BSE Full Form – बीएसई का फुल फॉर्म क्या है?

शेयर मार्किट क्या है ये तो अच्छे से आप जानते ही होंगे तो आपको ये भी जानना चाहिए की बीएसई का फुल फॉर्म क्या है (BSE Full Form)? पूरी दुनिया में शेयर मार्केट का काफी अहम रोल है और हर बिजनेस इस पर निर्भर रहते हैं.

जब स्टॉक मार्केट का सेंसेक्स नीचे जाता है तो बहुत सारे बिजनेस बर्बाद भी हो जाते हैं. हर देश की इकोनॉमी इसी पर निर्भर रहती है. इस आर्टिकल में हम आपको यह भी बताएंगे कि बीएसई का अर्थ क्या होता है और इसका पूरा नाम क्या है.

शेयर बाजार से नाता रखने वाले लोगों को यह जानना बहुत ही जरूरी है कि आखिर बीएससी का पूरा नाम क्या है बी एस ई का फुल फॉर्म क्या है ( What is the full form BSE in Hindi)?

बीएसई का फुल फॉर्म क्या है – What is the full form BSE in Hindi?

BSE Full Form - बीएसई का फुल फॉर्म क्या है?

बीएसई का फुल फॉर्म Bombay Stock Exchange है.

इसका हिंदी में पूरा नाम बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज होता है. जिस का हिंदी अर्थ होता है मुंबई शेयर बाजार.

BSE full form in medical

Bovine Spongiform Encephalopathy

BSE full form in Study

Bachelor of Software Engineering

यह भारत का पहला और सबसे बड़ा शेयर मार्केट है और इसे 1875 ईसवी में मुंबई में स्थित नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन ने स्थापित किया था.

अगर इसकी बात करें तो यह 6000 कंपनियों के करीब है और यह दुनिया में सबसे बड़े एक्सचेंज में से एक है इसके अलावा दूसरे बड़े एक्सचेंज न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज,नैस्डैक, लंदन स्टॉक एक्सचेंज ग्रुप, जापान एक्सचेंज ग्रुप, और शंघाई स्टॉक एक्सचेंज है.

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज नहीं भारत के कैपिटल मार्केट को डिवेलप किया है जिसमें खुदरा ऋण बाजार भी शामिल है और इस प्रकार भारतीय कॉरपोरेट क्षेत्र का विकास हुआ है बीएस एशिया का सबसे पहला स्टॉक एक्सचेंज है और इसमें लघु और मध्यम उद्योगों के लिए इक्विटी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म भी शामिल है।

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज से जुड़े कुछ खास तथ्य

  • इसे 1875 में स्थापित किया गया था और इसकी स्थापना नेटिव शेयर और स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन ने किया था.
  • मुंबई स्टॉक एक्सचेंज एशिया का सबसे पहला स्टॉक एक्सचेंज है.
  • बीएसई ने भारतीय पूंजी क्षेत्र को निवेश पूंजी जुटाने के लिए एक बेहतरीन प्लेटफार्म देते हैं भारत के पूंजी बाजारों को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.
  • मुंबई स्टॉक एक्सचेंज इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम की वजह से सबसे तेज और एफिशिएंट ट्रेड करने की क्षमता प्रदान करता है
  • ये अपने निवेशकों को इक्विटी करेंसी म्यूच्यूअल फंड डेरिवेटिव और debt instruments मैं ट्रेडिंग करने की अनुमति देता है.
  • इसके अलावा मुंबई स्टॉक एक्सचेंज कुछ महत्वपूर्ण कैपिटल मार्केट ट्रेडिंग सेवाएं भी देता है जैसे रिस्क मैनेजमेंट क्लीयरिंग सेटेलमेंट और इन्वेस्टर एजुकेशन

निष्कर्ष

स्टॉक एक्सचेंज से जुड़ा हुआ इंसान नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और मुंबई स्टॉक एक्सचेंज के बारे में जानकारी रखता है. भारत में शेयर मार्केटिंग करने के लिए यह मुख्य प्लेटफार्म है.

इसलिए आज की पोस्ट में हमने आपको बताया कि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज जिसे हम संक्षिप्त में बीएसई के नाम से जानते हैं इसका पूरा नाम क्या होता है.

हम उम्मीद करते हैं कि आपको समझ में आ गया होगा कि बीएसई का फुल फॉर्म क्या होता है (full form BSE in Hindi)? अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here