 

आपकी जानकारी के लिए आप को इस बात से अवगत करा दें कि इस बेकरी बिजनेस की आज कीमत 75 करोड के पार हो चुकी है। 

यदि आप चाहें तो इन दोस्तों तथा इनके द्वारा स्थापित इन कंपनी का नाम गूगल में जाकर भी सर्च कर सकते हैं। 

जानिए इन तीन दोस्तों के नाम:-

जिन तीन दोस्तों का जिक्र हम article में अब तक करते आए हैं उन  तीन दोस्तों का नाम हिमांशु चावला, श्रेय सहगल तथा सुमन पात्रा है। इन तीनों ने ही ₹200000 के निवेश के साथ अपना बिजनेस वेंचर प्रारंभ किया ।

किंतु वर्ष 2016 में बेकिंगो कंपनी की लॉन्चिंग की गई थी।आप पास होगा में से अधिकतर लोग दिल्ली के नेताजी सुभाष यूनिवर्सिटी के विषय में जरूर जानते होंगे। यह तीनों इस यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहे थे आप लड़ाई के दौरान इनके दिमाग में अपना स्वयं का आंत्रप्रेन्योर प्रारंभ करने का विचार आया था। तत्पश्चात इन्होंने समय की कीमत वचन ते हुए समय को व्यर्थ नहीं किया और जी जान से स्टार्टअप बिजनेस में जुट गए। 

इस प्रकार शुरू किया था बिजनेस:-

इन तीन मित्रों ने कुछ सालों तक कॉरपोरेट जॉब करने के पश्चात 2010 में स्वयं का प्रथम  वेंचर फ्लावर ऑरा को प्रारंभ कर दिया था। क्या कंपनी ऑनलाइन फूल केक तथा पर्सनल लाइव्स गिफ्ट का कार्य किया करती थी। 

इस कंपनी का काम गुड़गांव के एक बेसमेंट से प्रारंभ हुआ था। तब लगभग खर्च ₹200000 का ही था। शुरुआत में इस कंपनी में केवल एक ही कर्मचारी था जो कि कस्टमर सर्विस के साथ-साथ डिलीवरी सभी कार्य किया करता था। 

2010 का वैलेंटाइन डे इस कंपनी के लिए शुभ बताया जा रहा है इन तीनों दोस्तों के माध्यम से। उन्होंने कहा कि इस दिन उनके बिजनेस में बहुत ही बड़ा उछाल आया था। 

वैलेंटाइंस डे पर बिजनेस की रफ्तार बढ़ी:-

इन तीन मित्रों में से एक श्रेय सहगल बताते हैं कि वर्ष 2010 के वैलेंटाइंस डे के दिन काम इतना अधिक बढ़ गया था कि कंपनी के बाकी पार्टनर्स को भी ऑनलाइन डिलीवरी का कार्य करना पड़ा था। उस दिवस हिमांशु तथा श्रेय नई दिल्ली एनसीआर में लगभग 50% डिलीवरी खुद ही कर दी थी।

कंपनी के प्रोडक्ट की जैसे ही मांग बढ़ने लगी तीनों दोस्तों को लगा कि इन्हें समय व्यर्थ नहीं करना चाहिए सही समय आ चुका है और कंपनी को आगे बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए। वर्ष 2016 में तीनों मित्रों हिमांशु श्रेय तथा सुमन पात्रा ने अपनी कंपनी तहत ही एक अलग ब्रांच खोल दिया जिसका नाम बेकिंगो को रखा गया। 

बिजनेस का होता गया विस्तार:-

बिजनेस ने जैसे ही तरक्की के पंख लगाए वैसे ही इन तीनों मित्रों ने उड़ान उड़ान भर ली। देखते ही देखते बेकिंगो ने सुरेश केक की डिलीवरी का काम देश के बहुत से राज्य में प्रारंभ कर दिया। देखते ही देखते या कंपनी का प्रसारण लगभग 11 राज्यों में हो चुका।इस कंपनी ने न केवल मेट्रो सिटी जैसे कि हैदराबाद बेंगलुरु तथा दिल्ली एनसीबीआई के क्षेत्रों को कवरेज प्रदान की इसके साथ ही इसमें छोटे क्षेत्र जैसे कि मेरठ पानी पुर रोहतक तथा करनाल में भी केक को बेचना शुरू कर दिया। 

कंपनी 30% प्रोडक्ट ऑनलाइन भेजती है वहीं 70% प्रोडक्ट को डिलीवरी पोर्टल जैसे कि सूर्य तथा जोमैटो के माध्यम से बेचा जाता है। 

निष्कर्ष:-

आप सभी पाठकों ने हमारे article को आज तक पड़ा उसके लिए हम आप सभी पाठकों का तहे दिल से धन्यवाद करते हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको तीन मित्रों की सफलता की कहानी बताई है हम आशा करते हैं कि आपको यह पसंद आई होगी। यदि आप हमसे कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट के जरिए आसानी से कर सकते हैं। इस आर्टिकल को अधिक से अधिक लोगों के साथ जरूर शेयर करें। 

अन्य लाभदायक पोस्ट पढ़ें

Important Links

WTechni HomeClick Here
Other postsClick Here
Join Telegram ChannelClick Here

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment

×