बैंक परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

अगर आपका सपना बैंक में जॉब प्राप्त करने का है और जानना चाहते हैं की बैंक की परीक्षा की तैयारी कैसे करे तो ये आर्टिकल आपके लिए ही है.

बैंकिंग क्षेत्र में हर तरह की नौकरी उपलब्ध है, इस क्षेत्र में सरकारी तथा प्राइवेट दोनों तरह  की नौकरियां मिलती है क्योंकि हमारे देश में सरकारी बैंक के साथ-साथ कई प्राइवेट बैंक भी उपस्थित हैं.

ज्यादातर स्टूडेंट्स सरकारी बैंकों में नौकरी के लिए मेहनत पूर्वक बैंक की परीक्षा की तैयारी करते हैं. बैंक हम लोगों को अनेक प्रकार के जॉब प्रदान करते हैं इसलिए अभ्यर्थी अपनी योग्यता के अनुसार बैंकों की परीक्षाओं की तैयारी में लगे रहते हैं. 

हालांकि आप को बैंक से संबंधित कई महत्वपूर्ण बातें बहुत साइट से मिली होंगी लेकिन हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको बैंक की परीक्षा की सही तैयारी की जानकारी बताने जा रहे हैं.

बैंक एग्जाम की तैयारी करने का तरीका? 

आज के इस कंपटीशन युग में हर एक विद्यार्थियों की सपना सरकारी नौकरी हासिल करने की होती है जिसके लिए वे एग्जाम की तैयारी में कड़ी मेहनत के साथ लगे होते है. 

बैंक की परीक्षा बहुत ही  कठिन परीक्षा मानी जाती है इसलिए इस परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों को अत्यधिक कठिन परिश्रम के साथ-साथ इमानदारी पूर्वक स्टडी करने की आवश्यकता होती है.

इस परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थी को अच्छी स्ट्रेटजी और गाइडेंस की जरूरत होती है जो विद्यार्थी बैंक की परीक्षा की तैयारी अच्छी स्ट्रेटजी के साथ करते हैं वे इस एग्जाम में सफलता पाते हैं. इसलिए हर एक उम्मीदवार को अपनी परीक्षा की तैयारी सटीक तरीके से करनी चाहिए जिससे उनका हर एक पेपर अच्छे से जाए.

बैंक अनेक प्रकार के नौकरी का वैकेंसी निकलता है जैसे बैंक मैनेजर, बैंक क्लर्क, सीईओ, एसबीआई पियो, आरबीआई पियो इत्यादि इन सभी नौकरियों के लिए उम्मीदवार अपनी योग्यता के अनुसार आवेदन करते हैं फिर इन परीक्षाओं के लिए कड़ी मेहनत और लगन से तैयारी शुरू करते हैं.

बैंक एक्जाम आयोजित करने वाली संस्था:- 

बैंकिंग क्षेत्र में  परीक्षाएं प्राया 3 संस्था के द्वारा आयोजित की जाती जो IBPS ,SBI exam तथा RBI exam है. 

इन संस्थाओं के द्वारा बैंक से संबंधित नौकरियों का आयोजन किया जाता है जिसमें योग्य उम्मीदवार फॉर्म अप्लाई करते हैं.

बैंक परीक्षा के लिए आवेदन कैसे करें? 

आप बैंक परीक्षा के लिए आवेदन ऑनलाइन तरीके से भर सकते हैं आप  अपने आसपास के कोई संस्था में जाकर आवश्यक डॉक्यूमेंट जमा करके फॉर्म अप्लाई कर सकते हैं.

इस प्रकार आप फॉर्म अप्लाई करने के दौरान अपने परीक्षा की तैयारी और दृढ़ संकल्प के साथ शुरू कर सकते हो. बहुत से विद्यार्थी परीक्षा की तैयारी बहुत ही मेहनत और लगन से करते हैं और कुछ ऐसे उम्मीदवार होते हैं जो बिना स्टडी प्लान के तैयारी में लगे रहते हैं जिस कारण वे क्वालीफाई नहीं हो पाते.

बैंक परीक्षा की सिलेबस 

बैंक परीक्षा के सिलेबस के अंतर्गत कई महत्वपूर्ण विषयों आते है, रीजनिंग एबिलिटी, कन्फेशन कंप्रीहेंशन, क्वानटेटिव एप्टीट्यूड, अवेयरनेस और जनरल नॉलेज तथा कंप्यूटर अवेयरनेस. इन सभी विषयों को बैंक की परीक्षा के लिए पढ़ाई करनी होती है.

हर एक अभ्यर्थी जो एग्जाम की तैयारी कर रहे होते हैं उनको अपने एग्जाम के सिलेबस की जानकारी होना बहुत ही आवश्यक है.

क्योंकि सिलेबस जानने के बाद पता चलता है की कौन से विषय में कितने मार्क्स के प्रश्न पूछे जाते हैं और हमें अपने परीक्षा के लिए कौन-कौन से विषय की तैयारी करनी है इसके साथ साथ किस विषय में ज्यादा मार्क्स के क्वेश्चन आते हैं.

किस विषय में ऑब्जेक्टिव टाइप क्वेश्चन आते हैं इन सभी की जानकारी यदि उम्मीदवार पास है तो उनके लिए परीक्षा की तैयारी करना आसान होता है.

बैंक की परीक्षा काफी कठिन मानी जाती है क्योंकि इसके सिलेबस के अंतर्गत आए गए विषयों की पढ़ाई बहुत ही जटिल है इन सभी के साथ साथ यह एक कंपटीशन  एग्जाम है जिसमें क्वालीफाई होना बहुत ही मुश्किल .

इसलिए उम्मीदवारों को इस परीक्षा के लिए बहुत ही कठिन परिश्रम करनी होती है और वे तभी इस एग्जाम को क्लियर कर पाएंगे जब वह इमानदारी पूर्वक इसकी तैयारी करेंगे. 

बैंक परीक्षा की पैटर्न 

अन्य सरकारी परीक्षाओं के जैसा बैंक की परीक्षा भी  मुख्यतः तीन चरणों में ली जाती है जो निम्नलिखित है:- 

  1. Preliminary Exam (प्रारंभिक परीक्षा)
  2. Mains Exam (मुख्य परीक्षा)
  3. Interview (साक्षात्कार)

Preliminary Exam (प्रारंभिक परीक्षा) 

आवेदन करने के दौरान परीक्षा की डेट जब निर्धारित की जाती है उम्मीदवार के द्वारा पहले एग्जाम के रूप में प्रीलिम्स एग्जाम दिया जाता है जिसमें ऑब्जेक्टिव टाइप क्वेश्चन पूछे जाते हैं.

Mains Exam (मुख्य परीक्षा)

जब उम्मीदवार प्रीलिम्स में पास होते हैं तो उसके पश्चात उन्हें मेंस परीक्षा देनी होती है जो थ्योरी पेपर होता है.

हालाकी प्रीलिम्स पेपर का मार्क्स मेरिट लिस्ट में ऐड नहीं की जाती लेकिन बिना प्रीलिम्स क्लियर किए मेंस की परीक्षा नहीं दे सकते हैं इसलिए प्रीलिम्स क्वालीफाई करना बहुत जरूरी है.

Interview (साक्षात्कार)

उम्मीदवारों के द्वारा जब मेंस की परीक्षा क्लियर की जाती है तब उन्हें उनकी पर्सनैलिटी टेस्ट के लिए इंटरव्यू में बुलाया जाता है उस दौरान इंटरव्यू ले रहे अधिकारियों के द्वारा इनके विषयों से संबंधित कुछ प्रश्न पूछे जाते हैं. उम्मीदवार जिस भी ऑनर्स से स्नातक डिग्री प्राप्त किए रहते हैं उस ऑनर्स पेपर के विषय से भी कई सवाल पूछे जाते हैं यदि उम्मीदवार इन सवालों में खरे उतरते हैं तो उनका सिलेक्शन हो जाता है.

इस प्रकार बैंक की परीक्षा इन चरणों में ली जाती है और इसके पश्चात एक मेरिट लिस्ट तैयार किया जाता है जिसमें तीनों परीक्षाओं में आए गए मार्क्स के अनुसार उम्मीदवार का सिलेक्शन होता है.

 बैंक परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

बैंक परीक्षा की तैयारी हम अनेक प्रकार के स्ट्रेटजी के साथ कर सकते हैं:- 

टाइम टेबल 

किसी भी एग्जाम को क्वालीफाई करने के लिए एक परीक्षा की तैयारी अनुशासित रूप से करनी चाहिए. हर एक उम्मीदवार जो किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे होते हैं उन्हें टाइम मैनेजमेंट करने की आवश्यकता है.

टाइम मैनेजमेंट तभी होगा जब आप अपनी स्टडी के लिए टाइम टेबल बनाओगे. अपने दिन भर के क्रियाकलापों के अनुसार आप अपनी स्टडी के लिए टाइम टेबल बनाएं.

टाइम टेबल बनाकर पढ़ने वाले विद्यार्थी हमेशा अपने लाइफ में सफल होते हैं क्योंकि हर एक सफल स्टूडेंट टाइम टेबल को फॉलो करता है. टाइम टेबल के अनुसार पढ़ने से विद्यार्थियों का हर विषय में कमांड बढ़ता है और धीरे-धीरे इनका सिलेबस भी पूरा होता है.

इस टाइम मैनेजमेंट के अनुसार जो उम्मीदवार अपनी परीक्षा की तैयारी करते हैं उनका हर एक विषय की तैयारी बहुत ही अच्छी तरीके से होती है क्योंकि वह इस मैनेजमेंट के अनुसार हर एक विषय को निश्चित समय देते हैं और उस निश्चित समय के दौरान अपने टॉपिक की पढ़ाई करते हैं. इसलिए हर विद्यार्थियों को अपने परीक्षा की तैयारी के लिए टाइम टेबल बनाना चाहिए.

कमजोर विषय में ध्यान दें

बहुत से ऐसे विद्यार्थी होते हैं जो अपनी परीक्षा से संबंधित इंटरेस्टिंग विषय में ज्यादा ध्यान देते हैं और कमजोर विषय को नजरअंदाज करते हैं, अक्सर इस तरह के स्टूडेंट परीक्षा में सफल नहीं हो पाते क्योंकि वह सिर्फ अपने इंटरेस्टिंग सब्जेक्ट की ओर ध्यान देते हैं और जिसमें वे वीक होते हैं उस विषय में ध्यान नहीं देते. 

इसलिए हर एक विद्यार्थी को अपने इंटरेस्टिंग विषय की अपेक्षा कमजोर विषय में ज्यादा ध्यान देना चाहिए ताकि उनका सभी विषयों में पकड़ अच्छा बना रहे. 

एक सफल विद्यार्थी अपने सिलेबस के अंतर्गत आने वाले हर एक विषय में निश्चित समय देकर इमानदारी पूर्वक पढ़ते हैं ताकि उनका हर एक विषय में तैयारी अच्छा हो जिससे वे एग्जाम में आए कोई भी प्रश्न को छोड़ ना पाए. 

इन सभी को ध्यान में रखते हुए हर एक उम्मीदवार को अपने कमजोर विषय को नजरअंदाज ना करते हुए इंटरेस्टिंग विषय की अपेक्षा इसमें ज्यादा ध्यान दें.

बैंक परीक्षा की योग्यता

यदि आप भी बैंक की परीक्षा देना चाहते हैं तो इसके लिए आपको किसी भी ऑनर्स पेपर से स्नातक डिग्री प्राप्त करनी होगी और इस परीक्षा के लिए उम्मीदवार को BA,BCom,BSC से ग्रेजुएशन कंप्लीट होनी चाहिए.

अगर आप स्नातक डिग्री प्राप्त कर चुके हैं तो बैंकिंग के क्षेत्र में नौकरी लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं.

उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री  लगभग 60% से तक पास होनी चाहिए इसके साथ साथ कंप्यूटर का ज्ञान होना भी आवश्यक है तभी आप इस एग्जाम को क्वालीफाई कर सकते हैं.

आयु सीमा

बैंक परीक्षा की आवेदन करने के लिए योग्य उम्मीदवार की आयु सीमा 21 वर्ष से 30 वर्ष तक के बीच होनी चाहिए तभी वे इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं.

आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को इस परीक्षा के लिए सरकार द्वारा आयु सीमा में छूट दी जाती है.

बैंक परीक्षा की तैयारी कहां से करें? 

बैंक की परीक्षा के लिए कई ऐसे इंस्टिट्यूट खुले हुए हैं जहां बैंक परीक्षा की तैयारी करवाई जाती है स्टूडेंट इंस्टिट्यूट को ज्वाइन लेते हैं और बैंक की परीक्षा की तैयारी इंस्टिट्यूट के जरिए करते हैं.

बहुत से स्टूडेंट बैंक परीक्षा की तैयारी घर से करते हैं यानी कि इंटरनेट के माध्यम से बैंक की परीक्षा में आए प्रश्नों को हल करते हैं और घर बैठे इस परीक्षा की तैयारी करके एग्जाम देते हैं. 

कुछ साल पहले जब एग्जाम की तैयारी के लिए ऑनलाइन एप नहीं आए थे उस समय लोग घरों में मोटी मोटी किताबों को पढ़कर एग्जाम दिया करते थे.

लेकिन आज की जनरेशन में बहुत से ऐसे ऐप आ गए हैं जिसकी मदद से परीक्षाओं की तैयारी आसानी पूर्वक घर बैठे की जा सकती है जैसे ग्रेड अप, बौंकेसरदा, पॉकेट एप्टिट्यूड इत्यादि इन सभी ऐप के जरिए आज के जनरेशन में कई उम्मीदवार परीक्षा की तैयारी करते हैं और परीक्षा में सफल भी होते हैं.

बैंक के क्षेत्र में सैलरी कितनी होती है?

बैंक के क्षेत्र में एक पियो की सैलरी प्रतिमा 23000 रुपए की होती है.

निष्कर्ष

बैंकिंग के क्षेत्र में अनेक नौकरी दी जाती है लेकिन आज के युग में कंपटीशन बहुत ही बढ़ गया है जिस कारण लोगों का चयन होना काफी मुश्किल हो गया है इसलिए विद्यार्थी एग्जाम के लिए बहुत ही इमानदारी पूर्वक मेहनत करते हैं.

हमने इस आर्टिकल के माध्यम से बैंक की तैयारी कैसे करें? इससे संबंधित जानकारी बताई है.

यदि हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो आप अपने दोस्तों में जरूर शेयर करें.

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment