Aadhar Card New Update: आधार कार्ड वाले तुरंत ध्यान दें आज हुआ बड़ा बदलाव जल्द करें यह काम

आधार कार्ड हमारे देश भारत की सबसे मूलभूत और आवश्यक दस्तावेजों में से एक है। बिना आधार कार्ड के बहुत सी कार्य अधूरे रह जाते हैं। जैसे कि बैंक खाता खुलवाना स्कूल में एडमिशन प्रतियोगिता परीक्षा स्कॉलरशिप इत्यादि में आधार कार्ड की बहुत ज्यादा जरूरत पड़ती है। 

aadhar card new latest update

इसके अलावा आधार कार्ड हमारा पहचान पत्र है जो भारतीय होने का एक प्रमाण है। भारत के मूलनिवासी फिर वह चाहे किसी भी धर्म से क्यों ना हो के पास आधार कार्ड मौजूद होता है। आधार कार्ड में लोगों का एक प्रकार से बायोडाटा ही होता है। आधार कार्ड में कार्ड धारक का फोटो उसका नाम उसके पिता का नाम पता जन्म तिथि फिंगरप्रिंट से उपलब्ध होते हैं। 

जाने क्या हैं वोटर कार्ड:-

सभी जानते हैं कि हम सब लोकतांत्रिक सरकार के तहत निवास करते हैं। अर्थात हमारे ऊपर लोकतांत्रिक सरकार का शासन चलता है। 

लगता है सरकार के विषय में तो संभवत सभी जानते हैं कि कि हम सभी लोकतांत्रिक सरकार के तहत ही है फिर भी हमारा कर्तव्य बनता है कि हम आपको एक संक्षिप्त विवरण उपलब्ध कराए तो लगता नहीं सरकार ऐसी सरकार है जो जनता के द्वारा जनता के लिए जनता व शासन करेगी बनाया जाता है। 

इसमें शासक का चुनाव जनता के द्वारा होता है यदि जनता को शासक पसंद नहीं आया तो वह उसे सत्ता से हटा सकती है। किंतु भला शासक को सत्ता से हटाने के लिए जनता ऐसा क्या करती है?

तो आपको बता दें कि देश में निवास एक सभी बालिक नागरिकों को जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है को वोट देने का अधिकार है वह अपने द्वारा चुने उम्मीदवार को वोट देता है। 

जिस भी उम्मीदवार को अधिक वोट मिलते हैं वह सत्ता में आता है और अपनी शक्तियों का प्रयोग कर समाज का भला करता है। 

यदि लोगों को उनका शासन पसंद नहीं आता है तो वह उसे सत्ता से हटाने में भी पूर्णता सक्षम होते हैं। हमारे देश भारत के मूलनिवासी जब वयस्क हो जाते हैं तो उन्हें केंद्र सरकार के द्वारा वोटर आईडी कार्ड प्रदान किया जाता है। 

इसके साथ ही उनका नाम वोटर लिस्ट में भी जोड़ दिया जाता है। इन सभी प्रक्रिया के पूर्ण होने के पश्चात व्यक्ति चुनाव के दौरान अपने पसंदीदा उम्मीदवार को वोट दे सकता है। 

हमारे देश की सबसे ज्यादा आवश्यक दस्तावेज:-

यह तो हमारे देश में बहुत सारे दस्तावेज है जो सबको प्रदान किए जाते हैं। किंतु कुछ विशेष दस्तावेज भी होते हैं जो हमारे देश में निवासी कुछ विशेष नागरिकों को भी प्रदान किए जाते हैं। 

उदाहरण के लिए अंत्योदय राशन कार्ड। यह सर्वोत्तम उदाहरण सिद्ध होगा क्योंकि यह राशन कार्ड केवल उन्हीं को प्रदान किया जाता है या पास आए का भी कोई सोर्स नहीं होता है। 

हमारे देश में सबसे ज्यादा मूलभूत आवश्यक दस्तावेजों में से आधार कार्ड पैन कार्ड और वोटर आईडी कार्ड है। इन 3 दस्तावेजों में प्रति विशेष का संपूर्ण विवरण उपलब्ध होता है। 

इसमें व कहां से है कौन है पिता का नाम क्या है मोबाइल नंबर पता कहां है फोटो फिंगरप्रिंट इत्यादि सभी आवश्यक चीजें उपलब्ध होती है। 

इन सभी का प्रयोग बहुत सारे जगह पर किया जाता है जैसे कि बैंक में खाता खुलवाने में यह कहीं रूम रेंट लेने में अथवा कहीं पर नौकरी करने में , बैंकों से लोन लेने में भी यह सभी दस्तावेज बहुत ही अहम भूमिका निभाते हैं। 

बैंकों के लिए वारंटी कार्ड है यह सभी दस्तावेज:-

आपने संभवत कभी यह सोचा होगा कि भला साधारण से इस दस्तावेज आधार कार्ड पैन कार्ड और वोटर आईडी कार्ड के आधार पर भला बैंक लोन कैसे प्रदान कर देते हैं!

आपको बता दें कि आपके उन तीन साधारण से दस्तावेजों में आपका सारा बायोडाटा होता है। आपातकाल की स्थिति और गैरकानूनी क्रियाकलाप करने के पश्चात उन सभी डेटाबेस को यूज करके मुजरिम तक आसानी से पहुंचा जा सकता है। 

गैरकानूनी गतिविधियों को रोकने के लिए ही अक्सर हर संस्था पर आधार कार्ड पैन कार्ड अथवा वोटर आईडी कार्ड की कॉपी को रखा जाता है। 

एक बहुत बड़ी अपडेट:-

आपको बता दें कि हमारी देश की केंद्र सरकार के द्वारा एक बहुत बड़ा फैसला लिया गया है जिसके अनुसार 18 साल के पूरे हुए बच्चे उनके आधार कार्ड से जुड़े की वोटर आईडी कार्ड बनाने में सक्षम हो सकते हैं। 

आपको बता दें कि अभी हाल फिलहाल में हमारी देश की सरकार ने एक बहुत बड़ा निर्णय लिया है कि अब 18 वर्ष के युवा भी वोटर आईडी कार्ड बनवा सकते हैं। 

विधान सभा वार्ड वोटर लिस्ट आधार से जुड़ी जाने वाली है। इसके बाद केवल 1 फरवरी से नहीं , 1 अप्रैल ,1 जुलाई और 1 अक्टूबर को भी 18 साल पूरे होने के बाद वोटर लिस्ट में भी नाम जोड़ा जा सकता है। 

इन सभी महीने में यदि 18 साल पूर्ण हो जाते हैं तो केंद्रीय चुनाव आयोग के वोटर लिस्ट में नाम जोड़ने के लिए आप सक्षम हो जाएंगे। इसके अतिरिक्त नाम जुड़वाने हटवाने पता परिवर्तित करवाने इत्यादि के फोन भी में भी बदलाव किए जाएंगे

ऐसा कि हमने बताया कि प्रदेश की विधानसभा वार वोटर लिस्ट आधार से जोड़ने वाली है।यदि यह कार्य संपन्न होता है तो सरकार के द्वारा यह हमारे लिए एक और सुविधाजनक कार्य होगा। आपको हम यह भी बता दे कि या सुविधा को जल्द से जल्द जारी कर दिया जाएगा। 

आधार नंबर को लेने का कार्य भी 1 अगस्त से शुरू किया जा चुका है। इस जानकारी को मुख्य निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार शुक्ला ने बुधवार को प्रदेश के समक्ष रखा था। 

उन्होंने यह साफ साफ कह दिया था कि वोटर से स्वैच्छिक रूप से आधार नंबर एकत्रित किया जाए। वोटर लिस्ट में शामिल सभी वोटर के आधार नंबर को एकत्रित करने का यह कार्य 1 अगस्त से प्रारंभ हो चुका है। 

आपको बता दें कि यह कार्य हर पोलिंग बूथ पर जिले में संबंध किया जाएगा। मतदाताओं के द्वारा आधार कार्ड उपलब्ध करवाना पूर्णता स्वैच्छिक है। अर्थात यदि मतदाता ना चाहे तो अपना आधार कार्ड नहीं दे सकते हैं। 

निष्कर्ष:-

इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको आधार कार्ड और वोटर कार्ड के बीच स्थापित सरकार के द्वारा नए संबंधों के बारे में विस्तार से बताया है। हम उम्मीद करते हैं कि हमारे आर्टिकल आपको बेहद ही पसंद आया होगा यदि आपके पास हमारे लिए कोई प्रश्न अथवा सुझाव है तो वह आप हमें कमेंट के जरिए सरलता पूर्वक पूछ सकते हैं।

इस आर्टिकल को अधिक से अधिक लोगों तक जरूर शेयर करें क्योंकि यह सरकार के द्वारा किया गया एक बहुत बड़ा फैसला है।  

लाभदायक पोस्ट पढ़ें


Important Links

WTechni HomeClick Here
Other postsClick Here
Join Telegram ChannelClick Here

Wasim Akram

वसीम अकरम WTechni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment

×